🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *********|| जय श्री राधे ||********* 🌺🙏 *महर्षि पाराशर पंचांग* 🙏🌺 🙏🌺🙏 *अथ पंचांगम्* 🙏🌺🙏 *********ll जय श्री राधे ll********* 🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *दिनाँक-: 23/04/2021,शुक्रवार* एकादशी, शुक्ल पक्ष चैत्र """"""""""""""""""""""""""""""(समाप्ति काल) तिथि----------- एकादशी 21:47:07 तक पक्ष--------------------------- शुक्ल नक्षत्र--------------मघा 07:40:44 योग--------------- वृद्वि 14:38:04 करण------------ वणिज 10:46:51 करण--------- विष्टि भद्र 21:47:07 वार------------------------- शुक्रवार माह-----------------------------चैत्र चन्द्र राशि-------------------- सिंह सूर्य राशि--------------------- मेष रितु--------------------------- वसंत सायन------------------------ग्रीष्म आयन-------------------- उत्तरायण संवत्सर----------------------- प्लव संवत्सर (उत्तर) ---------आनंद विक्रम संवत---------------- 2078 विक्रम संवत (कर्तक)-----2077 शाका संवत----------------- 1943 वृन्दावन सूर्योदय---------------- 05:48:12 सूर्यास्त------------------18:47:09 दिन काल--------------- 12:58:57 रात्री काल--------------- 11:00:07 चंद्रोदय----------------- 14:47:22 चंद्रास्त------------------ 27:58:25 लग्न---- मेष 8°56' , 8°56' सूर्य नक्षत्र----------------- अश्विनी चन्द्र नक्षत्र----------------------मघा नक्षत्र पाया---------------------रजत *🚩💮🚩 पद, चरण 🚩💮🚩* मे---- मघा 07:40:44 मो---- पूर्वाफाल्गुनी 13:24:57 टा---- पूर्वाफाल्गुनी 19:06:22 टी---- पूर्वाफाल्गुनी 24:45:05 *💮🚩💮 ग्रह गोचर 💮🚩💮* ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद ========================== सूर्य= मेष 08°52 ' अश्विनी , 3 चो चन्द्र = सिंह 12°23 ' मघा 4 मे बुध = मेष 13°57' भरणी' 1 ली शुक्र= मेष 16°55, भरणी ' 1 ली मंगल=मिथुन 05°30 'मृगशिरा ' 4 की गुरु=कुम्भ 01°22 ' धनिष्ठा , 3 गु शनि=मकर 17°43 ' श्रवण ' 3 खे राहू=(व)वृषभ 18°53 'मृगशिरा , 3 वि केतु=(व)वृश्चिक 18°53 ज्येष्ठा , 1 नो *🚩💮🚩शुभा$शुभ मुहूर्त🚩💮🚩* राहू काल 10:40 - 12:18 अशुभ यम घंटा 15:32 - 17:10 अशुभ गुली काल 07:26 - 09:03 अशुभ अभिजित 11:52 -12:44 शुभ दूर मुहूर्त 08:24 - 09:16 अशुभ दूर मुहूर्त 12:44 - 13:36 अशुभ 🚩गंड मूल 05:48 - 07:41 अशुभ 💮चोघडिया, दिन चर 05:48 - 07:26 शुभ लाभ 07:26 - 09:03 शुभ अमृत 09:03 - 10:40 शुभ काल 10:40 - 12:18 अशुभ शुभ 12:18 - 13:55 शुभ रोग 13:55 - 15:32 अशुभ उद्वेग 15:32 - 17:10 अशुभ चर 17:10 - 18:47 शुभ 🚩चोघडिया, रात रोग 18:47 - 20:10 अशुभ काल 20:10 - 21:32 अशुभ लाभ 21:32 - 22:55 शुभ उद्वेग 22:55 - 24:17* अशुभ शुभ 24:17* - 25:40* शुभ अमृत 25:40* - 27:02* शुभ चर 27:02* - 28:25* शुभ रोग 28:25* - 29:47* अशुभ 💮होरा, दिन शुक्र 05:48 - 06:53 बुध 06:53 - 07:58 चन्द्र 07:58 - 09:03 शनि 09:03 - 10:08 बृहस्पति 10:08 - 11:13 मंगल 11:13 - 12:18 सूर्य 12:18 - 13:23 शुक्र 13:23 - 14:28 बुध 14:28 - 15:32 चन्द्र 15:32 - 16:37 शनि 16:37 - 17:42 बृहस्पति 17:42 - 18:47 🚩होरा, रात मंगल 18:47 - 19:42 सूर्य 19:42 - 20:37 शुक्र 20:37 - 21:32 बुध 21:32 - 22:27 चन्द्र 22:27 - 23:22 शनि 23:22 - 24:17* बृहस्पति 24:17* - 25:12 मंगल 25:12* - 26:07 सूर्य 26:07* - 27:02 शुक्र 27:02* - 27:57 बुध 27:57* - 28:52 चन्द्र 28:52* - 29:47 *नोट*-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार । शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥ रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार । अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥ अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें । उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें । शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें । लाभ में व्यापार करें । रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें । काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है । अमृत में सभी शुभ कार्य करें । *💮दिशा शूल ज्ञान---------------------पश्चिम* परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा काजू खाके यात्रा कर सकते है l इस मंत्र का उच्चारण करें-: *शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l* *भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll* *🚩 अग्नि वास ज्ञान -:* *यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,* *चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।* *दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,* *नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।।* *महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्* *नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।* 11 + 6 + 1 = 18 ÷ 4 = 2 शेष आकाश लोक पर अग्नि वास हवन के लिए अशुभ कारक है l *💮 शिव वास एवं फल -:* 11 + 11 + 5 = 27 ÷ 7 = 6 शेष क्रीड़ायां = शोक,दुःख कारक *🚩भद्रा वास एवं फल -:* *स्वर्गे भद्रा धनं धान्यं ,पाताले च धनागम:।* *मृत्युलोके यदा भद्रा सर्वकार्य विनाशिनी।।* प्रातः 10:41 से रात्रि 21:47 तक मृत्यु लोक = सर्वकार्य विनाशिनी *💮🚩 विशेष जानकारी 🚩💮* *कामदा एकादशी व्रत (सर्वेषां) *विश्व पुस्तक दिवस *💮🚩💮 शुभ विचार 💮🚩💮* त्यजेदेकं कुलस्यार्थे ग्रामस्यार्थे कुलं त्यजेत् । ग्रामं जनपदस्यार्थे आत्मार्थे पृथिवीं त्यजेत् ।। ।।चा o नी o।। कुल की रक्षा के लिए एक सदस्य का बिलदान दें,गाव की रक्षा के लिए एक कुल का बिलदान दें, देश की रक्षा के लिए एक गाव का बिलदान दें, आतमा की रक्षा के लिए देश का बिलदान दें. *🚩💮🚩 सुभाषितानि 🚩💮🚩* गीता -: ज्ञानकर्म सन्यासयोग अo-4 ये यथा माँ प्रपद्यन्ते तांस्तथैव भजाम्यहम्‌ ।, मम वर्त्मानुवर्तन्ते मनुष्याः पार्थ सर्वशः ॥, हे अर्जुन! जो भक्त मुझे जिस प्रकार भजते हैं, मैं भी उनको उसी प्रकार भजता हूँ क्योंकि सभी मनुष्य सब प्रकार से मेरे ही मार्ग का अनुसरण करते हैं॥,11॥ *💮🚩 दैनिक राशिफल 🚩💮* देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।। विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।। 🐏मेष उत्साहवर्द्धक सूचना मिलेगी। भूले-बिसरे साथियों से मुलाकात होगी। फालतू खर्च होगा। बड़ा काम करने का मन बनेगा। कारोबार में लाभ होगा। शेयर मार्केट व म्युचुअल फंड आदि मनोनुकूल लाभ देंगे। भाइयों का सहयोग मिलेगा। आत्मसम्मान बना रहेगा। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। लाभ होगा। 🐂वृष चोट व रोग से बाधा संभव है। झंझटों में न पड़ें। दुष्टजन हानि पहुंचा सकते हैं। यात्रा लाभदायक रहेगी। भेंट व उपहार की प्राप्ति होगी। कारोबार में वृद्धि होगी। रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। समय अनुकूल है, लाभ लें। प्रमाद न करें। पार्टनरों का सहयोग मिलेगा। प्रसन्नता रहेगी। 👫मिथुन विवाद को बढ़ावा न दें। फालतू खर्च पर नियंत्रण रखें। कुसंगति से बचें। घर-परिवार की चिंता रहेगी। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। किसी व्यक्ति के उकसाने में न आएं। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। आय बनी रहेगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। 🦀कर्क डूबी हुई रकम प्राप्त हो सकती है, प्रयास करें। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। निवेशादि मनोनुकूल लाभ देंगे। नौकरी में प्रभाव बढ़ेगा। व्यापार में लाभ बढ़ेगा। किसी मांगलिक कार्य में भाग लेने का अवसर मिल सकता है। पारिवारिक सहयोग मिलेगा। घर-बाहर सुख-शांति बनी रहेगी। 🐅सिंह योजना फलीभूत होगी। कार्यस्थल पर परिवर्तन संभव है। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। मित्रों का सहयोग कर पाएंगे। निवेश शुभ रहेगा। नौकरी में कार्यभार तथा अधिकार दोनों बढ़ सकते हैं। बाहर जाने की योजना बनेगी। शत्रुओं का पराभव होगी। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। 🙍‍♀️कन्या कानूनी अड़चन दूर होकर स्थिति मनोनुकूल रहेगी। कारोबार में वृद्धि के योग हैं। धन प्राप्ति सुगम होगी। नौकरी में चैन रहेगा। लंबे समय से रुके कार्यों में गति आएगी। धार्मिक अनुष्ठान में भाग लेने का अवसर मिल सकता है। सत्संग का लाभ मिलेगा। जल्दबाजी न करें। व्यवसाय ठीक चलेगा। ⚖️तुला बुरी खबर मिल सकती है, धैर्य रखें। स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा। काम करने की इच्छा नहीं होगी। विवाद से क्लेश संभव है। बनते कामों में बाधा उत्पन्न होगी। मेहनत अधिक और लाभ कम रहेगा। नौकरी में कार्यभार रहेगा। घर में तनाव रह सकता है। दूसरे लोग आपसे अधिक अपेक्षा करेंगे। 🦂वृश्चिक स्वास्थ्य का ध्यान रखें। उत्साह की अधिकता तथा व्यस्तता रहेगी। राजकीय बाधा दूर होगी। कारोबार ठीक चलेगा। महत्वपूर्ण निर्णय लेने में जल्दबाजी न करें। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। भाग्य अनुकूल है, लाभ लें। घर-बाहर सभी ओर से सहयोग प्राप्त होगा। प्रसन्नता रहेगी। 🏹धनु स्थायी संपत्ति में वृद्धि हो सकती है। प्रॉपर्टी के कामकाज बड़ा लाभ दे सकते हैं। निवेश शुभ रहेगा। नौकरी में प्रशंसा मिलेगी। रोजगार मिलेगा। उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे। पार्टनरों से मतभेद दूर होंगे। जल्दबाजी में कोई निर्णय न लें। स्वास्थ्य कमजोर रह सकता है। लापरवाही न करें। 🐊मकर रचनात्मक कार्य पूर्ण व सफल रहेंगे। पार्टी व पिकनिक का आयोजन होगा। आय में वृद्धि होगी। परीक्षा व साक्षात्कार में सफलता प्राप्त होगी। व्यस्तता रहेगी। स्वादिष्ट व्यंजनों का आनंद प्राप्त होगा। व्यापार-व्यवसाय लाभदायक रहेगा। घर-बाहर सभी ओर से सफलता तथा प्रसन्नता प्राप्त होगा। 🍯कुंभ विवाद को बढ़ावा न दें। किसी व्यक्ति के व्यवहार से स्वाभिमान को ठेस पहुंच सकती है। दु:खद समाचार मिल सकता है। बेकार बातों की तरफ ध्यान न दें। दौड़धूप अधिक होगी। नौकरी में मातहतों का सहयोग कम मिलेगा। कार्य की अधिकता रहेगी। जल्दबाजी न करें। 🐟मीन मेहनत का फल पूरा-पूरा मिलेगा। यात्रा लाभदायक रहेगी। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। मित्रों का सहयोग कर पाएंगे। बड़ा काम करने का मन बनेगा। पारिवारिक सहयोग मिलेगा। आय में वृद्धि होगी। भाग्य अनुकूल रहेगा। रुके कार्य पूरे होंगे। प्रसन्नता रहेगी। किसी प्रभावशाली व्यक्ति से परिचय होगा। 🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏 🌺🌺🌺🌺🙏🌺🌺🌺🌺

+33 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 89 शेयर

🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *********|| जय श्री राधे ||********* 🌺🙏 *महर्षि पाराशर पंचांग* 🙏🌺 🙏🌺🙏 *अथ पंचांगम्* 🙏🌺🙏 *********ll जय श्री राधे ll********* 🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *दिनाँक -: 22/04/2021,गुरुवार* दशमी, शुक्ल पक्ष चैत्र """""""""""""""""""""""""""""(समाप्ति काल) तिथि---------- दशमी 23:35:05 तक पक्ष--------------------------- शुक्ल नक्षत्र---------- आश्लेषा 08:14:10 योग--------------- गण्ड 16:59:18 करण--------------- तैतुल 12:11:10 करण-------------- गर 23:35:05 वार------------------------- गुरूवार माह-----------------------------चैत्र चन्द्र राशि---------- कर्क 08:14:10 चन्द्र राशि------------------- सिंह सूर्य राशि-------------------- मेष रितु--------------------------- वसंत सायन------------------------ग्रीष्म आयन------------------- उत्तरायण संवत्सर----------------------- प्लव संवत्सर (उत्तर) ---------आनंद विक्रम संवत---------------- 2078 विक्रम संवत (कर्तक)---- 2077 शाका संवत---------------- 1943 वृन्दावन सूर्योदय--------------- 05:49:07 सूर्यास्त---------------- 18:46:35 दिन काल------------- 12:57:28 रात्री काल--------------- 11:01:36 चंद्रोदय---------------- 13:44:37 चंद्रास्त------------------ 27:20:33 लग्न---- मेष 7°57' , 7°57' सूर्य नक्षत्र----------------- अश्विनी चन्द्र नक्षत्र------------------आश्लेषा नक्षत्र पाया--------------------रजत *🚩💮🚩 पद, चरण 🚩💮🚩* डो---- आश्लेषा 08:14:10 मा---- मघा 14:10:24 मी---- मघा 20:03:33 मू---- मघा 25:53:38 *💮🚩💮 ग्रह गोचर 💮🚩💮* ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद ========================== सूर्य= मेष 07°52 ' अश्विनी , 3 चो चन्द्र = कर्क 28°23 ' अश्लेषा 4 डो बुध = मेष 11°57' अश्विनी' 4 ला शुक्र= मेष 14°55, भरणी ' 1 ली मंगल=मिथुन 04°30 'मृगशिरा ' 4 की गुरु=कुम्भ 01°22 ' धनिष्ठा , 3 गु शनि=मकर 17°43 ' श्रवण ' 3 खे राहू=(व)वृषभ 18°53 'मृगशिरा , 3 वि केतु=(व)वृश्चिक 18°53 ज्येष्ठा , 1 नो *🚩💮🚩शुभा$शुभ मुहूर्त🚩💮🚩* राहू काल 13:55 - 15:32 अशुभ यम घंटा 05:49 - 07:26 अशुभ गुली काल 09:03 - 10:41 अशुभ अभिजित 11:52 -12:44 शुभ दूर मुहूर्त 10:08 - 11:00 अशुभ दूर मुहूर्त 15:19 - 16:11 अशुभ 🚩गंड मूल अहोरात्र अशुभ 💮चोघडिया, दिन शुभ 05:49 - 07:26 शुभ रोग 07:26 - 09:03 अशुभ उद्वेग 09:03 - 10:41 अशुभ चर 10:41 - 12:18 शुभ लाभ 12:18 - 13:55 शुभ अमृत 13:55 - 15:32 शुभ काल 15:32 - 17:09 अशुभ शुभ 17:09 - 18:47 शुभ 🚩चोघडिया, रात अमृत 18:47 - 20:09 शुभ चर 20:09 - 21:32 शुभ रोग 21:32 - 22:55 अशुभ काल 22:55 - 24:17* अशुभ लाभ 24:17* - 25:40* शुभ उद्वेग 25:40* - 27:03* अशुभ शुभ 27:03* - 28:26* शुभ अमृत 28:26* - 29:48* शुभ 💮होरा, दिन बृहस्पति 05:49 - 06:54 मंगल 06:54 - 07:59 सूर्य 07:59 - 09:03 शुक्र 09:03 - 10:08 बुध 10:08 - 11:13 चन्द्र 11:13 - 12:18 शनि 12:18 - 13:23 बृहस्पति 13:23 - 14:27 मंगल 14:27 - 15:32 सूर्य 15:32 - 16:37 शुक्र 16:37 - 17:42 बुध 17:42 - 18:47 🚩होरा, रात चन्द्र 18:47 - 19:42 शनि 19:42 - 20:37 बृहस्पति 20:37 - 21:32 मंगल 21:32 - 22:27 सूर्य 22:27 - 23:22 शुक्र 23:22 - 24:17 बुध 24:17* - 25:13 चन्द्र 25:13* - 26:08 शनि 26:08* - 27:03 बृहस्पति 27:03* - 27:58 मंगल 27:58* - 28:53 सूर्य 28:53* - 29:48 *नोट*-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार । शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥ रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार । अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥ अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें । उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें । शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें । लाभ में व्यापार करें । रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें । काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है । अमृत में सभी शुभ कार्य करें । *💮दिशा शूल ज्ञान---------------------दक्षिण* परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा केशर खाके यात्रा कर सकते है l इस मंत्र का उच्चारण करें-: *शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l* *भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll* *🚩 अग्नि वास ज्ञान -:* *यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,* *चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।* *दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,* *नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।।* *महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्* *नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।* 10 + 5 + 1 = 16 ÷ 4 = 0 शेष मृत्यु लोक पर अग्नि वास हवन के लिए शुभ कारक है l *💮 शिव वास एवं फल -:* 10 + 10 + 5 = 25 ÷ 7 = 4 शेष सभायां = सन्ताप कारक *🚩भद्रा वास एवं फल -:* *स्वर्गे भद्रा धनं धान्यं ,पाताले च धनागम:।* *मृत्युलोके यदा भद्रा सर्वकार्य विनाशिनी।।* *💮🚩 विशेष जानकारी 🚩💮* * श्री धर्मराज दशमी * विश्व पृथ्वी दिवस *💮🚩💮 शुभ विचार 💮🚩💮* कोकिलानां स्वरो रूपं नारीरूपं पतिव्रतम् । विद्यारूपं कुरूपाणांक्षमा रूपं रपस्विनाम् ।। ।।चा o नी o।। कोयल की सुन्दरता उसके गायन मे है. एक स्त्री की सुन्दरता उसके अपने पिरवार के प्रति समर्पण मे है. एक बदसूरत आदमी की सुन्दरता उसके ज्ञान मे है तथा एक तपस्वी की सुन्दरता उसकी क्षमाशीलता मे है. *🚩💮🚩 सुभाषितानि 🚩💮🚩* गीता -: ज्ञानकर्म सन्यासयोग अo-4 वीतरागभय क्रोधा मन्मया मामुपाश्रिताः ।, बहवो ज्ञानतपसा पूता मद्भावमागताः ॥, पहले भी, जिनके राग, भय और क्रोध सर्वथा नष्ट हो गए थे और जो मुझ में अनन्य प्रेमपूर्वक स्थित रहते थे, ऐसे मेरे आश्रित रहने वाले बहुत से भक्त उपर्युक्त ज्ञान रूप तप से पवित्र होकर मेरे स्वरूप को प्राप्त हो चुके हैं॥,10॥, *💮🚩 दैनिक राशिफल 🚩💮* देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।। विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।। 🐏मेष घर में अतिथियों का आगमन होगा। व्यय होगा। दूर से शुभ समाचार प्राप्त होंगे। व्यापार-व्यवसाय ठीक चलेगा। नौकरी में संतोष रहेगा। निवेश शुभ रहेगा। आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। विरोध होगा। विवाद से क्लेश होगा, इससे बचें। पुराना रोग उभर सकता है। परिवार की चिंता रहेगी। जल्दबाजी न करें। 🐂वृष शत्रु सक्रिय रहेंगे। शारीरिक कष्‍ट संभव है। दूसरों के कार्य में हस्तक्षेप न करें। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। अप्रत्याशित लाभ हो सकता है। व्यापार-व्यवसाय लाभप्रद रहेगा। निवेश मनोनुकूल लाभ देगा। परीक्षा व साक्षात्कार आदि में सफलता प्राप्त होगी। भाग्य का साथ मिलेगा। प्रसन्नता रहेगी। 👫मिथुन अप्रत्याशित खर्च सामने आएंगे। वाणी में हल्के शब्दों के प्रयोग से बचें। बात बढ़ सकती है। परिवार के किसी सदस्य के स्वास्‍थ्य की चिंता रहेगी। तनाव रहेगा। पुराना रोग उभर सकता है। लेन-देन में सावधानी रखें। किसी भी व्यक्ति की बातों में न आएं। महत्वपूर्ण निर्णय सोच-समझकर करें, लाभ होगा। 🦀कर्क धनहानि संभव है, सावधानी रखें। किसी व्यक्ति के व्यवहार से स्वाभिमान को ठेस पहुंच सकती है। जीवनसाथी के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी। विवाद से बचें। शत्रु शांत रहेंगे। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। यात्रा लाभदायक रहेगी। व्यापार मनोनुकूल चलेगा। नौकरी में चैन रहेगा। 🐅सिंह कष्ट, तनाव व चिंता का वातावरण बन सकता है। शत्रु पस्त होंगे। धन प्राप्ति सुगम तरीके से होगी। नई योजना बनेगी। तत्काल लाभ नहीं होगा। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। सामाजिक कार्य करने में रुझान रहेगा। मान-सम्मान मिलेगा। शेयर मार्केट व म्युचुअल फंड इत्यादि से मनोनुकूल लाभ होगा। 🙍‍♀️कन्या कष्ट, तनाव व चिंता का वातावरण बन सकता है। शत्रु पस्त होंगे। धन प्राप्ति सुगम तरीके से होगी। नई योजना बनेगी। तत्काल लाभ नहीं होगा। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। सामाजिक कार्य करने में रुझान रहेगा। मान-सम्मान मिलेगा। शेयर मार्केट व म्युचुअल फंड इत्यादि से मनोनुकूल लाभ होगा। ⚖️तुला पूजा-पाठ में मन लगेगा। किसी साधु-संत का आशीवार्द मिल सकता है। कोर्ट व कचहरी के कार्य मनोनुकूल रहेंगे। व्यापार-व्यवसाय लाभप्रद रहेंगे। नौकरी में प्रभाव वृद्धि होगी। मातहतों का सहयोग प्राप्त होगा। लंबित कार्य पूर्ण होंगे। प्रमाद न करें। 🦂वृश्चिक पुराना रोग उभर सकता है। दूर से दु:खद समाचार मिल सकता है। व्यर्थ भागदौड़ रहेगी। किसी व्यक्ति के व्यवहार से अप्रसन्नता रहेगी। अपेक्षित कार्य विलंब से होंगे। प्रयास अधिक करना पड़ेंगे। किसी व्यक्ति विशेष की नाराजी झेलना पड़ेगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। 🏹धनु कानूनी अड़चन दूर होकर लाभ की स्थिति बनेगी। थकान व कमजोरी रह सकती है। जीवनसाथी से सहयोग प्राप्त होगा। व्यापार-व्यवसाय लाभप्रद रहेगा। निवेश में जल्दबाजी न करें। नौकरी में शांति रहेगी। धन प्राप्ति सुगम होगी। मित्रों का सहयोग रहेगा। कार्य समय पर पूर्ण होंगे। 🐊मकर जल्दबाजी न करें। कोई समस्या खड़ी हो सकती है। शरीर शिथिल हो सकता है। लेन-देन में जल्दबाजी न करें। भूमि व भवन इत्यादि की खरीद-फरोख्त की योजना बनेगी। नौकरी में प्रभाव बढ़ेगा। आय में वृद्धि होगी। रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेगे। प्रमाद न करें। 🍯कुंभ यात्रा मनोरंजक रहेगी। स्वादिष्ट भोजन का आनंद प्राप्त होगा। विद्यार्थी वर्ग सफलता प्राप्त करेगा। कारोबार में वृद्धि के योग हैं। व्यस्तता के चलते स्वास्‍थ्य प्रभावित होगा। धन प्राप्ति सुगम होगी। मित्रों का सहयोग समय पर प्राप्त होगा। रुके कार्यों में गति आएगी। प्रसन्नता रहेगी। जोखिम न उठाएं। 🐟मीन व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। बेचैनी रहेगी। प्रयास सफल रहेंगे। धनलाभ के अवसर हाथ आएंगे। सामाजिक कार्य करने में रुचि रहेगी। मान-सम्मान मिलेगा। निवेश शुभ रहेगा। जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। पार्टनरों का सहयोग मिलेगा। कार्यसिद्धि होगी। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। 🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏 🌺🌺🌺🌺🙏🌺🌺🌺🌺

+83 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 254 शेयर

🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *********|| जय श्री राधे ||********* 🌺🙏 *महर्षि पाराशर पंचांग* 🙏🌺 🙏🌺🙏 *अथ पंचांगम्* 🙏🌺🙏 *********ll जय श्री राधे ll********* 🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *दिनाँक -: 21/04/2021,बुधवार* नवमी, शुक्ल पक्ष चैत्र """""""""""""""""""""""""""""(समाप्ति काल) तिथि------------नवमी 24:34:37 तक पक्ष--------------------------- शुक्ल नक्षत्र------------ पुष्य 07:57:44 योग--------------- शूल 18:40:49 करण------------ बालव 12:45:11 करण---------- कौलव 24:34:37 वार--------------------------बुधवार माह-----------------------------चैत्र चन्द्र राशि-------------------- कर्क सूर्य राशि---------------------- मेष रितु----------------------------वसंत सायन-------------------------ग्रीष्म आयन-------------------- उत्तरायण संवत्सर----------------------- प्लव संवत्सर (उत्तर)---------आनंद विक्रम संवत------------------2078 विक्रम संवत (कर्तक)-----2077 शाका संवत------------------1943 वृन्दावन सूर्योदय--------------- 05:50:04 सूर्यास्त---------------- 18:46:02 दिन काल------------- 12:55:58 रात्री काल--------------- 11:03:05 चंद्रोदय----------------- 12:43:10 चंद्रास्त---------------- 26:40:32 लग्न---- मेष 6°59' , 6°59' सूर्य नक्षत्र----------------- अश्विनी चन्द्र नक्षत्र---------------------- पुष्य नक्षत्र पाया---------------------रजत *🚩💮🚩 पद, चरण 🚩💮🚩* ड---- पुष्य 07:57:44 डी---- आश्लेषा 14:06:35 डू---- आश्लेषा 20:12:16 डे---- आश्लेषा 26:14:48 *💮🚩💮 ग्रह गोचर 💮🚩💮* ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद ========================== सूर्य= मेष 06°52 ' अश्विनी , 3 चो चन्द्र = कर्क 15°23 ' पुष्य 4 ङ बुध = मेष 09°57' अश्विनी' 3 चो शुक्र= मेष 13°55, भरणी ' 1 ली मंगल=मिथुन 04°30 'मृगशिरा ' 4 की गुरु=कुम्भ 01°22 ' धनिष्ठा , 3 गु शनि=मकर 17°43 ' श्रवण ' 3 खे राहू=(व)वृषभ 18°53 'मृगशिरा , 3 वि केतु=(व)वृश्चिक 18°53 ज्येष्ठा , 1 नो *🚩💮🚩शुभा$शुभ मुहूर्त🚩💮🚩* राहू काल 12:18 - 13:55 अशुभ यम घंटा 07:27 - 09:04 अशुभ गुली काल 10:41 - 12:18 अशुभ अभिजित 11:52 -12:44 अशुभ दूर मुहूर्त 11:52 - 12:44 अशुभ 🚩गंड मूल 07:58 - अहोरात्र अशुभ 💮चोघडिया, दिन लाभ 05:50 - 07:27 शुभ अमृत 07:27 - 09:04 शुभ काल 09:04 - 10:41 अशुभ शुभ 10:41 - 12:18 शुभ रोग 12:18 - 13:55 अशुभ उद्वेग 13:55 - 15:32 अशुभ चर 15:32 - 17:09 शुभ लाभ 17:09 - 18:46 शुभ 🚩चोघडिया, रात उद्वेग 18:46 - 20:09 अशुभ शुभ 20:09 - 21:32 शुभ अमृत 21:32 - 22:55 शुभ चर 22:55 - 24:18* शुभ रोग 24:18* - 25:40* अशुभ काल 25:40* - 27:03* अशुभ लाभ 27:03* - 28:26* शुभ उद्वेग 28:26* - 29:49* अशुभ 💮होरा, दिन बुध 05:50 - 06:55 चन्द्र 06:55 - 07:59 शनि 07:59 - 09:04 बृहस्पति 09:04 - 10:09 मंगल 10:09 - 11:13 सूर्य 11:13 - 12:18 शुक्र 12:18 - 13:23 बुध 13:23 - 14:27 चन्द्र 14:27 - 15:32 शनि 15:32 - 16:37 बृहस्पति 16:37 - 17:41 मंगल 17:41 - 18:46 🚩होरा, रात सूर्य 18:46 - 19:41 शुक्र 19:41 - 20:37 बुध 20:37 - 21:32 चन्द्र 21:32 - 22:27 शनि 22:27 - 23:22 बृहस्पति 23:22 - 24:18 मंगल 24:18* - 25:13 सूर्य 25:13* - 26:08 शुक्र 26:08* - 27:03 बुध 27:03* - 27:59 चन्द्र 27:59* - 28:54 शनि 28:54* - 29:49 *नोट*-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार । शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥ रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार । अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥ अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें । उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें । शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें । लाभ में व्यापार करें । रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें । काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है । अमृत में सभी शुभ कार्य करें । *💮दिशा शूल ज्ञान---------------------उत्तर* परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो पान अथवा पिस्ता खाके यात्रा कर सकते है l इस मंत्र का उच्चारण करें-: *शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l* *भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll* *🚩 अग्नि वास ज्ञान -:* *यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,* *चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।* *दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,* *नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।।* *महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्* *नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।* 9 + 4 + 1 = 14 ÷ 4 = 2 शेष आकाश लोक पर अग्नि वास हवन के लिए अशुभ कारक है l *💮 शिव वास एवं फल -:* 9 + 9 + 5 = 23 ÷ 7 = 2 शेष गौरि सन्निधौ = शुभ कारक *🚩भद्रा वास एवं फल -:* *स्वर्गे भद्रा धनं धान्यं ,पाताले च धनागम:।* *मृत्युलोके यदा भद्रा सर्वकार्य विनाशिनी।।* *💮🚩 विशेष जानकारी 🚩💮* * श्रीराम नवमी व्रतोत्सव * नवरात्रि समाप्त * स्वामी नारायण जयन्ती *💮🚩💮 शुभ विचार 💮🚩💮* रूपयौवनसम्पन्ना विशालकुलसम्भवाः । विद्याहीना न शोभन्ते निर्गन्धा इवकिशुकाः ।। ।।चा o नी o।। रूप और यौवन से सम्पन्न तथा कुलीन परिवार में जन्मा लेने पर भी विद्या हीन पुरुष पलाश के फूल के समान है जो सुन्दर तो है लेकिन खुशबु रहित है. *🚩💮🚩 सुभाषितानि 🚩💮🚩* गीता -: ज्ञानकर्म सन्यासयोग अo-4 जन्म कर्म च मे दिव्यमेवं यो वेत्ति तत्वतः ।, त्यक्तवा देहं पुनर्जन्म नैति मामेति सोऽर्जुन ॥, हे अर्जुन! मेरे जन्म और कर्म दिव्य अर्थात निर्मल और अलौकिक हैं- इस प्रकार जो मनुष्य तत्व से (सर्वशक्तिमान, सच्चिदानन्दन परमात्मा अज, अविनाशी और सर्वभूतों के परम गति तथा परम आश्रय हैं, वे केवल धर्म को स्थापन करने और संसार का उद्धार करने के लिए ही अपनी योगमाया से सगुणरूप होकर प्रकट होते हैं।, इसलिए परमेश्वर के समान सुहृद्, प्रेमी और पतितपावन दूसरा कोई नहीं है, ऐसा समझकर जो पुरुष परमेश्वर का अनन्य प्रेम से निरन्तर चिन्तन करता हुआ आसक्तिरहित संसार में बर्तता है, वही उनको तत्व से जानता है।,) जान लेता है, वह शरीर को त्याग कर फिर जन्म को प्राप्त नहीं होता, किन्तु मुझे ही प्राप्त होता है॥,9॥, *💮🚩 दैनिक राशिफल 🚩💮* देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।। विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।। 🐂मेष नई योजना बनेगी। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। सामजिक कार्य करने की इच्छा जागृत होगी। प्रतिष्ठा वृद्धि होगी। सुख के साधन जुटेंगे। नौकरी में वर्चस्व स्थापित होगा। आय के स्रोत बढ़ सकते हैं। व्यवसाय लाभप्रद रहेगा। निवेश शुभ रहेगा। घर-बाहर सहयोग व प्रसन्नता में वृद्धि होगी। 🐏वृष यात्रा सफल रहेगी। नेत्र पीड़ा हो सकती है। लेन-देन में सावधानी रखें। बगैर मांगे किसी को सलाह न दें। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। व्यावसायिक यात्रा मनोनुकूल रहेगी। धनार्जन होगा। जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। अज्ञात भय व चिंता रहेंगे। 