VINAY SINGH 21KANPUR Oct 25, 2020

हैप्पी विजयदशमी लंका जीत के बाद जब भगवान राम को ब्राह्मण हत्या का पाप लगा था भगवान राम ने अपने भाई लक्ष्मण के साथ मिलकर भगवान शिव की पूजा अर्चना की और ब्राह्मण हत्या से खुद को मुक्त कराया तब भगवान शिव नीलकंठ पंछी के रूप में धरती पर पधारे थे नीलकंठ पंछी के लिए एक कहावत है नीलकंठ तुम नीले रही हो दूध भात को भोजन करियो हमारी बात राम से कईयों के साथ लोग भगवान के पास अपनी अर्जी लगाते हैं इस दिन नीलकंड के दर्शन से घर में धन धान की वृद्धि होती है फलदाई व शुभ कार्य घर में अनवरत होते हैं भगवान शंकर ही नीलकंठ है इस बच्ची को पृथ्वी पर भगवान शिव का स्वरूप माना जाता है दशहरे के दिन लोग नीलकंठ के दुर्लभ दर्शन करते हैं मान्यता है कि साल भर नीलकंठ कहीं नहीं दिखता दशहरे के दिन यह अवश्य विचरण करता है जय नीलकंठ भगवान की🙏🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹 सभी को विजयदशमी दशहरे की हार्दिक शुभकामनाएं

+16 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 7 शेयर
VINAY SINGH 21KANPUR Oct 24, 2020

+22 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 13 शेयर
VINAY SINGH 21KANPUR Oct 24, 2020

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
VINAY SINGH 21KANPUR Oct 24, 2020

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 9 शेयर
VINAY SINGH 21KANPUR Oct 24, 2020

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 9 शेयर
VINAY SINGH 21KANPUR Oct 24, 2020

+10 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर