♦️♦️♦️ ⚜🕉⚜ ♦️♦️♦️ *🙏ॐ श्रीगणेशाय नम:🙏* *🙏शुभप्रभातम् जी🙏* *इतिहास की मुख्य घटनाओं सहित पञ्चांग-मुख्यांश ..* *📝आज दिनांक 👉* *📜 01 जून 2020* *सोमवार* *🏚नई दिल्ली अनुसार🏚* *🇮🇳शक सम्वत-* 1942 *🇮🇳विक्रम सम्वत-* 2077 *🇮🇳मास-* ज्येष्ठ *🌓पक्ष-* शुक्लपक्ष *🗒तिथि-* दशमी-14:59 तक *🗒पश्चात्-* एकादशी *🌠नक्षत्र-* हस्त-25:03 तक *🌠पश्चात्-* चित्रा *💫करण-* गर-14:59 तक *💫पश्चात्-* वणिज *✨योग-* सिद्धि-13:16 तक *✨पश्चात्-* व्यतीपात *🌅सूर्योदय-* 05:23 *🌄सूर्यास्त-* 19:14 *🌙चन्द्रोदय-* 14:26 *🌛चन्द्रराशि-* कन्या-दिनरात *🌞सूर्यायण-* उत्तरायन *🌞गोल-* उत्तरगोल *💡अभिजित-* 11:51 से 12:46 *🤖राहुकाल-* 07:07 से 08:51 *🎑ऋतु-* ग्रीष्म *⏳दिशाशूल-* पूर्व *✍विशेष👉* *_🔅आज सोमवार को 👉 ज्येष्ठ सुदी दशमी 14:59 तक पश्चात् एकादशी शुरू , जून माह प्रारम्भ , श्री गंगा दशमी , श्री गंगा जन्म लग्न 2 (वृष ) ,श्री गंगा दशहरा पर्व ( हरिद्वार ) , दस दिनात्मक श्री गंगा दशहरा व्रत समाप्त , सेतु बंध श्री रामेश्वर प्रतिष्ठा दिवस , श्री रामेश्वर यात्रा /दर्शन / पूजन , विघ्नकारक भद्रा 25:32 से , श्री नीलम संजीव रेड्डी स्मृति दिवस , अंतर्राष्ट्रीय बाल रक्षा दिवस , राष्ट्रीय वास्तु कला दिवस ( कन्फर्म नहीं ) , विश्व दुग्ध दिवस व वैश्विक अभिभावक दिवस (Global Day of Parents)।_* *_🔅 कल मंगलवार को 👉 ज्येष्ठ सुदी एकादशी 12:06 तक पश्चात् द्वादशी शुरु , निर्जला एकादशी व्रत ( सभी के लिए , चीनी स्वर्ण सहित दान ) , श्री भीमसेनी एकादशी , काशी के दशाश्वमेघ पाट से श्री विश्वनाथ मंदिर तक कलश यात्रा / दर्शन / पूजन , रूकमणी विवाह (उड़ीसा ) , द्विपुष्कर योग 12:05 से 22:55 तक , विघ्नकारक भद्रा 12:05 तक , नवतपा समाप्त , श्री गायत्री जयन्ती (ज्येष्ठ शुक्ल एकादशी ) , सिद्ध श्री बाबा बालकनाथ जयन्ती (कन्फर्म नहीं ) , आचार्य श्रीराम शर्मा महाप्रयाण दिवस , श्री बाबूलाल गौर जयन्ती , श्री विश्वनाथ दास स्मृति दिवस व वैज्ञानिक श्री प्राण कृष्ण पारिजा (पद्मभूषण सम्मानित) स्मृति दिवस।_* *🎯आज की वाणी👉* 🌹 *नास्ति सत्यसमो धर्मो* *न सत्याद्विद्यते परम् ।* *न हि तीव्रतरं किञ्चिद-* *नृतादिह विद्यते ॥* *भावार्थ* _सत्य जैसा अन्य धर्म नहीं । सत्य से परे कुछ नहीं । शीघ्र फैलने में और पतन की ओर ले जाने में असत्य से ज्यादा तीव्रतर कुछ नहीं ।_ 🌹 *1 जून की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ👉* 1638 – अमेरिका के प्लायमोथ क्षेत्र में पहली बार भूकंप के झटके दर्ज किये गये। 1670 – इंग्लैंड के महाराज किंग्स चार्ल्स द्वितीय और फ्रांस के राजा किंग लुइस चौदहवें ने डच विरोधी गोपनीय संधि पर हस्ताक्षर किये। 1746 – फ्रांसीसी सेना ने एंटवर्प पर कब्जा किया। 1792 - केंटकी संयुक्त राज्य अमेरिका का 15 वां राज्य बन गया। 1802 - संयुक्त राज्य अमेरिका के पेटेंट और ट्रेडमार्क कार्यालय राज्य विभाग के भीतर स्थापित किया गया। 1819 – बंगाल में सेरामपुर कॉलेज की स्थापना की गयी। 1835 – कलकत्ता मेडिकल कॉलेज में अध्यापन कार्य शुरू हुआ। 1845 - होमलिंग कबूतर ने 55 दिनों में 11,000 किलोमीटर की यात्रा (नामीबिया-लंदन)को पूरा किया। 1847 - कम्युनिस्ट लीग की पहली कांग्रेस पार्टी लंदन में आयोजित की गयी। 1869 – थॉमस एडिसन को अपनी इलेक्ट्रिक वोटिंग मशीन के लिए पेटेंट हासिल हुआ। 1874 – ईस्ट इंडिया कंपनी को भंग कर दिया गया। 1880 – पहली पे-फोन सेवा शुरू की गयी। 1916 – जर्मनी की सेना ने वर्दुन के फाेर्ट वॉक्स पर हमला किया। 1927 – अमेरिका और कनाडा के बीच शांति संबंध बहाल हुये। 1929 - कम्युनिस्ट दलों का पहला सम्मेलन अमेरिका के ब्यूनस आयर्स शहर में आयोजित किया गया। 1930 – भारत की पहली डीलक्स ट्रेन डेक्कन क्वीन बॉम्बे वीटी से पुणे के बीच चली। 1938 – सुपरमैन वाला एक्शन कॉमिक्स का पहला अंक प्रकाशित हुआ। 1941 – ब्रिटिश सेना ने इराक की राजधानी बगदाद पर कब्जा कर लिया। 1948 – इजरायल और अरब देश संघर्षविराम पर राजी हुये। 1965 – जापान के फुकुओका क्षेत्र में कोयला खदान में विस्फोट होने से 236 लोगों की मौत। 1969 – कनाडा में रेडियाे और टीवी पर तम्बाकू उत्पाद और उनसे संबंधित विज्ञापनों पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाया गया। 1979 – रोडेशिया में 90 साल बाद अल्पसंख्यक श्वेत लोगों के शासन का अंत हुआ था और घोषणा हुई थी कि अब देश को जिम्बाब्वे के नाम से जाना जाएगा। 1980 – केबल न्यूज नेटवर्क (सीएनएन) टेलीविजन नेटवर्क का पहली बार प्रसारण शुरू हुआ। 1993 – ग्वाटेमाला के राष्ट्रपति जोर्ग सेरानो को सेना ने सत्ता से बेदखल कर दिया। 1996 – एचडी देवेगोडा भारत के प्रधानमंत्री बने। 1992 - भारत एवं इजरायल के बीच हवाई समझौता। 1999 - मध्य चीन के ह्यूबी प्रान्त में 770-256 ईसा पूर्व के तीन सौ प्राचीन क़ब्रों की खोज। 1999 - हवाई विश्वविद्यालय (सं.रा. अमेरिका) में नर चूहे का प्रतिरूप विकसित। 2001 - नेपाल के शाही परिवार की नरेश वीरेन्द्र विक्रम शाह सहित पत्नी व अन्य परिवारों की नृशंस हत्या, हत्या के बाद युवराज दीपेन्द्र द्वारा भी आत्महत्या , ज्ञानेन्द्र कार्यवाहक नरेश बने। 2001 - दक्षिण अफ़्रीका का सत्य मित्र आयोग समाप्त। 2004 - इराकी प्रशासकीय परिषद के प्रमुख सुन्नी नेता गाजी मशाल अजीज अल यावर ईराक के नये राष्ट्रपति बने। 2005 - अप्पा शेरपा ने माउंट एवरेस्ट की 15वीं बार सफल चढ़ाई की। 2006 - चीन के दक्षिण पूर्वी जियांग्शी प्रान्त के शांगीपन गांव में आदि मानव का पदचिह्न मिला। 2006 - ईरान ने परमाणु शोध कार्यक्रम पर अमेरिका के साथ किसी प्रकार के समझौते से पूरी तरह इन्कार करते हुए कहा कि वह वार्ता को तैयार है, लेकिन परमाणु कार्यक्रम पर रोक लगाना उसे मंजूर नहीं । 2006 - ब्रिटेन के शिक्षाविदों ने इस्रायली विश्वविद्यालयों के बहिष्कार का निर्णय लिया। 2007 – ब्रिटेन में सार्वजनिक स्थानों पर धूम्रपान करने पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाया गया। 2008 - अंतर्राष्ट्रीय आतंकवाद विरोधी सम्मेलन नई दिल्ली में सम्पन्न। 2008 - अमेरिकी राष्ट्रपति पद के प्रत्याशी बराक ओबामा ने शिकागो के ट्रीनिटी यूनाइटेड चर्च की सदस्यता से इस्तीफ़ा दिया। 2009 – ब्राजील के रियो डी जेनेरियो से पेरिस जा रहे एयर फ्रांस विमान-447 के दुर्घटनाग्रस्त होने से चालक दल के सदस्याें समेत 228 यात्रियों की मौत। 2010 - भारतीय सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश पद से सेवानिवृत्त हुए बालाकृष्णन को राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग का अध्यक्ष नियुक्त किया गया। 2010 - अक्षरधाम आतंकी हमले के मामले में गुजरात हाईकोर्ट ने निचली अदालत के फैसले को बरकरार रखा। 2014 – नाइजीरिया में फुटबाल के मैदान में हुए ब्‍लास्‍ट में 40 लोगों की जान चली गई थी। 2019 - सूर्य नारायण पात्रो ओडिशा के विधानसभा अध्यक्ष चुने गए। *1 जून को जन्मे व्यक्ति👉* 1842 - सत्येन्द्र नाथ टैगोर इंडियन सिविल सर्विस (आईसीएस) की परीक्षा में उत्तीर्ण होने वाले प्रथम भारतीय थे। वह एक लेखक भी थे। 1929 - नर्गिस, भारतीय फ़िल्म अभिनेत्री। 1938 - बलदेव वंशी - कवि एवं लेखक। 1958 - अशोक कुमार - भारत के प्रसिद्ध हॉकी खिलाड़ियों में से एक हैं। 1975 - कर्णम मल्लेश्वरी - भारत की प्रसिद्ध भारोत्तोलक। 1991 - राजेश्वरी गायकवाड़ - भारतीय महिला क्रिकेटर। *1 जून को हुए निधन👉* 1969 - विलियम मैल्कम हेली - पंजाब, उत्तर प्रदेश के पूर्व राज्यपाल। 1984 - नाना पालसिकर हिन्दी फ़िल्मों के एक अभिनेता। 1987 - ख़्वाजा अहमद अब्बास- प्रसिद्ध फ़िल्म निर्देशक, पटकथा लेखक और उर्दू लेखक। 1996 - नीलम संजीव रेड्डी, भारत के पूर्व राष्ट्रपति। 2001 - वीरेन्द्र वीर विक्रम शाह - नेपाल के राजा और दक्षिण एशियाई नेता थे। 2016 - रज़्ज़ाक ख़ान - एक भारतीय बॉलीवुड अभिनेता थे । *1 जून के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव👉* 🔅 श्री गंगा दशहरा पर्व ( हरिद्वार )। 🔅 श्री नीलम संजीव रेड्डी स्मृति दिवस । 🔅 अंतर्राष्ट्रीय बाल रक्षा दिवस । 🔅 राष्ट्रीय वास्तुकला दिवस (कन्फर्म नहीं )। 🔅 विश्व दुग्ध दिवस । *कृपया ध्यान दें जी👉* *यद्यपि इसे तैयार करने में पूरी सावधानी रखने की कोशिश रही है। फिर भी किसी घटना , तिथि या अन्य त्रुटि के लिए मेरी कोई जिम्मेदारी नहीं है ।* 🌻आपका दिन *_मंगलमय_* हो जी ।🌻 ⚜⚜ 🌴 💎 🌴⚜⚜

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 10 शेयर

*🙏❤ज्येष्ठ महीने का भौम प्रदोष व्रत - 19 मई 2020🅿🌹* *🙏19 मई मंगलवार को कृष्णपक्ष की त्रयोदशी तिथि होने से इस दिन प्रदोष व्रत किया जा रहा है। मंगलवार होने से ये भौमप्रदोष रहेगा। मंगलवार को त्रयोदशी तिथि में भगवान शिव की पूजा करने से बीमारियां और हर तरह की परेशानियां दूर हो जाती हैं। शिव पुराण और स्कंद पुराण के अनुसार प्रदोष व्रत हर तरह की मनोकामना पूरी करने वाला व्रत माना गया है।* *हर महीने कृष्णपक्ष और शुक्लपक्ष की तेरहवीं तिथि यानी त्रयोदशी को ये व्रत रखा जाता है। यह व्रत भगवान शिव को समर्पित है। इस व्रत में शाम को प्रदोष काल में भगवान शिव की पूजा करनी चाहिए। सूर्यास्त के बाद और रात्रि आने से पहले का समय प्रदोष काल कहलाता है। त्रयोदशी तिथि का हर वार के साथ विशेष संयोग होने पर उसका महत्वपूर्ण फल मिलता है।* *ज्येष्ठ महीने के दोनों पक्षों में किया जाने वाला प्रदोष व्रत महत्वपूर्ण होता है। इन दिनों में भगवान शिव को खासतौर से जल चढ़ाया जाता है। मंदिरों में शिवलिंग को पानी से भरा जाता है। ज्येष्ठ महीने के कृष्णपक्षके प्रदोष व्रत में भगवान शिव को गंगाजल और सामान्य जल के साथ दूध भी चढ़ाया जाता है।* *🌻भौमप्रदोष का महत्व*🌻 *प्रदोष व्रत का महत्व सप्ताह के दिनों के अनुसार अलग-अलग हेाता है। मंगलवार को पड़ने वाले प्रदोष व्रत और पूजा से उम्र बढ़ती है और सेहत भी अच्छी रहती है। इस व्रत के प्रभाव से बीमारियां दूर हो जाती है और किसी भी तरह की शारीरिक परेशानी नहीं रहती है। इस दिन शिव-शक्ति पूजा करने से दाम्पत्य सुख बढ़ता है। मंगलवार को प्रदोष व्रत और पूजा करने से परेशानियां भी दूर होने लगती हैं। भौम प्रदोष का संयोग कई तरह के दोषों को दूर करता है। इस संयोग के प्रभाव से तरक्की मिलती है। इस व्रत को करने से परिवार हमेशा आरोग्य रहता है। साथ ही सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है।* *🅿प्रदोष व्रत और पूजा की विधि*🅿 *प्रदोष व्रत में भगवान शिव की पूजा की जाती है। यह व्रत निर्जल यानी बिना पानी के किया जाता है। इस व्रत की विशेष पूजा शाम को की जाती है। इसलिए शाम को सूर्य अस्त होने से पहले एक बार फिर नहा लेना चाहिए। साफ सफेद रंग के कपड़े पहन कर पूर्व दिशा में मुंह कर के भगवान शिव और देवी पार्वती की पूजा की जाती है।* *पूजा की तैयारी करने के बाद उत्तर-पूर्व दिशा की ओर मुंह रखकर भगवान शिव की उपासना करनी चाहिए।* *🌼प्रदोष व्रत करने के लिए त्रयोदशी तिथि के दिन सूर्य उदय से पहले ही उठना चाहिए।इसके बाद नहाकर भगवान शिवजी की पूजा करके दिनभर व्रत रखने का संकल्प लेना चाहिए।पूरे दिन का उपवास करने के बाद सूर्य अस्त से पहले नहाकर सफेद और साफ कपड़े पहनें।जहां पूजा करनी हो उस जगह गंगाजल और गाय के गोबर से लीपकर मंडप तैयार करें।मंडप में पांच रंगों से रंगोली बनाएं और पूजा करने के लिए कुश के आसन का उपयोग करें*। *सबसे पहले भगवान गणेश की पूजा करें।फिर मिट्टी से शिवलिंग बनाएं और उसकी विधिवत पूजा करें।भगवान शिव के साथ माता पार्वती की भी पूजा करें।भगवान शिव-पार्वती की पूजा के बाद धूप-दीप का दर्शन करवाएं।शिव जी की प्रतिमा को जल, दूध, पंचामृत से स्नानादि कराएं। बिलपत्र, पुष्प , पूजा सामग्री से पूजन कर भोग लगाएं।भगवान शिव की पूजा में बेल पत्र, धतुरा, फूल, मिठाई, फल का उपयोग करें।भगवान शिव को लाल रंग का फूल नहीं चढ़ाना चाहिए*। *पूजन में भगवान शिव के मंत्र ‘ऊॅं नम: शिवाय’ का जप करते हुए शिव जी का जल अभिषेक करना चाहिए।इसके बाद कथा और फिर आरती करें।पूजा के बाद मिट्टी के शिवलिंग को विसर्जित कर दें।* *🅿मंगल प्रदोष पौराणिक एवं प्रामाणिक व्रत कथा*🌹 *मंगलवार के दिन आने वाले प्रदोष व्रत को मंगल प्रदोष या भौम प्रदोष कहते हैं।*  *इसकी कथा इस प्रकार है- एक नगर में एक वृद्धा रहती थी। उसका एक ही पुत्र था। वृद्धा की हनुमानजी पर गहरी आस्था थी। वह प्रत्येक मंगलवार को नियमपूर्वक व्रत रखकर हनुमानजी की आराधना करती  थी। एक बार हनुमानजी ने उसकी श्रद्धा की परीक्षा लेने की सोची।* *हनुमानजी साधु का वेश धारण कर वृद्धा के घर गए और पुकारने लगे- है कोई हनुमान भक्त, जो हमारी इच्छा पूर्ण करे?* *पुकार सुन वृद्धा बाहर आई और बोली- आज्ञा महाराज।*  *हनुमान (वेशधारी साधु)  बोले- मैं भूखा हूं, भोजन करूंगा, तू थोड़ी जमीन लीप दे।*  *वृद्धा दुविधा में पड़ गई। अंतत: हाथ जोड़कर बोली- महाराज। लीपने और मिट्टी खोदने के अतिरिक्त आप कोई दूसरी आज्ञा दें, मैं अवश्य पूर्ण करूंगी।* *साधु ने तीन बार प्रतिज्ञा कराने के बाद कहा- तू अपने बेटे को बुला। मैं उसकी पीठ पर आग जलाकर भोजन बनाऊंगा।*  *यह सुनकर वृद्धा घबरा गई, परंतु वह प्रतिज्ञाबद्ध थी। उसने अपने पुत्र को बुलाकर साधु के सुपुर्द कर दिया।*  *वेशधारी साधु हनुमानजी ने वृद्धा के हाथों से ही उसके पुत्र को पेट के बल लिटवाया और उसकी पीठ पर आग जलवाई। आग जलाकर दु:खी मन से वृद्धा अपने घर में चली गई।* *इधर भोजन बनाकर साधु ने वृद्धा को बुलाकर कहा- तुम अपने पुत्र को पुकारो ताकि वह भी आकर भोग लगा ले।* *इस पर वृद्धा बोली- उसका नाम लेकर मुझे और कष्ट न पहुंचाओ।*  *लेकिन जब साधु महाराज नहीं माने तो वृद्धा ने अपने पुत्र को आवाज लगाई। अपने पुत्र को जीवित देख वृद्धा को बहुत आश्चर्य हुआ और वह साधु के चरणों में गिर पड़ी।*  *हनुमानजी अपने वास्तविक रूप में प्रकट हुए और वृद्धा को भक्ति का आशीर्वाद दिया।* *🌻श्रीरुद्रद्वादशनामस्तोत्रं🌻* प्रथमं तु महादेवं द्वितीयं तु महेश्वरं । तृतीयं शङ्करं प्रोक्तं चतुर्थं वृषभध्वजम् ॥ १॥ पञ्चमं कृत्तिवासं च षष्ठं कामाङ्गनाशनं । सप्तमं देवदेवेशं श्रीकण्ठं चाष्टमं तथा ॥ २॥ नवमं तु हरं देवं दशमं पार्वतीपतिं । रुद्रमेकादशं प्रोक्तं द्वादशं शिवमुच्यते ॥ ३॥ एतद्वादशनामानि त्रिसन्ध्यं यः पठेन्नरः । गोघ्नश्चैव कृतघ्नश्च भ्रूणहा गुरुतल्पगः ॥ ४॥ स्त्रीबालघातकश्चैव सुरापो वृषलीपतिः । सर्वं नाशयते पापं शिवलोकं स गच्छति ॥ ५॥ शुद्धस्फटिकसङ्काशं त्रिनेत्रं चन्द्रशेखरं । इन्दुमण्डलमध्यस्थं वन्दे देवं सदाशिवम् ॥ ६॥ ॥ 🔥 *इति श्रीरुद्रद्वादशनामस्तोत्रं समाप्तम् ॥* 🔥 *👍हमें अपने दैनिक और व्यावहारिक जीवन में कई बार अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए  धन रुपयों-पैसों का कर्ज लेना आवश्यक हो जाता है। तब आदमी कर्ज/ऋण तो ले लेता है,  लेकिन उसे चुकाने में उसे काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। ऐसे समय में कर्ज  संबंधी परेशानी दूर करने के लिए भौम प्रदोष व्रत लाभदायी सिद्ध होता है।* *🍭॥ ऋणमोचन अङ्गारकस्तोत्रम् ॥* 🍭 । श्रीरस्तु । श्रीपरमात्मने नमः । अथ ऋणग्रस्तस्य ऋणविमोचनार्थं अङ्गारकस्तोत्रम् । स्कन्द उवाच । ऋणग्रस्तनराणां तु ऋणमुक्तिः कथं भवेत् । ब्रह्मोवाच । वक्ष्येऽहं सर्वलोकानां हितार्थं हितकामदम् । अस्य श्री अङ्गारकमहामन्त्रस्य गौतम ऋषिः । अनुष्टुप्छन्दः । अङ्गारको देवता । मम ऋणविमोचनार्थे अङ्गारकमन्त्रजपे विनियोगः । ध्यानम् । रक्तमाल्याम्बरधरः शूलशक्तिगदाधरः । चतुर्भुजो मेषगतो वरदश्च धरासुतः ॥ १॥ मङ्गलो भूमिपुत्रश्च ऋणहर्ता धनप्रदः । स्थिरासनो महाकायो सर्वकामफलप्रदः ॥ २॥ लोहितो लोहिताक्षश्च सामगानां कृपाकरः । धरात्मजः कुजो भौमो भूमिदो भूमिनन्दनः ॥ ३॥ अङ्गारको यमश्चैव सर्वरोगापहारकः । सृष्टेः कर्ता च हर्ता च सर्वदेशैश्च पूजितः ॥ ४॥ एतानि कुजनामानि नित्यं यः प्रयतः पठेत् । ऋणं न जायते तस्य श्रियं प्राप्नोत्यसंशयः ॥ ५॥ अङ्गारक महीपुत्र भगवन् भक्तवत्सल । नमोऽस्तु ते ममाशेषं ऋणमाशु विनाशय ॥ ६॥ रक्तगन्धैश्च पुष्पैश्च धूपदीपैर्गुडोदनैः । मङ्गलं पूजयित्वा तु मङ्गलाहनि सर्वदा ॥ ७॥ एकविंशति नामानि पठित्वा तु तदन्तिके । ऋणरेखा प्रकर्तव्या अङ्गारेण तदग्रतः ॥ ८॥ ताश्च प्रमार्जयेन्नित्यं वामपादेन संस्मरन् । एवं कृते न सन्देहः ऋणान्मुक्तः सुखी भवेत् ॥ ९॥ महतीं श्रियमाप्नोति धनदेन समो भवेत् । भूमिं च लभते विद्वान् पुत्रानायुश्च विन्दति ॥ १०॥ मूलमन्त्रः। अङ्गारक महीपुत्र भगवन् भक्तवत्सल । नमस्तेऽस्तु महाभाग ऋणमाशु विनाशय ॥ ११॥ अर्घ्यम् । भूमिपुत्र महातेजः स्वेदोद्भव पिनाकिनः । ऋणार्थस्त्वां प्रपन्नोऽस्मि गृहाणार्घ्यं नमोऽस्तु ते ॥ १२॥ *🌞इति ऋणमोचन अङ्गारकस्तोत्रं सम्पूर्णम् 🌞* *✌इस दिन मंगल देव के 21 या 108 नामों का पाठ करने से ऋण से जातक को जल्दी  छुटकारा मिल जाता है।*  *🍓Jai Shree Mahakaal🍓*

+10 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 23 शेयर

💎💎💎 ⚜🕉⚜ 💎💎💎 *🙏ॐ श्रीगणेशाय नम:🙏* *🙏शुभप्रभातम् जी🙏* *इतिहास की मुख्य घटनाओं सहित पञ्चांग-मुख्यांश ..* *📝आज दिनांक 👉* *📜 13 मई 2020* *बुधवार* *🏚नई दिल्ली अनुसार🏚* *🇮🇳शक सम्वत-* 1942 *🇮🇳विक्रम सम्वत-* 2077 *🇮🇳मास-* ज्येष्ठ *🌓पक्ष-* कृष्णपक्ष *🗒तिथि-* षष्ठी- 06:01 तक *🗒पश्चात्-* सप्तमी *🌠नक्षत्र-* श्रवण-पूर्णरात्रि *💫करण-* वणिज-06:01 तक *💫पश्चात्-* विष्टि *✨योग-* शुक्ल-25:10 तक *✨पश्चात्-* ब्रह्म *🌅सूर्योदय-* 05:31 *🌄सूर्यास्त-* 19:04 *🌙चन्द्रोदय-* 24:51 *🌛चन्द्रराशि-* मकर-दिनरात *🌞सूर्यायण-* उत्तरायन *🌞गोल-* उत्तरगोल *💡अभिजित-* कोई नहीं *🤖राहुकाल-* 12:17 से 13:59 *🎑ऋतु-* ग्रीष्म *⏳दिशाशूल-* उत्तर *✍विशेष👉* *_🔅आज बुधवार को 👉 ज्येष्ठ बदी षष्ठी 06:01 तक पश्चात् सप्तमी शुरु , बुध रोहिणी नक्षत्र में 26:55 पर , शुक्र वक्री 12:15 पर , विघ्नकारक भद्रा 06:00 से 18:26 तक , सर्वदोषनाशक रवि योग जारी , श्री मथुरा प्रसाद मिश्र वैद्य जयन्ती , श्री फखरुद्दीन अली अहमद जयन्ती व संत बाबा हरदेव सिंह स्मृति दिवस।_* *_🔅कल बृहस्पतिवार को 👉 ज्येष्ठ बदी सप्तमी 06:52 तक पश्चात् अष्टमी शुरु , श्री कालाष्टमी व्रत , महापंचक प्रारम्भ 06:23 से 23 मई शनिवार को 28:52 पर समाप्त , पंचक 19:22 से , सूर्य की वृष संक्रांति 17:16 पर ( विशेष पुण्यकाल 10:52 से संक्रांति काल तक , सामान्य पुण्यकाल संक्रांति काल से सूर्यास्त तक , गो - अन्न - जल - तिल आदि दान व गोदावरी स्नान ) , संकल्प आदि में प्रयोजनीय ग्रीष्म ऋतु प्रारम्भ , मंगल शतभिषा नक्षत्र में 14:00 पर , बुध उदय पश्चिम में 10:21 पर , गुरु वक्री 20:02 पर , सर्वदोषनाशक रवि योग 06:23 तक , छत्रपति श्री शम्भाजी महाराज जयन्ती व डॉ. श्री रघुवीर स्मृति दिवस।_* *🎯आज की वाणी👉* 🌹 *चिन्ताज्वरो मनुष्याणां* *क्षुधां निद्रां बलं हरेत् ।* *रूपमुत्साहबुद्धिं श्रीं* *जीवितं च न संशयः ॥* *अर्थात्👉* "चिंता" मनुष्यों का वह ज्वर (बुखार) है, जो उनके भूख, नींद, बल, सौंदर्य, उत्साह, बुद्धि, समृद्धि और यहाँ तक कि जीवन को भी हर लेता है । 🌹 *13 मई की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ👉* 1643 – चिली में भूकंप से कुल आबादी के एक तिहाई लोगों की मौत। 1648 – दिल्ली में लाल किले का निर्माण कार्य पूरा हुआ। 1666 – पुरंदर की संघि के तहत शिवाजी औरंगजेब से मिलने आगरा पहुंचे। 1689 – इंग्लैंड और हॉलैंड ने लीग आॅफ आग्सबर्ग बनाया। 1779 - बवेरियन उत्तराधिकार युद्ध के समाप्त होने की घोषणा की गई। 1830 - इक्वेडोर गणराज्य की स्थापना, जुआन जोस फ्लोरेंस पहले राष्ट्रपति बने। 1830 - इक्वाडोर को ग्रैन कोलंबिया से अलग लिया। 1846 - मैक्सिकन-अमेरिकी युद्ध: संयुक्त राज्य अमेरिका ने मेक्सिको से युद्ध की घोषणा की। 1848 - फिनलैंड के राष्ट्रीय गान का प्रथम प्रदर्शन किया गया। 1861 – ब्रिटेन ने अमेरिकी गृह युद्ध में अपनी तटस्थता की घोषणा की। 1880 – थॉमस एडिसन ने मेनलो पार्क में अपनी प्रायोगिक इलेक्ट्रिक रेलवे को जांचा था। 1899 - एसपोर्टे क्लब विटोरिया एसोसिएशन फुटबॉल क्लब साल्वाडोर ब्राजील में स्थापित किया गया। 1907 - रूसी सोशल डेमोक्रेटिक लेबर पार्टी की 5वीं बैठक लंदन के गुप्त में आयोजित की गई। 1930 - ब्रिटिश श्रम मंत्रालय 1.7 मिलियन बेरोजगारो की लिस्ट बनायीं। 1931 – पॉल डाउमर फ्रांस के राष्ट्रपति चुने गए। 1935 - लंदन की हॉरर फिल्म वेयरवोल्फ जारी की गई। 1950 - एफआईए फॉर्मूला वन वर्ल्ड चैम्पियनशिप की पहली दौड़ इंग्लैंड के सिल्वरस्टोन में आयोजित की गयी। 1952 – स्वतंत्र भारत की पहली संसद का सत्र शुरु हुआ। 1958 – जार्डन और इराक ने अरब फेडरेशन की स्थापना की। 1962 – सर्वपल्ली डा. राधाकृष्णन भारत के दूसरे राष्ट्रपति बने। 1967 – प्रमुख शिक्षाविद डा. जाकिर हुसैन भारत के तीसरे राष्ट्रपति बने। वह भारत के प्रथम मुस्लिम राष्ट्रपति थे। 1968 – अमेरिका और उत्तरी वियतनाम के बीच पेरिस में शांति वार्ता शुरू हुयी। 1995 - चेल्सी स्मिथ मिस यूनिवर्स 1995 बनीं। 1998 - भारत ने राजस्थान के पोखरण में दो और परमाणु परीक्षण किये। 1998 - अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने परमाणु परीक्षण के विरोध में भारत के ख़िलाफ़ कड़े प्रतिबंध की घोषणा की। 1998 - जापान ने भारत को दी जाने वाली सहायता पर रोक लगायी । 1998 - ट्रिनडाड एवं टोबैगो की सुन्दरी बेंडी फ़िट्ज विलियम मिस यूनिवर्स 1998 बनीं। 1999 - जापानी छात्र के नागुयी विश्व की सात सर्वोच्च चोटियों पर चढ़ने वाला दुनिया का सबसे कम उम्र (25 वर्षीय) का पर्वतारोही बना। 2000 - मिस इंडिया लारा दत्ता ने साइप्रस में सम्पन्न प्रतियोगिता में मिस यूनीवर्स -2000 का ख़िताब जीता। 2003 - रियाद में आत्मघाती हमलों में 29 व्यक्ति मारे गये। 2008 - पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज के सभी नौ मंत्रियों ने जजों की बहाली के मुद्दे पर इस्तीफ़ा दिया। 2010 - भारतीय सामाजिक कार्यकर्ता इला भट्ट को 2010 के निवानो शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया। 2014 – तुर्की की एक खदान में विस्फोट होने और आग लगने से 238 खदान कर्मियों की मौत। 2017- दुनियाभर में वॉनाक्राय रैनसमवेयर से 100 से अधिक देश प्रभावित। 2019 - भारत प्रशासित कश्मीर में एक तीन साल की बच्ची के साथ 8 मई को हुए कथित बलात्कार के ख़िलाफ़ बांदीपुरा ज़िले और घाटी के कई अन्य इलाकों में विरोध प्रदर्शन हुए , इन क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा दिया गया । 2019 - ईडी ने एक्सिस बैंक मुद्रा मामले में 2.95 करोड़ की संपत्ति कुर्क की। 2019 - जम्मू के रामबन जिले में लश्कर के दो आतंकी पकड़े गए , भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद हुआ। 2019 - भारत ने ओडिशा के परीक्षण केंद्र से ‘अभ्यास'- हाई स्पीड एक्सपेंडेबल एरियल टार्गेट (हीट) का सोमवार को सफलतापूर्वक परीक्षण किया। *13 मई को जन्मे व्यक्ति👉* 1901 - मथुरा प्रसाद मिश्र वैद्य - स्वतंत्रता सेनानी। 1905 - फ़ख़रुद्दीन अली अहमद - भारत के भू. पू. राष्ट्र्पति, आपात स्थिति की घोषणा के कारण इनका कार्यकाल काफ़ी अलोकप्रिय रहा। 1917 - असित सेन - हिंदी फ़िल्मों के हास्य अभिनेता थे। 1918 - टी. बालासरस्वती - 'भरतनाट्यम' की सुप्रसिद्ध नृत्यांगना। 1956 - कैलाश विजयवर्गीय - मध्य प्रदेश सरकार में 'भारतीय जनता पार्टी' के राजनेता। 1985 - मेघा गुप्ता - भारतीय हिन्दी अभिनेत्री हैं। *13 मई को हुए निधन👉* 1626 - मलिक अम्बर - मध्यकालीन भारत के सबसे बड़े राजनीतिज्ञों में इसकी गणना की जाती थी। 1951 - हसरत मुहानी - लखनऊ के प्रसिद्ध शायर। 2001 - आर. के. नारायण - अंग्रेज़ी में लिखने वाले उत्कृष्ट भारतीय लेखकों में से एक 2006 - हेमलता गुप्ता - प्रसिद्ध भारतीय चिकित्सक थीं। 2011 - बादल सरकार - प्रसिद्ध अभिनेता, नाटककार, निर्देशक और इन सबके अतिरिक्त रंगमंच के सिद्धांतकार। 2013 - जगदीश माली - एक भारतीय फ़ैशन और फ़िल्म फ़ोटोग्राफ़र थे। 2016 - बाबा हरदेव सिंह - भारत के प्रसिद्ध संत और संत निरंकारी मिशन के आध्यात्मिक गुरु थे। *13 मई के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव👉* 🔅 संत बाबा हरदेव सिंह स्मृति दिवस। 🔅 श्री फ़ख़रुद्दीन अली अहमद जयन्ती। 🔅 श्री मथुरा प्रसाद मिश्र वैद्य जयन्ती। *कृपया ध्यान दें जी👉* *यद्यपि इसे तैयार करने में पूरी सावधानी रखने की कोशिश रही है। फिर भी किसी घटना , तिथि या अन्य त्रुटि के लिए मेरी कोई जिम्मेदारी नहीं है ।* 🌻आपका दिन *_मंगलमय_* हो जी ।🌻 ⚜⚜ 🌴 💎 🌴⚜⚜

+12 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 8 शेयर

💎💎💎 ⚜🕉⚜ 💎💎💎 *🙏ॐ श्रीगणेशाय नम:🙏* *🙏शुभप्रभातम् जी🙏* *इतिहास की मुख्य घटनाओं स हित पञ्चांग-मुख्यांश ..* *📝आज दिनांक 👉* *📜 10 मई 2020* *रविवार* *🏚नई दिल्ली अनुसार🏚* *🇮🇳शक सम्वत-* 1942 *🇮🇳विक्रम सम्वत-* 2077 *🇮🇳मास-* ज्येष्ठ *🌓पक्ष-* कृष्णपक्ष *🗒तिथि-* तृतीया-08:06 तक *🗒पश्चात्-* चतुर्थी *🌠नक्षत्र-* मूल-28:13 तक *🌠पश्चात्-* पूर्वाषाढ़ा *💫करण-* विष्टि-08:06 तक *💫पश्चात्-* बव. *✨योग-* शिव-06:40 तक *✨पश्चात्-* सिद्ध *🌅सूर्योदय-* 05:33 *🌄सूर्यास्त-* 19:02 *🌙चन्द्रोदय-* 22:18 *🌛चन्द्रराशि-* धनु-दिनरात *🌞सूर्यायण-* उत्तरायन *🌞गोल-* उत्तरगोल *💡अभिजित-* 11:50 से 12:44 *🤖राहुकाल-* 17:21 से 19:02 *🎑ऋतु-* ग्रीष्म *⏳दिशाशूल-* पश्चिम *✍विशेष👉* *_🔅आज रविवार को 👉 ज्येष्ठ बदी तृतीया 08:06 तक पश्चात् चतुर्थी शुरू , संकष्टी श्री गणेश चतुर्थी व्रत , सर्वार्थसिद्धियोग / कार्यसिद्धियोग सूर्योदय से 28:13 तक , विघ्नकारक भद्रा 08:05 तक , मूल संज्ञक नक्षत्र 28:13 तक , मातृ दिवस 2020 (भारत , मई का दूसरा रविवार ) , श्री योगेन्द्र सिंह यादव जयन्ती ( परमवीर चक्र सम्मानित ) व श्री सुधाकरराव नाईक स्मृति दिवस।_* *_🔅कल सोमवार को 👉 ज्येष्ठ बदी चतुर्थी 06:37 तक पश्चात् पंचमी शुरु , सूर्य कृत्तिका नक्षत्र में 06:23 पर , शनि वक्री 09:38 पर व राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस 2020 (भारत)।_* *🎯आज की वाणी👉* 🌹 *नारुन्तुदः स्यान्न नृशंसवादी* *न हीनतः परमभ्याददीत ।* *ययास्य वाचा पर उद्विजेत* *न तां वदेदुषतीं पापलोक्याम् ॥* *भावार्थ👉* _(सभ्य मनुष्य का कर्तव्य है कि वह) दूसरे के मर्म को चोट न पहुँचाए, चुभने वाली बातें न बोले, घटिया तरीके से दूसरे को वश में न करे, दूसरे को उद्विग्न करने एवं ताप पहुंचाने वाली, पापी जनों के आचरण वाली बोली न बोले ।_ 🌹 *10 मई की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ👉* 1503 इटली के खोजकर्ता और नाविक कोलंबस ने कायमान द्वीप की खोज की। 1526 पानीपत की पहली लड़ाई में जीत के बाद बाबर ने तत्कालीन भारत की राजधानी अकबराबाद (आगरा) में प्रवेश किया। 1655 ब्रिटिश सेना ने जमैका पर कब्जा किया। 1744 लुई 15वें की मौत के बाद लुई 16वां फ्रांस का राजा बना। 1752 बेंजामिन फ्रैंकलिन अपने पतंग-फ्लाइंग प्रयोग के साथ बिजली कंडक्टर की जांच किया। 1768 जॉन विलक्स को "द नॉर्थ ब्रिटान" के लिए एक लेख लिखने के लिए कैद किया गया जिसमें किंग जॉर्ज III की गंभीर आलोचना की गयी थी। इस कार्रवाई से लंदन में दंगे हुए। 1774 अपने दादा, लुई XV की मौत के बाद लुई XVI फ्रांस के राजा बने। 1796 नेपोलियन ने लोदी ब्रिज के युद्ध में आस्ट्रिया को हराया। 1801 त्रिपोली के पास्का ने कोंसलेट पर फांसी देने के बाद संयुक्त राज्य पर युद्ध की घोषणा की। 1810 रेव. हेनरी डंकन ने स्कॉटलैंड के रूथवेल में दुनिया का पहला वाणिज्यिक बचत बैंक खोला था। 1823 मिसिसिपी नदी को नेविगेट करने के लिए पहला स्टीमबोट फिटिंग स्नोलिंग पर आया। 1833 ले वैन खोई विद्रोह सम्राट मिन्ह और वियतनाम के खिलाफ शुरू हुआ। 1837 1837 का आतंक (लड़ाई) न्यूयॉर्क शहर में शुरू हुआ। 1857 - भारत का प्रथम स्वतंत्रता संग्राम इसी दिन मेरठ की छावनी से आरंभ हुआ था। 1893 लंदन में इंपीरियल संस्थान खोला गया। 1908 वेस्ट वर्जिनिया के ग्रेफ्टन में चर्च सर्विस के दौरान पहला मदर्स डे मनाया गया। 1924 जे एडगर हूवर को जांच ब्यूरो का प्रमुख नियुक्त किया गया। 1925 न्यूज़ीलैंड के प्रधानमंत्री विलियम मासी का कार्यालय में निधन हो हुआ। 1934 राजस्व अधिनियम संयुक्त राज्य अमेरिका में जारी किया गया। 1936 मैनुअल अज़ाना स्पेन के नए राष्ट्रपति बने। 1937 8 वा इंपीरियल सम्मेलन लंदन में शुरू हुआ। 1946 जवाहरलाल नेहरू भारत में कांग्रेस पार्टी के नेता चुने गए। 1993 संतोष यादव दुनिया के सबसे ऊँचे पर्वत शिखर एवरेस्ट पर दो बार पहुंचने वाली विश्व की पहली महिला पर्वतारोही बनी। 1994 - दक्षिण अफ़्रीका में नेल्सन मंडेला द्वारा प्रिटोरिया में एक ऐतिहासिक समारोह में राष्ट्रपति पद की शपथ ग्रहण की गयी। 2001 - भारत व ताजिकिस्तान ने संयुक्त घोषणा पर इस्ताक्षर किए। 2001 - घाना में फ़ुटबाल मैच के दौरान हिंसा, 130 मरे। 2003 - मोजाम्बिक के राष्ट्रपति जोकि अल्बर्टो फिसानों 6 दिवसीय यात्रा पर भारत पहुँचे। 2005 - लाहौर-अमृतसर बस सेवा शुरू करने पर भारत और पाकिस्तान सहमत। 2006 - 1987 में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित आस्कर एरियास ने दुबारा कोस्टारिका के राष्ट्रपति पद की शपथ ग्रहण की। 2006 - इसरो के अध्यक्ष जी. माधवन नायर और नासा के प्रशासक माइकेल ग्रिफ़िन ने चन्द्रमा पर भेजे जाने वाले भारत के चन्द्रयान 1 पर दो अमेरिकी वैज्ञानिक उपकरण लगाने के लिए एक सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किए। 2007 - अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन ने कार्य स्थली पर होने वाले भेदभाव पर रिपोर्ट जारी की। 2008 - लेबनान में ईरान समर्थित विद्रोही संगठन हिजबुल्ला ने राजधानी बेरुत के मुस्लिम इलाके पर क़ब्ज़ा करने का दावा किया। 2012 दक्षिण-पश्चिम एशियाई सीरिया की राजधानी दमिश्क में दो बम धमाके में 55 लोगों की मौत और 370 अन्य घायल। 2019 - कराची से दिल्ली आ रहे विमान को भारतीय वायुसेना ने घेरकर जयपुर उतारा। 2019 - राष्ट्रपति ट्रंप ने पैट्रिक शानहान को बनाया नया रक्षामंत्री। *10 मई को जन्मे व्यक्ति👉* 1834 - अल्फ़्रेड बेब - भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस अध्यक्ष थे। 1898 - विचित्र नारायण शर्मा - 'जमना लाल बजाज पुरस्कार' से सम्मानित प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी एवं राजनीतिज्ञ थे। 1905 - पंकज मलिक - बांग्ला और हिन्दी फ़िल्मों के प्रसिद्ध गायक, संगीतकार और अभिनेता। 1929 - सुभाष कश्यप - भारतीय संविधान के विशेषज्ञ एवं 'पद्म भूषण' से भी सम्मानित। 1961 - बृजलाल खाबरी - तेरहवीं लोकसभा के सदस्य । 1980 - योगेन्द्र सिंह यादव, परमवीर चक्र सम्मानित भारतीय सैनिक *10 मई को हुए निधन👉* 1922 - छत्रपति साहू महाराज - महाराष्ट्र के प्रसिद्ध समाज सुधारक और दलितों के हितेषी। 1936 - मुख़्तार अहमद अंसारी - एक प्रसिद्ध चिकित्सक, प्रसिद्ध राष्ट्रवादी मुस्लिम नेता, जिन्होंने भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन में भाग लिया। 1999 - पेनिसिलन के विकास में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले सर एडवर्ड इब्राहम की मृत्यु। 2001 - सुधाकरराव नाईक - महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री थे। 2002 - कैफ़ी आज़मी - फ़िल्म जगत् के मशहूर उर्दू शायर। 2006 - भारत में सऊदी अरब के पहले राजदूत शेख़ मुहम्मद इब्न ऊमान अल मुलहेम का 105 वर्ष की आयु में निधन। *10 मई के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव👉* 🔅 मातृ दिवस 2020 (भारत , मई का दूसरा रविवार )। 🔅 श्री योगेन्द्र सिंह यादव जयन्ती ( परमवीर चक्र सम्मानित )। 🔅श्री सुधाकरराव नाईक स्मृति दिवस। *कृपया ध्यान दें जी👉* *यद्यपि इसे तैयार करने में पूरी सावधानी रखने की कोशिश रही है। फिर भी किसी घटना , तिथि या अन्य त्रुटि के लिए मेरी कोई जिम्मेदारी नहीं है ।* 🌻आपका दिन *_मंगलमय_* हो जी ।🌻 ⚜⚜ 🌴 💎 🌴⚜⚜

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

♦♦♦ ⚜🕉⚜ ♦♦♦ *🙏ॐ श्रीगणेशाय नम:🙏* *🙏शुभप्रभातम् जी🙏* *इतिहास की मुख्य घटनाओं सहित पञ्चांग-मुख्यांश ..* *📝आज दिनांक 👉* *📜 03 मई 2020* *रविवार* *🏚नई दिल्ली अनुसार🏚* *🇮🇳शक सम्वत-* 1942 *🇮🇳विक्रम सम्वत-* 2077 *🇮🇳मास-* बैशाख *🌓पक्ष-* शुक्लपक्ष *🗒तिथि-* दशमी-09:11 तक *🗒पश्चात्-* एकादशी *🌠नक्षत्र-* पूर्वाफाल्गुनी-21:43 तक *🌠पश्चात्-* उत्तराफाल्गुनी *💫करण-* गर-09:11 तक *💫पश्चात्-* वणिज *✨योग-* ध्रुव-12:08 तक *✨पश्चात्-* व्याघात *🌅सूर्योदय-* 05:38 *🌄सूर्यास्त-* 18:57 *🌙चन्द्रोदय-* 14:30 *🌛चन्द्रराशि-* सिंह 27:09 तक *🌛पश्चात्-* कन्या *🌞सूर्यायण-* उत्तरायन *🌞गोल-* उत्तरगोल *💡अभिजित-* 11:51 से 12:44 *🤖राहुकाल-* 17:18 से 18:57 *🎑ऋतु-* ग्रीष्म *⏳दिशाशूल-* पश्चिम *✍विशेष👉* *_🔅आज रविवार को 👉 बैशाख सुदी दशमी 09:11 तक पश्चात् एकादशी शुरु , मोहिनी एकादशी व्रत (स्मार्त यानी गृहस्थी ) सर्वार्थसिद्धियोग / कार्यसिद्धियोग 21:43 से सूर्योदय तक , विघ्नकारक भद्रा 19:42 से , सर्वदोषनाशक रवि योग 21:43 तक , श्री महावीर स्वामी केवल ज्ञान (बैशाख शुक्ल दशमी ) ,श्री अर्जुन मुंडा जन्म दिवस , श्री रघुवर दास जन्म दिवस राजनीतिज्ञा उमा भारती जन्म दिवस , श्री अशोक गहलोत जन्म दिवस , डॉ. जाकिर हुसैन स्मृति दिवस , विश्व सौर ऊर्जा दिवस (कन्फर्म नहीं ) , अन्तर्राष्ट्रीय प्रैस स्वतन्त्रता दिवस 2020 व वैश्विक पहुंच जागरूकता दिवस (कन्फर्म नहीं)।_* *_🔅कल सोमवार को 👉 बैशाख सुदी एकादशी 06:14 तक पश्चात् द्वादशी 26:55 तक , त्रिस्पृशा मोहिनी एकादशी व्रत (वैष्णव यानी साधु संन्यासी आदि ) , श्री परशुराम /रूकमणी द्वादशी , द्वादशी तिथि का क्षय , मधुसूदन पूजा , मंगल कुम्भ राशि में 20:40 पर , विघ्नकारक भद्रा 06:13 तक , श्री लक्ष्मीनारायण एकादशी उडिसा , अग्नि नक्षत्र प्रारम्भ , राष्ट्रीय संत तुकडोजी महाराज जयन्ती (मान्यतानुसार ) , श्री के. सी . रेड्डी जयन्ती , Coal Miners Day (कोयला खदान दिवस ) व Star Wars Day ._* *🎯आज की वाणी👉* 🌹 *सत्यं ब्रूयात् प्रियं ब्रूयात्* *न ब्रूयात् सत्यमप्रियं ।* *प्रियं च नानृतं ब्रूया-* *देष धर्मः सनातनः ॥* *भावार्थ👉* _सत्य बोलें, प्रिय बोलें पर अप्रिय सत्य न बोलें और प्रिय असत्य न बोलें, यही सनातन धर्म है ॥_ 🌹 *3 मई की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ👉* 1429 – फ़्रांस की देशभक्त संत जोन ऑफ़ आर्क ने फ़्रांस के कुछ क्षेत्रों के ब्रिटेन के अतिग्रहण से निकालने के लिए अपना ऐतिहासिक विद्रोह आरंभ किया। 1449 – क्रिस्टोफ़र कोलंबस ने अपनी शोध यात्रा के तीसरे चरण में जमाइका द्वीप का पता लगाया और उसको स्पेन का एक भाग बना दिया। 1525 – पुर्तगाली युद्धपोट ने ईरान के द्वीप हुर्मुज़ पर आक्रमण करके इसे अपने नियंत्रण में ले लिया और इसके साथ ही मध्यपूर्व में पश्चिमी साम्राज्य के हस्तक्षेप का काल आरंभ हो गया। 1616 – लाऊंदू समझौते के बाद फ्रांस का गृहयुद्ध समाप्त हुआ। 1660 – स्वीडन, पोलैंड, ब्रैंडेनबर्ग और आस्ट्रिया ने ओलिवा शांति समझौते पर हस्ताक्षर किये। 1722 - पेरियर डी मारिवॉक्स '' ला डबल इनकॉन्स्टंस '' का पेरिस में प्रीमियर किया गया। 1765 – फिलाडेल्फिया में पहला अमेरिकी मेडिकल कॉलेज खुला। 1791 - पोलिश-लिथुआनियाई राष्ट्रमंडल सेजम में 03 मई,1791 को संविधान की घोषणा की गयी, जो यूरोप में पहला आधुनिक संविधान है। 1808 - फिनिश युद्धः स्वीबेर्ग का किला स्वीडन से रूस तक खो गया। 1815 - तोलेंटीनो की लड़ाई में ऑस्ट्रिया ने नेपल्स राजा जोआचिम को हराया। 1830 – दुनिया में भाप इंजन से चलने वाली पहली नियमित यात्री रेलगाड़ी चलनी शुरू हुई। 1837 – यूनिवर्सिटी ऑफ एथेंस की स्थापना हुई। 1845 – चीन के कैंटन में थियेटर में आग लगने से 1600 लोगों की मौत हुई। 1913 – पहली भारतीय फीचर फिल्म राजा हरिश्चन्द्र प्रदर्शित हुई। 1919 - अमानुल्ला खान द्वारा ब्रिटिश भारत पर आक्रमण। 1919 – अमेरिका में पहली यात्री उड़ान न्यूयार्क और अटलांटिक सिटी के बीच संचालित हुई। 1939 – नेताजी सुभाषचंद्र बोस ने ऑल इंडिया फॉरवर्ड ब्लॉक की स्थापना की। 1945 – प्रसिद्ध जर्मन भौतिकशास्त्री वर्नर हाइजनबर्ग को गिरफ्तार किया गया। 1947 – विश्व युद्ध के बाद जापान में नया संविधान लागू हुआ। 1961 – कमांडर ऐलन शेपर्ड अंतरिक्ष में जाने वाले पहले अमरीकी यात्री बने। 1965 – कंबोडिया ने अमेरिका के साथ राजनयिक संबंध समाप्त किए। 1968 – पेरिस में फ़्रांसीसी छात्रों का भारी आंदोलन आरंभ हुआ। 1993 – संयुक्त राष्ट्र संघ ने विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस की घोषणा की थी। 1998 - 'यूरो' को यूरोपीय मुद्रा के रूप में स्वीकार करने का यूरोपीय नेताओं का ऐतिहासिक फैसला। 2002 - अमेरिकी मीडिया ने परवेज मुशर्रफ़ के जनमत संग्रह को 'शर्मनाक जनमत संग्रह' बताया। 2003 - आस्ट्रेलिया के स्टीव वॉ टेस्ट क्रिकेट में सर्वाधिक रन बनाने वाले दूसरे बल्लेबाज बने। 2004 - वेस्टइंडीज ने छठे एक दिवसीय मैच में इंग्लैंड को चार विकेट से परास्त किया। 2006 - पाकिस्तान और ईरान ने 3 देशों की गैस पाइप लाइन परियोजना से भारत को अलग करने के उद्देश्य से द्विपक्षीय गैस पाइप लाइन करार पर दस्तखत किए। 2006 - शिक्षाविद कमलेश पटेल को ब्रिटेन के हाउस आफ़ लार्ड्स में ग़ैर दलीय पीयर नियुक्त किया गया। 2008 - टाटा स्टील लिमिटेड को ब्रिटेन में कोयला खनन करने का पहला लाइसेंस प्राप्त हुआ। 2008 - पाकिस्तानी जेल में सज़ा काट रहे भारतीय क़ैदी सरबजीत सिंह की फाँसी की सज़ा अनिश्चित समय तक टाली गई। 2008 - नेपाली प्रधानमंत्री गिरिजा प्रसाद कोइराला संविधान सभा के लिए चुने गये। 2008 - दक्षिणी चिली के लास लगासे क्षेत्र में हज़ारों साल से निष्क्रिय पड़ा एक ज्वालामुखी फटा। 2010 – जापान की निसान के साथ मिलकर बजाज रेनो नामक छोटी कार बनाने वाली कंपनियों बजाज ऑटो व फ्रांस की रेनॉल्ट ने उसकी कीमत टाटा की नैनो से भी कम लगभग 1.10 लाख रूपए रखने का निर्णय किया। 2013 – चीन में लगभग 16 करोड़ साल पुराना डायनासोर का जीवाश्म मिला। 2016- 63वें राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्‍कारों की घोषणा; मनोज कुमार, अमिताभ बच्चन और कंगना रानौत हुए सम्मानित। 2019 - प्रचंड चक्रवाती तूफान 'फानी' ने ओडिशा के तटीय इलाकों में जमकर तबाही मचाई. ओडिशा के पुरी और भुवनेश्वर समेत कई इलाकों में बिजली के खंभे और पेड़ उखड़ गए. कई इमारतें ढह गईं और चारों तरफ पानी भर गया. इसके अलावा 10 लोगों की जान चली गई। 2019 - हिमाचल प्रदेश में डायनासोर काल का जीवाश्म मिला। 2019 - राजकपूर का शोमैन स्टूडियो 71 साल बाद बिक गया। *3 मई को जन्मे व्यक्ति👉* 1701 – फ़्रांस के गणितज्ञ और विख्यात पर्यटक कोन्डामैन का पेरिस में जन्म हुआ। 1896 - वी. के. कृष्ण मेनन - भारतीय राष्ट्रवादी, राजनीतिज्ञ, कूटनीतिज्ञ और भारत के पूर्व रक्षा मंत्री। 1898 – इज़राइल की चौथी प्रधानमन्त्री गोल्डा मायर का जन्म हुआ। 1920 - अचला सचदेव -हिंदी चलचित्र की मशहूर अभिनेत्री। 1930 - सुमित्रा सिंह - राजस्थान की प्रसिद्ध महिला राजनीतिज्ञ। 1951 - अशोक गहलोत - प्रसिद्ध राजनीतिज्ञ । 1955 - रघुवर दास - झारखण्ड के छठवें मुख्यमंत्री । 1959 - उमा भारती - प्रसिद्ध राजनीतिज्ञ । 1968 - अर्जुन मुंडा - झारखंड प्रान्त के पूर्व मुख्यमंत्री। 1977 - मरियम मिर्ज़ाख़ानी - गणित की दुनिया का प्रतिष्ठित सम्मान 'फील्ड्स मेडल' पाने वाली पहली महिला गणितज्ञ थीं। *3 मई को हुए निधन👉* 1969 - डाक्टर अकज़ाकिर हुसैन - भारत के तीसरे राष्ट्रपति (जन्म 1897)। 1981 - नर्गिस - भारतीय सिनेमा की प्रसिद्ध अभिनेत्री । 2005 - जगजीत सिंह अरोड़ा, भारतीय सेना के कमांडर। 2006 - प्रमोद महाजन - भारत के राजनीतिज्ञ (जन्म 1949)। *3 मई के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव👉* 🔅 श्री अर्जुन मुंडा जन्म दिवस । 🔅 श्री रघुवर दास जन्म दिवस । 🔅 श्री महावीर स्वामी केवल ज्ञान (बैशाख शुक्ल दशमी )। 🔅 राजनीतिज्ञा उमा भारती जन्म दिवस । 🔅 श्री अशोक गहलोत जन्म दिवस । 🔅 डॉ. जाकिर हुसैन स्मृति दिवस । 🔅 विश्व सौर ऊर्जा दिवस (कन्फर्म नहीं) । 🔅 अन्तर्राष्ट्रीय प्रैस स्वतन्त्रता दिवस । 🔅 वैश्विक पहुंच जागरूकता दिवस (कन्फर्म नहीं)। *कृपया ध्यान दें जी👉* *यद्यपि इसे तैयार करने में पूरी सावधानी रखने की कोशिश रही है। फिर भी किसी घटना , तिथि या अन्य त्रुटि के लिए मेरी कोई जिम्मेदारी नहीं है ।* 🌻आपका दिन *_मंगलमय_* हो जी ।🌻 ⚜⚜ 🌴 💎 🌴⚜⚜

+12 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 9 शेयर

*🙏🌞 मोहिनी एकादशी कथा , महत्व ,मुहूर्त ,आरतीऔर पारण - ⏰ 3/4 मई 2020*🅿🚩 *🙏वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी मोहिनी एकादशी कहलाती है. इस दिन भगवान पुरुषोतम राम की पूजा करने का विधि-विधान है. व्रत के दिन भगवान की प्रतिमा को स्नानादि से शुद्ध कर श्वेत वस्त्र पहनाये जाते है. वर्ष 2020 में 3 /4 मई के दिन मोहिनी एकादशी का व्रत किया जायेगा. व्रत के दिन उच्चासन पर बैठकर धूप, दीप से आरती उतारते हुए, मीठे फलों से भोग लगाना चाहिए.*  *🎉मोहिनी एकादशी व्रत का महत्व*🎉 *संसार में आकर मनुष्य केवल प्रारब्ध का भोग ही नहीं भोगता अपितु वर्तमान को भक्ति और आराधना से जोड़कर सुखद भविष्य का निर्माण भी करता है। एकादशी व्रत का महात्म्य भी हमें इसी बात की ओर संकेत करता है।* *स्कंद पुराण के अनुसार मोहिनी एकादशी के दिन समुद्र मंथन में निकले अमृत का बंटवारा हुआ था। स्कंद पुराण के अवंतिका खंड में शिप्रा को अमृतदायिनी, पुण्यदायिनी कहा गया। अत: मोहिनी एकादशी पर शिप्रा में अमृत महोत्सव का आयोजन किया जाता है।* *🚩इसलिए कहते हैं -* 🙏 *❤तत सोमवती शिप्रा विख्याता यति पुण्यदा पवित्राय...।* *💥अवंतिका खंड के अनुसार मोहिनी रूपधारी भगवान विष्णु ने अवंतिका नगरी में अमृत वितरण किया था। देवासुर संग्राम के दौरान मोहिनी रूप रखकर राक्षकों को चकमा दिया और देवताओं को अमृत पान करवाया। यह दिन देवासुर संग्राम का समापन दिन भी माना जाता है।* *☝मोहिनी एकादशी व्रत करने से व्यक्ति के सभी पाप और दु:ख नष्ट होते है.  वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि में जो व्रत होता है. वह मोहिनी एकादशी के नाम से जाना जाता है. इस व्रत के प्रभाव से मनुष्य़ मोह जाल से छूट जाता है. अत: इस व्रत को सभी दु:खी मनुष्यों को अवश्य करना चाहिए. मोहिनी एकादशी के व्रत के दिन इस व्रत की कथा अवश्य सुननी चाहिए.*💰   *🎈मोहिनी एकादशी व्रत विधि*🎈 *मोहिनी एकादशी व्रत जिस व्यक्ति को करना हों, उस व्यक्ति को व्रत के एक दिन पूर्व ही अर्थात दशमी तिथि के दिन रात्रि का भोजन कांसे के बर्तन में नहीं करना चाहिए. दशमी तिथि में भी व्रत दिन रखे जाने वाले नियमों का पालन करना चाहिए.  जैसे इस रात्रि में एक बार भोजन करने के पश्चात दूबारा भोजन नहीं करना चाहिए. रात्रि के भोजन में भी प्याज और मांस आदि नहीं खाने चाहिएं. इसके अतिरिक्त जौ, गेहुं और चने आदि का भोजन भी सात्विक भोजन की श्रेणी में नहीं आता है.* *एकादशी व्रत की अवधि लम्बी होने के कारण मानसिक रुप से तैयार रहना जरूरी है. इसके अलावा व्रत के एक दिन पूर्व से ही भूमि पर शयन करना प्रारम्भ कर देना चाहिए. तथा दशमी तिथि के दिन भी असत्य बोलने और किसी को दु:ख देने से बचना चाहिए. इस प्रकार व्रत के नियमों का पालन दशमी तिथि की रात्रि से ही करना आवश्यक है.*    *व्रत के दिन एकादशी तिथि में उपवासक को प्रात:काल में सूर्योदय से पहले उठना चाहिए. और प्रात:काल में ही नित्यक्रियाएं कर, शुद्ध जल से स्नान करना चाहिए. स्नान के लिये किसी पवित्र नदी या सरोवर का जल मिलना श्रेष्ठ होता है. अगर यह संभव न हों तो घर में ही जल से स्नान कर लेना चाहिए. स्नान करने के लिये कुशा और तिल एक लेप का प्रयोग करना चाहिए. शास्त्रों के अनुसार यह माना जाता है, कि इन वस्तुओं का प्रयोग करने से व्यक्ति पूजा करने योग्य होता है.*     *स्नान करने के बाद साफ -शुद्ध वस्त्र धारण करने चाहिए. और भगवान श्री विष्णु जी के साथ-साथ भगवान श्री राम की पूजा की जाती है. व्रत का संकल्प लेने के बाद ही इस व्रत को शुरु किया जाता है. संकल्प लेने के लिये इन दोनों देवों के समक्ष संकल्प लिया जाता है.*    *देवों का पूजन करने के लिये कुम्भ स्थापना कर, उसके ऊपर लाल रंग का वस्त्र बांध कर पहले कुम्भ का पूजन किया जाता है, इसके बाद इसके ऊपर भगवान कि तस्वीर या प्रतिमा रखी जाती है. प्रतिमा रखने के बाद भगवान का धूप, दीप और फूलों से पूजन किया जाता है. तत्पश्चात व्रत की कथा सुनी जाती है.*      *🎄🚩पौराणिक कथा के अनुसार समुद्र मंथन में निकले अमृत को पीने के लिए जब देव- दानव के बीच विवाद छिड़ गया था। उस समय भगवान श्रीहरी सुंदर नारी का रूप धारण कर देवता और दानवों के बीच में पहुंच गए। भगवान विष्णु के इस मोहिनी रूप से मोहित होकर अमृत कलश उनको सौंप दिया।* *मोहिनी रूप धारण किए हुए भगवान विष्णु ने देवताओं को अमृतपान करवा दिया। अमृत पीकर देवता अमर हो गए। जिस दिन श्रीहरी मोहिनी रूप में प्रकट हुए थे। उस दिन एकादशी तिथि थी। इसलिए इस एकादशी को मोहिनी एकदशी कहा जाता है और इस दिन भगवान विष्णु के इसी मोहिनी रूप की उपासना की जाती है। त्रेता युग में महर्षि वशिष्ठ की सलाह पर भगवान श्रीराम ने इस व्रत को किया था और द्वापर युग में युधिष्ठिर को श्रीकृष्ण ने इस व्रत को करने की सलाह दी थी।*🔥🌞 *🅿मोहिनी एकादशी व्रत कथा*🅿 *🚩शान्ताकारं भुजंगशयनं पद्मनाभं सुरेशं,विश्वाधारं गगन सदृशं मेघवर्ण शुभांगम्।* *🚩लक्ष्मीकांत कमलनयनं योगिभिर्ध्यानगम्यं,वन्दे विष्णु भवभयहरं सर्व लौकेक नाथम्।।* *🙏धर्मराज युधिष्ठिर कहने लगे कि हे कृष्ण! वैशाख मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी का क्या नाम है तथा उसकी कथा क्या है? इस व्रत की क्या विधि है, यह सब विस्तारपूर्वक बताइए।* *श्रीकृष्ण कहने लगे कि हे धर्मराज! मैं आपसे एक कथा कहता हूं, जिसे महर्षि वशिष्ठ ने श्री रामचंद्रजी से कही थी। एक समय श्रीराम बोले कि हे गुरुदेव! कोई ऐसा व्रत बताइए, जिससे समस्त पाप और दुख का नाश हो जाए। मैंने सीताजी के वियोग में बहुत दुख भोगे हैं।* *महर्षि वशिष्ठ बोले- हे राम! आपने बहुत सुंदर प्रश्न किया है। आपकी बुद्धि अत्यंत शुद्ध तथा पवित्र है। यद्यपि आपका नाम स्मरण करने से मनुष्य पवित्र और शुद्ध हो जाता है तो भी लोकहित में यह प्रश्न अच्छा है। वैशाख मास में जो एकादशी आती है उसका नाम मोहिनी एकादशी है। इसका व्रत करने से मनुष्य सब पापों तथा दुखों से छूटकर मोहजाल से मुक्त हो जाता है। मैं इसकी कथा कहता हूं। ध्यानपूर्वक सुनो।*🙏🚩🅿 *🎉सरस्वती नदी के तट पर भद्रावती नाम की एक नगरी में द्युतिमान नामक चंद्रवंशी राजा राज करता था। वहां धन-धान्य से संपन्न व पुण्यवान धनपाल नामक वैश्य भी रहता है। वह अत्यंत धर्मालु और विष्णु भक्त था। उसने नगर में अनेक भोजनालय, प्याऊ, कुएं, सरोवर, धर्मशाला आदि बनवाए थे। सड़कों पर आम, जामुन, नीम आदि के अनेक वृक्ष भी लगवाए थे। उसके 5 पुत्र थे- सुमना, सद्‍बुद्धि, मेधावी, सुकृति और धृष्टबुद्धि।* *इनमें से पांचवां पुत्र धृष्टबुद्धि महापापी था। वह पितर आदि को नहीं मानता था। वह वेश्या, दुराचारी मनुष्यों की संगति में रहकर जुआ खेलता और पर-स्त्री के साथ भोग-विलास करता तथा मद्य-मांस का सेवन करता था। इसी प्रकार अनेक कुकर्मों में वह पिता के धन को नष्ट करता रहता था।* *इन्हीं कारणों से त्रस्त होकर पिता ने उसे घर से निकाल दिया था। घर से बाहर निकलने के बाद वह अपने गहने-कपड़े बेचकर अपना निर्वाह करने लगा। जब सबकुछ नष्ट हो गया तो वेश्या और दुराचारी साथियों ने उसका साथ छोड़ दिया। अब वह भूख-प्यास से अति दुखी रहने लगा। कोई सहारा न देख चोरी करना सीख गया।* *एक बार वह पकड़ा गया तो वैश्य का पुत्र जानकर चेतावनी देकर छोड़ दिया गया। मगर दूसरी बार फिर पकड़ में आ गया। राजाज्ञा से इस बार उसे कारागार में डाल दिया गया। कारागार में उसे अत्यंत दु:ख दिए गए। बाद में राजा ने उसे नगरी से निकल जाने का कहा।* *वह नगरी से निकल वन में चला गया। वहां वन्य पशु-पक्षियों को मारकर खाने लगा। कुछ समय पश्चात वह बहेलिया बन गया और धनुष-बाण लेकर पशु-पक्षियों को मार-मारकर खाने लगा।* *एक दिन भूख-प्यास से व्यथित होकर वह खाने की तलाश में घूमता हुआ कौडिन्य ऋषि के आश्रम में पहुंच गया। उस समय वैशाख मास था और ऋषि गंगा स्नान कर आ रहे थे। उनके भीगे वस्त्रों के छींटे उस पर पड़ने से उसे कुछ सद्‍बुद्धि प्राप्त हुई।* *वह कौडिन्य मुनि से हाथ जोड़कर कहने लगा कि हे मुने! मैंने जीवन में बहुत पाप किए हैं। आप इन पापों से छूटने का कोई साधारण बिना धन का उपाय बताइए। उसके दीन वचन सुनकर मुनि ने प्रसन्न होकर कहा कि तुम वैशाख शुक्ल की मोहिनी नामक एकादशी का व्रत करो। इससे समस्त पाप नष्ट हो जाएंगे। मुनि के वचन सुनकर वह अत्यंत प्रसन्न हुआ और उनके द्वारा बताई गई विधि के अनुसार व्रत किया।* *हे राम! इस व्रत के प्रभाव से उसके सब पाप नष्ट हो गए और अंत में वह गरुड़ पर बैठकर विष्णुलोक को गया। इस व्रत से मोह आदि सब नष्ट हो जाते हैं। संसार में इस व्रत से श्रेष्ठ कोई व्रत नहीं है। इसके माहात्म्य को पढ़ने से अथवा सुनने से एक हजार गौदान का फल प्राप्त होता है।* *🅿मोहिनी एकादशी तिथि मुहूर्त❤* *🙏❤मोहिनी एकादशी  व्रत❤🙏* *⏰एकादशी तिथि प्रारम्भ = ३/मई/२०२० को ०९:०८ बजे⏰* *⏰एकादशी तिथि समाप्त = ४/मई/२०२० को ०६:१२ बजे*⏰ *🌞स्मार्त एकादशी व्रत🌞* *🚩एकादशी - ३/मई/२०२० रविवार*🚩 *🎂४th को, पारण (व्रत तोड़ने का) समय = १३:५२ से १६:२५*🎂 *☝पारण तिथि के दिन हरि वासर समाप्त होने का समय = ११:२२* *🔥वैष्णव एकादशी व्रत*🔥 *💧दूजी मोहिनी एकादशी =  ४th, मई सोमवार1  को*💧 *🎂५th को, दूजी एकादशी के लिए पारण (व्रत तोड़ने का) समय = ०६:१२ से ०८:४५*🎂 *☝पारण के दिन द्वादशी सूर्योदय से पहले समाप्त हो जाएगी* *🙏🚩मान्यता है कि मोहिनी एकादशी के व्रत को करने से दुख्रों का निवारण होता है और जीवन में शांति और सुकून का अहसास होता है। इस एकादशी के व्रत को पुण्यदायी और कल्‍याणकारी माना गया है। भगवान श्रीराम ने और महाराज युधिष्ठिर ने अपने दुखों से छुटकारा पाने के लिए मोहिनी एकादशी का व्रत किया था।*💥🔥 *💰अष्टाविंशति विष्णु नाम स्तोत्र💰* मत्स्यं कूर्मं वराहं च वामनं च जनार्दनम् । गोविन्दं पुण्डरीकाक्षं माधवं दधुसूदनम् ॥१॥ पद्मनाभं सहस्राक्षं वनमालं हलायुधम् गोवर्धनं हृषीकेशं वैकुण्ठं पुरुषोत्तमम् ॥२॥ विश्वरूपं वासुदेवं रामं नारायणं हरिम्। दामोदरं श्रीधरं च वेदांगं गरुडध्वजम्॥३॥ अनन्तं कृष्णगोपालं जपतो नास्ति पातकम् । गवां कोटि प्रदानस्य अश्वमेधशतस्य च ॥४॥ कन्यादानसहस्राणां फलं प्राप्नोति मानवः । अमायां वा पौर्णमास्यां एकादश्यां तथैव च ॥५॥ संध्याकाले स्मरं नित्यं प्रातःकाले तथैव च । मध्याह्ने च जपन्नित्यं सर्वपापैः प्रमुच्यते ॥६॥ *⛳एकादशी के पुण्य के कारण मनुष्य सभी पापों से मुक्त होकर जीवन के हरेक क्षेत्र में विजयश्री प्राप्त करता है और मोक्ष का अधिकारी हो जाता है। भागवत पुराण में आया है कि जो मनुष्य समस्त भौतिक तथा सांसारिक सुख प्राप्त करना चाहते हैं, उन्हें एकादशी व्रत  अष्टाविंशति विष्णु नाम स्तोत्र सहित अवश्य करना चाहिए।* ❤ *🚩भगवान जगदीश्वर की आरती* 🚩 ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी! जय जगदीश हरे। भक्तजनों के संकट क्षण में दूर करे॥ जो ध्यावै फल पावै, दुख बिनसे मन का। सुख-संपत्ति घर आवै, कष्ट मिटे तन का॥ ॐ जय...॥ मात-पिता तुम मेरे, शरण गहूं किसकी। तुम बिनु और न दूजा, आस करूं जिसकी॥ ॐ जय...॥ तुम पूरन परमात्मा, तुम अंतरयामी॥ पारब्रह्म परेमश्वर, तुम सबके स्वामी॥ ॐ जय...॥ तुम करुणा के सागर तुम पालनकर्ता। मैं मूरख खल कामी, कृपा करो भर्ता॥ ॐ जय...॥ तुम हो एक अगोचर, सबके प्राणपति। किस विधि मिलूं दयामय! तुमको मैं कुमति॥ ॐ जय...॥ दीनबंधु दुखहर्ता, तुम ठाकुर मेरे। अपने हाथ उठाओ, द्वार पड़ा तेरे॥ ॐ जय...॥ विषय विकार मिटाओ, पाप हरो देवा। श्रद्धा-भक्ति बढ़ाओ, संतन की सेवा॥ ॐ जय...॥ तन-मन-धन और संपत्ति, सब कुछ है तेरा। तेरा तुझको अर्पण क्या लागे मेरा॥ ॐ जय...॥ जगदीश्वरजी की आरती जो कोई नर गावे। कहत शिवानंद स्वामी, मनवांछित फल पावे॥ ॐ जय...॥   🙏🚩🙏 *🍂🍂राम रामेति रामेति रमे रामे मनोरमे । सहस्रनाम तत्तुल्यं रामनाम वरानने*🚩🚩 ॥  *🙏NOTE :- 🅿कभी कभी एकादशी व्रत लगातार दो दिनों के लिए हो जाता है। जब एकादशी व्रत दो दिन होता है तब स्मार्त-परिवारजनों को पहले दिन एकादशी व्रत करना चाहिए। दुसरे दिन वाली एकादशी को दूजी एकादशी कहते हैं। सन्यासियों, विधवाओं और मोक्ष प्राप्ति के इच्छुक श्रद्धालुओं को दूजी एकादशी के दिन व्रत करना चाहिए। जब-जब एकादशी व्रत दो दिन होता है तब-तब दूजी एकादशी और वैष्णव एकादशी एक ही दिन होती हैं।.*🅿 *👍🎄भगवान विष्णु का प्यार और स्नेह के इच्छुक परम भक्तों को दोनों दिन एकादशी व्रत करने की सलाह दी जाती है।*🌞🚩 *॥ 🎄श्रीरामायणसूत्र 🎄॥ * *आदौ रामतपोवनादिगमनं हत्वा मृगं काञ्चनम् वैदेहीहरणं जटायुमरणम् सुग्रीवसम्भाषणम् ॥ वालीनिर्दलनं समुद्रतरणं लङ्कापुरीदाहनम् पश्चाद्रावणकुम्भकर्णहननं एतद्धिरामायणम्* ॥ *🙏JAI SHREE MAHAKAL*🙏

