Malkhan Singh Mar 17, 2019

देखिए क्या हुआ जब भगवान ने स्त्री की रचना की....!! ******************************************** मैं एक नारी हूँ,मैं सब संभाल लेती हूँ हर मुश्किल से खुद को उबार लेती हूँ नहीं मिलता वक्त घर गृहस्थी में फिर भी अपने लिए वक्त निकाल लेती हूँ टूटी होती हूँ अन्दर से कई बार मैं पर सबकी खुशी के लिए मुस्कुरा लेती हूँ गलत ना होके भी ठहराई जाती हूँ गलत घर की शांति के लिए मैं चुप्पी साध लेती हूँ सच्चाई के लिए लड़ती हूँ सदा मैं अपनों को जिताने के लिए हार मान लेती हूँ व्यस्त हैं सब प्यार का इजहार नहीं करते पर मैं फिर भी सबके दिल की बात जान लेती हूँ कहीं नजर ना लग जाये मेरी अपनी ही इसलिए पति बच्चों की नजर उतार लेती हूँ उठती नहीं जिम्मेदारियाँ मुझसे कभी कभी पर फिर भी बिन उफ किये सब संभाल लेती हूँ बहुत थक जाती हूँ कभी कभी पति के कंधें पर सर रख थकान उतार लेती हूँ नहीं सहा जाता जब दर्द,औंर खुशियाँ तब अपनी भावनाओं को कागज पर उतार लेती हूँ कभी कभी खाली लगता हैं भीतर कुछ तब घर के हर कोने में खुद को तलाश लेती हूँ खुश हूँ मैं कि मैं किसी को कुछ दे सकती हूँ जीवनसाथी के संग संग चल सपने संवार लेती हूँ हाँ मैं एक नारी हूँ,मैं सब संभाल लेती हूँ अपनों की खुशियों के लिए अपना सबकुछ वार देती🙇🙇🙇👩👩👩राधे राधे जी👩👩👩🙇🙇

+336 प्रतिक्रिया 146 कॉमेंट्स • 50 शेयर
Malkhan Singh Mar 13, 2019

✍️बहुत ही सुन्दर लाइन, एक बार पूरा पढ़ें ********************************** *जिंदगी में कुछ बनो या ना बनो* * *लेकिन बुढ़ापे में* * *अपने मां बाप का सहारा जरूर बनो* ***************************** माँ-बाप परिवार रुपी किताब के वो कवर हैं, जो अपने जीते जी हर पन्ने को हर हालत में बाँधकर रखतें हैं, कवर के फटते ही पन्नों का बिखरना तय है, कोशिश करिये कवर सलामत रहे।। **************************** *भगवान से भी बड़े माता पिता होते हैं* *क्योंकि* *भगवान सुख दुख़ दोनों देते हैं* *परंतु* *माता पिता सिर्फ सुख देते हैं* **************************** भीगने का अगर शौक हो तो आकर अपने मातापिता के चरणों में बैठ जाना ये बादल तो कभी कभी बरसते है मगर मातापिता की कृपा हर पल बरसती है।।।। 🌾🍁शुभ रात्री🍁🌾 *वृद्धाश्रम की दीवार पर एक सुंदर वाक्य लिखा हुआ था..✍🏻* *नीचे गिरे हुये सूखे पत्तों 🍂 पर ज़रा आहिस्ते से पैर रखते हुए गुज़रें....* *क्योंकि कड़क धूप में आप भी कभी उनकी🌳 छाँव के नीचे खड़े हुए थे....* *अर्थ समझ गए हों तो ख्याल रखें....* *🙏🙏🙏राम राम जी🙏🙏🙏* श्री कृष्ण गोविँद हरे मुरारी हे नाथ नारायण वासुदेवा राधे कृष्ण राधे कृष्ण ॥ॐ॥🌹🌿🙏🕉️🙏🌿🌹IIॐII

+346 प्रतिक्रिया 151 कॉमेंट्स • 24 शेयर