Nikhil Nair Apr 9, 2020

https://goo.gl/ZLK01K

+44 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 4 शेयर
Nikhil Nair Apr 8, 2020

+41 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 23 शेयर
Nikhil Nair Apr 8, 2020

https://goo.gl/ZLK01K

+12 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 8 शेयर
Nikhil Nair Mar 27, 2020

https://goo.gl/ZLK01K

+84 प्रतिक्रिया 10 कॉमेंट्स • 31 शेयर
Nikhil Nair Mar 23, 2020

https://goo.gl/ZLK01K

+121 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 4 शेयर
Nikhil Nair Mar 20, 2020

+85 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 3 शेयर
Nikhil Nair Mar 19, 2020

पापमोचिनी एकादशी व्रत कथा पौराणिक कथा के अनुसार भगवान विष्णु युधिष्ठिर से कहते है ‘‘राजा मान्धाता ने एक समय में लोमश ऋषि से जब पूछा कि प्रभु यह बताएं कि मनुष्य जो जाने-अनजाने में पाप कर्म करता है उससे कैसे मुक्त हो सकता है। राजा मान्धाता के इस प्रश्न के जवाब में लोमश ऋषि ने राजा को एक कहानी सुनाई कि चैत्ररथ नामक सुन्दर वन में च्यवन ऋषि के पुत्र मेधावी ऋषि तपस्या में लीन थे। इस वन में एक दिन मंजुघोषा नामक अप्सरा की नजर ऋषि पर पड़ी तो वह उन पर मोहित हो गयी और उन्हें अपनी ओर आकर्षित करने हेतु यत्न करने लगी। कामदेव भी उसी समय उधर से गुजर रहे थे कि उनकी नजर अप्सरा पर गई और वह उसकी मनोभावना को समझते हुए उसकी मदद करने लगे। इस तरह अप्सरा अपने यत्न में सफल हुई और ऋषि कामपीड़ित हो गये। काम के वश में होकर ऋषि शिव की तपस्या का व्रत भूल गये और अप्सरा के साथ रमण करने लगे। कई वर्षों के बाद जब उनकी चेतना जगी तो उन्हें एहसास हुआ कि वह शिव की तपस्या से वह विरत हो चुके हैं, उन्हें तब उस अप्सरा पर बहुत क्रोध आया और उन्होंने अप्सरा को पिशाचनी होने का श्राप दे दिया। श्राप से दुःखी होकर वह ऋषि के पैरों पर गिर पड़ी और श्राप से मुक्ति के लिये अनुनय करने लगी। अप्सरा की याचना से द्रवित हो मेधावी ऋषि ने उसे विधि सहित चैत्र कृष्ण एकादशी का व्रत करने के लिये कहा। भोग में निमग्न रहने के कारण ऋषि का तेज भी लोप हो गया था, अतः ऋषि ने भी इस एकादशी का व्रत किया, जिससे उनका पाप नष्ट हो गया। उधर अप्सरा भी इस व्रत के प्रभाव से पिशाच योनि से मुक्त हो गई। पाप से मुक्त होने के पश्चात अप्सरा को सुन्दर रूप प्राप्त हुआ और वह स्वर्ग के लिये प्रस्थान कर गई।

+20 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 7 शेयर
Nikhil Nair Mar 12, 2020

+105 प्रतिक्रिया 10 कॉमेंट्स • 3 शेयर