🌹💫शुभअक्षय तृतीया💫🌹 ⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️ 💐 🥗🦞 परशुराम जयंती 🦞🥗 💐 🏹🏹🏹🏹🏹🏹🏹🏹🏹🏹🏹 🔥🌿🌺 शुभ शुक्रवार 🌺🌿🔥 🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺 🌹🥗🚩ॐ लक्ष्मीनारायण नमो नमः 🚩🥗🌹 🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉 👏आप और आपके पूरे परिवार को अक्षय तृतीया और भगवान विष्णु के छठे अवतार परशुराम जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं🙏 💫💫💫💫💫💫💫💫💫💫💫💫💫 💐आप और आपके पूरे परिवार पर लक्ष्मीनारायण और परशुराम जी की कृपा हमेसा बनी रहे 🔥 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 💫अपका अक्षय तृतीया का दिन शुभ और मंगलमय हो 👏 🦞🦞🦞🦞🦞🦞🦞🦞🦞🦞🦞🦞🦞 🌹💫 शुभअक्षय तृतीया 💫🌹 ⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️ 🌹अक्षय तृतीया या आखा तीज वैशाख मास में शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को कहते हैं। पौराणिक ग्रन्थों के अनुसार इस दिन जो भी शुभ कार्य किये जाते हैं, उनका अक्षय फल मिलता है। इसी कारण इसे अक्षय तृतीया कहा जाता है। वैसे तो सभी बारह महीनों की शुक्ल पक्षीय तृतीया शुभ होती है, किन्तु वैशाख माह की तिथि स्वयंसिद्ध मुहूर्तो में मानी गई है। 🧑महत्व🧑 अक्षय तृतीया का सर्वसिद्ध मुहूर्त के रूप में भी विशेष महत्व है। मान्यता है कि इस दिन बिना कोई पंचांग देखे कोई भी शुभ व मांगलिक कार्य जैसे विवाह, गृह-प्रवेश, वस्त्र-आभूषणों की खरीददारी या घर, भूखण्ड, वाहन आदि की खरीददारी से सम्बन्धित कार्य किए जा सकते हैं।नवीन वस्त्र, आभूषण आदि धारण करने और नई संस्था, समाज आदि की स्थापना या उदघाटन का कार्य श्रेष्ठ माना जाता है। 🔥पुराणों में लिखा है कि इस दिन पितरों को किया गया तर्पण तथा पिन्डदान अथवा किसी और प्रकार का दान, अक्षय फल प्रदान करता है। इस दिन गंगा स्नान करने से तथा भगवत पूजन से समस्त पाप नष्ट हो जाते हैं। यहाँ तक कि इस दिन किया गया जप, तप, हवन, स्वाध्याय और दान भी अक्षय हो जाता है। यह तिथि यदि सोमवार तथा रोहिणी नक्षत्र के दिन आए तो इस दिन किए गए दान, जप-तप का फल बहुत अधिक बढ़ जाता हैं। इसके अतिरिक्त यदि यह तृतीया मध्याह्न से पहले शुरू होकर प्रदोष काल तक रहे तो बहुत ही श्रेष्ठ मानी जाती है। यह भी माना जाता है कि आज के दिन मनुष्य अपने या स्वजनों द्वारा किए गए जाने-अनजाने अपराधों की सच्चे मन से ईश्वर से क्षमा प्रार्थना करे तो भगवान उसके अपराधों को क्षमा कर देते हैं और उसे सदगुण प्रदान करते हैं, अतः आज के दिन अपने दुर्गुणों को भगवान के चरणों में सदा के लिए अर्पित कर उनसे सदगुणों का वरदान माँगने की परम्परा भी है। 🎎हिन्दू धर्म में महत्व🎎 🌺अक्षय तृतीया के दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठकर समुद्र या गंगा स्नान करने के बाद भगवान विष्णु की शान्त चित्त होकर विधि विधान से पूजा करने का प्रावधान है। नैवेद्य में जौ या गेहूँ का सत्तू, ककड़ी और चने की दाल अर्पित किया जाता है। तत्पश्चात फल, फूल, बरतन, तथा वस्त्र आदि दान करके ब्राह्मणों को दक्षिणा दी जाती है। 🥗ब्राह्मण को भोजन करवाना कल्याणकारी समझा जाता है। मान्यता है कि इस दिन सत्तू अवश्य खाना चाहिए तथा नए वस्त्र और आभूषण पहनने चाहिए। गौ, भूमि, स्वर्ण पात्र इत्यादि का दान भी इस दिन किया जाता है। यह तिथि वसन्त ऋतु के अन्त और ग्रीष्म ऋतु का प्रारम्भ का दिन भी है इसलिए अक्षय तृतीया के दिन जल से भरे घडे, कुल्हड, सकोरे, पंखे, खडाऊँ, छाता, चावल, नमक, घी, खरबूजा, ककड़ी, चीनी, साग, इमली, सत्तू आदि गरमी में लाभकारी वस्तुओं का दान पुण्यकारी माना गया है। इस दान के पीछे यह लोक विश्वास है कि इस दिन जिन-जिन वस्तुओं का दान किया जाएगा, वे समस्त वस्तुएँ स्वर्ग या अगले जन्म में प्राप्त होगी। इस दिन लक्ष्मी नारायण की पूजा सफेद कमल अथवा सफेद गुलाब या पीले गुलाब से करना चाहिये। 🌹 सर्वत्र शुक्ल पुष्पाणि प्रशस्तानि सदार्चने। दानकाले च सर्वत्र मन्त्र मेत मुदीरयेत्॥🌹 अर्थात सभी महीनों की तृतीया में सफेद पुष्प से किया गया पूजन प्रशंसनीय माना गया है। 🙏ऐसी भी मान्यता है कि अक्षय तृतीया पर अपने अच्छे आचरण और सद्गुणों से दूसरों का आशीर्वाद लेना अक्षय रहता है। भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की पूजा विशेष फलदायी मानी गई है। इस दिन किया गया आचरण और सत्कर्म अक्षय रहता है। 💐भविष्य पुराण के अनुसार इस तिथि की युगादि तिथियों में गणना होती है, 🌹सतयुग और त्रेता युग का प्रारंभ इसी तिथि से हुआ है। 🦞भगवान विष्णु ने नर-नारायण, हयग्रीव और परशुराम जी का अवतरण भी इसी तिथि को हुआ था। 🔥ब्रह्माजी के पुत्र अक्षय कुमार का आविर्भाव भी इसी दिन हुआ था। 🎉 इस दिन श्री बद्रीनाथ जी की प्रतिमा स्थापित कर पूजा की जाती है और श्री लक्ष्मी नारायण के दर्शन किए जाते हैं। 🔥 प्रसिद्ध तीर्थ स्थल बद्रीनारायण के कपाट भी इसी तिथि से ही पुनः खुलते हैं। 🛕वृन्दावन स्थित श्री बाँके बिहारी जी मन्दिर में भी केवल इसी दिन श्री विग्रह के चरण दर्शन होते हैं, अन्यथा वे पूरे वर्ष वस्त्रों से ढके रहते हैं। 🧑जी.एम. हिंगे के अनुसार तृतीया ४१ घटी २१ पल होती है तथा धर्म सिंधु एवं निर्णय सिंधु ग्रंथ के अनुसार अक्षय तृतीया ६ घटी से अधिक होना चाहिए। पद्म पुराण के अनुसा इस तृतीया को अपराह्न व्यापिनी मानना चाहिए। 🏹इसी दिन महाभारत का युद्ध समाप्त हुआ था और द्वापर युग का समापन भी इसी दिन हुआ था। 🏵️ ऐसी मान्यता है कि इस दिन से प्रारम्भ किए गए कार्य अथवा इस दिन को किए गए दान का कभी भी क्षय नहीं होता। मदनरत्न के अनुसार: 💐 अस्यां तिथौ क्षयमुर्पति हुतं न दत्तं। तेनाक्षयेति कथिता मुनिभिस्तृतीया॥🔥 🌹उद्दिष्य दैवतपितृन्क्रियते मनुष्यैः। तत् च अक्षयं भवति भारत सर्वमेव।।💐 🎎प्रचलित कथाएँ🎎 🥗अक्षय तृतीया की अनेक व्रत कथाएँ प्रचलित हैं। ऐसी ही एक कथा के अनुसार प्राचीन काल में एक धर्मदास नामक वैश्य था। उसकी सदाचार, देव और ब्राह्मणों के प्रति काफी श्रद्धा थी। इस व्रत के महात्म्य को सुनने के पश्चात उसने इस पर्व के आने पर गंगा में स्नान करके विधिपूर्वक देवी-देवताओं की पूजा की, व्रत के दिन स्वर्ण, वस्त्र तथा दिव्य वस्तुएँ ब्राह्मणों को दान में दी। अनेक रोगों से ग्रस्त तथा वृद्ध होने के बावजूद भी उसने उपवास करके धर्म-कर्म और दान पुण्य किया। यही वैश्य दूसरे जन्म में कुशावती का राजा बना। 🌹कहते हैं कि अक्षय तृतीया के दिन किए गए दान व पूजन के कारण वह बहुत धनी प्रतापी बना। वह इतना धनी और प्रतापी राजा था कि त्रिदेव तक उसके दरबार में अक्षय तृतीया के दिन ब्राह्मण का वेष धारण करके उसके महायज्ञ में शामिल होते थे। अपनी श्रद्धा और भक्ति का उसे कभी घमण्ड नहीं हुआ और महान वैभवशाली होने के बावजूद भी वह धर्म मार्ग से विचलित नहीं हुआ। माना जाता है कि यही राजा आगे चलकर राजा चंद्रगुप्त के रूप में पैदा हुआ। स्कंद पुराण और भविष्य पुराण में उल्लेख है कि वैशाख शुक्ल पक्ष की तृतीया को रेणुका के गर्भ से भगवान विष्णु ने परशुराम रूप में जन्म लिया। कोंकण और चिप्लून के परशुराम मंदिरों में इस तिथि को परशुराम जयन्ती बड़ी धूमधाम से मनाई जाती है। दक्षिण भारत में परशुराम जयन्ती को विशेष महत्व दिया जाता है। परशुराम जयन्ती होने के कारण इस तिथि में भगवान परशुराम के आविर्भाव की कथा भी सुनी जाती है। इस दिन परशुराम जी की पूजा करके उन्हें अर्घ्य देने का बड़ा माहात्म्य माना गया है। सौभाग्यवती स्त्रियाँ और क्वारी कन्याएँ इस दिन गौरी-पूजा करके मिठाई, फल और भीगे हुए चने बाँटती हैं, गौरी-पार्वती की पूजा करके धातु या मिट्टी के कलश में जल, फल, फूल, तिल, अन्न आदि लेकर दान करती हैं। मान्यता है कि इसी दिन जन्म से ब्राह्मण और कर्म से क्षत्रिय भृगुवंशी परशुराम का जन्म हुआ था। एक कथा के अनुसार परशुराम की माता और विश्वामित्र की माता के पूजन के बाद प्रसाद देते समय ऋषि ने प्रसाद बदल कर दे दिया था। जिसके प्रभाव से परशुराम ब्राह्मण होते हुए भी क्षत्रिय स्वभाव के थे और क्षत्रिय पुत्र होने के बाद भी विश्वामित्र ब्रह्मर्षि कहलाए। उल्लेख है कि सीता स्वयंवर के समय परशुराम जी अपना धनुष बाण श्री राम को समर्पित कर संन्यासी का जीवन बिताने अन्यत्र चले गए। अपने साथ एक फरसा रखते थे तभी उनका नाम परशुराम पड़ा। 🚩🌹ॐ श्री लक्ष्मीनारायण नमो नमः 🌹🚩 🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️

+516 प्रतिक्रिया 287 कॉमेंट्स • 33 शेयर

+512 प्रतिक्रिया 256 कॉमेंट्स • 70 शेयर

🚩🐚💐 ॐ वक्रतुंडाय नमः 💐🐚🚩 🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯 🔥🌿🌺शुभ बुधवार🌺🌿🔥 ⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️⚛️ 💐🎳🪔शुभसंध्या🪔🎳💐 💐💐💐💐💐💐💐💐💐 🙏🌹नमस्ते जी🌹🙏 🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉 🐚वक्रतुण्ड महाकाय सुर्यकोटि समप्रभ🐚 🎎निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा🎎 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 👏आप सभी को मार्च माह के आखिरी बुधवार की हार्दिक शुभकामनाएं🎎 👩‍🎨👩‍🎨👩‍🎨👩‍🎨👩‍🎨👩‍🎨👩‍🎨👩‍🎨👩‍🎨👩‍🎨👩‍🎨👩‍🎨👩‍🎨 🎎आप और आपके पूरे परिवार पर गौरी शंकर पुत्र श्री गणेश जी की कृपा सदा बनी रहे जी💐 🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️ 🎭आपका बुधवार का संध्या शुभ शांतिमय और मंगल ही मंगलमय व्यतीत हो 🌹 🥗🥗🥗🥗🥗🥗🥗🥗🥗🥗🥗🥗🥗 🚩🐚💐ॐ गणपतए नमः💐🐚🚩 🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯

+476 प्रतिक्रिया 207 कॉमेंट्स • 20 शेयर

🔥🙏 शुभ होलिका दहन 🙏🔥 🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥 🙏🌹🪔 शुभरात्रि 🪔🌹🙏 🪔🪔🪔🪔🪔🪔🪔🪔🪔 🥗 🌞🌹शुभ रविवार🌹🌞 🥗 🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞 🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥 🙏सनातन धर्म में आस्था रखने वाले मेरे हृदय प्रिय सभी भाई बहनों को सपरिवार होलिका दहन और पवित्र होली के शुभ अवसर पर हृदय की गहराइयों से हार्दिक बधाई एवं अनंत शुभकामनाएं देते हुए आशा करता हूं की इस बार के रंगों के त्योहार *राष्ट्रीय* *मूल्यों* आपसी *भाईचारा* के विश्वास को मजबूत करेगा और एकता और सौहार्द को प्रोत्साहित करेगा.... "होली के अवसर पर मैं अपने सभी मित्रों शुभचिंतकों छोटे बड़े भाइयों और बहनों समस्त परिजनों को बधाई और शुभकामनाएं देता हूं...। वसंत के आगमन का प्रतीक यह पर्व सभी के लिए प्रसन्नता और कामनाओं की पूर्ति का अग्रदूत बने...। होली के विभिन्न रंग हमारी विविध और *बहु* *सांस्कृतिक* *विरासत* को प्रतिबिंबित करते हैं... मैं कामना करता हूं कि रंगों का यह त्योहार हमारे राष्ट्रीय मूल्यों में हमारे *विश्वास* को *सुदृढ़* करे और *एकता* *सद्भाव* और सभी की भलाई को बढ़ावा दे...🙏 🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥 🙏🔥🌹नमस्ते जी🌹🔥🙏 🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉

+429 प्रतिक्रिया 171 कॉमेंट्स • 313 शेयर

+442 प्रतिक्रिया 179 कॉमेंट्स • 21 शेयर

🎎💐🙏शुभ महाशिवरात्रि🙏💐🎎 🦞🦞🦞🦞🦞🦞🦞🦞🦞🦞🦞 🔱🌿🛕ॐ नमः शिवाय 🛕🌿🔱 🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️ 💐🛕ॐश्री विष्णु देवाय नमः🛕💐🚩 ☸️☸️☸️☸️☸️☸️☸️☸️☸️☸️☸️ 🌺🌿🌻सुप्रभात🌻🌿🌺 🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻 🎎🌼🥗 शुभ गुरुवार 🌼🥗🎎 🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️ 🙏🌹 हर हर महादेव 🌹🙏 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉 👏सनातन धर्म में आस्था रखने वाले सभी भाई बहनों को महाशिवरात्रि पर्व और शुभगुरुवार की ढेर सारी बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएं🙏 🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥 🎎आप सभी पर श्री हरि विष्णु जी,और बाबा भोलेनाथ जी की कृपा दृष्टी हमेशा बनी रहे🙏 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 🥀आपका शिवरात्रि का दिन शुभ शांतिमय, शिवमय, विष्णुमय और मंगलमय व्यतीत हो💐 🚩🛕ॐ विष्णु देवाय नमः🛕🚩 🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯 🍑🍑🍑🍑🍑🍑🍑🍑🍑🍑🍑🍑🍑

+589 प्रतिक्रिया 243 कॉमेंट्स • 180 शेयर