sudanm Sep 20, 2017

‘परम् सत्य‘ एक बार ईश्वर ने सभी प्राणियों को बुलाया, लेकिन मानव् को जान- बुझ कर छोड़ दिया । दरअसल वो इंसान से कुछ छुपाना चाहते थे । ईश्वर चाहते थे की ‘परम सत्य’ इंसान के पहुंच में न आये । आगे ….

इसके लिए उन्होंने सभी प्राणियों से सुझाव मांगे कि आ...

(पूरा पढ़ें)
+11 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 7 शेयर
sudanm Sep 19, 2017

जब कर्ण को स्वर्ग में खाने के लिए मिला सोना-

श्राद्ध पर्व पर यह कथा अधिकांश क्षेत्रों में सुनाई जाती है।
कथा के अनुसार, महाभारत के दौरान, कर्ण की मृत्यु हो
जाने के बाद जब उनकी आत्मा स्वर्ग में पहुंची तो उन्हें
बहुत सारा सोना और...

(पूरा पढ़ें)
+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 6 शेयर
sudanm Sep 18, 2017

एक निक्कमे आदमी की पत्नी ने उसे घर से निकलते हुए कहा आज कुछ न कुछ कमा कर ही लौटना नहीं तो घर में नहीं घुसने दूगीं।आदमी दिन भर इधर -उधर भटकता रहा,लेकिन उसे कुछ काम नहीं मिला।निराश मन से वह जा रहा थी कि उसकी नजर एक मरे हुए सांप पर पड़ी।उसने एक लाठी ...

(पूरा पढ़ें)
+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
sudanm Sep 17, 2017

एक साधु महाराज श्री रामायण कथा सुना रहे थे। लोग आते और आनंद विभोर होकर जाते। साधु महाराज का नियम था रोज कथा शुरू करने से पहले "आइए हनुमंत जी बिराजिए" कहकर हनुमान जी का आह्वान करते थे, फिर एक घण्टा प्रवचन करते थे।

एक वकील साहब हर रोज कथा ...

(पूरा पढ़ें)
+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
sudanm Sep 17, 2017

एक दिन बहू ने गलती से यज्ञवेदी में थूक दिया!!!
सफाई कर रही थी. मुंह में सुपारी थी. पीक आया तो वेदी में. पर उसे आश्चर्य हुआ कि उतना थूक स्वर्ण में बदल गया है.

अब तो वह प्रतिदिन जान बूझकर वेदी में थूकने लगी. और उसके पास धीरे धीरे स्वर्ण बढ़ने लगा.
म...

(पूरा पढ़ें)
+16 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 8 शेयर
sudanm Sep 16, 2017

स्वामी विवेकानंद एक बार एक रेलवे स्टेशन पर बैठे थे उनका अयाचक (ऐसा व्रत जिसमें किसी से मांग कर भोजन नहीं किया जाता) व्रत था। वह व्रत में किसी से कुछ मांग भी नहीं सकते थे। एक व्यक्ति उन्हें चिढ़ाने के लहजे से उनके सामने खाना खा रहा था।

स्वामी जी द...

(पूरा पढ़ें)
+491 प्रतिक्रिया 28 कॉमेंट्स • 340 शेयर
sudanm Sep 15, 2017

एक साधु महाराज श्री रामायण कथा सुना रहे थे। लोग आते और आनंद विभोर होकर जाते। साधु महाराज का नियम था रोज कथा शुरू करने से पहले "आइए हनुमंत जी बिराजिए" कहकर हनुमान जी का आह्वान करते थे, फिर एक घण्टा प्रवचन करते थे।

एक वकील साहब हर रोज कथा ...

(पूरा पढ़ें)
+3 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 2 शेयर
sudanm Sep 14, 2017

एक बार एक संत ने अपने दो
भक्तों को बुलाया और कहा आप
को यहाँ से पचास कोस जाना है।

एक भक्त को एक बोरी खाने के
समान से भर कर दी और कहा जो
लायक मिले उसे देते जाना और एक को ख़ाली बोरी दी उससे कहा रास्ते मे जो उसे अच्छा मिले
उसे बोरी मे भर कर ले जाए।

...

(पूरा पढ़ें)
+3 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 3 शेयर