Tarun Mishra Jun 19, 2018

पुरुषोत्तम मास के अवसर पर शहडोल के ग्रीन सिटी कॉलोनी में श्रीमद् भागवत कथा का शानदार आयोजन किया गया। यहां पर कई प्रसंगों पर कथा व्यास ने रोशनी डाली और लोगों का मार्गदर्शन किया। इस मौके पर भगवान श्री कृष्ण और रुक्मणी की सुंदर झांकी का प्रदर्शन भी क...

(पूरा पढ़ें)
+15 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Tarun Mishra Jun 13, 2018

पुरुषोत्तम मास पर धार्मिक अनुष्ठान संपन्न होने का काम जारी है। कोरबा छत्तीसगढ़ के पावर हाउस रोड स्थित शिव मंदिर प्रांगण में आचार्य दशरथ नंदन द्विवेदी की श्रीमद भागवत कथा के क्रम में मंगलवार को रुक्मिणी मंगल प्रसंग पर आकर्षक झांकी सजाई गई।

जय जय श्...

(पूरा पढ़ें)
+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Tarun Mishra Jun 3, 2018

पुण्यसलिला गंगा के तट पर स्थित ऋषिकेश में इन दिनों चारधाम यात्रा का खास आकर्षण है। यहाँ से ही गंगा मैदानी क्षेत्र में प्रवेश करती है।

जय श्री गंगे

+5 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Tarun Mishra May 31, 2018

हर की पौड़ी हरिद्वार में गंगा आरती में गुरुवार को शामिल होने का अवसर प्राप्त हुआ।

+159 प्रतिक्रिया 20 कॉमेंट्स • 69 शेयर
Tarun Mishra May 29, 2018

देवभूमि उत्तराखंड के हरिद्वार भूपतवाला में 29 मई से आचार्य दशरथ नंदन द्विवेदी महाराज की श्रीमद भागवत कथा प्रारंभ हो रही है। कथा से पहले की तैयारी करते पंडित दीपू तिवारीऔर सुनील गौतम।
जय जय श्री राधे।

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Tarun Mishra May 14, 2018

ओम नमो भगवते वासुदेवाय
_____________________

" *गीता*" में लिखा है
अगर आपको कोई अच्छा लगता है ...
तो अच्छा वो नहीं,
बल्कि अच्छे आप हो..
क्योंकि
उसमे अच्छाई देखने वाली
...

(पूरा पढ़ें)
+13 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 5 शेयर
Tarun Mishra May 6, 2018

. *🌿 रामचरितमानस चिंतन 🌿*

*🍃परहित बस जिन्ह के मन माहीं।*
*🍃तिन्ह कहुँ जग दुर्लभ कछु नाहीं॥*

*भावार्थ:- जिनके मन में सदैव दूसरे का हित करने की अभिलाषा रहती है अथवा जो सदा दूसरों की सहायता करने में लगे रहते हैं, उनके लिए सम्पूर्ण जगत्‌ में क...

(पूरा पढ़ें)
+19 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Tarun Mishra Apr 28, 2018

*पितामह भीष्म के जीवन का एक ही पाप था कि उन्होंने समय पर क्रोध नहीं किया*...(द्रोपदी चीर हरण के समय)

*और*

*जटायु के जीवन का एक ही पुण्य था कि उसने समय पर क्रोध किया*.(माता सीता के हरण के समय।)

समय आने पर मृत्यु दोनों की हुई किन्तु....

(पूरा पढ़ें)
+8 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 6 शेयर