Vijay Yadav Apr 8, 2018

ऐसी सुबह की मुझको भी तलाश हैं
जहा मजहब हो कोई ना सिर्फ इंसान की इंसानियत और खुशियों की चमक हर एक
को यह भरोसा दये। की कोई बात नहीं आज हर खुशी को अपने दामन मैं रख।

+12 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Vijay Yadav Apr 4, 2018

+106 प्रतिक्रिया 23 कॉमेंट्स • 87 शेयर
Vijay Yadav Nov 11, 2017

So beautiful posted

+7 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर