🌞मकर सङ्क्रान्ति🌞 श्रीमन्नृपति विक्रमार्क २०७५ शाके १९४० एवं श्री विरोधकृत परिधावी-प्रमादी नामकीय संवत्सरे कालांशे रवि सोम्यायने-शिशिर ऋतौ पौष मासे शुक्ल पक्षे ८ तिथि मध्ये पुण्यतिथौ चन्द्रवासरे घ.४२ प.४५ रेवती नक्षत्रे घ.१३ प.२० सिद्धि योगे घ.५८ प.२० विष्टिकरणे घ.११ प.३५ दिनमानं घ.२६ प.१७ रात्रिमानं घ.३३ प.४३ एवं पञ्चाङ्ग शुद्धावत्र-दिनेष्ट घ.३० प.४७ (१९:५० वादने) सायंकालिक-रजनी वेलायां मकर राशौ सूर्यस्य सङ्क्रान्ति-सङ्क्रमणकालः स्यात् एवं समयानुगते-तदा देवानां दिनोदयः तथा च दैत्यानां रात्र्युद्गमः। अस्य पुण्यकालः धर्मशास्त्रीय वचनानुसारेण परदिने भौमवासरे अरुणोदय एवं सूर्योदय वेलातः श्रीकार पुण्यप्रदः। सङ्क्रान्तिवाहनं सिंह सङ्क्रान्त्युपवाहनं गजः। (निर्णयसागर-चण्ड-मार्त्तण्डपञ्चाङ्गानुसारेण) ★ सर्वेषां सुमङ्गलकामना ★ ― पं. राहुल वाशिष्ठ, शूकरक्षेत्र सोरों

+21 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 0 शेयर

🌞मकर सङ्क्रान्ति🌞 श्रीमन्नृपति विक्रमार्क २०७५ शाके १९४० एवं श्री विरोधकृत परिधावी-प्रमादी नामकीय संवत्सरे कालांशे रवि सोम्यायने-शिशिर ऋतौ पौष मासे शुक्ल पक्षे ८ तिथि मध्ये पुण्यतिथौ चन्द्रवासरे घ.४२ प.४५ रेवती नक्षत्रे घ.१३ प.२० सिद्धि योगे घ.५८ प.२० विष्टिकरणे घ.११ प.३५ दिनमानं घ.२६ प.१७ रात्रिमानं घ.३३ प.४३ एवं पञ्चाङ्ग शुद्धावत्र-दिनेष्ट घ.३० प.४७ (१९:५० वादने) सायंकालिक-रजनी वेलायां मकर राशौ सूर्यस्य सङ्क्रान्ति-सङ्क्रमणकालः स्यात् एवं समयानुगते-तदा देवानां दिनोदयः तथा च दैत्यानां रात्र्युद्गमः। अस्य पुण्यकालः धर्मशास्त्रीय वचनानुसारेण परदिने भौमवासरे अरुणोदय एवं सूर्योदय वेलातः श्रीकार पुण्यप्रदः। सङ्क्रान्तिवाहनं सिंह सङ्क्रान्त्युपवाहनं गजः। (निर्णयसागर-चण्ड-मार्त्तण्डपञ्चाङ्गानुसारेण) ★ सर्वेषां सुमङ्गलकामना ★ ― पं. राहुल वाशिष्ठ, शूकरक्षेत्र सोरों

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारतवर्ष सप्तक्षेत्रों में विभाजित है। जिसमें शूकरक्षेत्र का विशेष महत्व है। अर्वाचीन सोरों ही प्राचीन शूकरक्षेत्र है, जो विष्णु के तृतीयावतार वराह की मोक्षभूमि है। भगवान् वराह का अवतार सतयुग में हुआ था। अतः शूकरक्षेत्र सोरों सतयुगीन तीर्थस्थल है। यहाँ वराहकुण्ड में जितनी भी अस्थि विसर्जित की जाती हैं, वह तीन दिन के अन्त में रेणुरूप धारण कर लेती हैं। ऐसा आज भी प्रत्यक्ष प्रमाण है। यह मोक्षभूमि है। यहाँ अस्थि विसर्जन करने से प्राणी को मोक्ष प्राप्त होता है, ऐसा शास्त्रोक्त है। अधिक जानकारी के लिए ‛श्रीवराह महापुराण’ व अन्य पुराणों का अध्ययन करें। जयतु शौकरं, जयतु भारतम्।

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर