sahil grover May 24, 2020

" मुझे नारायणी सेना नही चाहिए मुझे नारायण चाहिए " अर्जुन के ये शब्द अर्जुन के ये वाक्य अगर हम समझ जाये गहराई से तो हम जान जायेगे वास्तव मे मांगा क्या जाये और कैसे? सच तो ये है हमारी नजर जहां तक भी जा रही वो माया है जिसकी रचना खुद ईश्वर ने की अगर हमारी नजर इससे बाहर देखने लगे जिस पल उस पल हमे परमात्मा नजर आ जायेगा जरा विचार किजिये एक व्यक्ति पीतल के गहने पर सोने का पानी चढ़ा उसे बेचने निकल पड़ता है जो भी गहने देखेगा उसे एक पल के लिए लगेगा ये स्वर्ण है लेकिन बेचने वाला सत्य जानता है कि ये स्वर्ण नही है वैसे ही हम जिस माया को सत्य मानते हुए जी रहे है उसका सत्य तो परमात्मा जानते है कि ये सब छलावा है साधु-संत हमे सत्संग से इस सत्य का ज्ञान देने की कोशिश करते है परन्तु जो इस सत्य को स्वीकार कर ईश्वर की शरण मे चले जाते है वो भव पार हो जाते है लेकिन जो इस सत्य को नही मानते वो माया के दलदल मे फंस जाते है

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
sahil grover May 24, 2020

B.r chopra जी महाभारत मे अर्जुन का किरदार निभाने वाले अभिनेता जिनका पहले नाम फिरोज खान था वो अर्जुन के किरदार से इतना प्रभावित हुए कि उन्होंने अपना नाम बदल कर अर्जुन रख दिया आज भी वो इस नाम से जाने जाते है यही नही उन्होंने अपने एक interview मे कहा था " वो बड़े सौभाग्यशाली है जो अर्जुन के किरदार के माध्यम से उन्हे भगवत गीता सुनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ " जरा विचार किजिये हमारी संस्कृति और धर्म की महानता का ऐसा उदाहरण क्या कोई और हो सकता है एक अन्य धर्म का व्यक्ति हमारी भगवत गीता से इतना प्रभावित हो जाये वास्तव मे हमारा धर्म इतना विशाल है कि जो भी इसकी शरण मे आता है ये उसका गले लगा स्वागत करता है सच तो ये है सनातन धर्म सृष्टि के आरंभ मे भी था और सृष्टि के अंत के बाद भी रहेगा किसी को मिले तो राम राम या राधे राधे या जय माता दी कहना ये हमारे धर्म हमारी संस्कृति की खासियत है प्रकृति की पूजा हमारी संस्कृति और धर्म की खासियत है गाय को पशु न कह गऊ माता कहते है उनकी पूजा करते है ये हमारे धर्म और संस्कृति की खासियत है चरित्र निर्माण के लिए श्री राम चरित मानस कर्म सुधारने के लिए श्री मद भगवत गीता मोक्ष प्राप्ति के लिए श्री मद भागवत कितना कुछ दिया इन्सान को धर्म ने इन सबके लिए हमे अपने धर्म अपनी संस्कृति का शुक्रिया कहना चाहिए अपनी संस्कृति और धर्म पर सवाल करने की जगह इनमे अपने जीवन के हर सवाल का जवाब ढूंढने की कोशिश करनी चाहिए एक बात याद रखिए अगर आज आपके पास आपका धर्म नही रहा तो भविष्य मे आपको इस बात का अफसोस जरूर होगा क्यों आपने अपने धर्म को खुद से अलग किया ।। 🙏राधे राधे 🙏

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
sahil grover May 23, 2020

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 5 शेयर