Shiv Rana Jul 15, 2019

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Shiv Rana Jun 20, 2019

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Shiv Rana Jun 19, 2019

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Shiv Rana Jun 19, 2019

Shiv Rana🌹 Cilia pharmaceuticals🌹 मुजफफरनगर ( Shiv Dass) लगभग सभी प्रकार की आयुर्वेदिक दवाइयों के निर्माता व थोक विक्रेता द्वारा संकलित करके निशुल्क सेवा के अन्तर्गत जनहित में जारी।FB PAGE JANEU KRANTI LIKE SHARE.. 💐🙏🌹 🙏🏼 50 साल उम्र हो चुकी हो पार, तो अब इन बातो का रखिए ख्याल🙏🏼 *50 पार.... अब आपका तन,आपके मन का आज्ञाकारी नही रह पाता*...!! 👉मैंने अपने चिकित्सकीय अनुभव मे जाना कि मन चाहे कितना ही जोशीला हो, साठापाठा होते ही, तन उतना फ़ुर्तीला नहीं रह जाता ? शरीर ढलान पर होता है और ‘रिफ्लेक्सेज़’ कमज़ोर ! कभी कभी मन भ्रम बनाए रखता है कि ‘ये काम तो चुटकी मे कर लूँगा’ पर बहुत जल्दी सच्चाई सामने होती है, मगर एक नुक़सान के साथ ? Cilia pharmaceuticals🌹 👉सीनियर सिटिज़न होने पर जिन बातों का ख़याल रखा जाना चाहिये , ऐसी कुछ टिप्स देना चाहूँगा ? धोखा तभी होता है जब मन सोचता है ‘कर लूंगा’ और शरीर करने से ‘चूक’ जाय ? परिणाम एक एक्सीडेंट और शारीरिक क्षति ? ये क्षति, हड्डी के फ़्रैक्चर से लेकर ‘हेड इंज्यूरी’ तक हो सकती है ? याने जान लेवा भी , कभी कभी ? Cilia pharmaceuticals 🌹 👉इसलिये जिन्हें भी आदत हो हमेशा हड़बड़ी मे रहने और काम करने की , बेहतर होगा कि वे अपनी आदतें बदल डालें ? भरम न पालें , सावधानी बरतें क्योंकि आप अब पहले की तरह फ़ुर्तीले नहीं रह गये ? छोटी चूक कभी बड़े नुक़सान का सबब बन जाती है ? Cilia pharmaceuticals🌹 👉सुबह नींद खुलते ही तुरंत बिस्तर छोड़ खड़े न हों ! पहले बिस्तर पर कुछ मिनट बैठे रहें और पूरी तरह चैतन्य हो लें ? कोशिश करें कि बैठे बैठे ही स्लीपर / चप्पलें पैर मे डाल लें या खड़े होने पर मेज़ या किसी सहारे को पकड़ कर ही चप्पलें पहने ! अकसर यही समय होता है डगमगा कर गिर जाने का ? Cilia pharmaceuticals 🌹 👉सबसे ज़्यादा घटनाएँ गिरने की बॉथरूम/वॉशरूम या टॉयलेट मे ही होतीं हैं ? आप चाहे नितांत अकेले , पति पत्नी साथ या संयुक्त परिवार मे रहते हों, बॉथरूम मे अकेले ही होते हैं ? Cilia pharmaceuticals🌹 👉घर मे अकेले रहते हों तो अतिरिक्त सावधानी बरतें क्योंकि गिरने पर यदि उठ न सके तो दरवाज़ा तोड़कर ही आप तक सहायता पहुँच सकेगी ? वह भी तब, जब आप पड़ोसी तक सूचना पहुँचाने मे समय से कामयाब हो सके ? याद रखें बाथरूम मे भी मोबाइल साथ हो ताकि वक़्त ज़रूरत काम आ सके ? बाकी भूल चूक लेनी देनी नही, देनी ही देनी होती है ? Cilia pharmaceuticals 🌹 👉हमेशा कमोड का ही इस्तेमाल करें ! यदि न हो, तो समय रहते बदलवा लें, ज़रूरत पड़नी ही है, चाहे कुछ समय बाद ? कमोड के पास संभव हो तो एक हैंडिल लगवा लें ! कमज़ोरी की स्थिति मे ये ज़रूरी हो जाता है ? ( प्लास्टिक के वेक्यूम हैंडिल भी मिलते हैं, जो टॉइल्स जैसी चिकनी सतह पर चिपक जाते हैं, पर इन्हें हर बार इस्तेमाल से पहले खींचकर ज़रूर परख लें ) Cilia pharmaceuticals🌹 👉हमेशा आवश्यक ऊँचे स्टूल पर बैठकर ही नहॉंएं ! बॉथरूम के फ़र्श पर रबर की मैट ज़रूर बिछा रखें आवश्यकतानुसार फिसलन से बचने ? गीले हाथों से टाइल्स लगी दीवार का सहारा कभी न लें, हाथ फिसलते ही आप ‘डिसबैलेंस’ होकर गिर सकते हैं ? Cilia pharmaceuticals 🌹 👉बॉथरूम के ठीक बाहर सूती मैट भी रखें जो गीले तलवों से पानी सोख ले ! कुछ सेकेण्ड उस पर खड़े होकर फिर फ़र्श पर पैर रखें वो भी सावधानी से ! Cilia pharmaceuticals🌹 👉अंडरगारमेंट हों या कपड़े, अपने चेंजरूम या बेडरूम मे ही पहने ! अंडरवियर,पजामा या पैंट खडे़ खडे़ कभी नही पहने ! हमेशा बैठ कर ही उनके पायचों मे पैर डालें, फिर खड़े होकर पहिने वर्ना दुर्घटना घट सकती है ? कभी स्मार्टनेस की बड़ी क़ीमत चुकानी पड़ जाती है ? Cilia pharmaceuticals 🌹 👉अपनी दैनिक ज़रूरत की चीज़ों को नियत जगह पर ही रखने की आदत डाल लें , जिससे उन्हें आसानी से उठाया या तलाशा जा सके ? भूलने की ज़्यादा आदत हो आवश्यक चीज़ों की लिस्ट मेज़ पर या दीवार पर लगा लें , घर से निकलते समय एक निगाह उस पर डाल लें, आसानी रहेगी ! 👉जो दवाएँ रोज़ाना लेनी हों तो प्लास्टिक के प्लॉनर मे रखें जिसमें जुड़ी हुई डिब्बियों मे हफ़्ते भर की दवाएँ दिनवार रखी जाती है ! अकसर भ्रम हो जाता है कि दवाएँ ले ली हैं या भूल गये ? प्लॉनर मे से दवा खाने मे चूक नही होगी ? 🙏🏼सीढ़ियों से चढ़ते उतरते समय, सक्षम होने पर भी, हमेशा रेलिंग का सहारा लें ? ख़ासकर मॉल्स के एक्सलेटर पर ? *ध्यान रहे आपका शरीर आपके मन का अब पहले जैसा ‘ओबीडियेंट सर्वेंट’ नही रहा*... 🙏🏼निवेदन, प्रार्थना, गुजारिश केवल आपसे🙏🏼 👉 अपनी हम उम्र के साथियों तक ये लेख जरूर भिजवाए। 🙏🏼हमारा उद्देश्य आप स्वस्थ रहे खुश रहे🙏🏼 Cilia pharmaceuticals🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 Like Share fb page Janeu Kranti.. 💐🌹🙏

+5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Shiv Rana Jun 18, 2019

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Shiv Rana Jun 18, 2019

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Shiv Rana Jun 16, 2019

+13 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Shiv Rana Jun 16, 2019

🌹 CILIA PHARMACEUTICALSसभी प्रकार की आयुर्वेदिक दवाओं के निर्माता व थोक Cilia pharmaceuticals🌹 🤔तलाक स्पेशल : एक शानदार बेहतरीन कहानी, जिसमें आपको दिमाग़ का ही नहीं बुद्धि का प्रयोग भी जरूर करना ही पड़ेगा। बेहद ध्यान से जरूर व पूरी की पूरी पढे। तभी समझ में आने की पूरी गारंटी है🙏🙏🙏🙏🙏 Cilia pharmaceuticals 🙏रविवार को फुरसत से..... 👉तब मैं जनसत्ता में नौकरी करता था। एक दिन खबर आई कि एक आदमी ने झगड़ा के बाद अपनी पत्नी की हत्या कर दी। मैंने खब़र में हेडिंग लगाई कि पति ने अपनी बीवी को मार डाला। खबर छप गई। किसी को आपत्ति नहीं थी। पर शाम को दफ्तर से घर के लिए निकलते हुए प्रधान संपादक प्रभाष जोशी जी सीढ़ी के पास मिल गए। मैंने उन्हें नमस्कार किया तो कहने लगे कि संजय जी,जो आपने आज हेडिंग दिया वी गलत था चुकीं पति की बीवी नहीं होती। 👉🏻“पति की बीवी नहीं होती?” मैं चौंका था। 👌“बीवी तो शौहर की होती है, मियां की होती है। पति की तो पत्नी होती है।” 👌भाषा के मामले में प्रभाष जी के सामने मेरा टिकना मुमकिन नहीं था। हालांकि मैं कहना चाह रहा था कि भाव तो साफ है न ? बीवी कहें या पत्नी या फिर वाइफ, सब एक ही तो हैं। लेकिन मेरे कहने से पहले ही उन्होंने मुझसे कहा कि भाव अपनी जगह है, शब्द अपनी जगह। कुछ शब्द कुछ जगहों के लिए बने ही नहीं होते, ऐसे में शब्दों का घालमेल गड़बड़ी पैदा करता है। Cilia pharmaceuticals 👌प्रभाष जी आमतौर पर उपसंपादकों से लंबी बातें नहीं किया करते थे। लेकिन उस दिन उन्होंने मुझे टोका था और तब से मेरे मन में ये बात बैठ गई थी कि शब्द बहुत सोच समझ कर गढ़े गए होते हैं। 👉🏻खैर, आज मैं भाषा की कक्षा लगाने नहीं आया। आज मैं रिश्तों के एक अलग अध्याय को जीने के लिए आपके पास आया हूं। लेकिन इसके लिए आपको मेरे साथ निधि के पास चलना होगा। 👉🏻निधि मेरी स्कूल की दोस्त है। कल उसने मुझे फोन करके अपने घर बुलाया था। फोन पर उसकी आवाज़ से मेरे मन में खटका हो चुका था कि कुछ न कुछ गड़बड़ है। मैं शाम को उसके घर पहुंचा। उसने चाय बनाई और मुझसे बात करने लगी। पहले तो इधर-उधर की बातें हुईं, फिर उसने कहना शुरू कर दिया कि नितिन से उसकी नहीं बन रही और उसने उसे तलाक देने का फैसला कर लिया है। 👉🏻मैंने पूछा कि नितिन कहां है, तो उसने कहा कि अभी कहीं गए हैं, बता कर नहीं गए। उसने कहा कि बात-बात पर झगड़ा होता है और अब ये झगड़ा बहुत बढ़ गया है। ऐसे में अब एक ही रास्ता बचा है कि अलग हो जाएं, तलाक ले लें। मैं चुपचाप बैठा रहा। 👉🏻निधि जब काफी देर बोल चुकी तो मैंने उससे कहा कि तुम नितिन को फोन करो और घर बुलाओ, कहो कि संजय सिन्हा आए हैं। निधि ने कहा कि उनकी तो बातचीत नहीं होती, फिर वो फोन कैसे करे? 👉🏻अजीब संकट था। निधि को मैं बहुत पहले से जानता हूं। मैं जानता हूं कि नितिन से शादी करने के लिए उसने घर में कितना संघर्ष किया था। बहुत मुश्किल से दोनों के घर वाले राज़ी हुए थे, फिर धूमधाम से शादी हुई थी। ढेर सारी रस्म पूरी की गईं थीं। ऐसा लगता था कि ये जोड़ी ऊपर से बन कर आई है। पर शादी के कुछ ही साल बाद दोनों के बीच झगड़े होने लगे। दोनों एक-दूसरे को खरी-खोटी सुनाने लगे। और आज उसी का नतीज़ा था कि संजय सिन्हा निधि के सामने बैठे थे, उनके बीच के टूटते रिश्तों को बचाने के लिए। 👉🏻खैर, निधि ने फोन नहीं किया। मैंने ही फोन किया और पूछा कि तुम कहां हो ? मैं तुम्हारे घर पर हूं, आ जाओ। नितिन पहले तो आनाकानी करता रहा, पर वो जल्दी ही मान गया और घर चला आया। 👉🏻अब दोनों के चेहरों पर तनातनी साफ नज़र आ रही थी। ऐसा लग रहा था कि कभी दो जिस्म-एक जान कहे जाने वाले ये पति-पत्नी आंखों ही आंखों में एक दूसरे की जान ले लेंगे। दोनों के बीच कई दिनों से बातचीत नहीं हुई थी। नितिन मेरे सामने बैठा था। मैंने उससे कहा कि सुना है कि तुम निधि से तलाक लेना चाहते हो? Cilia pharmaceuticals 👉🏻उसने कहा, “हां, बिल्कुल सही सुना है। अब हम साथ नहीं रह सकते।” 👉🏻मैंने कहा कि तुम चाहो तो अलग रह सकते हो। पर तलाक नहीं ले सकते। “क्यों?” “क्योंकि तुमने निकाह तो किया ही नहीं है।” “अरे यार, हमने शादी तो की है।” 👉🏻“हां, शादी की है। शादी में पति-पत्नी के बीच इस तरह अलग होने का कोई प्रावधान नहीं है। अगर तुमने मैरिज़ की होती तो तुम डाइवोर्स ले सकते थे। अगर तुमने निकाह किया होता तो तुम तलाक ले सकते थे। लेकिन क्योंकि तुमने शादी की है, इसका मतलब ये हुआ कि हिंदू धर्म और हिंदी में कहीं भी पति-पत्नी के एक हो जाने के बाद अलग होने का कोई प्रावधान है ही नहीं।” 👉🏻मैंने इतनी-सी बात पूरी गंभीरता से कही थी, पर दोनों हंस पड़े थे। दोनों को साथ-साथ हंसते देख कर मुझे बहुत खुशी हुई थी। मैंने समझ लिया था कि रिश्तों पर पड़ी बर्फ अब पिघलने लगी है। वो दोनो हंसे, लेकिन मैं गंभीर बना रहा। मैंने फिर निधि से पूछा कि ये तुम्हारे कौन हैं? 👉🏻निधि ने नज़रे झुका कर कहा कि पति हैं। मैंने यही सवाल नितिन से किया कि ये तुम्हारी कौन हैं? उसने भी नज़रें इधर-उधर घुमाते हुए कहा कि बीवी हैं। 👉🏻मैंने उसे तुरंत टोका। ये तुम्हारी बीवी नहीं हैं। ये तुम्हारी बीवी इसलिए नहीं हैं क्योंकि तुम इनके शौहर नहीं। तुम इनके शौहर नहीं, क्योंकि तुमने इनसे साथ निकाह नहीं किया। तुमने शादी की है। शादी के बाद ये तुम्हारी पत्नी हुईं। हमारे यहां जोड़ी ऊपर से बन कर आती है। तुम भले सोचो कि शादी तुमने की है, पर ये सत्य नहीं है। तुम शादी का एलबम निकाल कर लाओ, मैं सबकुछ अभी इसी वक्त साबित कर दूंगा। Cilia pharmaceuticals 👌बात अलग दिशा में चल पड़ी थी। मेरे एक-दो बार कहने के बाद निधि शादी का एलबम निकाल लाई। अब तक माहौल थोड़ा ठंडा हो चुका था, एलबम लाते हुए उसने कहा कि कॉफी बना कर लाती हूं। 👉🏻मैंने कहा कि नहीं अभी बैठो, इन तस्वीरों को देखो। कई तस्वीरों को देखते हुए मेरी निगाह एक तस्वीर पर गई जहां निधि और नितिन शादी के जोड़े में बैठे थे और पांव पूजन की रस्म चल रही थी। मैंने वो तस्वीर एलबम से निकाली और उनसे कहा कि इस तस्वीर को गौर से देखो। 👉🏻उन्होंने तस्वीर देखी और साथ-साथ पूछ बैठे कि इसमें खास क्या है? 👉🏻मैंने कहा कि ये पैर पूजन का रस्म है। और जो लोग तुम्हारे पैर पूज रहे है उनसे तुम दोनों इन सभी लोगों से छोटे हो, जो तुम्हारे पांव छू रहे हैं। “हां तो?” 👍“ये एक रस्म है। ऐसी रस्म संसार के किसी धर्म में नहीं होती जहां छोटों के पांव बड़े छूते हों। लेकिन हमारे यहां शादी को ईश्वरीय विधान माना गया है, इसलिए ऐसा माना जाता है कि शादी के दिन पति-पत्नी दोनों विष्णु और लक्ष्मी के रूप हो जाते हैं। दोनों के भीतर ईश्वर का निवास हो जाता है। अब तुम दोनों खुद सोचो कि क्या हज़ारों-लाखों साल से विष्णु और लक्ष्मी कभी अलग हुए हैं? दोनों के बीच कभी झिकझिक हुई भी हो तो क्या कभी तुम सोच सकते हो कि दोनों अलग हो जाएंगे? नहीं होंगे। हमारे यहां इस रिश्ते में ये प्रावधान है ही नहीं। 🤔 तलाक शब्द हमारा नहीं है। डाइवोर्स शब्द भी हमारा नहीं है। 👉🏻यहीं दोनों से मैंने ये भी पूछा कि बताओ कि हिंदी में तलाक को क्या कहते हैं? Cilia pharmaceuticals 👉🏻दोनों मेरी ओर देखने लगे। उनके पास कोई जवाब था ही नहीं। फिर मैंने ही कहा कि दरअसल हिंदी में तलाक का कोई विकल्प नहीं। हमारे यहां तो ऐसा माना जाता है कि एक बार एक हो गए तो कई जन्मों के लिए एक हो गए। तो प्लीज़ जो हो ही नहीं सकता, उसे करने की कोशिश भी मत करो। या फिर पहले एक दूसरे से निकाह कर लो, फिर तलाक ले लेना।” 👌अब तक रिश्तों पर जमी बर्फ काफी पिघल चुकी थी। निधि चुपचाप मेरी बातें सुन रही थी। फिर उसने कहा कि भैया, मैं कॉफी लेकर आती हूं। वो कॉफी लाने गई, मैंने नितिन से बातें शुरू कर दीं। बहुत जल्दी पता चल गया कि बहुत ही छोटी-छोटी बातें हैं, बहुत ही छोटी-छोटी इच्छाएं हैं, जिनकी वज़ह से झगड़े हो रहे हैं। 👍खैर, कॉफी आई। मैंने एक चम्मच चीनी अपने कप में डाली। नितिन के कप में चीनी डाल ही रहा था कि निधि ने रोक लिया, “भैया इन्हें शुगर है। चीनी नहीं लेंगे।” 👌लो जी, घंटा भर पहले ये इनसे अलग होने की सोच रही थीं और अब इनके स्वास्थ्य की सोच रही हैं। मैं हंस पड़ा। मुझे हंसते देख निधि थोड़ा झेंपी। 👉कॉफी पी कर मैंने कहा कि अब तुम लोग अगले हफ़्ते निकाह कर लो, फिर तलाक में मैं तुम दोनों की मदद करूंगा। 🤔🤔🤔🤔🤔🤔🤔 कुछ समझ आया हो तो दूसरो को भी शेयर करें और उन्हें भी समझाइए वरना मेसेज को डिलीट कर दीजिए चुकी आप ज्यादा बुद्धिमान है और ऐसी बाते आपकी समझ से बाहर की है। 🤔🤔🤔🤔🤔🤔🤔🤔 *हिंदी एक भाषा ही नहीं संस्कृति है व हिंदू धर्म ही नही एक सभ्यता है। इसको संभालिए इसमें ही हमारा व हमरे बच्चो का भविष्य है* 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 💐Cilia pharmaceuticals

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर