Dr Rajeev Saxena Nov 10, 2019

अतिदुर्लभ श्री राम तांडव स्तोत्र राम तांडव स्तोत्र संस्कृत के राम कथानक पर आधारित महाकाव्य श्रीराघवेंद्रचरितम् से उद्धृत है। इसमें प्रमाणिका छंद के बारह श्लोकों में राम रावण युद्ध एवं इंद्रआदि देवताओं के द्वारा की गई श्रीराम स्तुति का वर्णन है। तपस्या में लीन अवस्था में श्रीभागवतानंद गुरु को स्वप्न में श्रीरामचंद्र जी ने शक्तिपात के माध्यम से कुण्डलिनी शक्ति का उद्बोधन कराया एवं बाद में उन्हें भगवान शिव ने श्रीरामकथा पर आधारित ग्रन्थ श्रीराघवेंद्रचरितम् लिखने की प्रेरणा दी। इस स्तोत्र की शैली और भाव वीर रस एवं युद्ध की विभीषिका से भरे हुए हैं। कहा जाता है कि इतिहास में युगों युगों तक सबसे भीषण युध्द भगवान श्री राम और रावण का ही हुआ था। ताण्डव का एक अर्थ उद्धत उग्र संहारात्मक क्रिया भी है।रामायण के अनुसार राम रावण युद्ध के समान घोर तथा उग्र युद्ध कोई नहीं है। इसीलिये यह भी कहा जाता है "रामरावणयोर्युद्धं रामरावणयोरिव" (राम रावण के युद्ध की तुलना सिर्फ राम- रावण युद्ध से ही हो सकती है) श्रीराम तांडव स्तोत्रम् इंद्रादयो उवाच: जटाकटाहयुक्तमुण्डप्रान्तविस्तृतम् हरे: अपांगक्रुद्धदर्शनोपहार चूर्णकुन्तलः। प्रचण्डवेगकारणेन पिंजलः प्रतिग्रहः स क्रुद्धतांडवस्वरूपधृक् विराजते हरि: ॥१॥ अथेह व्यूहपार्ष्णिप्राग्वरूथिनी निषंगिनः तथांजनेयऋक्षभूपसौरबालिनन्दना:। प्रचण्डदानवानलं समुद्रतुल्यनाशका: नमोऽस्तुते सुरारिचक्रभक्षकाय मृत्यवे ॥२॥ कलेवरे कषायवासहस्तकार्मुकं हरे: उपासनोपसंगमार्थधृग्विशाखमंडलम्। हृदि स्मरन् दशाकृते: कुचक्रचौर्यपातकम् विदार्यते प्रचण्डतांडवाकृतिः स राघवः ॥३॥ प्रकाण्डकाण्डकाण्डकर्मदेहछिद्रकारणम् कुकूटकूटकूटकौणपात्मजाभिमर्दनम्। तथागुणंगुणंगुणंगुणंगुणेन दर्शयन् कृपीटकेशलंघ्यमीशमेक राघवं भजे ॥४॥ सवानरान्वितः तथाप्लुतम् शरीरमसृजा विरोधिमेदसाग्रमांसगुल्मकालखंडनैः। महासिपाशशक्तिदण्डधारकै: निशाचरै: परिप्लुतं कृतं शवैश्च येन भूमिमंडलम् ॥५॥ विशालदंष्ट्रकुम्भकर्णमेघरावकारकै: तथाहिरावणाद्यकम्पनातिकायजित्वरै:। सुरक्षिताम् मनोरमाम् सुवर्णलंकनागरीम् निजास्त्रसंकुलैरभेद्यकोटमर्दनम् कृतः ॥६॥ प्रबुद्धबुद्धयोगिभिः महर्षिसिद्धचारणै: विदेहजाप्रियः सदानुतो स्तुतो च स्वस्तिभिः। पुलस्त्यनंदनात्मजस्य मुण्डरुण्डछेदनम् सुरारियूथभेदनं विलोकयामि साम्प्रतम् ॥७॥ करालकालरूपिणं महोग्रचापधारिणम् कुमोहग्रस्तमर्कटाच्छभल्लत्राणकारणम्। विभीषणादिभिः सदाभिषेणनेऽभिचिन्तकम् भजामि जित्वरम् तथोर्मिलापते: प्रियाग्रजम् ॥८॥ इतस्ततः मुहुर्मुहु: परिभ्रमन्ति कौन्तिकाः अनुप्लवप्रवाहप्रासिकाश्च वैजयंतिका:। मृधे प्रभाकरस्य वंशकीर्तिनोऽपदानतां अभिक्रमेण राघवस्य तांडवाकृते: गताः ॥९॥ निराकृतिं निरामयं तथादिसृष्टिकारणम् महोज्ज्वलं अजं विभुं पुराणपूरुषं हरिम्। निरंकुशं निजात्मभक्तजन्ममृत्युनाशकम् अधर्ममार्गघातकम् कपीशव्यूहनायकम् ॥१०॥ करालपालिचक्रशूलतीक्ष्णभिंदिपालकै: कुठारसर्वलासिधेनुकेलिशल्यमुद्गरै:। सुपुष्करेण पुष्करांच पुष्करास्त्रमारणै: सदाप्लुतं निशाचरै: सुपुष्करंच पुष्करम् ॥११॥ प्रपन्नभक्तरक्षकम् वसुन्धरात्मजाप्रियम् कपीशवृंदसेवितं समस्तदूषणापहम्। सुरासुराभिवंदितं निशाचरान्तकम् विभुं जगद्प्रशस्तिकारणम् भजेह राममीश्वरम् ॥१२॥ इति श्रीभागवतानंद गुरुणा विरचिते श्रीराघवेंद्रचरिते इन्द्रादि देवगणै: कृतं श्रीराम तांडव स्तोत्रम् सम्पूर्णम्।। समस्त प्रकार के दुःख, भय शोक एवं संताप को हरने वाला यह स्तोत्र बेहद उग्र है।

+9 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 8 शेयर
Dr Rajeev Saxena Oct 19, 2019

अथ श्री अपराजितास्तोत्रम् नमोऽपराजितायै। अस्याः वैष्णव्याः परायाः अपराजितायाः वामदेव-बृहस्पति-मार्कण्डेयाः ऋषयः, गायत्र्युष्णिगनुष्टुब्बृहतीछन्दान्सि, लक्ष्मीनरसिंहो देवता, ॐ क्लीं श्रीं ह्रीं बीजम्, हुं शक्तिः, सकलकामनासिद्ध्यर्थम् अपराजिताविद्यामन्त्रपाठे विनियोगः। ध्यानम् ॐ नीलोत्पलदलश्यामां भुजाङ्गाभरणान्विताम्। शुद्धस्फटिकसङ्काशां चन्द्रकोटिनिभाननाम्।।1।। शङ्खचक्रधरां देवीं वैष्णवीमपराजिताम्। बालेन्दुशेखरां देवीं वरदाभयदायिनीम्।। 2।। नमस्कृत्य पपाठैनां मार्कण्डेयो महातपाः।।3।। मार्कण्डेय उवाच शृणुश्व मुनयः सर्वे सर्वकामार्थसिद्धिदाम्। असिद्धसाधनीं देवीं वैष्णवीमपराजिताम्।।3।। ॐ नमो नारायणाय, नमो भगवते वासुदेवाय, नमोऽस्त्वनन्ताय सहस्रशीर्षाय, क्षीरोदार्णवशायिने, शेषभोगपर्य्यङ्काय, गरुडवाहनाय, अमोघाय , अजाय अजिताय, पीतवाससे। ॐ वासुदेव सङ्कर्षण प्रद्युम्न, अनिरुद्ध, हयग्रिव, मत्स्य कूर्म्म वराह, नरसिंह, अच्युत, वामन, त्रिविक्रम, श्रीधर, राम राम राम, वरद वरद वरदो भव, नमोऽस्तु ते, नमोऽस्तु ते स्वाहा। ॐ असुर-दैत्य-यक्ष-राक्षस-भूत-प्रेत-पिशाच-कूष्माण्डसिद्धयोगिनी-डाकिनी-शाकिनी-स्कन्दग्रहान् उपग्रहान् नक्षत्रग्रहान् चान्यान् हन हन, पच पच, मथ मथ, विध्वंसय विध्वंसय, विद्रावय विद्रावय, चूर्णय चूर्णय, शङ्खेन चक्रेण वज्रेण शूलेन गदया मूसलेन, हलेन भस्मीकुरु कुरु स्वाहा। ॐ सहस्रबाहो सहस्रप्रहरणायुध, जय जय, विजय विजय, अमित, अपराजित, अप्रतिहत, सहस्रनेत्र, ज्वल ज्वल, प्रज्वल प्रज्वल, विश्वरूप, बहुरूप, मधुसूदन, महावराह, महापुरुष, वैकुण्ठ, नारायण, पद्मनाभ, गोविन्द, दामोदर, हृषिकेश, केशव, सर्वासुरोत्सादन, सर्वभूतवशङ्कर, सर्वदुःस्वप्नप्रभेदन, सर्वयन्त्रप्रभञ्जन, सर्वनागविमर्दन, सर्वदेवमहेश्वर, सर्वबन्धविमोक्षण, सर्वाहितप्रमर्दन, सर्वज्वरप्रणाशन, सर्वग्रहनिवारण, सर्वपापप्रशमन, जनार्दन, नमोऽस्तुते स्वाहा। विष्णोरियमनुप्रोक्ता सर्वकामफलप्रदा। सर्वसौभाग्यजननी सर्वभीतिविनाशिनी।।5।। सर्वैश्च पठितां सिद्धैर्विष्णोः परमवल्लभा। नानया सदृशं किङ्चिद् दुष्टानां नाशनं परम्।।6।। विद्या रहस्या कथिता वैष्णव्येषापराजिता। पठनीया प्रशस्ता वा साक्षात् सत्वगुणाश्रया।।7।। ॐ शुक्लाम्बरधरं विष्णुं शशिवर्णं चतुर्भुजम्। प्रसन्नवदनं ध्यायेत् सर्वविघ्नोपशान्तये।। 8।। अथातः सम्प्रवक्ष्यामि ह्यभयामपराजिताम्। या शक्तिर्मामकी वत्स रजोगुणमयी मता।।9।। सर्वसत्त्वमयी साक्षात् सर्वमन्त्रमयी च या । या स्मृता पूजिता जप्ता न्यस्ता कर्माणि योजिता। सर्वकामदुघा वत्स शृणुष्वैतां ब्रवीमि ते।।10।। य इमाम् अपराजितां परमवैष्णवीम् अप्रतिहतां पठति सिद्धां स्मरति सिद्धां महाविद्यां जपति पठति शृणोति स्मरति धारयति कीर्तयति वा न तस्याग्नि-वायु-वज्र-उपला-शनि-वर्षभयं न समुद्र-भयं न ग्रहभयं न चौर-भयं , न शत्रु-भयं, न शाप-भयं , वा भवेत्। क्वचिद् रात्र्यन्धकार-स्त्रीराजकुल-विद्वेषि-विषगर-गरद-वशीकरण-विद्वेषणो-च्चाटन-वधबन्धन-भयं वा न भवेत्। एतैर्मन्त्रैर् उदाहृतैः सिद्धैः संसिद्धपूजितैः। ॐ नमोऽस्तु ते। अभये, अनघे, अजिते, अमिते, अमृते, अपरे, अपराजिते, पठति सिद्धे, जपति सिद्धे, स्मरति सिद्धे, एकोनाशीतितमे, एकाकिनि, निश्चेतसि, सुद्रुमे, सुगन्धे, एकान्नशे, उमे, ध्रुवे, अरुन्धति, गयत्रि, सावित्रि, जातवेदसि, मानस्तोके, सरस्वति, धरणि, धारिणि, सौदामिनि, अदिति, दिति, विनते, गौरि, गान्धारि, मातङ्गि, कृष्णे, यशोदे, सत्वादिनि, ब्रह्मवादिनि, कालि, कपालिनि, करालनेत्रे, भद्रे, निद्रे, सत्योपयाचनकरि, स्थलगतं जलगतम् अन्तरिक्षगतं वा मां रक्ष सर्वोपद्रवेभ्यः स्वाहा। यस्याः प्रणश्यते पुष्पं गर्भो वा पतते यदि। म्रियते बालको यस्याः काकवन्ध्या च या भवेत्।।11।। धारयेद् या इमां विद्याम् एतैर्दौषैर् न लिप्यते। गर्भिणी जीववत्सा स्यात् पुत्रिणी स्यात् न संशयः।।12।। भूर्जपत्रे त्विमां विद्यां लिखित्वा गन्धचन्दनैः। एतैर्दोषैर्न लिप्येत सुभगा पुत्रिणी भवेत्।।13।। रणे राजकुले द्यूते नित्यं तस्य जयो भवेत्। शस्त्रं वारयते ह्येषा समरे काण्डदारुणे।।14।। गुल्मशूलाक्षिरोगाणां क्षिप्रं नाश्यति च व्यथाम्। शिरोरोगज्वराणां न नाशिनी सर्वदेहिनाम्।।15।। इत्येषा कथिता विद्या अभयाख्याऽपराजिता। एतस्याः स्मृतिमात्रेण भयं क्वापि न जायते।।16।। नोपसर्गा न रोगाश्च न योधा नापि तस्कराः। न राजानो न सर्पाश्च न द्वेष्टारो न शत्रवः।।17।। यक्षराक्षसवेताला न शाकिन्यो न च ग्रहाः। अग्नेर्भयं न वाताच्च न समुद्रान् न वै विषात्।।18।। कार्मणं वा शत्रुकृतं वशीकरणमेव च। उच्चाटनं स्तम्भनं च विद्वेषणमथापि वा।।19।। न किञ्चित् प्रभवेत्तत्र यत्रैषा वर्ततेऽभया। पठेद् वा यदि वा चित्रे पुस्तके वा मुखेऽथवा।।20।। हृदि वा द्वारदेशे वा वर्तते ह्यभयः पुमान्। हृदये विन्यसेदेतां ध्यायेद् देवीं चतुर्भुजाम्।।21।। रक्तमाल्यम्बरधरां पद्मरागसमप्रभाम्। पाशाङ्कुशा-भयवरै-रलङ्कृत-सुविग्रहाम्।।22।। साधकेभ्यः प्रयच्छन्तीं मन्त्रवर्णामृतान्यपि। नातः परतरं किञ्चिद् वशीकरणमुत्तमम्।।23।। रक्षणं पावनं चापि नात्र कार्या विचारणा। प्रतः कुमारिकाः पूज्याः खाद्यैराभरणै-रपि। तदिदं वाचनीयं स्यात् तत्प्रीत्या प्रीयते तु माम्।।24।। ॐ अथातः सं प्रवक्ष्यामि विद्यामपि महाबलाम्। सर्वदुष्टप्रशमनीं सर्वशत्रुक्षयङ्करीम्।।25।। दारिद्र् य दुःखशमनीं दौर्भाग्यव्याधिनाशिनीम्। भूतप्रेतविशाचानां यक्षगन्धर्वरक्षसाम्।। 26।। डाकिनी-शाकिनी-स्कन्द-कूष्माण्डानां च नाशिनीम्। महारौद्रीं महाशक्तिं सद्यः प्रत्ययकारिणीम्।।27।। गोपनीयं प्रयत्नेन सर्वस्वं पार्वतीपतेः। तामहं ते प्रवक्ष्यामि सावधानमनाः शृणु।।28।। एकाह्निकं द्व् याह्निकं च चातुर्थिकार्द्धमासिकम्। द्वैमासिकं त्रैमासिकं तथा चातुर्मासिकम्।।29।। पाञ्चमासिकं षाड्मासिकं वातिकं पैत्तिकं ज्वरम्। श्लैष्मिकं सान्निपातिकं तथैव सततं ज्वरम्।।30।। मौहूर्तिकं पैत्तिकं शीतज्वरं विषमज्वरम्। द्व् याह्निकं त्र्याह्निकं चैव ज्वरमकाह्निकं तथा। क्षिप्रं नाशयते नित्यं स्मरणादपराजिता।।31।। ॐ ह्रीं हन हन , कालि शर शर, गौरि धम धम, विद्ये आले माले ताले गन्धे बन्धे पच पच, विद्ये नाशय नाशय, पापं हर हर संहारय वा दुःस्वप्नविनाशिनि कमलस्थिते, विनायकमातः, रजनि सन्ध्ये, दुन्दुभिनादे, मानसवेगे, शङ्खिनि, चक्रिणि गदिनि, वज्रिणि, शूलिनि, अपमृत्युविनाशिनि, विश्वेश्वरी, द्रविडि, द्राविडि, द्रविणि, द्राविणि, केशवदयिते, पशुपतिसहिते, दुन्दुभिदमनि, दुर्म्मददमनि, शबरि किराति मातङ्गि ॐ द्रं द्रं ज्रं ज्रं क्रं क्रं तुरु तुरु, ॐ द्रं कुरु कुरु। ये मां द्विषन्ति प्रत्यक्षं वा परोक्षं वा तान् सर्वान् दम दम मर्दय मर्दय , तापय तापय, गोपय गोपय, पातय पातय, शोषय शोषय, उत्सादय उत्सादय, ब्रह्माणि वैष्णवि, माहेश्वरि कौमारि, वाराहि नारसिंहि, ऐन्द्रि चामुण्डे, महालक्ष्मि वैनायकि, औपेन्द्रि आग्नेयि, चण्डि नैऋति, वायव्ये सौम्ये, ऐशानि , ऊर्ध्वमधो रक्ष, प्रचण्डविद्ये इन्द्रोपेन्द्रभगिनि। ॐ नमो देवि जये विजये शान्ति-स्वस्ति-तुष्टि-पुष्टि-विवर्धिनि, कामाङ्कुशे, कामदुघे, सर्वकावरप्रदे, सर्वभूतेषु मां प्रियं कुरु कुरु स्वाहा। आकर्षणि, आवेशनि, ज्वालामालामालिनि, रमणि, रामणि, धरणि, धारिणि, तपनि, तापिनि, मदनि, मादिनि, शोषिणि, सम्मोहिनि, नीलपताके, महानीले, महागौरि, महाश्रिये, महाचान्द्रि, महासौरि, महामयूरि, आदित्यरश्मि, जाह्नवि, यमघण्टे, किणि किणि चिन्तामणि, सुगन्धे, सुरभे, सुरासुरोत्पन्ने, सर्वकामदुघे, यद्यथा मनीषितं कार्यं तन्मम सिद्ध्यतु स्वाहा। ॐ स्वाहा, ॐ भूः स्वाहा, ॐ भुवः स्वाहा, ॐ स्वः स्वाहा, ॐ महः स्वाहा, ॐ जनः स्वाहा, ॐ तपः स्वाहा, ॐ सत्यं स्वाहा, ॐ भूर्भुवः स्वः स्वाहा। यत एवागतं पापं तत्रैव प्रति गच्छतु स्वाहेत्योम्। अमोघैषा महाविद्या वैष्णवी चापराजिता।।32।। स्वयं विष्णुप्रणीता च सिद्धेयं पाठतः सदा। एषा महाबला नाम कथिता तेऽपराजिता।।33।। नानया सदृशी रक्षा त्रिषु लोकेषु विद्यते। तमोगुणमयी साक्षाद्रौद्री शक्तिरियं मता।।34।। कृतान्तोऽपि यतो भीतः पादमूले व्यवस्थितः। मूलधारे न्यसेदेतां रात्रावेनं च संस्मरेत्।।35।। नीलजीमूतसङ्काशां तडित्कपिलकेशिकाम्। उद्यदादित्यसङ्काशां तडित्कपिलकेशिकाम्। उद्यदादित्यसङ्काशां नेत्रत्रयविराजिताम्।।36।। शक्तिं त्रिशूलं शङ्खं च पानपात्रं च विभ्रतीम्। व्याघ्रचर्मपरिधानां किङ्किणीजालमण्डिताम्।।37।। धावन्तीं गगनस्यान्तः तादुकाहितपादकाम्। दंष्ट्रकरालवदनां व्यालकुण्डलभूषिताम्।।38।। व्यात्तवक्त्रां ललज्जिह्वां भृकुटिकुटिलालकाम्। स्वभक्तद्वेषिणां रक्तं पिबन्तीं पानपात्रतः।।39।। सप्तधातून् शोषयन्तीं क्रूरदृष्ट्या विलोकनात्। त्रिशूलेन च तज्जिह्वां कीलयन्तीं मुहुर्मुहुः।।40।। पाशेन बद्ध्वा तं साधमानवन्तीं तदन्तिके। अर्धरात्रस्य समये देवीं ध्यायेन्महाबलाम्।।41।। यस्य यस्य वदेन्नाम जपेन्मन्त्रं निशान्तके। तस्य तस्य तथाऽवस्थां कुरुते साऽपि योगिनी।।42।। ॐ बले महाबले असिद्धसाधनी स्वाहेति, अमोघां पठति सिद्धां श्रीवैष्णवीम्, श्रीमदपराजिताविद्यां ध्यायेत्।।43।। दुःस्वप्ने दुरारिष्टे च दुर्निमित्ते तथैव च। व्यवहारे भवेत्सिद्धिः पठेद्विघ्नोपशान्तये।।44।। यदत्र पाठे जगदम्बिके मया विसर्गबिन्द्वक्षरहीनमिडितम्। तदत्र संपूर्णतमं प्रयान्तु मे सङ्कल्पसिद्धिस्तु सदैव जायताम्।।45।। तव तत्त्वं न जानामि कीदृशासि महेश्वरि। यादृशासि महादेवि तादृशायै नमो नमः।।46🌹🌹

+9 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Dr Rajeev Saxena Oct 2, 2019

।। भवानी काली चालीसा।। जय काली जगदंब जय, हरनी ओघ अघ पुंज ।वास करहुं निज दास के ,निशि दिन हृदय निकुंज।।जयति कपाली कालिका ,कंकाली सुख दानि कृपा करहुं वरदायिनी ,निज सेवक अनुमानि।। जय जय काली कंकाली ।जय कपालिनी जयति कराली।।शंकर प्रिया अपर्णा अम्बा ।जय कपर्दिनी जय जगदम्बा।।आर्या हला अम्बिका माया।कात्यायनी उमा जग जाया।।गिरिजा गौरी दुर्गा चण्डी।दाच्छाणायनी शंभवी प्रचंडी।।पार्वती मंगला भवानी।विश्वकारिणी सती मृणानी।।सर्व मंगला शैल नन्दिनी।हेमावती तुम जगत वंदिनी।।ब्रम्हचारिणी कालरात्रि जय।महारात्रि जय मोह रात्रि जय।।तुम त्रिमूर्ति रोहिणी कालिका।कुष्माण्डा कार्तिकी चंडिका।तारा भुवनेश्वरी अनन्या।तुम्ही छिन्नमस्ता सुचि धन्या।।धूमावती षोणषी माता ।बगला मातंगी विख्याता।।तुम भैरवी मातु तुम कमला।रक्तदंतिका कीरति अमला।।शाकम्भरी कौशिकी भीमा।महातमा अग जग की सीमा।।चंद्र घंटिका तुम सावित्री।ब्रम्हवादिनी मां गायत्री।।रूद्राणी तुम कृष्ण पिंगला।अग्नि ज्वाल तुम सर्व मंगला।।मेघस्वना तपस्वीनि योगिनि।सहष्त्राच्छ तुम अग जग भोगिनी।।जलोदरी सरस्वती डाकिनी।त्रिदशेश्वरी अजेय लाकिनी।।पुष्टि तुष्टि स्मृति शिव दूती।कामाच्छी लज्जा आहुती।।महोदरी कामाच्छी हरिणी।विनायकी सुचि महा शाकिनी।।अजाकर्म मोही ब्रम्हाण।धात्री वाराही सर्वाणी।।स्कंद मातो तुम सिंह वाहिनी।मातु सभद्रा रहहु दाहिनी।।नाम रूप गुण अमित तुम्हारे ।शेष सारदा वर्णत हारे।।तनु छवि श्याम वर्ण तव माता ।नाम कालिका जग विख्याता।।अष्टादस तव नाम मनोहर ।तिन महं अस्त्र विराजत सुन्दर।शंख चक्र अरू गदा सुहावन ।परिघ मुषण्डी घंटा पावन।शूल वज्र धनु वाण उठाये ।निशिचर कुल सब मार गिराये।शुम्म निशुम्भ दैत्य संहारे ।रक्तवीज के प्राण निकारे।।चौषठ योगिनि नाचत संगा ।मद्यपान किन्ही ह्वै रण रंगा।कटि किंकणी मधुर नूपुय ध्वनि।दैत्य वंश कांपत जेहि सुनि सुनि ।कर खप्पर त्रिशूल भय कारी।अहहिं सदा संतन सुख कारी ।शव आरुढ़ नृत्य तुम साजा।बजत मृदंग व भेरी क बाजा ।।रक्तपान अरिदल को कीन्हा।प्राण तजे जो तुम्हे न चीन्हा।।लप लपाति जिह्वा तव माता ।भक्तन सुख दुस्टन दुख दाता ।।लसत भाल सिन्दूर को टीको ।बीखरे केश रूप अति नीको मुण्ड माल गल अतिसय ।भुजामाल किंकण मन मोहत।प्रलय नृत्य तुम करहुं भवानी ।जगदम्बा कहि वेद बखानी।तुम मसान वासिनी कराला ।भजत तुरत काटहुं भव जाला।पावन शक्ति पीठ तव सुन्दर ।जहां विराजत विराजत विविध रूप धर।विन्ध्यवासिनी करौं बड़ाई ।जहां कालिका रूप सुहाई।शाकम्भरी बनी कहीं ज्वाला।महिषासुर मर्दिनी कराला ।कामाख्या तव नाम मनोहर ।पूर्वहीं मनोकामना द्रुततर।।चण्ड मुण्ड वध छीन महं करेऊ ।देवन के उर आनन्द भरेउ।सर्वव्यापिनी तुम मां तारा ।अरि दल दलन लीन्हेहूं अवतारा।।खलबल मचत सुनत हुंकारी।अग जग व्यापक देह तुम्हारी।।तुम विराट रूपा गुण खानी।विश्व स्वरुपा तुम महरानी।।उत्पत्ति स्थिति लय तुम्हरे ।करहुं दास के दोष निवारण।।मां उर वास करहुं तुम अम्बा।सदा दीन्ह जन के अवलम्बा।तुम्हरो . .

+3 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Dr Rajeev Saxena Sep 18, 2019

।। देवी कामाक्षी स्तोत्रम् ।। कल्पानोकह पुष्प जाल विलसन्नीलालकां मातृकां कान्तां कञ्ज दलेक्षणां कलि मल प्रध्वंसिनीं कालिकाम् । काञ्ची नूपुर हार_दाम सुभगां काञ्ची पुरी नायिकां कामाक्षीं करि कुम्भ सन्निभ कुचां वन्दे महेश प्रियाम् ॥1॥ काशाभांशुक भासुरां प्रविलसत्को शातकी सन्निभां चन्द्रार्कानल लोचनां सुरुचिरालङ्कार भूषोज्ज्वलाम् । ब्रह्म श्रीपति वासवादि मुनिभिः संसेविताङ्घ्रि द्वयां कामाक्षीं गज राज मन्द गमनां वन्दे महेश प्रियाम् ॥2॥ ऐं क्लीं सौरिति यां वदन्ति मुनयस्तत्त्वार्थ रूपां परां वाचाम् आदिम कारणं हृदि सदा ध्यायन्ति यां योगिनः । बालां फाल विलोचनां नव जपा वर्णां सुषुम्नाश्रितां कामाक्षीं कलितावतंस सुभगां वन्दे महेश प्रियाम् ॥3॥ यत्पा दाम्बुज रेणु लेशम् अनिशं लब्ध्वा विधत्ते विधिर् विश्वं तत् परिपाति विष्णुरखिलं यस्याः प्रसादाच्चिरम् । रुद्रः संहरति क्षणात् तद् अखिलं यन्मायया मोहितः कामाक्षीं अति चित्र चारु चरितां वन्दे महेश प्रियाम् ॥4॥ सूक्ष्मात् सूक्ष्म तरां सुलक्षित तनुं क्षान्ताक्षरैर्लक्षितां वीक्षा शिक्षित राक्षसां त्रि भुवन क्षेमङ्करीम् अक्षयाम् । साक्षाल्लक्षण लक्षिताक्षर मयीं दाक्षायणीं सक्षिणीं कामाक्षीं शुभ लक्षणैः सुललितां वन्दे महेश प्रियाम् ॥5॥ ओङ्काराङ्गण दीपिकाम् उपनिषत्प्रा साद पारावतीम् आम्नायाम्बुधि चन्द्रिकाम् अध तमः प्रध्वंस हंस प्रभाम् । काञ्ची पट्टण पञ्जराऽऽन्तर शुकीं कारुण्य_कल्लोलिनीं कामाक्षीं शिव कामराज महिषीं वन्दे महेश_प्रियाम् ॥6॥ ह्रीङ्कारात्मक वर्ण मात्र पठनाद् ऐन्द्रीं श्रियं तन्वतीं चिन्मात्रां भुवनेश्वरीम् अनुदिनं भिक्षा प्रदान क्षमाम् । विश्वाघौघ निवारिणीं विमलिनीं विश्वम्भरां मातृकां कामाक्षीं परिपूर्ण चन्द्र वदनां वन्दे महेश प्रियाम् ॥7॥ वाग्दे वीति च यां वदन्ति मुनयः क्षीराब्धि कन्येति च क्षोणी भृत्त नयेति च श्रुति गिरो याम् आमनन्ति स्फुटम् । एकानेक फल प्रदां बहु विधाऽऽकारास्तनूस्तन्वतीं कामाक्षीं सकलार्ति भञ्जन परां वन्दे महेश प्रियाम् ॥8॥ मायाम् आदिम्का रणं त्रि जगताम् आराधिताङ्घ्रि द्वयाम् आनन्दामृत वारि राशि निलयां विद्यां विपश्चिद्धि याम् । माया मानुष रूपिणीं मणि लसन्मध्यां महामातृकां कामाक्षीं करि राज मन्द गमनां वन्दे महेश प्रियाम् ॥9॥ कान्ता काम दुधा करीन्द्र गमना कामारि वामाङ्क गा कल्याणी कलितावतार सुभगा कस्तूरिका चर्चिता कम्पा तीर रसाल मूल निलया कारुण्य_कल्लोलिनी कल्याणानि करोतु मे भगवती काञ्ची पुरी देवता ॥10॥

+10 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Dr Rajeev Saxena May 3, 2019

श्री गुरु स्तोत्रम् || श्री महादेव्युवाच || गुरुर्मन्त्रस्य देवस्य धर्मस्य तस्य एव वा | विशेषस्तु महादेव ! तद् वदस्व दयानिधे || श्री महादेवी (पार्वती) ने कहा : हे दयानिधि शंभु ! गुरुमंत्र के देवता अर्थात् श्री गुरुदेव एवं उनका आचारादि धर्म क्या है – इस बारे में वर्णन करें | || श्री महादेव उवाच || जीवात्मनं परमात्मनं दानं ध्यानं योगो ज्ञानम् | उत्कल काशीगंगामरणं न गुरोरधिकं न गुरोरधिकं ||१|| श्री महादेव बोले : जीवात्मा-परमात्मा का ज्ञान, दान, ध्यान, योग पुरी, काशी या गंगा तट पर मृत्यु – इन सबमें से कुछ भी श्री गुरुदेव से बढ़कर नहीं है, श्री गुरुदेव से बढ़कर नहीं है ||१|| प्राणं देहं गेहं राज्यं स्वर्गं भोगं योगं मुक्तिम् | भार्यामिष्टं पुत्रं मित्रं न गुरोरधिकं न गुरोरधिकं ||२|| प्राण, शरीर, गृह, राज्य, स्वर्ग, भोग, योग, मुक्ति, पत्नी, इष्ट, पुत्र, मित्र – इन सबमें से कुछ भी श्री गुरुदेव से बढ़कर नहीं है, श्री गुरुदेव से बढ़कर नहीं है ||२|| वानप्रस्थं यतिविधधर्मं पारमहंस्यं भिक्षुकचरितम् | साधोः सेवां बहुसुखभुक्तिं न गुरोरधिकं न गुरोरधिकं ||३|| वानप्रस्थ धर्म, यति विषयक धर्म, परमहंस के धर्म, भिक्षुक अर्थात् याचक के धर्म – इन सबमें से कुछ भी श्री गुरुदेव से बढ़कर नहीं है, श्री गुरुदेव से बढ़कर नहीं है ||३|| विष्णो भक्तिं पूजनरक्तिं वैष्णवसेवां मातरि भक्तिम् | विष्णोरिव पितृसेवनयोगं न गुरोरधिकं न गुरोरधिकं ||४|| भगवान विष्णु की भक्ति, उनके पूजन में अनुरक्ति, विष्णु भक्तों की सेवा, माता की भक्ति, श्रीविष्णु ही पिता रूप में हैं, इस प्रकार की पिता सेवा – इन सबमें से कुछ भी श्री गुरुदेव से बढ़कर नहीं है, श्री गुरुदेव से बढ़कर नहीं है ||४|| प्रत्याहारं चेन्द्रिययजनं प्राणायां न्यासविधानम् | इष्टे पूजा जप तपभक्तिर्न गुरोरधिकं न गुरोरधिकं ||५|| प्रत्याहार और इन्द्रियों का दमन, प्राणायाम, न्यास-विन्यास का विधान, इष्टदेव की पूजा, मंत्र जप, तपस्या व भक्ति – इन सबमें से कुछ भी श्री गुरुदेव से बढ़कर नहीं है, श्री गुरुदेव से बढ़कर नहीं है ||५|| काली दुर्गा कमला भुवना त्रिपुरा भीमा बगला पूर्णा | श्रीमातंगी धूमा तारा न गुरोरधिकं न गुरोरधिकं ||६|| काली, दुर्गा, लक्ष्मी, भुवनेश्वरि, त्रिपुरासुन्दरी, भीमा, बगलामुखी (पूर्णा), मातंगी, धूमावती व तारा ये सभी मातृशक्तियाँ भी श्री गुरुदेव से बढ़कर नहीं है, श्री गुरुदेव से बढ़कर नहीं है ||६|| मात्स्यं कौर्मं श्रीवाराहं नरहरिरूपं वामनचरितम् | नरनारायण चरितं योगं न गुरोरधिकं न गुरोरधिकं ||७|| भगवान के मत्स्य, कूर्म, वाराह, नरसिंह, वामन, नर-नारायण आदि अवतार, उनकी लीलाएँ, चरित्र एवं तप आदि भी श्री गुरुदेव से बढ़कर नहीं है, श्री गुरुदेव से बढ़कर नहीं है ||७|| श्रीभृगुदेवं श्रीरघुनाथं श्रीयदुनाथं बौद्धं कल्क्यम् | अवतारा दश वेदविधानं न गुरोरधिकं न गुरोरधिकं ||८|| भगवान के श्री भृगु, राम, कृष्ण, बुद्ध तथा कल्कि आदि वेदों में वर्णित दस अवतार श्री गुरुदेव से बढ़कर नहीं है, श्री गुरुदेव से बढ़कर नहीं है ||८|| गंगा काशी कान्ची द्वारा मायाऽयोध्याऽवन्ती मथुरा | यमुना रेवा पुष्करतीर्थ न गुरोरधिकं न गुरोरधिकं ||९|| गंगा, यमुना, रेवा आदि पवित्र नदियाँ, काशी, कांची, पुरी, हरिद्वार, द्वारिका, उज्जयिनी, मथुरा, अयोध्या आदि पवित्र पुरियाँ व पुष्करादि तीर्थ भी श्री गुरुदेव से बढ़कर नहीं है, श्री गुरुदेव से बढ़कर नहीं है ||९|| गोकुलगमनं गोपुररमणं श्रीवृन्दावन-मधुपुर-रटनम्| एतत् सर्वं सुन्दरि ! मातर्न गुरोरधिकं न गुरोरधिकं ||१०|| हे सुन्दरी ! हे मातेश्वरी ! गोकुल यात्रा, गौशालाओं में भ्रमण एवं श्री वृन्दावन व मधुपुर आदि शुभ नामों का रटन – ये सब भी श्री गुरुदेव से बढ़कर नहीं है, श्री गुरुदेव से बढ़कर नहीं है ||१०|| तुलसीसेवा हरिहरभक्तिः गंगासागर-संगममुक्तिः | किमपरमधिकं कृष्णेभक्तिर्न गुरोरधिकं न गुरोरधिकं ||११|| तुलसी की सेवा, विष्णु व शिव की भक्ति, गंगा सागर के संगम पर देह त्याग और अधिक क्या कहूँ परात्पर भगवान श्री कृष्ण की भक्ति भी श्री गुरुदेव से बढ़कर नहीं है, श्री गुरुदेव से बढ़कर नहीं है ||११|| एतत् स्तोत्रम् पठति च नित्यं मोक्षज्ञानी सोऽपि च धन्यम् | ब्रह्माण्डान्तर्यद्-यद् ध्येयं न गुरोरधिकं न गुरोरधिकं ||१२|| इस स्तोत्र का जो नित्य पाठ करता है वह आत्मज्ञान एवं मोक्ष दोनों को पाकर धन्य हो जाता है | निश्चित ही समस्त ब्रह्माण्ड मे जिस-जिसका भी ध्यान किया जाता है, उनमें से कुछ भी श्री गुरुदेव से बढ़कर नहीं है, श्री गुरुदेव से बढ़कर नहीं है ||१२|| || वृहदविज्ञान परमेश्वरतंत्रे त्रिपुराशिवसंवादे श्रीगुरोःस्तोत्रम् || ||यह गुरुस्तोत्र वृहद विज्ञान परमेश्वरतंत्र के अंतर्गत त्रिपुरा-शिव संवाद में आता है ||

+26 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Dr Rajeev Saxena May 1, 2019

श्रीगरुडस्य द्वादशनाम स्तोत्रम् सुपर्णं वैनतेयं च नागारिं नागभीषणम् । जितान्तकं विषारिं च अजितं विश्वरुपिणम् । गरुत्मन्तं खगश्रेष्ठं तार्क्ष्यं कश्यपनन्दनम् ॥ १ ॥ द्वादशैतानि नामानि गरुडस्य महात्मनः । यः पठेत् प्रातरुत्थाय स्नाने वा शयनेऽपि वा ॥ २ ॥ विषं नाक्रामते तस्य न च हिंसन्ति हिंसकाः । संग्रामे व्यवहारे च विजयस्तस्य जायते ।। बन्धनान्मुक्तिमाप्नोति यात्रायां सिद्धिरेव च ॥ ३ ॥ ॥ इति बृहद्तन्त्रसारे श्रीगरुडस्य द्वादशनाम स्तोत्रम् संपूर्णं ॥ महात्मा गरुडाजीके बारह नाम इसप्रकार हैं- १) सुपर्ण (सुंदर पंखवाले) २) वैनतेय (विनताके पुत्र ) ३) नागारि ( नागोकें शत्रु ) ४) नागभीषण ( नागोंकेलिये भयंकर ) ५) जितान्तक ( कालको भी जीतनेवाले ) ६) विषारिं (विषके शत्रु ) ७) अजित ( अपराजेय ) ८) विश्वरुपी ( सर्बस्वरुप ) ९) गरुत्मान् ( अतिशय पराक्रमसम्पन्न ) १०) खगश्रेष्ठ ( पक्षियोंमे सर्वश्रेष्ठ ) ११) तार्क्ष (गरुड ) १२) कश्यपनन्दन ( महर्षि कश्यपके पुत्र ) इन बारह नामोंका जो नित्य प्रातःकाल उठकर स्नानके समय या सोते समय पाठ करता है, उसपर किसी भी प्रकारके विषका प्रभाव नहीं पडता, उसे कोई हिंसक प्राणी मार नहीं सकता, युद्धमें तथा व्यवहारमें उसे विजय प्राप्त होती है, वह बन्धनसे मुक्ति प्राप्त कर लेता है और उसे यात्रामे सिद्धि मिलती है ।

+13 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Dr Rajeev Saxena Apr 27, 2019

* हरिनाममालास्तोत्रम् * गोविन्दं गोकुलानन्दं गोपालं गोपिवल्लभम् । गोवर्घनोद्धं धीरं तं वन्दे गोमतिप्रियम् ॥ नारायणं निराकारं नरवीरं नरोत्तमम् । नृसिंहं नागनाथं च तं वन्दे नरकान्तकम् ॥ पीताम्बरं पद्मनाभं पद्माक्षं पुरुषोत्तमम् । पवित्रं परमानन्दं तं वन्दे परमेश्वरम् ॥ राघवं रामचन्दं च रावणारिं रमापतिम् । राजीवलोचनं रामं तं वन्दे रघुनन्दम् ॥ वामनं विश्वरूपं च वासुदेवं च विठ्ठलम् । विश्वेश्वरं विभुं व्यासं तं वन्दे वेदवल्लभम् ॥ दामोदरं दिव्यसिंहं दयालुं दीननायकम् । दैत्यारिं देवदेवेशं तं वन्दे देवकीसुतम् ॥ मुरारिं माधवं मत्स्यं मुकुन्दं मुष्टिमर्दनम् । मुञ्जकेशं महाबाहुं तं वन्दे मधुसूदनम् ॥ केशवं कमलाकान्तं कामेशं कौस्तुभप्रियम् । कौमोदकीधरं कृष्णं तं वन्दे कौरवान्तकम् ॥ भूधरं भुवनान्दं भूतेशं भूतनायकम् । भावनैकं भुजङ्गेशं तं वन्दे भवनाशनम् ॥ जनार्दनं जगन्नाथं जगज्जाड्यविनाशकम् । जमदग्निं परज्ज्योतिस्तं वन्दे जलशायिनम् ॥ चतुर्भुज चिदानन्दं मल्लचाणूरमर्दनम् । चराचरगुरुं देवं तं वन्दे चक्रपाणिनम् ॥ श्रियःकरं श्रियोनाथं श्रीधरं श्रीवरप्रदं । श्रीवत्सलधरं सौम्यं तं वन्दे श्रीसुरेश्वरम् ॥ योगीश्वरं यज्ञपतिं यशोदानन्ददायकम् । यमुनाजलकल्लोलं तं वन्दे यदुनायकम् ॥ सालग्रामशिलशुद्धं शंखचक्रोपशिभितम् । सुरासुरैः सदासेव्यं तं वन्दे साधुवल्लभम् ॥ त्रिविक्रमं तपोमूर्तिं त्रिविधाघौघनाशनम् । त्रिस्थलं तीर्थराजेन्द्रं तं वन्दे तुलसीप्रियम् ॥ अनन्तमादिपुरुषमच्युतं च वरप्रदम् । आनन्दं च सदानन्दं तं वन्दे चाघनाशनम् ॥ लीलया धृतभूभारं लोकसत्त्वैकवन्दितम् । लोकेश्वरं च श्रीकान्तं तं वन्दे लक्ष्मणप्रियम् ॥ हरिं च हरिणाक्षं च हरिनाथं हरप्रियं । हलायुधसहायं च तं वन्दे हनुमत्पतिम् ॥ हरिनामकृतमाला प्रवित्र पापनाशिनी । बलिराजेन्द्रेण चोक्ता कण्ठे धार्या प्रयत्नतः ॥ { इति महावलिप्रोक्तं हरिनाममालास्तोत्रम् }

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Dr Rajeev Saxena Apr 16, 2019

॥ नामरामायणम् ॥ शुद्धब्रह्मपरात्पर राम्॥१॥ कालात्मकपरमेश्वर राम्॥२॥ शेषतल्पसुखनिद्रित राम्॥३॥ ब्रह्माद्यामरप्रार्थित राम्॥४॥ चण्डकिरणकुलमण्डन राम्॥५॥ श्रीमद्दशरथनन्दन राम्॥६॥ कौसल्यासुखवर्धन राम्॥७॥ विश्वामित्रप्रियधन राम्॥८॥ घोरताटकाघातक राम्॥९॥ मारीचादिनिपातक राम्॥१०॥ कौशिकमखसंरक्षक राम्॥११॥ श्रीमदहल्योद्धारक राम्॥१२॥ गौतममुनिसम्पूजित राम्॥१३॥ सुरमुनिवरगणसंस्तुत राम्॥१४॥ नाविकधावितमृदुपद राम्॥१५॥ मिथिलापुरजनमोहक राम्॥१६॥ विदेहमानसरञ्जक राम्॥१७॥ त्र्यम्बककार्मुकभञ्जक राम्॥१८॥ सीतार्पितवरमालिक राम्॥१९॥ कृतवैवाहिककौतुक राम्॥२०॥ भार्गवदर्पविनाशक राम्॥२१॥ श्रीमदयोध्यापालक राम्॥२२॥ राम् राम् जय राजा राम्। राम् राम् जय सीता राम्॥ ॥अयोध्याकाण्डः॥ अगणितगुणगणभूषित राम्॥२३॥ अवनीतनयाकामित राम्॥२४॥ राकाचन्द्रसमानन राम्॥२५॥ पितृवाक्याश्रितकानन राम्॥२६॥ प्रियगुहविनिवेदितपद राम्॥२७॥ तत्क्षालितनिजमृदुपद राम्॥२८॥ भरद्वाजमुखानन्दक राम्॥२९॥ चित्रकूटाद्रिनिकेतन राम्॥३०॥ दशरथसन्ततचिन्तित राम्॥३१॥ कैकेयीतनयार्थित राम्॥३२॥ विरचितनिजपितृकर्मक राम्॥३३॥ भरतार्पितनिजपादुक राम्॥३४॥ राम् राम् जय राजा राम्। राम् राम् जय सीता राम्॥ ॥अरण्यकाण्डः॥ दण्डकवनजनपावन राम्॥३५॥ दुष्टविराधविनाशन राम्॥३६॥ शरभङ्गसुतीक्ष्णार्चित राम्॥३७॥ अगस्त्यानुग्रहवर्धित राम्॥३८॥ गृध्राधिपसंसेवित राम्॥३९॥ पञ्चवटीतटसुस्थित राम्॥४०॥ शूर्पणखार्तिविधायक राम्॥४१॥ खरदूषणमुखसूदक राम्॥४२॥ सीताप्रियहरिणानुग राम्॥४३॥ मारीचार्तिकृदाशुग राम्॥४४॥ विनष्टसीतान्वेषक राम्॥४५॥ गृध्राधिपगतिदायक राम्॥४६॥ शबरीदत्तफलाशन राम्॥४७॥ कबन्धबाहुच्छेदक राम्॥४८॥ राम् राम् जय राजा राम्। राम् राम् जय सीता राम्॥ ॥किष्किन्धाकाण्डः॥ हनुमत्सेवितनिजपद राम्॥४९॥ नतसुग्रीवाभीष्टद राम्॥५०॥ गर्वितवालिसंहारक राम्॥५१॥ वानरदूतप्रेषक राम्॥५२॥ हितकरलक्ष्मणसंयुत राम्॥५३॥ राम् राम् जय राजा राम्। राम् राम् जय सीता राम्॥ ॥सुन्दरकाण्डः॥ कपिवरसन्ततसंस्मृत राम्॥५४॥ तद्‍गतिविघ्नध्वंसक राम्॥५५॥ सीताप्राणाधारक राम्॥५६॥ दुष्टदशाननदूषित राम्॥५७॥ शिष्टहनूमद्‍भूषित राम्॥५८॥ सीतावेदितकाकावन राम्॥५९॥ कृतचूडामणिदर्शन राम्॥६०॥ कपिवरवचनाश्वासित राम्॥६१॥ राम् राम् जय राजा राम्। राम् राम् जय सीता राम्॥ ॥युद्धकाण्डः॥ रावणनिधनप्रस्थित राम्॥६२॥ वानरसैन्यसमावृत राम्॥६३॥ शोषितसरिदीशार्थित राम्॥६४॥ विभीषणाभयदायक राम्॥६५॥ पर्वतसेतुनिबन्धक राम्॥६६॥ कुम्भकर्णशिरच्छेदक राम्॥६७॥ राक्षससङ्घविमर्दक राम्॥६८॥ अहिमहिरावणचारण राम्॥६९॥ संहृतदशमुखरावण राम्॥७०॥ विधिभवमुखसुरसंस्तुत राम्॥७१॥ खस्थितदशरथवीक्षित राम्॥७२॥ सीतादर्शनमोदित राम्॥७३॥ अभिषिक्तविभीषणनत राम्॥७४॥ पुष्पकयानारोहण राम्॥७५॥ भरद्वाजादिनिषेवण राम्॥७६॥ भरतप्राणप्रियकर राम्॥७७॥ साकेतपुरीभूषण राम्॥७८॥ सकलस्वीयसमानत राम्॥७९॥ रत्नलसत्पीठास्थित राम्॥८०॥ पट्टाभिषेकालङ्कृत राम्॥८१॥ पार्थिवकुलसम्मानित राम्॥८२॥ विभीषणार्पितरङ्गक राम्॥८३॥ कीशकुलानुग्रहकर राम्॥८४॥ सकलजीवसंरक्षक राम्॥८५॥ समस्तलोकाधारक राम्॥८६॥ राम् राम् जय राजा राम्। राम् राम् जय सीता राम्॥ ॥उत्तरकाण्डः॥ आगतमुनिगणसंस्तुत राम्॥८७॥ विश्रुतदशकण्ठोद्भव राम्॥८८॥ सीतालिङ्गननिर्वृत राम्॥८९॥ नीतिसुरक्षितजनपद राम्॥९०॥ विपिनत्याजितजनकज राम्॥९१॥ कारितलवणासुरवध राम्॥९२॥ स्वर्गतशम्बुकसंस्तुत राम्॥९३॥ स्वतनयकुशलवनन्दित राम्॥९४॥ अश्वमेधक्रतुदीक्षित राम्॥९५॥ कालावेदितसुरपद राम्॥९६॥ आयोध्यकजनमुक्तिद राम्॥९७॥ विधिमुखविबुधानन्दक राम्॥९८॥ तेजोमयनिजरूपक राम्॥९९॥ संसृतिबन्धविमोचक राम्॥१००॥ धर्मस्थापनतत्पर राम्॥१०१॥ भक्तिपरायणमुक्तिद राम्॥१०२॥ सर्वचराचरपालक राम्॥१०३॥ सर्वभवामयवारक राम्॥१०४॥ वैकुण्ठालयसंस्थित राम्॥१०५॥ नित्यानन्दपदस्थित राम्॥१०६॥ राम् राम् जय राजा राम्॥१०७॥ राम् राम् जय सीता राम्॥१०८॥ राम् राम् जय राजा राम्। राम् राम् जय सीता राम्॥ ॥इति नामरामायणम् सम्पूर्णम्॥

+19 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 2 शेयर