Shanti Pathak Sep 24, 2020

*जय श्री राधे कृष्णा* *शुभरात्रि वंदन* राजा निराश हुआ एक राजा घने जंगल में भटक गया, राजा गर्मी और प्यास से व्याकुल हो गया। इधर उधर हर जगह तलाश करने पर भी उसे कहीं पानी नही मिला। प्यास से गला सूखा जा रहा था। तभी उसकी नजर एक वृक्ष पर पड़ी जहाँ एक डाली से टप टप करती थोड़ी -थोड़ी पानी की बून्द गिर रही थी। वह राजा उस वृक्ष के पास जाकर नीचे पड़े पत्तों का दोना बनाकर उन बूंदों से दोने को भरने लगा। जैसे तैसे बहुत समय लगने पर आखिर वह छोटा सा दोना भर ही गया। राजा ने प्रसन्न होते हुए जैसे ही उस पानी को पीने के लिए दोने को मुँह के पास लाया तभी वहाँ सामने बैठा हुआ एक तोता टें टें की आवाज करता हुआ आया उस दोने को झपट्टा मार कर सामने की और बैठ गया उस दोने का पूरा पानी नीचे गिर गया। राजा निराश हुआ कि बड़ी मुश्किल से पानी नसीब हुआ और वो भी इस पक्षी ने गिरा दिया। लेकिन, अब क्या हो सकता है । ऐसा सोचकर वह वापस उस खाली दोने को भरने लगा। काफी मशक्कत के बाद आखिर वह दोना फिर भर गया राजा पुनः हर्षचित्त होकर जैसे ही उस पानी को पीने लगा तो वही सामने बैठा तोता टे टे करता हुआ आया और दोने को झपट्टा मार के गिरा कर वापस सामने बैठ गया । अब राजा हताशा के वशीभूत हो क्रोधित हो उठा कि मुझे जोर से प्यास लगी है , मैं इतनी मेहनत से पानी इकट्ठा कर रहा हूँ और ये दुष्ट पक्षी मेरी सारी मेहनत को आकर गिरा देता है अब मैं इसे नही छोड़ूंगा अब ये जब वापस आएगा तो इसे खत्म कर दूंगा। अब वह राजा अपने एक हाथ में दोना और दूसरे हाथ में चाबुक लेकर उस दोने को भरने लगा। काफी समय बाद उस दोने में फिर पानी भर गया। अब वह तोता पुनः टे टे करता हुआ जैसे ही उस दोने को झपट्टा मारने पास आया वैसे ही राजा उस चाबुक को तोते के ऊपर दे मारा। और हो गया बेचारा तोता ढेर।लेकिन दोना भी नीचे गिर गया। राजा ने सोचा इस तोते से तो पीछा छूट गया लेकिन ऐसे बून्द -बून्द से कब वापस दोना भरूँगा कब अपनी प्यास बुझा पाउँगा इसलिए जहाँ से ये पानी टपक रहा है वहीं जाकर झट से पानी भर लूँ। ऐसा सोचकर वह राजा उस डाली के पास गया, जहां से पानी टपक रहा था वहाँ जाकर राजा ने जो देखा तो उसके पाँवो के नीचे की जमीन खिसक गई। उस डाल पर एक भयंकर अजगर सोया हुआ था और उस अजगर के मुँह से लार टपक रही थी राजा जिसको पानी समझ रहा था वह अजगर की जहरीली लार थी। राजा के मन में पश्चॉत्ताप का समन्दर उठने लगता है, हे प्रभु ! मैने यह क्या कर दिया। जो पक्षी बार बार मुझे जहर पीने से बचा रहा था क्रोध के वशीभूत होकर मैने उसे ही मार दिया । काश मैने सन्तों के बताये उत्तम क्षमा मार्ग को धारण किया होता, अपने क्रोध पर नियंत्रण किया होता तो मेरे हितैषी निर्दोष पक्षी की जान नही जाती। कभी कभी हमें लगता है, अमुक व्यक्ति हमें नाहक परेशान कर रहा है लेकिन हम उसकी भावना को समझे बिना क्रोध कर न केवल उसका बल्कि अपना भी नुकसान कर बैठते हैं। इसीलिये कहते हैं कि,क्षमा औऱ दया धारण करने वाला सच्चा वीर होता है। क्रोध वो जहर है जिसकी उत्पत्ति अज्ञानता से होती है और अंत पाश्चाताप से ही होता है।

+186 प्रतिक्रिया 43 कॉमेंट्स • 279 शेयर
Shanti Pathak Sep 24, 2020

+180 प्रतिक्रिया 38 कॉमेंट्स • 103 शेयर
Shanti Pathak Sep 24, 2020

+199 प्रतिक्रिया 32 कॉमेंट्स • 62 शेयर
Shanti Pathak Sep 23, 2020

*जय श्री राधे कृष्णा* *शुभरात्रि वंदन जी* पत्नी का रिश्ता : – “रामलाल तुम अपनी बीबी से इतना क्यों डरते हो? “मैने अपने नौकर से पुछा।। “मै डरता नही साहब उसकी कद्र करता हूँ उसका सम्मान करता हूँ।”उसने जबाव दिया। मैं हंसा और बोला-” ऐसा क्या है उसमें। ना सुरत ना पढी लिखी।” जबाव मिला-” कोई फरक नही पडता साहब कि वो कैसी है पर मुझे सबसे प्यारा रिश्ता उसी का लगता है।” “जोरू का गुलाम।”मेरे मुँह से निकला।” और सारे रिश्ते कोई मायने नही रखते तेरे लिये।”मैने पुछा। उसने बहुत इत्मिनान से जबाव दिया- “साहब जी माँ बाप रिश्तेदार नही होते। वो भगवान होते हैं।उनसे रिश्ता नही निभाते उनकी पूजा करते हैं। भाई बहन के रिश्ते जन्मजात होते हैं , दोस्ती का रिश्ता भी मतलब का ही होता है। आपका मेरा रिश्ता भी दजरूरत और पैसे का है पर, पत्नी बिना किसी करीबी रिश्ते के होते हुए भी हमेशा के लिये हमारी हो जाती है अपने सारे रिश्ते को पीछे छोडकर। और हमारे हर सुख दुख की सहभागी बन जाती है आखिरी साँसो तक।” मै अचरज से उसकी बातें सुन रहा था। वह आगे बोला-“साहब जी, पत्नी अकेला रिश्ता नही है, बल्कि वो पुरा रिश्तों की भण्डार है। जब वो हमारी सेवा करती है हमारी देख भाल करती है , हमसे दुलार करती है तो एक माँ जैसी होती है। जब वो हमे जमाने के उतार चढाव से आगाह करती है,और मैं अपनी सारी कमाई उसके हाथ पर रख देता हूँ क्योकि जानता हूँ वह हर हाल मे मेरे घर का भला करेगी तब पिता जैसी होती है। जब हमारा ख्याल रखती है हमसे लाड़ करती है, हमारी गलती पर डाँटती है, हमारे लिये खरीदारी करती है तब बहन जैसी होती है।जब हमसे नयी नयी फरमाईश करती है, नखरे करती है, रूठती है , अपनी बात मनवाने की जिद करती है तब बेटी जैसी होती है। जब हमसे सलाह करती है मशवरा देती है ,परिवार चलाने के लिये नसीहतें देती है, झगडे करती है तब एक दोस्त जैसी होती है।जब वह सारे घर का लेन देन , खरीददारी , घर चलाने की जिम्मेदारी उठाती है तो एक मालकिन जैसी होती है। , हमारी प्राण और आत्मा होती है जो अपना सब कुछ सिर्फ हमपर न्योछावर करती है।” मैं उसकी इज्जत करता हूँ तो क्या गलत करता हूँ साहब ।” मैं उसकी बात सुनकर अकवका रह गया।। एक अनपढ़ और सीमित साधनो मे जीवन निर्वाह करनेवाले से जीवन का यह मुझे एक नया अनुभव हुआ । पति-पत्नी के बीच का ऐसा धर्म संबंध जो कर्तव्य और पवित्रता पर आधारित हो। इस संबंध की डोर जितनी कोमल होती है, उतनी ही मजबूत भी। जिंदगी की असल सार्थकता को जानने के लिये धर्म-अध्यात्म के मार्ग पर दो साथी, सहचरों का प्रतिज्ञा बद्ध होकर आगे बढऩा ही दाम्पत्य या वैवाहिक जीवन का मकसद होता है। जो प्राप्त है- वो पर्याप्त है आज का दिन मंगलमयी हो

+131 प्रतिक्रिया 20 कॉमेंट्स • 107 शेयर
Shanti Pathak Sep 23, 2020

*जय श्री राधे कृष्णा* *शुभरात्रि वंदन* ❗भगवान श्री कृष्ण का जीवन परिचय❗ 🚩भगवान् श्री कृष्ण को अलग अलग स्थानों में अलग अलग नामो से जाना जाता है। 🚩उत्तर प्रदेश में कृष्ण या गोपाल गोविन्द इत्यादि नामो से जानते है। 🚩राजस्थान में श्रीनाथजी या ठाकुरजी के नाम से जानते है। 🚩महाराष्ट्र में बिट्ठल के नाम से भगवान् जाने जाते है। 🚩उड़ीसा में जगन्नाथ के नाम से जाने जाते है। 🚩बंगाल में गोपालजी के नाम से जाने जाते है। 🚩दक्षिण भारत में वेंकटेश या गोविंदा के नाम से जाने जाते है। 🚩गुजरात में द्वारिकाधीश के नाम से जाने जाते है। 🚩असम ,त्रिपुरा,नेपाल इत्यादि पूर्वोत्तर क्षेत्रो में कृष्ण नाम से ही पूजा होती है। 🚩मलेसिया, इंडोनेशिया, अमेरिका, इंग्लैंड, फ़्रांस इत्यादि देशो में कृष्ण नाम ही विख्यात है। 🚩गोविन्द या गोपाल में "गो" शब्द का अर्थ गाय एवं इन्द्रियों , दोनों से है। गो एक संस्कृत शब्द है और ऋग्वेद में गो का अर्थ होता है मनुष्य की इंद्रिया...जो इन्द्रियों का विजेता हो जिसके वश में इंद्रिया हो वही गोविंद है गोपाल है। 🚩श्री कृष्ण के पिता का नाम वसुदेव था इसलिए इन्हें आजीवन "वासुदेव" के नाम से जाना गया। श्री कृष्ण के दादा का नाम शूरसेन था.. श्री कृष्ण का जन्म उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद के राजा कंस की जेल में हुआ था। 🚩श्री कृष्ण के भाई बलराम थे लेकिन उद्धव और अंगिरस उनके चचेरे भाई थे, अंगिरस ने बाद में तपस्या की थी और जैन धर्म के तीर्थंकर नेमिनाथ के नाम से विख्यात हुए थे। 🚩श्री कृष्ण ने 16100 राजकुमारियों को असम के राजा नरकासुर की कारागार से मुक्त कराया था और उन राजकुमारियों को आत्महत्या से रोकने के लिए मजबूरी में उनके सम्मान हेतु उनसे विवाह किया था। क्योंकि उस युग में हरण की हुयी स्त्री अछूत समझी जाती थी और समाज उन स्त्रियों को अपनाता नहीं था।। 🚩श्री कृष्ण की मूल पटरानी एक ही थी जिनका नाम रुक्मणी था जो महाराष्ट्र के विदर्भ राज्य के राजा रुक्मी की बहन थी।। रुक्मी शिशुपाल का मित्र था और श्री कृष्ण का शत्रु । 🚩दुर्योधन श्री कृष्ण का समधी था और उसकी बेटी लक्ष्मणा का विवाह श्री कृष्ण के पुत्र साम्ब के साथ हुआ था। 🚩श्री कृष्ण के धनुष का नाम सारंग था। शंख का नाम पाञ्चजन्य था। चक्र का नाम सुदर्शन था। उनकी प्रेमिका का नाम राधारानी था जो बरसाना के सरपंच वृषभानु की बेटी थी। श्री कृष्ण राधारानी से निष्काम और निश्वार्थ प्रेम करते थे। राधारानी श्री कृष्ण से उम्र में बहुत बड़ी थी। लगभग 6 साल से भी ज्यादा का अंतर था। श्री कृष्ण ने 14 वर्ष की उम्र में वृंदावन छोड़ दिया था।। और उसके बाद वो राधा से कभी नहीं मिले। 🚩श्री कृष्ण विद्या अर्जित करने हेतु मथुरा से उज्जैन मध्य प्रदेश आये थे। और यहाँ उन्होंने उच्च कोटि के ब्राह्मण महर्षि सान्दीपनि से अलौकिक विद्याओ का ज्ञान अर्जित किया था।। 🚩श्री कृष्ण की कुल आयु 125 वर्ष थी। उनके शरीर का रंग गहरा काला था और उनके शरीर से 24 घंटे पवित्र अष्टगंध महकता था। उनके वस्त्र रेशम के पीले रंग के होते थे और मस्तक पर मोरमुकुट शोभा देता था। उनके सारथि का नाम दारुक था और उनके रथ में चार घोड़े जुते होते थे। उनकी दोनो आँखों में प्रचंड सम्मोहन था। 🚩श्री कृष्ण के कुलगुरु महर्षि शांडिल्य थे। 🚩श्री कृष्ण का नामकरण महर्षि गर्ग ने किया था। 🚩श्री कृष्ण के बड़े पोते का नाम अनिरुद्ध था जिसके लिए श्री कृष्ण ने बाणासुर और भगवान् शिव से युद्ध करके उन्हें पराजित किया था। 🚩श्री कृष्ण ने गुजरात के समुद्र के बीचो बीच द्वारिका नाम की राजधानी बसाई थी। द्वारिका पूरी सोने की थी और उसका निर्माण देवशिल्पी विश्वकर्मा ने किया था। 🚩श्री कृष्ण को ज़रा नाम के शिकारी ने बाण मारा था।। 🚩श्री कृष्ण ने हरियाणा के कुरुक्षेत्र में अर्जुन को पवित्र गीता का ज्ञान रविवार शुक्ल पक्ष एकादशी के दिन मात्र 45 मिनट में दे दिया था। 🚩श्री कृष्ण ने सिर्फ एक बार बाल्यावस्था में नदी में नग्न स्नान कर रही स्त्रियों के वस्त्र चुराए थे और उन्हें अगली बार यु खुले में नग्न स्नान न करने की नसीहत दी थी। 🚩श्री कृष्ण के अनुसार गौ हत्या करने वाला असुर है और उसको जीने का कोई अधिकार नहीं। 🚩श्री कृष्ण अवतार नहीं थे बल्कि अवतारी थे....जिसका अर्थ होता है "पूर्ण पुरुषोत्तम भगवान्" 🚩न ही उनका जन्म साधारण मनुष्य की तरह हुआ था और न ही उनकी मृत्यु हुयी थी। 🚩सर्वान् धर्मान परित्यजम मामेकं शरणम् व्रज अहम् त्वम् सर्व पापेभ्यो मोक्षस्यामी मा शुच-- भगवद् गीता अध्याय 18, श्री कृष्ण ❗सभी धर्मो का परित्याग करके एकमात्र मेरी शरण ग्रहण करो, मैं सभी पापो से तुम्हारा उद्धार कर दूंगi ❗जय श्री कृष्णा❗*

+152 प्रतिक्रिया 32 कॉमेंट्स • 102 शेयर
Shanti Pathak Sep 23, 2020

🌹🙏🌹जय श्री राधे कृष्णा शुभ संध्या वंदन 🌹🙏🌹 . जगत की रीत ............................................. एक बार एक गांव में पंचायत लगी थी | वहीं थोड़ी दूरी पर एक संत ने अपना बसेरा किया हुआ था | जब पंचायत किसी निर्णय पर नहीं पहुंच सके तो किसी ने कहा कि क्यों न हम महात्मा जी के पास अपनी समस्या को लेकर चले अतः सभी संत के पास पहुंचे | जब संत ने गांव के लोगों को देखा तो पूछा कि कैसे आना हुआ ? तो लोगों ने कहा, "महात्मा जी गांव भर में एक ही कुआं है और कुएं का पानी हम नहीं पी सकते, बदबू आ रही है | मन भी नहीं होता पानी पीने को" | संत ने पूछा हुआ क्या ? पानी क्यों नहीं पी सकते हो ? लोग बोले तीन कुत्ते लड़ते लड़ते उसमें गिर गये थे | बाहर नहीं निकले, मर गये उसी में | अब जिसमें कुत्ते मर गये हो उसका पानी कौन पीये महात्मा जी ? संत ने कहा "एक काम करो, उसमें गंगाजल डलवाओ, तो कुएं में गंगाजल भी, आठ दस बाल्टी छोड़ दिया गया | फिर भी समस्या जस की तस" | लोग फिर से संत के पास पहुंचे | और संत ने कहा, "भगवान की कथा कराओ"| लोगों ने कहा, "ठीक है" | कथा हुई, फिर भी समस्या जस की तस | लोग फिर संत के पास पहुंचे | अब संत ने कहा, इसमें सुगंधी द्रव्य डलवाओ | सुगंधित द्रव्य डाला गया, नतीजा फिर वही | ढाक के तीन पात | लोग फिर संत के पास, अब संत खुद चलकर आये | लोगों ने कहा -महाराज ! वही हालत है, हमने सब करके देख लिया | गंगाजल भी डलवाया, कथा भी करवायी, प्रसाद बांटा और उसमें सुगंधित पुष्प और बहुत चीजे डालीं | आब संत आश्चर्यचकित हुए कि अभी भी इसका मन कैसे नहीं बदला | तो संत ने पूछा कि तुमने और सब तो किया, व तीन कुत्ते जो मरे पड़े थे, उन्हें निकाला कि नहीं ? लोग बोले -उनके लिये न आपने कहा न हमने निकाला, बाकी सब किया | वे तो वहीं के वहीं पड़े हैं | संत बोले -जब तक उन्हें नहीं निकालोे, इन उपायों का कोई प्रभाव नहीं होगा | बात यह है कि हमारे आपके जीवन की यह कहानी है | इस शरीर नामक गांव के अंत:करण के कुए में काम, क्रोध और लोभ के तीन कुत्ते लड़ते झगड़ते गिर गये हैं | इन्हीं की सारी बदबू है | हम उपाय पूछते हैं तो लोग बताते हैं, तीर्थयात्रा कर लो, थोड़ा यह कर लो, थोड़ा पूजा कर लो, थोड़ा पाठ आदि -आदि | सब करते हैं, पर बदबू इन्हीं दुर्गुणों की आती रहती है | तो पहले उन्हें निकाल कर बाहर करें तभी जीवन उपयोगी होगा | * शुभ संध्या*

+117 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 105 शेयर