Ravi Kumar Taneja May 14, 2021

+249 प्रतिक्रिया 42 कॉमेंट्स • 94 शेयर
Ravi Kumar Taneja May 11, 2021

🌹 *जय बजरंगबली*🌹 आप सबकी हिफाजत करना, जान किसी की भी हो सबको सलामत रखना🙏🌹🙏 हनुमान जी की कृपा से सभी के जीवन में उत्साह, उर्जा, सुख ,समृद्धि ,शांति , और स्वास्थ्य बना रहे 🙏🌿🙏 🕉 *यदि आप चाहते हैं कि आपके जीवन में कोई संकट न आए तो नीचे लिखे मंत्र का जप करें।* 🏹 *मंत्र:*🏹 🌴 *ऊँ नमो हनुमते रूद्रावताराय सर्वशत्रुसंहारणाय सर्वरोग हराय सर्ववशीकरणाय रामदूताय स्वाहा*🌴 शुभ प्रभात वंदना जी🙏🌷🙏 🦋 संकटमोचन हनुमान जी आपके सभी कष्टो को दूर करे , हनुमानजी की कृपा आप व आपके परिवारजनो पर बनी रहे । 🙏🌹🙏 जय हनुमान🙏🌹🙏 जय श्री राम🙏🌻🙏 🌹नासै रोग हरै सब पीरा। जपत निरंतर हनुमत बीरा।।🌹 🕉🦚🦢🙏💐🙏💐🙏🦢🦚🕉

+443 प्रतिक्रिया 96 कॉमेंट्स • 122 शेयर
Ravi Kumar Taneja May 9, 2021

🌹माँ के बारे में क्या लिखें🙏 🌹🙏 जबकी मैं खुद उसके द्वारा लिखा गया हूँ🙏🌹🙏 मातृ दिवस की हार्दिक शुभकामनाये ,अभिनंदन 🙏🌹🙏 🕉 *नास्ति मातृसमा छाया, नास्ति मातृसमा गतिः।* *नास्ति मातृसमं त्राण, नास्ति मातृसमा प्रिया।।*🕉 🔯 *(माता के समान कोई छाया नहीं है, माता के समान कोई सहारा नहीं है। माता के समान कोई रक्षक नहीं है और माता के समान कोई प्रिय नहीं है।)*🔯 *मातृदिवस के पावन अवसर पर मातृशक्ति को नमन्।* 🙏🌹🙏 🌹🌹🌹माँ 🌹🌹🌹 🌹माँ -मां संवेदना है, भावना है अहसास है🌹 🌹माँ : मां जीवन के फूलों में खुशबू का वास है!🌹 🌹माँ: मां मरूथल में नदी या मीठा सा झरना है,🌹 🌹माँ: मां रोते हुए बच्चों का खुशनुमा पालना है!🌹 🌹माँ: मां लोरी है, गीत है, प्यारी सी थाप है,🌹 🌹माँ: मां पूजा की थाली है, मंत्रों का जाप है!🌹 🌹माँ: मां आंखों का सिसकता हुआ किनारा है, 🌹माँ: मां गालों पर पप्पी है, ममता की धारा है!!!🌹 🌹माँ : मां झुलसते दिलों में कोयल की बोली है,🌹 🌹माँ: मां मेहंदी है, कुमकुम है, सिंदूर है, रोली है!🌹 🌹माँ : मां कलम है, दवात है, स्याही है,🌹 🌹माँ : मां परमात्मा की स्वयं एक गवाही है!🌹 🌹माँ: मां त्याग है, तपस्या है, सेवा है,🌹 🌹माँ: मां फूंक से ठंडा किया हुआ कलेवा है!🌹 🌹माँ: मां अनुष्ठान है, साधना है, जीवन का हवन है,🌹 🌹माँ : मां जिंदगी के मोहल्ले में आत्मा का भवन है!🌹 🌹माँ : मां चूड़ी वाले हाथों के मजबूत कंधों का नाम है,🌹 🌹माँ: मां काशी है,काबा है और चारों धाम है!🌹 🌹माँ: मां चिंता है, याद है, हिचकी है,🌹 🌹माँ: मां बच्चों की चोट पर सिसकी है!🌹 🌹माँ: मां चुल्हा-धुंआ-रोटी और हाथों का छाला है,🌹 🌹माँ: मां जिंदगी की कड़वाहट में अमृत का प्याला है!🌹 🌹माँ : मां पृथ्वी है,जगत है,धूरी है, मां बिना इस सृष्टि की कल्पना अधूरी है!!!🌹 🌹तो मां की ये कथा अनादि है... ये अध्याय नहीं है… ….और मां का जीवन में कोई पर्याय नहीं है!!!🌹 🕉 *मां का महत्व दुनिया में कम हो नहीं सकता,* और *मां जैसा दुनिया में कुछ हो नहीं सकता!*🕉 *मातृ दिवस की हार्दिक शुभकामना* 🙏 🌹 मैं अपने छोटे मुख से कैसे करूं तेरा गुणगान, मां तेरी ममता के आगे फीका सा लगता है भगवान!!!🙏🌷🙏 *मातृ दिवस के पावन दिन पर समूचे विश्व की *माताओं* को 🌹बधाई, 🌹शुभकामनाएँ, 🌹शाष्टांग प्रणाम!!!🙏🌷🙏

+338 प्रतिक्रिया 133 कॉमेंट्स • 109 शेयर
Ravi Kumar Taneja May 9, 2021

ॐ श्री सूर्यदेवाय नमः 🙏💥🙏 पूरे जगत को प्रकाशित करने वाले भगवान सूर्यदेव आप सभी के घर परिवार प्रकाशमान रखे 🙏💥🙏 ॐ श्री आदित्याय नमः🙏 🌻🙏 ॐ श्री सूर्याय नमः🙏🌻🙏 ॐ श्री भास्कराय नमः🙏🌻🙏 🌹 स्वास्थ्य के देवता भगवान सूर्यदेव आपको 🌻स्वस्थ 🌻समृद्ध और 🌻सुखी बनाएँ रखे।🌹 🦋 *जय जय श्री राम*🦋 🌴 *'शरीर' तो चला ही जाएगा एक दिन...*🌴 🌴 *हो सके तो...* *'ज़मीर' को जिंदा रखना...!*🌴 🌴 *आप कितने सही है और कितने गलत* *आपके बारे मेँ केवल दो शक्‍स को ही सब पता है.*🌴 पहला *🕉ईश्‍वर🕉* और दूसरा *🔯आपकी अन्‍तर आत्‍मा 🔯* 🏹*और हैरानी की बात यह है कि दोनो ही हमे नजर नहीं आते*🏹 *सुप्रभात वंदन*🙏🌲🙏 🌹सदैव प्रसन्न रहिये। जो प्राप्त है, पर्याप्त है।।🌹 🕉🦚🦢🙏🌷🙏🌷🙏🦢🦚🕉

+311 प्रतिक्रिया 109 कॉमेंट्स • 109 शेयर
Ravi Kumar Taneja May 6, 2021

🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉 🌹श्रीमन नारायण नारायण हरि हरि🌹 🔯 *हमें ऐसा क्यों लगता है कि आज के समय मंत्र असरकारक नही है*🔯 🏹🔥🏹🔥🏹🔥🏹🔥🏹 🕉हम सभी किसी न किसी मन्त्र का जप करते हैं, पुराणों से लेकर ग्रन्थ तक मे लिखा है कि मन्त्र जप से हर समस्या दूर होती है लेकिन क्या कारण है कि हमारी समस्या अनवरत बनी हुई है ,आइये इस कथा के माध्य्म से समझे।🕉 🌴 *माधवाचार्य जी गायत्री के घोर उपासक थे वृंदावन मे उन्होंने तेरह वर्ष तक गायत्री के समस्त अनुष्ठान विधिपूर्वक किये।*🌴 🌲लेकिन उन्हे इससे न भौतिक न आध्यायत्मिकता लाभ दिखा।🌲 🌲वो निराश हो कर काशी गये वहां उन्हें एक आवधूत मिला जिसने उन्हें एक वर्ष तक काल भैरव की उपासना करने को कहा।🌲 🌲उन्होंने एक वर्ष से अधिक ही कालभैरव की आराधना की एक दिन उन्होंने आवाज सुनी🌲 🏹 *मै प्रस्ंन्न हूं वरदान मांगो*🏹 🌲उन्हें लगा कि ये उनका भ्रम हे क्योंकि सिर्फ आवाज सुनायी दे रही थी कोइ दिखाई नहीं दे रहा था। उन्होंने सुना अनसुना कर दिया लेकिन वही आवाज फिर से उन्हें तीन बार सुनायी दी।🌲 🏹 *तब माधवाचार्य जी ने कहा आप सामने आ कर अपना परिचय दे मै अभी काल भैरव की उपासना मे व्यस्त हूं।*🏹 🌲सामने से आवाज आयी तूं जिसकी उपासना कर रहा है वो मै ही काल भैरव हूँ🌲 *माधवाचार्य जी ने कहा तो फिर सामने क्यो नहीं आते?* काल भैरव जी ने कहा* 🕉 *"माधवा तुमने तेरह साल तक जिन गायत्री मंत्रों का अखंड जाप किया है* *उसका तेज तुम्हारे सर्वत्र चारो ओर व्याप्त है।*🕉 🌲मनुष्य रूप मै उसे मै सहन नहीं कर सकता, इसीलिए सामने नहीं आ सकता हूँ।🌲 🏹 *माध्वाचार्य ने कहा जब आप उस तेज का सामना नहीं कर सकते है तब आप मेरे किसी काम के नहीं आप वापस जा सकते है।*🏹 🌴 *लेकिन मै तुम्हारा समाधान किये बिना नहीं जा सकता हूं।*🌴 *🌴तब फिर ये बताइये कि मेने पिछले तेरह वर्षों से किया गायत्री अनुष्ठान मुझे क्यों नहीं फला?*🌴 *🕉काल भैरव ने कहा* *वो अनुष्ठान निष्फल नहीं हुए है उससे तुम्हारे जन्म जन्मांतरो के पाप नष्ट हुए है।*🕉 *🌲तो अब मै क्या करू?* 🕉"फिर से वृंदावन जा कर ओर एक वर्ष गायत्री का अनुष्ठान कर इस से तेरे इस जन्म के भी पाप नष्ट हो जायेंगे फिर गायत्री मां प्रसन्न होगी।"🕉 *आप या गायत्री कहां होते है हम यहीं रहते है पर अलग रुपों मे ये मंत्र जप जाप और कर्म कांड तुम्हें हमे देखने की शक्ति, सिध्दि देते है जिन्हें तुम साक्षात्कार कहते हो।* 🌲 *माधवाचार्य वृंदावन लौट आये अनुष्ठान शुरु किया* *एक दिन बृह्म मूहुर्त मे अनुष्ठान मे बैठने ही वाले थे कि उन्होंने आवाज सुनी*🌲 🕉 *"मै आ गयी हूँ माधव वरदान मांगो"*🕉 *🕉मां !!!!! 🕉माधवाचार्य फूटफूट कर रोने लगे।* 🌴*मां !!!!पहले बहुत लालसा थी कि वरदान मांगू लेकिन अब् कुछ मांगने की इच्छा रही नही, मां!!! *आप जो मिल गयी हो*🌴 🌹 *माधव!तुम्हें मांगना तो पडेगा ही*🌹 🙏 *मां ये देह,शरीर भले ही नष्ट हो जाये लेकिन इस शरीर से की गयी भक्ति अमर रहे।*🙏 🙏इस भक्ति की आप सदैव साक्षी रहो। यही वरदान दो!!!🙏 🕉तथास्तु🕉 आगे तीन वर्षों मै माधवाचार्य जी नै माधवनियम नाम का आलौकिक ग्रंथ लिखा। 🌹 *याद रखिये*🌹 आपके द्वारा शुरू किये गये मंत्र जाप पहले दिन से ही काम करना शुरू कर देतै है। *लेकिन सबसे पहले प्रारब्ध के पापों को नष्ट करते है।* *देवताओं की शक्ति इन्हीं पापों को नष्ट करने मे खर्च हो जाती है।* *और जैसे ही ये पाप नष्ट होते है आपको एक आलौकिक तेज एक आध्यायात्मिक शक्ति और सिध्दि प्राप्त होने लगती है।*🙏🌴🙏 🎻🎷🎻🎷🎻🎷🎻🎷🎻 श्री लक्ष्मी नारायण भगवान जी की कृपा दृष्टि आप सभी पर बनी रहे 👏🌹👏 जय श्री लक्ष्मी नारायण हरि हरि 🙏🌷🙏 ओम नमो भगवते वासुदेवाय नमो नमः🙏🌷🙏 🌟 *सदैव प्रसन्न रहिये।* *जो प्राप्त है, पर्याप्त है।।*🌟 शुभ संध्या वंदना🙏🌸🙏 🕉🦚🦢🙏🌹🙏🌹🙏🦢🦚🕉

+314 प्रतिक्रिया 132 कॉमेंट्स • 177 शेयर