Minakshi Tiwari Apr 6, 2020

+473 प्रतिक्रिया 101 कॉमेंट्स • 124 शेयर
Minakshi Tiwari Apr 5, 2020

#महामारी ---------------------------------- एक बार एक राजा के राज्य में महामारी फैल गयी। चारों ओर लोग मरने लगे। राजा ने इसे रोकने के लिये बहुत सारे उपाय करवाये मगर कुछ असर न हुआ और लोग मरते रहे। दुखी राजा ईश्वर से प्रार्थना करने लगा। तभी अचानक आकाशवाणी हुई। आसमान से आवाज़ आयी कि हे राजा तुम्हारी राजधानी के बीचो-बीच जो पुराना सूखा कुंआ है अगर अमावस्या की रात को राज्य के प्रत्येक घर से एक – एक बाल्टी दूध उस कुएं में डाला जाये तो अगली ही सुबह ये महामारी समाप्त हो जायेगी और लोगों का मरना बन्द हो जायेगा। राजा ने तुरन्त ही पूरे राज्य में यह घोषणा करवा दी कि महामारी से बचने के लिए अमावस्या की रात को हर घर से कुएं में एक-एक बाल्टी दूध डाला जाना अनिवार्य है! अमावस्या की रात जब लोगों को कुएं में दूध डालना था उसी रात राज्य में रहने वाली एक चालाक एवं कंजूस बुढ़िया ने सोंचा कि सारे लोग तो कुंए में दूध डालेंगे अगर मै अकेली एक बाल्टी "पानी" डाल दूं तो किसी को क्या पता चलेगा। इसी विचार से उस कंजूस बुढ़िया ने रात में चुपचाप एक बाल्टी पानी कुंए में डाल दिया। अगले दिन जब सुबह हुई तो लोग वैसे ही मर रहे थे। कुछ भी नहीं बदला था क्योंकि महामारी समाप्त नहीं हुयी थी। राजा ने जब कुंए के पास जाकर इसका कारण जानना चाहा तो उसने देखा कि सारा कुंआ पानी से भरा हुआ है। दूध की एक बूंद भी वहां नहीं थी। राजा समझ गया कि इसी कारण से महामारी दूर नहीं हुई और लोग अभी भी मर रहे हैं। दरअसल ऐसा इसलिये हुआ कि जो विचार उस बुढ़िया के मन में आया था वही विचार पूरे राज्य के लोगों के मन में आ गया और किसी ने भी कुंए में दूध नहीं डाला। मित्रों , जैसा इस कहानी में हुआ वैसा ही हमारे जीवन में भी होता है। जब भी कोई ऐसा काम आता है जिसे बहुत सारे लोगों को मिल कर करना होता है तो अक्सर हम अपनी जिम्मेदारियों से यह सोच कर पीछे हट जाते हैं कि कोई न कोई तो कर ही देगा और हमारी इसी सोच की वजह से स्थितियां वैसी की वैसी बनी रहती हैं। अगर हम दूसरों की परवाह किये बिना अपने हिस्से की जिम्मेदारी निभाने लग जायें तो पूरे देश में भी ऐसा बदलाव ला सकते हैं जिसकी आज ज़रूरत है।.....✍️🙏

+363 प्रतिक्रिया 73 कॉमेंट्स • 244 शेयर
Minakshi Tiwari Apr 5, 2020

+435 प्रतिक्रिया 62 कॉमेंट्स • 71 शेयर
Minakshi Tiwari Apr 4, 2020

एक व्यक्ति बहुत परेशान था। - उसके दोस्त ने उसे सलाह दी कि कृष्ण भगवान की पूजा शुरू कर दो। उसने एक कृष्ण भगवान की मूर्ति घर लाकर उसकी पूजा करना शुरू कर दी। कई साल बीत गए लेकिन ... कोई लाभ नहीं हुआ। एक दूसरे मित्र ने कहा कि तू काली माँ कीपूजा कर, जरूर तुम्हारे दुख दूर होंगे। अगले ही दिन वो एक काली माँ की मूर्ति घर ले आया। कृष्ण भगवान की मूर्ति मंदिर के ऊपर बने एक टांड पर रख दी और काली माँ की मूर्ति मंदिर में रखकर पूजा शुरू कर दी। कई दिन बाद उसके दिमाग में ख्याल आया कि जो अगरबत्ती, धूपबत्ती काली जी को जलाता हूँ, उसे तो श्रीकृष्ण जी भी सूँघते होंगे। ऐसा करता हूँ कि श्रीकृष्ण का मुँह बाँध देता हूँ। जैसे ही वो ऊपर चढ़कर श्रीकृष्ण का मुँह बाँधने लगा कृष्ण भगवान ने उसका हाथ पकड़ लिया। वो हैरान रह गया और भगवान से पूछा - इतने वर्षों से पूजाकर रहा था तब नहीं आए! आज कैसे प्रकट हो गए? भगवान श्रीकृष्ण ने समझाते हुए कहा, "आज तक तू एक मूर्ति समझकर मेरी पूजा करता था। किन्तु आज तुम्हें एहसास हुआ कि "कृष्ण साँस ले रहा है " बस मैं आ गया।" भगवान सिर्फ एक मूर्ति नहीं हैं, एक हकीकत हैं 👏🙏 🌹🌹🌹🌹राधे राधे 🌹🌹🌹🌹 🙏🙏🙏🙏🙏

+310 प्रतिक्रिया 72 कॉमेंट्स • 274 शेयर
Minakshi Tiwari Apr 2, 2020

*यह होम क्वारंटाइन आपके द्वारा भगवान से मांगी गई इच्छाओं का फल है इसे स्वीकार कर इस प्रकार देखें*👇 1. बच्चे: चाहते थे कि उनका कोई स्कूल न हो और वह सारा दिन खेल सकें।(और हो गया) 2. महिला: चाहती थी कि वह अपने पति का ध्यान रख सकें जो इतनी मेहनत करते हैं और साथ चाहती थी कि उनके पति उनके साथ समय बिताते हुए घर के हर काम में हाथ बटाएँ। (और हो गया) 3. पति: मैं इस ट्रैफिक से परेशान हूं और मैं चाहता हूं कि मैं घर पर रहूं और और कोई काम भी न करूँ वेतन भी घर बैठे पाऊं ।(और हो गया) 4. नौकरीपेशा माताएं-:काश मैं अपने बच्चों के साथ कुछ क्वालिटी टाइम बिता पाऊं।(और हो गया) 5.विद्यार्थी: काश मैं अपनी परीक्षा के लिए अध्ययन नहीं करता और एग्जाम टल जाएँ। - किया हुआ।(और हो गया) 6. वृद्ध माता-पिता: काश हमारे बच्चे रोज़ व्यस्त होने के बजाय हमारे साथ अधिक समय बिता पाते? (और हो गया) 7. कर्मचारी: मैं नौकरी से तंग आ चूका हूँ मुझे एक ब्रेक की जरूरत है ।-(और हो गया) 8. व्यापारी- हमारा कोई जीवन नहीं है, काश घर बैठकर टीवी देख सकते। (और हो गया) 9. पृथ्वी: मैं सांस नहीं ले पा रही काश, मुझे इस सारे प्रदूषण और अराजकता से निज़ात मिले ।(और हो गया) अब आप ऐसे में ईश्वर से क्या शिकायत करेंगे आपने जो जो चाहा था वह हो गया अतः आगे से सोच समझ के मांगे क्योंकि आप जो चाहते हैं ईश्वर चाहे तो प्राप्त कर सकते हैं !! 🙏 🙏

+287 प्रतिक्रिया 54 कॉमेंट्स • 168 शेयर