दया दोतरफी कृपा है। इसकी कृपा दाता पर भी होता है और पात्र पर भी।

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

अपनी खुशियों के हर क्षण का आनन्द लें; ये वृद्धावस्था के लिए अच्छा सहारा साबित होते हैं।

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

दोस्ती की बुनियाद पर खड़े बिज़नस से कही बेहतर है, बिज़नस की बुनियाद पर दोस्ती.

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

काम करने के बाद इन्सान उतना नहीं थकता जितना के उसे क्रोध या चिंता थका देती है।

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर