pradip k Patel Feb 14, 2020

+8 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 3 शेयर
pradip k Patel Feb 12, 2020

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
pradip k Patel Feb 11, 2020

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
pradip k Patel Dec 15, 2019

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
pradip k Patel Sep 2, 2019

+16 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर
pradip k Patel Sep 1, 2019

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
pradip k Patel Aug 25, 2019

सकारात्मक सोच का जाद एक ऋषि के दो शिष्य थे जिनमें से एक शिष्य सकारात्मक सोच वाला था वह हमेशा दूसरों की भलाई का सोचता था और दूसरा बहुत नकारात्मक सोच रखता था और स्वभाव से बहुत क्रोधी भी था एक दिन महात्मा जी अपने दोनों शिष्यों की परीक्षा लेने के लिए उनको जंगल में ले गये जंगल में एक आम का पेड़ था जिस पर बहुत सारे खट्टे और मीठे आम लटके हुए थे ऋषि ने पेड़ की ओर देखा और शिष्यों से कहा की इस पेड़ को ध्यान से देखो फिर उन्होंने पहले शिष्य से पूछा की तुम्हें क्या दिखाई देता है शिष्य ने कहा कि ये पेड़ बहुत ही विनम्र है लोग इसको पत्थर मारते हैं फिर भी ये बिना कुछ कहे फल देता है इसी तरह इंसान को भी होना चाहिए, कितनी भी परेशानी हो विनम्रता और त्याग की भावना नहीं छोड़नी चाहिए फिर दूसरे शिष्या से पूछा कि तुम क्या देखते हो, उसने क्रोधित होते हुए कहा की ये पेड़ बहुत धूर्त है बिना पत्थर मारे ये कभी फल नहीं देता इससे फल लेने के लिए इसे मारना ही पड़ेगा इसी तरह मनुष्य को भी अपने मतलब की चीज़ें दूसरों से छीन लेनी चाहिए गुरु जी हँसते हुए पहले शिष्य की बढ़ाई की और दूसरे शिष्य से भी उससे सीख लेने के लिए कहा सकारात्मक सोच हमारे जीवन पर बहुत गहरा असर डालती है नकारात्मक सोच के व्यक्ति अच्छी चीज़ों मे भी बुराई ही ढूंढते हैं उदाहरण के लिए:- गुलाब के फूल को काँटों से घिरा देखकर नकारात्मक सोच वाला व्यक्ति सोचता है की “इस फूल की इतनी खूबसूरती का क्या फ़ायदा इतना सुंदर होने पर भी ये काँटों से घिरा है ” जबकि उसी फूल को देखकर सकारात्मक सोच वाला व्यक्ति बोलता है की “वाह! प्रकर्ती का कितना सुंदर कार्य है की इतने काँटों के बीच भी इतना सुंदर फूल खिला दिया” बात एक ही है लेकिन फ़र्क है केवल सोच का

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर