shohana sing Jan 22, 2021

शुभ प्रभात वंदन आपका दिन शुभ एवं मंगलमय रहें शाकम्भरी नवरात्रि के नवमी की शुभकामनायें माता जी आपकी हर मनोकामना पूर्ण करें जय महालक्ष्मी माँ जय संतोषी माता ओम नमः शिवाय शाकम्भरी देवी माँ आदिशक्ति का एक सौम्य अवतार हैं। इन्हें चार भुजाओं और कही पर अष्टभुजाओं वाली के रुप में भी दर्शाया गया है। ये माँ ही वैष्णो देवी, चामुंडा, कांगड़ा वाली, ज्वाला, चिंतपूर्णी , कामाख्या, चंडी, बाला सुंदरी, मनसा, नैना और शताक्षी देवी कहलाती है। माँ शाकम्भरी ही रक्तदंतिका, छिन्नमस्तिका, भीमादेवी,भ्रामरी और श्री कनकदुर्गा है। माँ श्री शाकंभरी के देश मे अनेक सिद्धपीठ है। जिनमे शाकम्भरी माता राजस्थान,को सकरायपीठ कहते हैं जोकि राजस्थान मे है और सांभर पीठ भी राजस्थान मे है सहारनपुर पीठ उत्तर प्रदेश मे है। तीनों पीठों का सम्बन्ध शिवालिक पर्वतमाला पर विराजमान शाकम्भरी देवी से है इसकी गणना प्रसिद्ध 51 शक्तिपीठों मे होती है यहाँ सती का शीश गिरा था मुख्य प्रतिमा के दायीं और भीमा एवं भ्रामरी तथा बायीं और शताक्षी देवी की प्राचीन प्रतिमायें विराजमान है पास ही प्रथम पुज्य विघ्नहर्ता गणेश जी विराजमान है इनके प्रसाद में हलवा पूरी, सराल-शाक, फल, सब्जी, मिश्री मेवे और शाकाहारी भोजन का भोग लगता है प्रत्येक वर्ष आश्विन नवरात्र मे सहारनपुर के शिवालिक क्षेत्र मे शाकम्भरी देवी का विशाल मेला लगता है इसके अलावा चैत्र नवरात्र और होली पर माता के मेले लगते हैं। उत्तर भारत की नौ देवी यात्रा मे सबसे अंत मे माँ शाकम्भरी देवी का ही नौवां दर्शन होता है इनके दर्शन पूजन से अन्न, फल, धन, धान्य और अक्षय फल की प्राप्ति होती है । माँ शाकंभरी स्तुति मां ब्रह्माणी नमो नमः हे रुद्राणी नमो नमः सकराय वासिनी नमो नमः शाकंभरी मां नमोस्तुते मात शताक्षी नमो नमः दुर्गम विनाशी नमो नमः हे सुख-राशि नमो नमः शाकंभरी मां नमोस्तुते संकट हारिणि नमो नमः कष्ट निवारिणी नमो नमः मां भव तारिणी नमो नमः शाकंभरी मां नमोस्तुते हे जग जननी नमो नमः कामना पूर्णि नमो नमः सौम्य रूपणी नमो नमः शाकंभरी मां नमोस्तुते हे परमेश्वरी नमो नमः त्रिपुर सुंदरी नमो नमः हे विश्वेश्वरि नमो नमः शाकंभरी मां नमोस्तुते दुर्गा रूपेण नमो नमः लक्ष्मी रूपेण नमो नमः विद्या रूपेण नमो नमः शाकंभरी मां नमोस्तुते भुवन वंदिनी नमो नमः द्वारा निकन्दनी नमो नमः सिंह वाहिनी नमो नमः शाकंभरी मां नमोस्तुते शक्ति-स्वरूपा नमो नमः हे भव-भूपा नमो नमः अनन्त अनूपा नमो नमः शाकंभरी मां नमोस्तुते  अति सुख दायिनी नमो नमः करुणा नयनी नमो नमः हे वर दायनी नमो नमः शाकंभरी मां नमोस्तुते मंगल करनी नमो नमः अमंगल हरणी नमो नमः अभया वरणी नमो नमः शाकंभरी मां नमोस्तुते  सुर धाम निवासिनी नमो नमः हे अविलासिनी नमो नमः दैत्य विनाशिनी नमो नमः शाकंभरी मां नमोस्तुते शैल पुत्री नमो नमः ब्रह्म-चारिणी नमो नमः चन्द्रघंटा नमो नमः शाकंभरी मां नमोस्तुते  मां कुष्मांडा नमो नमः स्कन्द माता नमो नमः हे कात्यायिनी नमो नमः शाकंभरी मां नमोस्तुते  कालरात्रि नमो नमः हे महागौरी नमो नमः सिद्धिदात्री नमो नमः शाकंभरी मां नमोस्तुते  हे करुणामयी नमो नमः हे ममतामयी नमो नमः भक्त-वत्सला नमो नमः शाकंभरी मां नमोस्तुते मां ब्रह्माणी नमो नमः हे रुद्राणी नमो नमः सकराय वासिनी नमो नमः शाकंभरी मां नमोस्तुते

+432 प्रतिक्रिया 90 कॉमेंट्स • 159 शेयर
shohana sing Jan 20, 2021

+214 प्रतिक्रिया 36 कॉमेंट्स • 31 शेयर