sahil grover May 26, 2020

+4 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 4 शेयर
sahil grover May 26, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
sahil grover May 25, 2020

हनुमानजी की पूजा करने वाले भक्त एंव साधक पर नवग्रह भी अपनी कृपा बरसाते है क्योंकि हनुमानजी ने ही नवग्रहो को रावण की कैद से मुक्ति दी थी इसलिए हनुमानजी का ये ऋण नवग्रहो पर आज भी है अगर इसका दूसरा कारण समझे तो सूर्य देव हनुमानजी के गुरु है इसलिए हनुमानजी के भक्त एंव साधक पर सूर्य देव की कृपा स्वभाविक है चंद्र देव को महादेव ने प्रजापति दक्ष के श्राप से मुक्ति दे मृत्यु से बचाया था और हनुमान जी महादेव का अंश है तो चंद्र देव का हनुमान जी के भक्त एंव साधक पर कृपा करना वो भी स्वभाविक है हनुमानजी का जन्म मंगल के दिन हुआ था इसलिए मंगल भी हनुमान जी के साधक एंव भक्त पर प्रसन्न रहते है इसलिए तो जिनकी कुंडली मे मंगल दोष है वो अगर हनुमानजी की आराधना करे तो मंगलमूर्ति हनुमान जी की कृपा से उनका मंगल दोष कट जाता है बुध चंद्र देव के पुत्र है तो पिता की भांति वो भी हनुमान जी के भक्त एंव साधक का अहित नही करेंगे बृहस्पति देवताओ के गुरु है और हनुमानजी का ऋण देवताओ पर भी है इसलिए देव गुरु होने के नाते वो भी हनुमान जी के भक्त एंव साधक का अहित नही है करेंगे शुक्र महादेव के परम भक्त है इसलिए अपने ही आराध्य के भक्तो का हित कर वो भगवान महादेव की सेवा करते है शनि ने स्वंय हनुमान जी को वचन दिया है जो भी सच्चे मन से हनुमान जी की पूजा करेगा उस पर शनिदेव प्रसन्न रहेंगे अब बात रही राहू और केतु की तो वो हनुमान जी की शक्ति को भली-भांति जानते है इसलिए वो हनुमान जी के भक्त का अहित कर हनुमान जी से शत्रुता नही लेना चाहेंगे इसलिए सच्चे मन से हनुमान जी की पूजा किजिये

+19 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 20 शेयर
sahil grover May 25, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
sahil grover May 25, 2020

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर
sahil grover May 24, 2020

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
sahil grover May 24, 2020

+5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर