Niranjan Jha Jan 14, 2020

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Niranjan Jha Jun 30, 2018

ज्येष्ठ मास के निर्जला एकादशी से पूर्णिमा तक अष्टादश भुजा की भगवती की पूजा प्रतिवर्ष रोहिणी, बाबाधाम देवघर, झारखण्ड में होती है।सम्पूर्ण गॉव उत्सवमय हो जाता है और निषेध खाद्य जैसे-मांस, मछली, रसुन, प्याज सब बंद हो जाता है।उसी प्रतिमा का दर्शन करें...

(पूरा पढ़ें)
+18 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Niranjan Jha Jun 6, 2018

स्वामी विवेकानंद ने कहा-आजकल मूर्तिपूजा को गलत बताने की प्रथा सी चल गई है।,और सबलोग बिना किसी आपत्ति के उसमें विश्वास भी करने लग गए हैं।मैंने भी एक समय ऐसा ही सोचा था और उसके दंड स्वरूप मुझे एक ऐसे व्यक्ति के चरणों में बैठकर शिक्षा ग्रहण करनी पड़ी,...

(पूरा पढ़ें)
+3 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 6 शेयर
Niranjan Jha May 30, 2018

नदी के एक तट पर महर्षि वशिष्ठ अपनी पत्नी अरुंधती के साथ तपस्या में लीन थे।नदी के दूसरे तट पर महर्षि विश्वामित्र तपस्या रत थे।विश्वामित्र एकाकी थे, इसलिए भोजन का दायित्व महर्षि वशिष्ठ ने अपनी पत्नी अरुंधती को सौंप दिया था।देवी अरुंधती रोज भोजन महर्...

(पूरा पढ़ें)
+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Niranjan Jha May 17, 2018

पायो जी मैंने राम रतन धन पायो।
वस्तु अमोलक दी मेरे सतगुरु, किरपा कर अपनायो।।
जनम जनम की पूँजी पाई, जग में सभी खोवायो।
खरचै नहि कोई चोर न लेवै, दिन दिन बढ़त सवायो।।
सत की नाव खेवटिया सतगुरु, भव सागर तर आयो।
मीरा के प्रभु गिरधर नागर, हरख हरख जस गायो।...

(पूरा पढ़ें)
+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Niranjan Jha May 7, 2018

श्री राम की अनंत शक्ति का ज्ञान रावण को हो चुका था, इसीलिए रावण ने अपने दैत्यकुल के उद्धार के खातिर सीतामाता के हरण की योजना बनाई ताकि श्री राम जी उनकी खोज करते हुए लंका आ सके और युद्ध की स्थिति पैदा हो, जिससे श्री राम अपने हाथों दैत्य कुल का उद्ध...

(पूरा पढ़ें)
+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Niranjan Jha Jul 26, 2017

हिन्दी साहित्य में एक मुसलमान कवि हुए.नाम था रसखान।वैसे उनका असली नाम सैयद इब्राहिम था।उन्होंने एक बार श्री कृष्ण की एक तस्वीर या मूर्ति देखी और ऐसा मोहित हो गए कि यह मोह उन्हें जिंदगी भर नहीं टूटा और मोह की पराकाष्ठा अंततः प्रेम में परिवर्तित हो ...

(पूरा पढ़ें)
+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Niranjan Jha Jul 9, 2017

गुरुर ब्रह्मा गुरुर विष्णु गुरुर देव महेश्वरः गुरुर साक्षात पर ब्रह्म तस्मै श्री गुरुवे नमः।

दोस्तो #गुरुपूर्णिमा के पावन अवसर पर सबका स्वागत है।तन मन धन से गुरु की सेवा करें और भव सागर से पार उतरने का यथा संभव उद्योग करें।

धन्यवाद।
निरंजन झा
रो...

(पूरा पढ़ें)
+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर