+54 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 2 शेयर

+146 प्रतिक्रिया 42 कॉमेंट्स • 30 शेयर

+106 प्रतिक्रिया 29 कॉमेंट्स • 20 शेयर

+92 प्रतिक्रिया 18 कॉमेंट्स • 25 शेयर

+85 प्रतिक्रिया 23 कॉमेंट्स • 13 शेयर

+84 प्रतिक्रिया 18 कॉमेंट्स • 24 शेयर

+153 प्रतिक्रिया 47 कॉमेंट्स • 44 शेयर

🌞 ~ *आज का हिन्दू पंचांग* ~ 🌞 ⛅ *दिनांक - 30 नवंबर 2021* ⛅ *दिन - मंगलवार* ⛅ *विक्रम संवत - 2078* ⛅ *शक संवत -1943* ⛅ *अयन - दक्षिणायन* ⛅ *ऋतु - हेमंत* ⛅ *मास - मार्ग शीर्ष मास (गुजरात एवं महाराष्ट्र के अनुसार कार्तिक*) ⛅ *पक्ष - कृष्ण* ⛅ *तिथि - एकादशी 01 दिसम्बर रात्रि 02:13 तक तत्पश्चात द्वादशी* ⛅ *नक्षत्र - हस्त रात्रि 08:34 तक तत्पश्चात चित्रा* ⛅ *योग - आयुष्मान 12:03 तक तत्पश्चात सौभाग्य* ⛅ *राहुकाल - शाम 03:12 से शाम 04:34 तक* ⛅ *सूर्योदय - 07:00* ⛅ *सूर्यास्त - 17:54* ⛅ *दिशाशूल - उत्तर दिशा में* ⛅ *व्रत पर्व विवरण - उत्पत्ति एकादशी, आलंदी यात्रा (पुणे)* 💥 *विशेष - हर एकादशी को श्री विष्णु सहस्रनाम का पाठ करने से घर में सुख शांति बनी रहती है l राम रामेति रामेति । रमे रामे मनोरमे ।। सहस्त्र नाम त तुल्यं । राम नाम वरानने ।।* 💥 *आज एकादशी के दिन इस मंत्र के पाठ से विष्णु सहस्रनाम के जप के समान पुण्य प्राप्त होता है l* 💥 *एकादशी के दिन बाल नहीं कटवाने चाहिए।* 💥 *एकादशी को चावल व साबूदाना खाना वर्जित है | एकादशी को शिम्बी (सेम) ना खाएं अन्यथा पुत्र का नाश होता है।* 💥 *जो दोनों पक्षों की एकादशियों को आँवले के रस का प्रयोग कर स्नान करते हैं, उनके पाप नष्ट हो जाते हैं।* 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 🌷 *उत्पत्ति एकादशी* 🌷 ➡️ *30 नवम्बर 2021 मंगलवार को प्रातः 04:14 से रात्रि 02:13 तक (यानी 30 नवम्बर, मंगलवार को पूरा दिन) एकादशी है।* 💥 *विशेष - 30 नवम्बर, मंगलवार को एकादशी का व्रत उपवास रखें ।* 🙏🏻 *उत्पत्ति एकादशी ( व्रत करने से धन, धर्म और मोक्ष की प्राप्ति होती है | - पद्म पुराण )* 🌞 ~ *हिन्दू पंचांग* ~ 🌞 🌷 *स्नान के साथ पायें अन्य लाभ* 🌷 🐄 *गोमय से ( देशी गौ-गोबर को पानी में मिलाकर उससे ) स्नान करने पर लक्ष्मीप्राप्ति होती है तथा गोमूत्र से स्नान करने पर पाप-नाश होता है | गोदुग्ध से स्नान करने पर बलवृद्धि एवं दही से स्नान करने पर लक्ष्मी की वृद्धि होती है | ( अग्निपुराण : २६७.४-५)* 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 🌷 *पौष्टिक खजूर* 🌷 🔹 *१३२ प्रकार की बीमारियों को जड़ से उखाडनेवाला, त्रिदोषनाशक खजूर तुरंत शक्ति – स्फूर्ति देनेवाला, रक्त – मांस व वीर्य की वृद्धि करनेवाला, कब्जनाशक, कान्तिवर्धक, ह्रदय व मस्तिष्क का टॉनिक है |* 💥 *सेवन - विधि : बच्चों के लिए २ से ४ और बड़ों के लिए ४ से ७ |* 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 🙏🏻🌷🍀🌹🌻🍁🌺💐🌸🙏🏻

+88 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 28 शेयर