+8 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 13 शेयर

♦♦♦ ⚜🕉⚜ ♦♦♦ *🙏ॐ श्रीगणेशाय नम:🙏* *🙏शुभप्रभातम् जी🙏* *इतिहास की मुख्य घटनाओं सहित पञ्चांग-मुख्यांश ..* *📝आज दिनांक 👉* *📜 01 मई 2020* *शुक्रवार* *🏚नई दिल्ली अनुसार🏚* *🇮🇳शक सम्वत-* 1942 *🇮🇳विक्रम सम्वत-* 2077 *🇮🇳मास-* बैशाख *🌓पक्ष-* शुक्लपक्ष *🗒तिथि-* अष्टमी-13:28 तक *🗒पश्चात्-* नवमी *🌠नक्षत्र-* आश्लेषा-25:05 तक *🌠पश्चात्-* मघा *💫करण-* बव.-13:28 तक *💫पश्चात्-* बालव *✨योग-* गण्ड-17:58 तक *✨पश्चात्-* वृद्धि *🌅सूर्योदय-* 05:40 *🌄सूर्यास्त-* 18:56 *🌙चन्द्रोदय-* 12:20 *🌛चन्द्रराशि-* कर्क -25:05 तक *🌛पश्चात्-* सिंह *🌞सूर्यायण-* उत्तरायन *🌞गोल-* उत्तरगोल *💡अभिजित-* 11:51 से 12:44 *🤖राहुकाल-* 10:38 से 12:18 *🎑ऋतु-* ग्रीष्म *⏳दिशाशूल-* पश्चिम *✍विशेष👉* *_🔅आज शुक्रवार को 👉 बैशाख सुदी अष्टमी 13:28 तक पश्चात् नवमी शुरु , श्री दुर्गाष्टमी व्रत , मई माह प्रारम्भ , बुध भरणी नक्षत्र में 16;01 पर , सर्वदोषनाशक रवि योग 25:05 से , मूल संज्ञक नक्षत्र 01:53 से , श्री बगलामुखी जयन्ती (अर्धरात्रि व्यापिनी ) , श्री रामप्रकाश गुप्ता स्मृति दिवस , गुजरात स्थापना दिवस , महाराष्ट्र स्थापना दिवस व अन्तर्राष्ट्रीय मजदूर (श्रमिक , श्रम , मई) दिवस ।_* *_🔅कल शनिवार को 👉 बैशाख सुदी नवमी 11:37 तक पश्चात् दशमी शुरु , श्री सीता नवमी , सर्वदोषनाशक रवि योग 23:40 तक , मूल संज्ञक नक्षत्र 11:40 तक , वैष्णव मतानुसार श्री जानकी जयन्ती , त्रिचूरपूरम् (केरल ) , गुरु श्री अर्जुन देव जयन्ती (नानकशाही ) व राजनीतिज्ञा पद्मजा नायडू स्मृति दिवस ।_* *🎯आज की वाणी👉* 🌹 *स्वभावो नोपदेशेन* *शक्यते कर्तुमन्यथा ।* *सुतप्तमपि पानीयं* *पुनर्गच्छति शीतताम् ।।* *भावार्थ👉* _किसी व्यक्ति को आप चाहे कितनी ही सलाह अथवा कैसा भी दंड दे दीजिए किन्तु उसका मूल स्वभाव नहीं बदलता, ठीक उसी तरह जैसे ठंडे पानी को उबालने पर तो वह गर्म हो जाता है लेकिन बाद में वह पुनः ठंडा हो जाता है।_ 🌹 *1 मई की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ👉* 1707 – इंग्लैंड, वेल्स व स्कॉटलैंड से मिलकर ग्रेट ब्रिटेन बना। 1711 - ऑस्ट्रिया ने कैरेल - हंगेरी विद्रोह पर शांति के लिए हस्ताक्षर किया 1715 - पर्शिया ने स्वीडन से युद्ध की घोषणा की। 1726 - वोल्टेयर ने इंग्लैंड में निर्वासन शुरू किया। 1753 - लिनिअस द्वारा प्रजातियों के प्लांटारम का प्रकाशन, और वनस्पति नामकरण अंतर्राष्ट्रीय संहिता द्वारा अपनाई गई संयंत्र वर्गीकरण की औपचारिक तिथि प्रारंभ की गयी। 1778 - अमेरिकी क्रांति: कुटिल बिलेट की लड़ाई हेटबोरो, पेनसिल्वेनिया में शुरू हुई। 1781 - सम्राट जोज़ेफ द्वितीय जनसंख्या के संरक्षण को कम कर दिया। 1786 - मोजार्ट के ओपेरा विवाह की शादी वियना में प्रीमियर हुई। 1822 - जॉन फिलिप्स बोस्टन के पहले मेयर बने। 1834 - बेल्जियन संसद ने रेलवे कानूनों को स्वीकार किया 1840 – यूनाइटेड किंगडम ने पहला आधिकारिक डाक टिकट जारी किया गया। 1851 – रानी विक्टोरिया ने लंदन में ग्रेट एक्जीबिशन खोली। 1889 – विश्व श्रम संघ के निर्णय को विश्व मज़दूर दिवस घोषित किया गया। 1 मई सन 1886 ईसवी को अमरीका के शिकागो नगर में 40 हज़ार से अधिक मज़ूदरों ने अपने अधिकारों की मांग को लेकर प्रदर्शन किये किंतु इन प्रदर्शनों को अमरीकी पुलिस ने निर्ममता से कुचल दिया। 1897 – स्वामी विवेकानंद ने रामकृष्ण मिशन की स्थापना की। 1908 – प्रफुल्ल चाकी ने मुजफ्फरपुर बम कांड मामले में अपनी पिस्तौल से खुद को गोली मारी। 1912 – कैंसर के इलाज के लिए रेडियम को टेस्ट किया गया। 1914 – कार निर्माता फोर्ड वह पहली कंपनी बनी जिसने अपने कर्मचारियों के लिए आठ घंटे काम करने का नियम लागू किया। 1923 – भारत में मई दिवस मनाने की शुरुआत सन 1923 में चेन्नई में हुई। इससे पहले भारत के 80 देश ऐसे थे जहां एक मई को श्रम दिवस के रूप में मनाया जाता था। 1931 – न्यूयार्क की एक महत्त्वपूर्ण इमारत एंपायर स्टेट बिल्डिंग का निर्माण पूरा हुआ। 1945 - सोवियत लाल सेना का बर्लिन में प्रवेश। 1956 – जोनास सॉल्क द्वारा विकसित पोलियो वैक्सीन जनता के लिए उपलब्ध करायी गयी। 1960 – पूर्व सोवियत संघ ने अमरीका का एक यू-2 जासूसी विमान मार गिराया और उसके पायलट गैरी पार्वज़ को गिरफ़तार कर लिया बाद में सन 1962 में अमरीका के साथ जासूसों के प्रत्यपर्ण के दौरान वे अमरीका लौटे। 1960 – महाराष्ट्र और गुजरात एक दूसरे से अलग हुए। 1961 – क्यूबा के प्रधानमंत्री डॉक्टर फ़िदेल कास्त्रो ने क्यूबा को समाजवादी राष्ट्र घोषित कर दिया और चुनावी प्रक्रिया को खत्म कर दिया। 1972 – देश की कोयला खदानों का राष्ट्रीयकरण किया गया। 1977 – इस्तांबुल के तकसीम स्क्वायर में श्रम दिवस समारोह के दौरान 36 लोगों की मौत हुई। 1984 - फू दोरजी बिना ऑक्सीजन के माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने में सफल। 1993 - श्रीलंका के राष्ट्रपति रणसिंघे प्रेमदास की बम विस्फोट में मृत्यु। 1996 - संयुक्त राष्ट्र ने स्वयं को सरकारी तौर पर निर्धन घोषित किया। 1998 – पोलैंड, हंगरी और चेक गणराज्य को नाटो में शामिल करने संबंधी प्रस्ताव सीनेट में पारित हुआ। 1999 – ब्रिटेन के पर्वतारोही जॉर्ज मैलोरी का शव हिमालय की चोटी माउंट एवरेस्ट पर पाया गया। वे इससे 75 वर्ष पूर्व पर्वतारोहण के दौरान गायब हो गये थे। 1999 - नेपाल में मृत्युदंड की सज़ा समाप्त। 1999 – मिरया मोस्कोसो पनामा की प्रथम महिला राष्ट्रपति नियुक्त की गईं। 2000 – एबीसी के शो हू वॉन्ट्स बी अ मिलियनेअर का प्रसारण। 2000 - अंतर्राष्ट्रीय अन्तर-संसदीय संघ ने पाकिस्तान, आइवरी कोस्ट व सूडान को देश की संसद भंग करने के लिए संघ की सदस्यता से निलंबित किया। 2001 - लश्कर-ए-तोइबा व जैश-ए-मोहम्मद संयुक्त राज्य अमेरिका में आतंकवादी संगठन घोषित। 2001 - भारत संयुक्त अमेरिकी की विशेष 301 सूची में शामिल। 2002 - अमेरिका की अपील पर इस्रायल ने हेब्रोन से सेना हटाई। 2003 – अमरीकी राष्ट्रपति जार्ज डब्ल्यु बुश ने मॉस्को और वाशिंगटन के बीच 1972 में होने वाली एबीएम संधि को बहुत पुरानी कहकर निरस्त कर दिया। 2003 - अमेरिकी राजनयिक पाल ब्रोमर की इराक के प्रशासक पद पर नियुक्ति। 2004 - यूरोपीय संघ में 10 नये राष्ट्र शामिल। 2005 - सद्दाम हुसैन ने सशर्त रिहाई की अमेरिकी पेशकश ठुकराई। 2007 - ईएसपीएन द्वारा वनडे क्रिकेट रैंकिंग में भारत को नवां स्थान। 2008 - राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने इलाहाबाद उच्च न्यायालय में सात नये जजों की नियुक्ति की। 2008 - पाकिस्तान के तालिबान समर्थक आतंकी गुट का पश्चिमोत्तर सीमान्त प्रान्त के डेरा अदम खेल शहर पर नियंत्रण। 2008 - बेलारूस ने 10 अमेरिकी राजनयिकों को देश छोड़ने का आदेश दिया। 2009 – स्वीडन में समलैंगिक विवाह को वैधता दी गई। 2011 – 9/11 हमले का मास्टरमाइंड ओसामा बिन लादेन के पाकिस्तान के एबटाबाद में मारे जाने की घोषणा हुई। 2012 - चीन और रूस ने 15 $ ट्रिलियन डॉलर व्यापार समझौते पर हस्ताक्षर किये। 2019 - संयुक्‍त राष्‍ट्र ने जैश-ए-मोहम्‍मद प्रमुख मसूद अज़हर को वैश्विक आतंकवादी घोषित किया। 2019 - महाराष्‍ट्र के गढ़चिरौली जिले में नक्‍सलियों के बारूदी सुरंग विस्‍फोट में पुलिस के 15 जवान शहीद। 2019 - आतंकी हमलों के बाद श्रीलंका में बुर्का समेत चेहरा ढकने वाली हर चीज पर प्रतिबंध। 2019 - निशानेबाज अपूर्वी चंदेला दस मीटर एयर राइफल वर्ग में दुनिया की नम्‍बर एक खिलाड़ी बनीं। *1 मई को जन्मे व्यक्ति👉* 1872 - वजीर हसन - प्रमुख राष्ट्रवादी मुस्लिम नेता थे। 1910 - निरंजन नाथ वांचू - वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी तथा केरल और मध्य प्रदेश के भूतपूर्व राज्यपाल। 1913 - बलराज साहनी- प्रसिद्ध हिन्दी फ़िल्म अभिनेता। 1919 – भारतीय पार्श्व गायक मन्ना डे का जन्म हुआ। 1927 - नामवर सिंह - हिन्दी के प्रसिद्ध कवि एवं समकालीन आलोचक थे। 1932 - एस. एम. कृष्णा - भारतीय राजनीतिज्ञ। 1951 – समाज सुधारक एवं सर्वोदय आश्रम टडियांवा के संस्थापक रमेश भाई का जन्म हुआ। 1960 - जगदीश व्योम - भारत के समकालीन कवि एवं लेखक थे। 1988 – भारतीय अभिनेत्री अनुष्का शर्मा का जन्म हुआ। *1 मई को हुए निधन👉* 1888 - प्रफुल्लचंद चाकी - स्वतन्त्रता सेनानी। 1993 – श्रीलंका के राष्ट्रपति रणसिंघे प्रेमदास की बम विस्फोट में मृत्यु हुईं। 2004 - राम प्रकाश गुप्ता - 'भारतीय जनता पार्टी' के प्रसिद्ध नेता तथा उत्तर प्रदेश के भूतपूर्व मुख्यमंत्री तथा मध्य प्रदेश के राज्यपाल। 2008 - निर्मला देशपांडे - गांधीवादी विचारधारा से जुड़ी हुईं प्रसिद्ध महिला सामाजिक कार्यकर्ता। 2017 - कांग्रेस के दिग्गज नेता पूर्व मंत्री और पूर्व सांसद प्रतापसिंह बघेल (70 ) ने जोबट के मिशन अस्पताल में 4:30 बजे अंतिम सांसे ली । *1 मई के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव👉* 🔅 श्री बगलामुखी जयन्ती (अर्धरात्रि व्यापिनी )। 🔅 श्री रामप्रकाश गुप्ता स्मृति दिवस । 🔅 गुजरात स्थापना दिवस । 🔅 महाराष्ट्र स्थापना दिवस । 🔅 अन्तर्राष्ट्रीय मजदूर (श्रमिक , श्रम , मई) दिवस । *कृपया ध्यान दें जी👉* *यद्यपि इसे तैयार करने में पूरी सावधानी रखने की कोशिश रही है। फिर भी किसी घटना , तिथि या अन्य त्रुटि के लिए मेरी कोई जिम्मेदारी नहीं है ।* 🌻आपका दिन *_मंगलमय_* हो जी ।🌻 ⚜⚜ 🌴 💎 🌴⚜⚜

+5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर

*🙏मां बगलामुखी जयंती : 1 मई 2020*🔥🚩💥 *🔔वैशाख शुक्ल अष्टमी को देवी बगलामुखी का अवतरण दिवस कहा जाता है जिस कारण इसे मां बगलामुखी जयंती के रूप में मनाया जाता है. इस वर्ष 2020 में यह जयन्ती 1 मई , को मनाई जाएगी. इस दिन व्रत एवं पूजा उपासना कि जाती है साधक को माता बगलामुखी की निमित्त पूजा अर्चना एवं व्रत करना चाहिए. बगलामुखी जयंती पर्व देश भर में हर्षोउल्लास व धूमधाम के साथ मनाया जाता है. इस अवसर पर जगह-जगह अनुष्ठान के साथ भजन संध्या एवं विश्व कल्याणार्थ महायज्ञ का आयोजन किया जाता है तथा महोत्सव के दिन शत्रु नाशिनी बगलामुखी माता का विशेष पूजन किया जाता है और रातभर भगवती जागरण होता है.* *माँ बगलामुखी स्तंभन शक्ति की अधिष्ठात्री हैं अर्थात यह अपने भक्तों के भय को दूर करके शत्रुओं और उनके बुरी शक्तियों का नाश करती हैं. माँ बगलामुखी का एक नाम पीताम्बरा भी है इन्हें पीला रंग अति प्रिय है इसलिए इनके पूजन में पीले रंग की सामग्री का उपयोग सबसे ज्यादा होता है. देवी बगलामुखी का रंग स्वर्ण के समान पीला होता है अत: साधक को माता बगलामुखी की आराधना करते समय पीले वस्त्र ही धारण करना चाहिए.* *देवी बगलामुखी दसमहाविद्या में आठवीं महाविद्या हैं यह स्तम्भन की देवी हैं. संपूर्ण ब्रह्माण्ड की शक्ति का समावेश हैं माता बगलामुखी शत्रुनाश, वाकसिद्धि, वाद विवाद में विजय के लिए इनकी उपासना की जाती है. इनकी उपासना से शत्रुओं का नाश होता है तथा भक्त का जीवन हर  प्रकार की बाधा से मुक्त हो जाता है. बगला शब्द संस्कृत भाषा के वल्गा का अपभ्रंश है, जिसका अर्थ होता है दुलहन है अत: मां के अलौकिक सौंदर्य और स्तंभन शक्ति के कारण ही इन्हें यह नाम प्राप्त है.* *🎠बगलामुखी देवी रत्नजडित सिहासन पर विराजती होती हैं रत्नमय रथ पर आरूढ़ हो शत्रुओं का नाश करती हैं. देवी के भक्त को तीनो लोकों में कोई नहीं हरा पाता, वह जीवन के हर क्षेत्र में सफलता पाता है पीले फूल और नारियल चढाने से देवी प्रसन्न होतीं हैं. देवी को पीली हल्दी के ढेर पर दीप-दान करें, देवी की मूर्ति पर पीला वस्त्र चढाने से बड़ी से बड़ी बाधा भी नष्ट होती है, बगलामुखी देवी के मन्त्रों से दुखों का नाश होता है.* *🅿बगलामुखी कथा*🍒  *देवी बगलामुखी जी के संदर्भ में एक कथा बहुत प्रचलित है जिसके अनुसार एक बार सतयुग में महाविनाश उत्पन्न करने वाला ब्रह्मांडीय तूफान उत्पन्न हुआ, जिससे संपूर्ण विश्व नष्ट होने लगा इससे चारों ओर हाहाकार मच जाता है और अनेकों लोक संकट में पड़ गए और संसार की रक्षा करना असंभव हो गया. यह तूफान सब कुछ नष्ट भ्रष्ट करता हुआ आगे बढ़ता जा रहा था, जिसे देख कर भगवान विष्णु जी चिंतित हो गए.* *इस समस्या का कोई हल न पा कर वह भगवान शिव को स्मरण करने लगे तब भगवान शिव उनसे कहते हैं कि शक्ति के अतिरिक्त अन्य कोई इस विनाश को रोक नहीं सकता अत: आप उनकी शरण में जाएँ, तब भगवान विष्णु ने हरिद्रा सरोवर के निकट पहुँच कर कठोर तप करते हैं. भगवान विष्णु ने तप करके महात्रिपुरसुंदरी को प्रसन्न किया देवी शक्ति उनकी साधना से प्रसन्न हुई और सौराष्ट्र क्षेत्र की हरिद्रा झील में जलक्रीडा करती महापीत देवी के हृदय से दिव्य तेज उत्पन्न हुआ.* *उस समय चतुर्दशी की रात्रि को देवी बगलामुखी के रूप में प्रकट हुई, त्र्येलोक्य स्तम्भिनी महाविद्या भगवती बगलामुखी नें प्रसन्न हो कर विष्णु जी को इच्छित वर दिया और तब सृष्टि का विनाश रूक सका. देवी बगलामुखी को बीर रति भी कहा जाता है क्योंकि देवी स्वम ब्रह्मास्त्र रूपिणी हैं, इनके शिव को एकवक्त्र महारुद्र कहा जाता है इसी लिए देवी सिद्ध विद्या हैं. तांत्रिक इन्हें स्तंभन की देवी मानते हैं, गृहस्थों के लिए देवी समस्त प्रकार के संशयों का शमन करने वाली हैं*. *🙏मां बगलामुखी पूजन*  *माँ बगलामुखी की पूजा हेतु इस दिन प्रात: काल उठकर नित्य कर्मों में निवृत्त होकर, पीले वस्त्र धारण करने चाहिए. साधना अकेले में, मंदिर में या किसी सिद्ध पुरुष के साथ बैठकर की जानी चाहिए. पूजा करने के लुए  पूर्व दिशा की ओर मुख करके पूजा करने के लिए आसन पर बैठें चौकी पर पीला वस्त्र बिछाकर भगवती बगलामुखी का चित्र स्थापित करें*.🅿 *इसके बाद आचमन कर हाथ धोएं। आसन पवित्रीकरण, स्वस्तिवाचन, दीप प्रज्जवलन के बाद हाथ में पीले चावल, हरिद्रा, पीले फूल और दक्षिणा लेकर संकल्प करें. इस पूजा में  ब्रह्मचर्य का पालन करना आवशयक होता है  मंत्र- सिद्ध करने की साधना में माँ बगलामुखी का पूजन यंत्र चने की दाल से बनाया जाता है और यदि हो सके तो ताम्रपत्र या चाँदी के पत्र पर इसे अंकित करें.* *🔥माँ बगलामुखी मंत्र*🔥  श्री ब्रह्मास्त्र-विद्या बगलामुख्या नारद ऋषये नम: शिरसि।  त्रिष्टुप् छन्दसे नमो मुखे। श्री बगलामुखी दैवतायै नमो ह्रदये।  ह्रीं बीजाय नमो गुह्ये। स्वाहा शक्तये नम: पाद्यो:।  ऊँ नम: सर्वांगं श्री बगलामुखी देवता प्रसाद सिद्धयर्थ न्यासे विनियोग:। *इसके पश्चात आवाहन करना चाहिए* ऊँ ऐं ह्रीं श्रीं बगलामुखी सर्वदृष्टानां मुखं स्तम्भिनि सकल मनोहारिणी अम्बिके इहागच्छ सन्निधि कुरू सर्वार्थ साधय साधय स्वाहा। *अब देवी का ध्यान करें इस प्रकार* सौवर्णामनसंस्थितां त्रिनयनां पीतांशुकोल्लसिनीम् हेमावांगरूचि शशांक मुकुटां सच्चम्पकस्रग्युताम्  हस्तैर्मुद़गर पाशवज्ररसना सम्बि भ्रति भूषणै  व्याप्तांगी बगलामुखी त्रिजगतां सस्तम्भिनौ चिन्तयेत्। *🎂🅿मंत्र🅿🔯*  ऊँ ह्रीं बगलामुखी सर्वदुष्टानां  वाचं मुखं पदं स्तंभय जिह्ववां कीलय  बुद्धि विनाशय ह्रीं ओम् स्वाहा। *माँ बगलामुखी की साधना करने वाला साधक सर्वशक्ति सम्पन्न हो जाता है. यह मंत्र विधा अपना कार्य करने में सक्षम हैं. मंत्र का सही विधि द्वारा जाप किया जाए तो निश्चित रूप से सफलता प्राप्त होती है. बगलामुखी मंत्र के जाप से पूर्व बगलामुखी कवच का पाठ अवश्य करना चाहिए. देवी बगलामुखी पूजा अर्चना सर्वशक्ति सम्पन्न बनाने वाली सभी शत्रुओं का शमन करने वाली तथा मुकदमों में विजय दिलाने वाली होती है.* *🌿👍देवी बगलामुखी का सिंहासन रत्नो से जड़ा हुआ है और उसी पर सवार होकर देवी शत्रुओं का नाश करती हैं। कहा जाता है कि देवी के सच्चे भक्त को तीनों लोक मे अजेय है, वह जीवन के हर क्षेत्र में सफलता पाता है। पीले फूल और नारियल चढाने से देवी प्रसन्न होतीं हैं। देवी को पीली हल्दी के ढेर पर दीप-दान करें, देवी की मूर्ति पर पीला वस्त्र चढाने से बड़ी से बड़ी बाधा भी नष्ट होती हैं।👍👍* *🙏Note:- बिना गुरु के साधना नहीं करें । यह साधना आप किसी योग्य विद्वान या पुरोहित के द्वारा करवाकर लाभ प्राप्त कर सकते हैं !* *🚩🔥JAI SHREE MAHAKAL🔥🚩*

+13 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 14 शेयर