SANDEEP DUBEY Oct 21, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर
SANDEEP DUBEY Sep 24, 2020

+11 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 16 शेयर
SANDEEP DUBEY Sep 24, 2020

24.9.2020 *दूसरों को बार-बार गलती करने का अवसर न देवें। इसमें आपकी बुद्धिमत्ता नहीं मानी जाएगी।* हमें प्रतिदिन अनेक लोगों के साथ व्यवहार करना पड़ता है। किसी के चेहरे पर तो लिखा नहीं है, कि यह व्यक्ति ईमानदार है या धोखेबाज है। धीरे-धीरे अनुभव से ही समझ में आता है, कि कौन ईमानदार है, और कौन धोखेबाज है! और यह सब व्यवहार में परीक्षण करने से ही पता चलता है। यह परीक्षण करना आवश्यक भी है। यदि आप अपने आसपास के लोगों का परीक्षण नहीं करते, उनसे सावधान नहीं रहते, तो ऐसे लोग आपको निश्चित रूप से हानि पहुंचाएंगे। बार-बार आपको धोखा देंगे, और लूटेंगे। *सब लोग इतने ईमानदार नहीं हैं, इतने सीधे सच्चे नहीं हैं, जितना आप उनको समझते हैं। बल्कि अनुभव तो यही बताता है कि, संसार में अधिकतर लोग बेईमान हैं।* अवसर की तलाश में रहते हैं। अवसर मिलते ही घोटाला करते हैं। आपको मेरी बात पर विश्वास न होता हो, और आपको परीक्षण करना हो, तो आप कर भी सकते हैं। *सड़क पर ₹ 500 का एक नोट गिरा दीजिए और छुप कर देखिए, क्या होता है ? जिसकी भी नजर पहले पड़ गई, बस वही ले जाएगा। इससे आपको पता चल गया न, कि लोग कितने ईमानदार हैं? ऐसे लोगों से भरी पड़ी है यह दुनियाँ।* *कुछ लोग तो इसलिए ईमानदार दिखते हैं, क्योंकि उन्हें बेईमानी या घोटाला करने का अवसर नहीं मिला। अपवाद स्वरूप कोई लाखों में एक आध मिलेगा, जो अवसर मिलने पर भी घोटाला न करे। अन्यथा अवसर मिलते ही, सभी घोटाला करेंगे। अवसर मिलने पर भी जो लाखों में एक आध व्यक्ति घोटाला नहीं करता, इसका क्या कारण है? इसका कारण है कि उसे ईश्वर का दंड समझ में आया है, कि "यदि मैं घोटाला करूंगा, तो ईश्वर मुझे कुत्ता सूअर हाथी बंदर सांप बिच्छू आदि योनियों में भयंकर दंड देगा।" इस प्रकार से जिसको ईश्वर का दंड समझ में आ जाता है, वह कभी घोटाला नहीं करता। और जिसे दंड समझ में नहीं आता, वह अवसर मिलते ही घोटाला करता है।* अब आप को रहना तो इसी पृथ्वी पर ही है। इन्हीं बेईमान लोगों के साथ रहना भी है, और उनसे अपनी रक्षा भी करनी है। तो सोचिए, आपको कितना सावधान रहना होगा। हर व्यक्ति का परीक्षण करना होगा। और *जो व्यक्ति परीक्षण नहीं करेगा, वह बार-बार धोखा खाएगा। दुष्ट बेईमान या धोखेबाज लोगों को वह अच्छा व्यक्ति मान लेगा, और उन्हें बार-बार लूटने का अवसर देगा। ऐसा अवसर देने वाला व्यक्ति कम से कम बुद्धिमान तो नहीं कहलाएगा। फिर क्या कहलायेगा? मूर्ख ही कहलायेगा। वह जितनी अधिक बार धोखा खाएगा, उतना ही बड़ा मूर्ख कहलाएगा।* अब आप विचार कीजिए, आपके सामने दो रास्ते हैं। *पहला - या तो बिना परीक्षण किए दुष्टों से बार-बार धोखा खाते रहें, मूर्ख बनते रहें, और लुटते रहें। दूसरा - या फिर परीक्षण करके दुष्टों और धोखेबाजों से सावधान रहें। अपनी सुरक्षा रखें, और सुख पूर्वक जीएँ। आपको 2 में से जो मार्ग अच्छा लगे, वही अपना लीजिए।* - *स्वामी विवेकानंद परिव्राजक.*

+9 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 5 शेयर
SANDEEP DUBEY Sep 5, 2020

🚩ॐ नमः शिवाय 🚩 #बिल्व_वृक्ष_विशेष_पंचपत्रबिल्व_दर्शनम् 🌿1. बिल्व वृक्ष के आसपास सांप नहीं आते । 🌿2. अगर किसी की शव यात्रा बिल्व वृक्ष की छाया से होकर गुजरे तो उसका मोक्ष हो जाता है । 🌿3. वायुमंडल में व्याप्त अशुध्दियों को सोखने की क्षमता सबसे ज्यादा बिल्व वृक्ष में होती है । 🌿4. चार पांच छः या सात पत्तो वाले बिल्व पत्रक पाने वाला परम भाग्यशाली और शिव को अर्पण करने से अनंत गुना फल मिलता है । 🌿5. बेल वृक्ष को काटने से वंश का नाश होता है। और बेल वृक्ष लगाने से वंश की वृद्धि होती है। 🌿6. सुबह शाम बेल वृक्ष के दर्शन मात्र से पापो का नाश होता है। 🌿7. बेल वृक्ष को सींचने से पितर तृप्त होते है। 🌿8. बेल वृक्ष और सफ़ेद आक् को जोड़े से लगाने पर अटूट लक्ष्मी की प्राप्ति होती है। 🌿9. बेल पत्र और ताम्र धातु के एक विशेष प्रयोग से ऋषि मुनि स्वर्ण धातु का उत्पादन करते थे । 🌿10. जीवन में सिर्फ एक बार और वो भी यदि भूल से भी शिवलिंग पर बेल पत्र चढ़ा दिया हो तो भी उसके सारे पाप मुक्त हो जाते है । 🌿11. बेल वृक्ष का रोपण, पोषण और संवर्धन करने से महादेव से साक्षात्कार करने का अवश्य लाभ मिलता है। 🌿कृपया बिल्व पत्र का पेड़ जरूर लगाये । बिल्व पत्र के लिए पेड़ को क्षति न पहुचाएं। #शिवजी की पूजा में ध्यान रखने योग्य बात:- #शिवपुराण के अनुसार भगवान शिव को कौन सी चीज़ चढाने से क्या फल मिलता है । किसी भी देवी-देवता का पूजन करते वक़्त उनको अनेक चीज़ें अर्पित की जाती है। प्रायः भगवन को अर्पित की जाने वाली हर चीज़ का फल अलग होता है। शिव पुराण में इस बात का वर्णन मिलता है कि भगवन शिव को अर्पित करने वाली अलग-अलग चीज़ों का क्या फल होता है। #शिवपुराण के अनुसार जानिए कौन सा अनाज भगवान शिव को चढ़ाने से क्या फल मिलता है: 👉1. भगवान शिव को चावल चढ़ाने से धन की प्राप्ति होती है। 👉2. तिल चढ़ाने से पापों का नाश हो जाताहै। 👉3. जौ अर्पित करने से सुख में वृद्धि होती है। 👉4. गेहूं चढ़ाने से संतान वृद्धि होती है।यह सभी अन्न भगवान को अर्पण करने के बाद गरीबों में वितरीत कर देना चाहिए। #शिवपुराण के अनुसार जानिए भगवान शिव को कौन सा रस(द्रव्य) चढ़ाने से उसका क्या फल मिलता है। 🚩1. ज्वर (बुखार) होने पर भगवान शिव को जलधारा चढ़ाने से शीघ्र लाभ मिलता है। सुख व संतान की वृद्धि के लिए भी जलधारा द्वारा शिव की पूजा उत्तम बताई गई है। 🚩2. नपुंसक व्यक्ति अगर शुद्ध घी से भगवान शिव का अभिषेक करे, ब्राह्मणों को भोजन कराए तथा सोमवार का व्रत करे तो उसकी समस्या का निदान संभव है। 🚩3. तेज दिमाग के लिए शक्कर मिश्रित दूध भगवान शिव को चढ़ाएं। 🚩4. सुगंधित तेल से भगवान शिव का अभिषेक करने पर समृद्धि में वृद्धि होती है। 🚩5. शिवलिंग पर ईख (गन्ना) का रस चढ़ाया जाए तो सभी आनंदों की प्राप्ति होती है। 🚩6. शिव को गंगाजल चढ़ाने से भोग व मोक्ष दोनों की प्राप्ति होती है। 🚩7. मधु (शहद) से भगवान शिव का अभिषेक करने से राजयक्ष्मा (टीबी) रोग में आराम मिलता है। #शिवपुराण के अनुसार जानिए भगवान शिव को कौन का फूल चढ़ाया जाए तो उसका क्या फल मिलता है- ☑️1. लाल व सफेद आंकड़े के फूल से भगवान शिव का पूजन करने पर भोग व मोक्ष की प्राप्ति होती है। ☑️2. चमेली के फूल से पूजन करने पर वाहन सुख मिलता है। ☑️3. अलसी के फूलों से शिव का पूजन करने से मनुष्य भगवान विष्णु को प्रिय होता है। ☑️4. शमी पत्रों (पत्तों) से पूजन करने पर मोक्ष प्राप्त होता है। ☑️5. बेला के फूल से पूजन करने पर सुंदर व सुशील पत्नी मिलती है। ☑️6. जूही के फूल से शिव का पूजन करें तो घर में कभी अन्न की कमी नहीं होती। ☑️7. कनेर के फूलों से शिव पूजन करने से नए वस्त्र मिलते हैं। ☑️8. हरसिंगार के फूलों से पूजन करने पर सुख-सम्पत्ति में वृद्धि होती है। ☑️9. धतूरे के फूल से पूजन करने पर भगवान शंकर सुयोग्य पुत्र प्रदान करते हैं, जो कुल का नाम रोशनकरता है। ☑️10. लाल डंठलवाला धतूरा पूजन में शुभ माना गया है। ☑️11. दूर्वा से पूजन करने पर आयु बढ़ती है। 🌿ॐहर हर महादेव शम्भू 🌿 🙏🙏🏻🔱जय भवानी हर हर महादेव 🙏🙏🏻🔱 🇮🇳भारत माता की जय जय हिंद जय भारत बंदै मातरम🇮🇳

+2 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 7 शेयर
SANDEEP DUBEY May 1, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर
SANDEEP DUBEY Apr 25, 2020

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर