Santosh Hariharan Oct 26, 2020

https://goo.gl/ZLK01K

+150 प्रतिक्रिया 28 कॉमेंट्स • 43 शेयर
Santosh Hariharan Oct 6, 2020

+229 प्रतिक्रिया 51 कॉमेंट्स • 61 शेयर
Santosh Hariharan Sep 7, 2020

+246 प्रतिक्रिया 45 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Santosh Hariharan Aug 17, 2020

*काल के दो अर्थ होते हैं- एक समय और दूसरा मृत्यु। महाकाल को 'महाकाल' इसलिए कहा जाता है कि प्राचीन समय में यहीं से संपूर्ण विश्व का मानक समय निर्धारित होता था इसीलिए इस ज्योतिर्लिंग का नाम 'महाकालेश्वर' रखा गया है। पौराणिक कथा के अनुसार इस शिवलिंग की स्थापना राजा चन्द्रसेन और गोप-बालक की कथा से जुड़ी है। कालों के काल महाकाल के यहां प्रतिदिन अलसुबह भस्म आरती होती है। इस आरती की खासियत यह है कि इसमें ताजा मुर्दे की भस्म से भगवान महाकाल का श्रृंगार किया जाता है। इस आरती में शामिल होने के लिए पहले से बुकिंग की जाती है। *महाकाल के दर्शन करने के बाद जूना महाकाल के दर्शन जरूर करना चाहिए। कुछ लोगों के अनुसार जब मुगलकाल में इस शिवलिंग को खंडित करने की आशंका बढ़ी तो पुजारियों ने इसे छुपा दिया था और इसकी जगह दूसरा शिवलिंग रखकर उसकी पूजा करने लगे थे। बाद में उन्होंने उस शिवलिंग को वहीं महाकाल के प्रांगण में अन्य जगह स्थापित कर दिया जिसे आज 'जूना महाकाल' कहा जाता है। हालांकि कुछ लोगों के अनुसार असली शिवलिंग को क्षरण से बचाने के लिए ऐसा किया गया। जय श्री महाकाल

+121 प्रतिक्रिया 14 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Santosh Hariharan Aug 12, 2020

https://goo.gl/ZLK01K

+170 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 43 शेयर
Santosh Hariharan Aug 12, 2020

+49 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Santosh Hariharan Aug 5, 2020

+107 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 23 शेयर
Santosh Hariharan Jul 21, 2020

https://goo.gl/ZLK01K

+120 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 15 शेयर