👫मिथुन अप्रत्याशित खर्च सामने आएंगे। व्यवस्था नहीं होने से परेशानी रहेगी। व्यवसाय में कमी होगी। नौकरी में नोकझोंक हो सकती है। पार्टनरों से मतभेद हो सकते हैं। थकान महसूस होगी। अपेक्षित कार्यों में विघ्न आएंगे। चिंता तथा तनाव रहेंगे। आय में निश्चितता रहेगी। 🦀कर्क जीवनसाथी से सहयोग मिलेगा। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। अप्रत्याशित लाभ के योग हैं। भाग्य का साथ मिलेगा। व्यवसाय ठीक चलेगा। नौकरी में अधिकार बढ़ सकते हैं। जुए, सट्टे व लॉटरी के चक्कर में न पड़ें। निवेश शुभ रहेगा। प्रमाद न करें। उत्तेजना पर नियंत्रण रखें। 🐅सिंह पूजा-पाठ व सत्संग में मन लगेगा। आत्मशांति रहेगी। कोर्ट व कचहरी के कार्य अनुकूल रहेंगे। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। प्रसन्नता का वातावरण रहेगा। मातहतों का सहयोग मिलेगा। किसी सामाजिक कार्यक्रम में भाग लेने का अवसर प्राप्त हो सकता है। दूसरे के काम में दखल न दें। 🙍‍♀️कन्या स्थायी संपत्ति की खरीद-फरोख्त से बड़ा लाभ हो सकता है। प्रतिद्वंद्विता रहेगी। पार्टनरों का सहयोग समय पर मिलने से प्रसन्नता रहेगी। नौकरी में मातहतों का सहयोग मिलेगा। व्यवसाय ठीक-ठीक चलेगा। आय में वृद्धि होगी। चोट व रोग से बाधा संभव है। दूसरों के काम में दखलंदाजी न करें। ⚖️तुला मन की चंचलता पर नियंत्रण रखें। कानूनी अड़चन दूर होकर स्थिति अनुकूल रहेगी। जीवनसाथी पर आपसी मेहरबानी रहेगी। जल्दबाजी में धनहानि हो सकती है। व्यवसाय में वृद्धि होगी। नौकरी में सुकून रहेगा। निवेश लाभप्रद रहेगा। कार्य बनेंगे। घर-बाहर सुख-शांति बने रहेंगे। 🦂वृश्चिक क्रोध व उत्तेजना पर नियंत्रण रखें। विवाद को बढ़ावा न दें। पुराना रोग बाधा का कारण रहेगा। स्वास्थ्य पर खर्च होगा। वाहन व मशीनरी के प्रयोग में लापरवाही न करें। छोटी सी गलती से समस्या बढ़ सकती है। व्यवसाय ठीक चलेगा। मित्र व संबंधी सहायता करेंगे। आय बनी रहेगी। जोखिम न लें। 🏹धनु पार्टी व पिकनिक की योजना बनेगी। मित्रों के साथ समय अच्‍छा व्यतीत होगा। स्वादिष्ट भोजन का आनंद मिलेगा। बौद्धिक कार्य सफल रहेंगे। किसी प्रबुद्ध व्यक्ति का मार्गदर्शन प्राप्त होगा। नौकरी में अनुकूलता रहेगी। वाणी पर नियंत्रण रखें। शत्रु सक्रिय रहेंगे। जीवनसाथी के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी। 🐊मकर घर-बाहर अशांति रहेगी। कार्य में रुकावट होगी। आय में कमी तथा नौकरी में कार्यभार रहेगा। बेवजह लोगों से कहासुनी हो सकती है। दु:खद समाचार मिलने से नकारात्मकता बढ़ेगी। व्यवसाय से संतुष्टि नहीं रहेगी। पार्टनरों से मतभेद हो सकते हैं। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। जल्दबाज न करें। 🍯कुंभ दूर से शुभ समाचार प्राप्त होंगे। आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। नौकरी में सहकर्मी साथ देंगे। व्यवसाय में जल्दबाजी से काम न करें। चोट व दुर्घटना से बचें। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। घर-बाहर स्थिति मनोनुकूल रहेगी। प्रसन्नता का वातावरण रहेगा। वस्तुएं संभालकर रखें। 🐟मीन प्रयास सफल रहेंगे। किसी बड़े कार्य की समस्याएं दूर होंगी। मित्रों का सहयोग कर पाएंगे। कर्ज में कमी होगी। संतुष्टि रहेगी। सामाजिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। व्यापार मनोनुकूल चलेगा। अपना प्रभाव बढ़ा पाएंगे। नौकरी में अनुकूलता रहेगी। निवेश शुभ रहेगा। जोखिम व जमानत के कार्य न करें। 🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏 🌺🌺🌺🌺🙏🌺🌺🌺🌺

+82 प्रतिक्रिया 17 कॉमेंट्स • 241 शेयर

🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *********|| जय श्री राधे ||********* 🌺🙏 *महर्षि पाराशर पंचांग* 🙏🌺 🙏🌺🙏 *अथ पंचांगम्* 🙏🌺🙏 *********ll जय श्री राधे ll********* 🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *दिनाँक -: 20/04/2021,मंगलवार* अष्टमी, शुक्ल पक्ष चैत्र """""""""""""""""""""""""""""(समाप्ति काल) तिथि------------अष्टमी 24:42:53 तक पक्ष--------------------------- शुक्ल नक्षत्र-------------पुनर्वसु 06:51:37 योग--------------- धृति 19:41:47 करण--------- विष्टि भद्र 12:27:57 करण-------------- बव 24:42:53 वार------------------------मंगलवार माह-----------------------------चैत्र चन्द्र राशि------------------- कर्क सूर्य राशि--------------------- मेष रितु--------------------------- वसंत सायन-------------------------ग्रीष्म आयन-------------------- उत्तरायण संवत्सर----------------------- प्लव संवत्सर (उत्तर)--------- आनंद विक्रम संवत---------------- 2078 विक्रम संवत (कर्तक)---- 2077 शाका संवत---------------- 1943 वृन्दावन सूर्योदय----------------- 05:51:01 सूर्यास्त----------------- 18:45:29 दिन काल------------- 12:54:28 रात्री काल--------------- 11:04:34 चंद्रोदय------------------ 11:43:47 चंद्रास्त------------------25:57:26 लग्न---- मेष 6°0' , 6°0' सूर्य नक्षत्र----------------- अश्विनी चन्द्र नक्षत्र-------------------पुनर्वसु नक्षत्र पाया--------------------रजत *🚩💮🚩 पद, चरण 🚩💮🚩* ही---- पुनर्वसु 06:51:37 हु---- पुष्य 13:12:38 हे---- पुष्य 19:30:42 हो---- पुष्य 25:45:45 *💮🚩💮 ग्रह गोचर 💮🚩💮* ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद ========================== सूर्य= मेष 06°52 ' अश्विनी , 2 चे चन्द्र = कर्क 03°23 'पुनर्वसु 4 ही बुध = मेष 07°57' अश्विनी' 3 चो शुक्र= मेष 12°55, अश्विनी' 4 ला मंगल=मिथुन 03°30 'मृगशिरा ' 4 की गुरु=कुम्भ 01°22 ' धनिष्ठा , 3 गु शनि=मकर 17°43 ' श्रवण ' 3 खे राहू=(व)वृषभ 19°03 'मृगशिरा , 3 वि केतु=(व)वृश्चिक 19°03 ज्येष्ठा , 1 नो *🚩💮🚩शुभा$शुभ मुहूर्त🚩💮🚩* राहू काल 15:32 - 17:09 अशुभ यम घंटा 09:05 - 10:41 अशुभ गुली काल 12:18 - 13:55 आशु अभिजित 11:52 -12:44 शुभ दूर मुहूर्त 08:26 - 09:18 अशुभ दूर मुहूर्त 23:12 - 24:03* अशुभ 💮चोघडिया, दिन रोग 05:51 - 07:28 अशुभ उद्वेग 07:28 - 09:05 अशुभ चर 09:05 - 10:41 शुभ लाभ 10:41 - 12:18 शुभ अमृत 12:18 - 13:55 शुभ काल 13:55 - 15:32 अशुभ शुभ 15:32 - 17:09 शुभ रोग 17:09 - 18:45 अशुभ 🚩चोघडिया, रात काल 18:45 - 20:09 अशुभ लाभ 20:09 - 21:32 शुभ उद्वेग 21:32 - 22:55 अशुभ शुभ 22:55 - 24:18* शुभ अमृत 24:18* - 25:41* शुभ चर 25:41* - 27:04* शुभ रोग 27:04* - 28:27* अशुभ काल 28:27* - 29:50* अशुभ 💮होरा, दिन मंगल 05:51 - 06:56 सूर्य 06:56 - 08:00 शुक्र 08:00 - 09:05 बुध 09:05 - 10:09 चन्द्र 10:09 - 11:14 शनि 11:14 - 12:18 बृहस्पति 12:18 - 13:23 मंगल 13:23 - 14:27 सूर्य 14:27 - 15:32 शुक्र 15:32 - 16:36 बुध 16:36 - 17:41 चन्द्र 17:41 - 18:45 🚩होरा, रात शनि 18:45 - 19:41 बृहस्पति 19:41 - 20:36 मंगल 20:36 - 21:32 सूर्य 21:32 - 22:27 शुक्र 22:27 - 23:22 बुध 23:22 - 24:18 चन्द्र 24:18* - 25:13 शनि 25:13* - 26:09 बृहस्पति 26:09* - 27:04 मंगल 27:04* - 27:59 सूर्य 27:59* - 28:55 शुक्र 28:55* - 29:50 *नोट*-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार । शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥ रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार । अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥ अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें । उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें । शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें । लाभ में व्यापार करें । रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें । काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है । अमृत में सभी शुभ कार्य करें । *💮दिशा शूल ज्ञान---------------------उत्तर* परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा गुड़ खाके यात्रा कर सकते है l इस मंत्र का उच्चारण करें-: *शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l* *भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll* *🚩 अग्नि वास ज्ञान -:* *यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,* *चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।* *दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,* *नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।।* *महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्* *नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।* 8 + 3 + 1 = 12 ÷ 4 = 0 शेष मृत्यु लोक पर अग्नि वास हवन के लिए शुभ कारक है l *💮 शिव वास एवं फल -:* 8 + 8 + 5 = 21 ÷ 7 = 0 शेष शमशान वास = मृत्यु कारक *🚩भद्रा वास एवं फल -:* *स्वर्गे भद्रा धनं धान्यं ,पाताले च धनागम:।* *मृत्युलोके यदा भद्रा सर्वकार्य विनाशिनी।।* दोपहर 12:22 तक समाप्ति मृत्युलोक = सर्वकार्य विनाशिनी *💮🚩 विशेष जानकारी 🚩💮* * भौमाष्टमी * मेला नई सेवरी एवं कात्यायनी मंदिर वृन्दावन * महागौरि पूजन *💮🚩💮 शुभ विचार 💮🚩💮* प्रारर्द्यूतप्रसंगेन मध्यान्हे स्त्रीप्रसंगतः । रात्रौ चौरप्रसंगेन कालो गच्छति धीमताम् ।। ।।चा o नी o।। सुबह उठकर दिन भर जो दाव आप लगाने वाले है उसके बारे में सोचे. दोपहर को अपनी माँ को याद करे. रात को चोरो को ना भूले. *🚩💮🚩 सुभाषितानि 🚩💮🚩* गीता -: कर्मयोग अo- यदि उत्सीदेयुरिमे लोका न कुर्यां कर्म चेदहम्‌ ।, संकरस्य च कर्ता स्यामुपहन्यामिमाः प्रजाः ॥, इसलिए यदि मैं कर्म न करूँ तो ये सब मनुष्य नष्ट-भ्रष्ट हो जाएँ और मैं संकरता का करने वाला होऊँ तथा इस समस्त प्रजा को नष्ट करने वाला बनूँ॥,॥, *💮🚩 दैनिक राशिफल 🚩💮* देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।। विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।। 🐏मेष व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। आय बढ़ेगी। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। अपने व्यसनों पर नियंत्रण रखते हुए कार्य करना चाहिए। व्यापार में कर्मचारियों पर अधिक विश्वास न करें। आर्थिक स्थिति मध्यम रहेगी। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। 🐂वृष भूले-बिसरे साथियों से मुलाकात होगी। उत्साहवर्धक सूचना मिलेगी। मान बढ़ेगा। व्यवसाय ठीक चलेगा। अपनी बुद्धिमत्ता से आप सही निर्णय लेने में सक्षम होंगे। विकास की योजनाएं बनेंगी। निजीजनों में असंतोष हो सकता है। व्यापार में इच्छित लाभ होगा। 👫मिथुन धन प्राप्ति सुगम होगी। प्रसन्नता रहेगी। भूमि, आवास की समस्या रह सकती है। आजीविका में नवीन प्रस्ताव मिलेगा। दांपत्य जीवन सुखद रहेगा। संतान से कष्ट रहेगा। मेहनत का फल मिलेगा। घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। थकान रहेगी। 🦀कर्क वाहन व मशीनरी के प्रयोग में सावधानी रखें। वस्तुएं संभालकर रखें। स्वास्थ्य पर व्यय होगा। विवाद न करें। यात्रा में अपनी वस्तुओं को संभालकर रखें। कर्म के प्रति पूर्ण समर्पण व उत्साह रखें। अधीनस्थों की ओर ध्यान दें। आर्थिक स्थिति अच्छी रहेगी। 🐅सिंह दूसरों से अपेक्षा न करें। चिंता तथा तनाव रहेंगे। थकान रहेगी। जोखिम न लें। विवाद से बचें। राजकीय सहयोग मिलेगा एवं इस क्षेत्र के व्यक्तियों से संबंध बढ़ेंगे। विद्यार्थियों को प्रतियोगिता में सफलता मिलेगी। व्यापार अच्छा चलेगा। वाणी पर संयम रखें। 🙍‍♀️कन्या किसी आनंदोत्सव में भाग लेने का अवसर मिलेगा। रचनात्मक कार्य सफल रहेंगे। व्यवसाय ठीक चलेगा। कामकाज में धैर्य रखने से सफलता मिल सकेगी। योजनाएं फलीभूत होंगी। मित्रों में आपका वर्चस्व बढ़ेगा। स्वास्थ्य की ओर ध्यान दें। ⚖️तुला भाग्योन्नति के प्रयास सफल रहेंगे। भेंट व उपहार की प्राप्ति होगी। यात्रा, निवेश व नौकरी मनोनुकूल रहेंगे। जोखिम न लें। व्यावसायिक चिंता दूर हो सकेगी। स्वयं के सामर्थ्य से ही भाग्योन्नति के अवसर आएंगे। योजनाएं फलीभूत होंगी। 🦂वृश्चिक संपत्ति के कार्य लाभ देंगे। परीक्षा व साक्षात्कार आदि में सफलता मिलेगी। प्रसन्नता रहेगी। धनार्जन होगा। समाज में प्रसिद्धि के कारण सम्मान में बढ़ौत्री होगी। आजीविका में नवीन प्रस्ताव मिलेंगे। परिवार की समस्याओं को अनदेखा न करें। 🏹धनु समय ठीक नहीं है। वाहन, मशीनरी व अग्नि के प्रयोग में सावधानी रखें। लेन-देन में सावधानी रखें। विवाद न करें। दांपत्य जीवन सुखद रहेगा। सकारात्मक विचारों के कारण प्रगति के योग आएंगे। कार्यपद्धति में विश्वसनीयता बनाए रखें। 🐊मकर प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। राजकीय काम बनेंगे। व्यवसाय ठीक चलेगा। चिंता रहेगी। जोखिम न उठाएं। संतान से मदद मिलेगी। आर्थिक स्थिति में प्रगति की संभावना है। अचानक धन की प्राप्ति के योग हैं। क्रोध एवं उत्तेजना पर संयम रखें। 🍯कुंभ नए अनुबंध होंगे। यात्रा, निवेश व नौकरी मनोनुकूल रहेंगे। झंझटों में न पड़ें। शत्रु सक्रिय रहेंगे। कार्य की प्रवृत्ति में यथार्थता व व्यावहारिकता का समावेश आवश्यक है। व्यापार में नई योजनाओं पर कार्य नहीं होंगे। जीवनसाथी का ध्यान रखें। 🐟मीन धर्म-कर्म में रुचि बढ़ेगी। राजकीय बाधा दूर होगी। वरिष्ठजन सहयोग करेंगे। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। बुद्धि एवं तर्क से कार्य में सफलता के योग बनेंगे। यात्रा कष्टप्रद हो सकती है। अतः उसका परित्याग करें। व्यापार लाभप्रद रहेगा। 🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏 🌺🌺🌺🌺🙏🌺🌺🌺🌺

+49 प्रतिक्रिया 10 कॉमेंट्स • 149 शेयर

🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *********|| जय श्री राधे ||********* 🌺🙏 *महर्षि पाराशर पंचांग* 🙏🌺 🙏🌺🙏 *अथ पंचांगम्* 🙏🌺🙏 *********ll जय श्री राधे ll********* 🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *दिनाँक -: 19/04/2021,सोमवार* सप्तमी, शुक्ल पक्ष चैत्र """"""""""""""""""""""""""""""(समाप्ति काल) तिथि-----------सप्तमी 24:00:57 तक पक्ष--------------------------- शुक्ल नक्षत्र-------------पुनर्वसु 30:51:38 योग-------------- सुकर्मा 20:04:20 करण------------------ गर 11:22:42 करण------------- वणिज 24:00:57 वार------------------------- सोमवार माह-----------------------------चैत्र चन्द्र राशि-------मिथुन 24:27:47 चन्द्र राशि----------------------कर्क सूर्य राशि--------------------- मेष रितु----------------------------वसंत सायन-------------------------ग्रीष्म आयन-------------------- उत्तरायण संवत्सर----------------------- प्लव संवत्सर (उत्तर)--------- आनंद विक्रम संवत------------------2078 विक्रम संवत (कर्तक)-----2077 शाका संवत----------------- 1943 वृन्दावन सूर्योदय----------------- 05:51:59 सूर्यास्त------------------ 18:44:56 दिन काल--------------- 12:52:57 रात्री काल--------------- 11:06:04 चंद्रोदय----------------- 10:47:36 चंद्रास्त------------------ 25:10:49 लग्न---- मेष 5°2' , 5°2' सूर्य नक्षत्र------------------- अश्विनी चन्द्र नक्षत्र-------------------पुनर्वसु नक्षत्र पाया--------------------रजत *🚩💮🚩 पद, चरण 🚩💮🚩* के---- पुनर्वसु 11:32:02 को---- पुनर्वसु 18:01:12 हा---- पुनर्वसु 24:27:47 *💮🚩💮 ग्रह गोचर 💮🚩💮* ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद ========================== सूर्य= मेष 05°52 ' अश्विनी , 2 चे चन्द्र = मिथुन 20°23 'पुनर्वसु 1 के बुध = मेष 04°57' अश्विनी' 2 चे शुक्र= मेष 11°55, अश्विनी' 4 ला मंगल=मिथुन 03°30 'मृगशिरा ' 3 का गुरु=कुम्भ 01°22 ' धनिष्ठा , 3 गु शनि=मकर 17°43 ' श्रवण ' 3 खे राहू=(व)वृषभ 19°03 'मृगशिरा , 3 वि केतु=(व)वृश्चिक 19°03 ज्येष्ठा , 1 नो *🚩💮🚩शुभा$शुभ मुहूर्त🚩💮🚩* राहू काल 07:29 - 09:05 अशुभ यम घंटा 10:42 - 12:18 अशुभ गुली काल 13:55 - 15:32 अशुभ अभिजित 11:53 -12:44 शुभ दूर मुहूर्त 12:44 - 13:36 अशुभ दूर मुहूर्त 15:19 - 16:10 अशुभ 💮चोघडिया, दिन अमृत 05:52 - 07:29 शुभ काल 07:29 - 09:05 अशुभ शुभ 09:05 - 10:42 शुभ रोग 10:42 - 12:18 अशुभ उद्वेग 12:18 - 13:55 अशुभ चर 13:55 - 15:32 शुभ लाभ 15:32 - 17:08 शुभ अमृत 17:08 - 18:45 शुभ 🚩चोघडिया, रात चर 18:45 - 20:08 शुभ रोग 20:08 - 21:31 अशुभ काल 21:31 - 22:55 अशुभ लाभ 22:55 - 24:18* शुभ उद्वेग 24:18* - 25:41* अशुभ शुभ 25:41* - 27:05* शुभ अमृत 27:05* - 28:28* शुभ चर 28:28* - 29:51* शुभ 💮होरा, दिन चन्द्र 05:52 - 06:56 शनि 06:56 - 08:01 बृहस्पति 08:01 - 09:05 मंगल 09:05 - 10:10 सूर्य 10:10 - 11:14 शुक्र 11:14 - 12:18 बुध 12:18 - 13:23 चन्द्र 13:23 - 14:27 शनि 14:27 - 15:32 बृहस्पति 15:32 - 16:36 मंगल 16:36 - 17:41 सूर्य 17:41 - 18:45 🚩होरा, रात शुक्र 18:45 - 19:40 बुध 19:40 - 20:36 चन्द्र 20:36 - 21:31 शनि 21:31 - 22:27 बृहस्पति 22:27 - 23:22 मंगल 23:22 - 24:18 सूर्य 24:18* - 25:13 शुक्र 25:13* - 26:09 बुध 26:09* - 27:05 चन्द्र 27:05* - 28:00 शनि 28:00* - 28:56 बृहस्पति 28:56* - 29:51 *नोट*-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार । शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥ रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार । अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥ अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें । उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें । शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें । लाभ में व्यापार करें । रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें । काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है । अमृत में सभी शुभ कार्य करें । *💮दिशा शूल ज्ञान---------------------पूर्व* परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा काजू खाके यात्रा कर सकते है l इस मंत्र का उच्चारण करें-: *शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l* *भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll* *🚩 अग्नि वास ज्ञान -:* *यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,* *चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।* *दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,* *नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।।* *महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्* *नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।* 7 + 2 + 1 = 10 ÷ 4 = 2 शेष आकाश लोक पर अग्नि वास हवन के लिए अशुभ कारक है l *💮 शिव वास एवं फल -:* 7 + 7 + 5 = 19 ÷ 7 = 5 शेष ज्ञानवेलायां = कष्ट कारक *🚩भद्रा वास एवं फल -:* *स्वर्गे भद्रा धनं धान्यं ,पाताले च धनागम:।* *मृत्युलोके यदा भद्रा सर्वकार्य विनाशिनी।।* रात्रि 24:01 से प्रारम्भ मृत्यु लोक = सर्वकार्य विनाशिनी *💮🚩 विशेष जानकारी 🚩💮* * कालरात्रि पूजन *सायन ग्रीष्म ऋतु प्रारम्भ *💮🚩💮 शुभ विचार 💮🚩💮* मूर्खस्तु परिहर्त्तव्यः प्रत्यक्षो द्विपदः पशुः । भिद्यते वाक्यशूलेन अदृश्यं कण्टकं यथा ।। ।।चा o नी o।। मूर्खो के साथ मित्रता नहीं रखनी चाहिए उन्हें त्याग देना ही उचित है, क्योंकि प्रत्यक्ष रूप से वे दो पैरों वाले पशु के सामान हैं,जो अपने धारदार वचनो से वैसे ही हदय को छलनी करता है जैसे अदृश्य काँटा शारीर में घुसकर छलनी करता है . *🚩💮🚩 सुभाषितानि 🚩💮🚩* गीता -: ज्ञानकर्म सन्यासयोग अo-4 परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम्‌ ।, धर्मसंस्थापनार्थाय सम्भवामि युगे युगे ॥, साधु पुरुषों का उद्धार करने के लिए, पाप कर्म करने वालों का विनाश करने के लिए और धर्म की अच्छी तरह से स्थापना करने के लिए मैं युग-युग में प्रकट हुआ करता हूँ॥,8॥, *💮🚩 दैनिक राशिफल 🚩💮* देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।। विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।। 🐏मेष रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। निवेश के सुखद परिणाम आएंगे। अप्रत्याशित लाभ हो सकता है। किसी बड़ी बाधा के दूर होने से प्रसन्नता रहेगी। भाग्य का साथ मिलेगा। पुराना रोग उभर सकता है। विवाद से क्लेश संभव है। लेन-देन में जल्दबाजी न करें। 🐂वृष अप्रत्याशित खर्च सामने आएंगे। कर्ज लेना पड़ सकता है। वाणी पर नियंत्रण रखें। दूसरों से अपेक्षा पूर्ण नहीं होने से खिन्नता रहेगी। कार्य में विलंब होगा। स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा। पारिवारिक चिंता बनी रहेगी। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। व्यवसाय ठीक चलेगा। आय बनी रहेगी। व्यस्तता रहेगी। 👫मिथुन पुराने शत्रु परेशान कर सकते हैं। थकान व कमजोरी रह सकती है। जीवनसाथी के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। डूबी हुई रकम प्राप्त हो सकती है। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। भाग्य का साथ रहेगा। व्यापार में वृद्धि के योग हैं। निवेश शुभ रहेगा। आय होगी। प्रमाद न करें। 🦀कर्क नई योजना बनेगी। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। कारोबार में वृद्धि होगी। जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। नए व्यापारिक अनुबंध होंगे। धनार्जन होगा। लंबे समय से रुके कार्यों में गति आएगी। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। शत्रु परास्त होंगे। स्वास्थ्‍य का ध्यान रखें। 🐅सिंह कुसंगति से हानि होगी। पूजा-पाठ में मन लगेगा। कोर्ट व कचहरी के कार्य अनुकूल रहेंगे। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। परिवार के साथ समय अच्‍छा व्यतीत होगा। आर्थिक उन्नति के प्रयास सफल रहेंगे। कारोबार अच्छा चलेगा। नौकरी में उच्चाधिकारी प्रसन्नता रहेंगे। भाइयों का सहयोग मिलेगा। प्रसन्नता बनी रहेगी। 🙍‍♀️कन्या वाहन व मशीनरी आदि के प्रयोग में सावधानी रखें, विशेषकर स्त्रियां रसोई में ध्यान रखें। वाणी में हल्के शब्दों के प्रयोग से बचें। किसी व्यक्ति से बेवजह विवाद हो सकता है। लेन-देन में जल्दबाजी न करें। धनलाभ के अवसर प्राप्त होंगे। आय में निश्चितता होगी। ऐश्वर्य पर व्यय होगा। ⚖️तुला शत्रु परास्त होंगे। कोर्ट व कचहरी के कार्य मनोनुकूल रहेंगे। जीवनसाथी से सहयोग प्राप्त होगा। सुख के साधन जुटेंगे। कारोबार में वृद्धि होगी। निवेशादि शुभ रहेंगे। नौकरी में सहकर्मी साथ देंगे। स्त्री पक्ष से लाभ होगा। अज्ञात भय रहेगा। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। पार्टनरों का सहयोग मिलेगा। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। 🦂वृश्चिक लेन-देन में जल्दबाजी न करें। किसी अपरिचित पर अतिविश्वास न करें। आय में वृद्धि होगी। भूमि व भवन संबंधी योजना बनेगी। कोई बड़ा लाभ हो सकता है। रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। भाग्य बेहद अनुकूल है, लाभ लें। चोट व रोग से बचें। प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। 🏹धनु किसी गलती का खामियाजा भुगतना पड़ सकता है। जल्दबाजी व लापरवाही न करें। अज्ञात भय सताएगा। पुराना रोग उभर सकता है। भागदौड़ रहेगी। विद्यार्थी वर्ग सफलता हासिल करेगा। किसी आनंदोत्सव में भाग लेने का अवसर प्राप्त होगा। स्वादिष्ट भोजन का आनंद मिलेगा। प्रसन्नता रहेगी। 🐊मकर पुराना रोग उभर सकता है। किसी बड़ी समस्या से सामना हो सकता है। लेन-देन में विशेष सावधानी रखें। वाणी में हल्के शब्दों के प्रयोग से बचें। दु:खद समाचार मिल सकता है। किसी व्यक्ति से बेवजह विवाद हो सकता है। व्यर्थ भागदौड़ होगी। कार्य में विलंब होगा। चिंता तथा तनाव रहेंगे। आय में निश्चितता रहेगी। 🍯कुंभ प्रयास सफल रहेंगे। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। पराक्रम बढ़ेगा। आय में वृद्धि होगी। पराक्रम बढ़ेगा। किसी बड़े काम को करने में रुझान रहेगा। कारोबार में वृद्धि होगी। नौकरी में प्रशंसा प्राप्त होगी। शेयर मार्केट व म्युचुअल फंड से लाभ होगा। चोट व रोग से बचें। सुख के साधन जुटेंगे। घर में तनाव रह सकता है। 🐟मीन शुभ समाचार प्राप्त होंगे। घर में मेहमानों का आगमन होगा। आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। विवेक से कार्य करें। विरोधी सक्रिय रहेंगे। मित्रों का सहयोग प्राप्त होगा। व्यापार-व्यवसाय लाभदायक रहेगा। नौकरी में चैन रहेगा। आय में वृद्धि होगी। मित्रों के साथ समय मनोरंजक व्यतीत होगा। प्रमाद न करें। 🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏 🌺🌺🌺🌺🙏🌺🌺🌺🌺

+182 प्रतिक्रिया 48 कॉमेंट्स • 526 शेयर

🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *********|| जय श्री राधे ||********* 🌺🙏 *महर्षि पाराशर पंचांग* 🙏🌺 🙏🌺🙏 *अथ पंचांगम्* 🙏🌺🙏 *********ll जय श्री राधे ll********* 🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *दिनाँक -: 18/04/2021,रविवार* षष्ठी, शुक्ल पक्ष चैत्र """"""""""""""""""""""""""""""(समाप्ति काल) तिथि----------------षष्ठी 22:34:14 तक पक्ष--------------------------- शुक्ल नक्षत्र------------आर्द्रा 29:00:24 योग------------ अतिगंड 19:53:26 करण---------- कौलव 09:36:47 करण------------- तैतुल 22:34:14 वार------------------------- रविवार माह---------------------------- चैत्र चन्द्र राशि----------------- मिथुन सूर्य राशि--------------------- मेष रितु--------------------------- वसंत आयन-------------------- उत्तरायण संवत्सर----------------------- प्लव संवत्सर (उत्तर)--------- आनंद विक्रम संवत---------------- 2078 विक्रम संवत (कर्तक) -----2077 शाका संवत----------------- 1943 वृन्दावन सूर्योदय--------------- 05:52:58 सूर्यास्त------------------18:44:24 दिन काल--------------- 12:51:25 रात्री काल-------------- 11:07:35 चंद्रोदय---------------- 09:55:41 चंद्रास्त---------------- 24:20:48 लग्न---- मेष 4°3' , 4°3' सूर्य नक्षत्र----------------- अश्विनी चन्द्र नक्षत्र-------------------- आर्द्रा नक्षत्र पाया--------------------रजत *🚩💮🚩 पद, चरण 🚩💮🚩* कु---- आर्द्रा 09:12:18 घ---- आर्द्रा 15:50:22 ङ---- आर्द्रा 22:26:27 छ---- आर्द्रा 29:00:24 *💮🚩💮 ग्रह गोचर 💮🚩💮* ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद ======================== सूर्य= मेष 04°52 ' अश्विनी , 2 चे चन्द्र = मिथुन 08°23 ' आर्द्रा 1 कु बुध = मेष 02°57' अश्विनी' 1 चु शुक्र= मेष 09°55, अश्विनी' 3 चो मंगल=मिथुन 01°30 'मृगशिरा ' 3 का गुरु=कुम्भ 01°22 ' धनिष्ठा , 3 गु शनि=मकर 17°43 ' श्रवण ' 3 खे राहू=(व)वृषभ 19°03 'मृगशिरा , 3 वि केतु=(व)वृश्चिक 19°03 ज्येष्ठा , 1 नो *🚩💮🚩शुभा$शुभ मुहूर्त🚩💮🚩* राहू काल 17:08 - 18:44 अशुभ यम घंटा 12:19 - 13:55 अशुभ गुली काल 15:32 - 17:08 अशुभ अभिजित 11:53 -12:44 शुभ दूर मुहूर्त 17:02 - 17:53 अशुभ 💮चोघडिया, दिन उद्वेग 05:53 - 07:29 अशुभ चर 07:29 - 09:06 शुभ लाभ 09:06 - 10:42 शुभ अमृत ब10:42 - 12:19 शुभ काल 12:19 - 13:55 अशुभ शुभ 13:55 - 15:32 शुभ रोग 15:32 - 17:08 अशुभ उद्वेग 17:08 - 18:44 अशुभ 🚩चोघडिया, रात शुभ 18:44 - 20:08 शुभ अमृत 20:08 - 21:31 शुभ चर 21:31 - 22:55 शुभ रोग 22:55 - 24:18* अशुभ काल 24:18* - 25:42* अशुभ लाभ 25:42* - 27:05* शुभ उद्वेग 27:05* - 28:29* अशुभ शुभ 28:29* - 29:52* शुभ 💮होरा, दिन सूर्य 05:53 - 06:57 शुक्र 06:57 - 08:02 बुध 08:02 - 09:06 चन्द्र 09:06 - 10:10 शनि 10:10 - 11:14 बृहस्पति 11:14 - 12:19 मंगल 12:19 - 13:23 सूर्य 13:23 - 14:27 शुक्र 14:27 - 15:32 बुध 15:32 - 16:36 चन्द्र 16:36 - 17:40 शनि 17:40 - 18:44 🚩होरा, रात बृहस्पति 18:44 - 19:40 मंगल 19:40 - 20:36 सूर्य 20:36 - 21:31 शुक्र 21:31 - 22:27 बुध 22:27 - 23:23 चन्द्र 23:23 - 24:18 शनि 24:18* - 25:14 बृहस्पति 25:14* - 26:09 मंगल 26:09* - 27:05 सूर्य 27:05* - 28:01 शुक्र 28:01* - 28:56 बुध 28:56* - 29:52 *नोट*-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार । शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥ रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार । अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥ अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें । उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें । शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें । लाभ में व्यापार करें । रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें । काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है । अमृत में सभी शुभ कार्य करें । *💮दिशा शूल ज्ञान---------------------पश्चिम* परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा चिरौंजी खाके यात्रा कर सकते है l इस मंत्र का उच्चारण करें-: *शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l* *भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll* *🚩 अग्नि वास ज्ञान -:* *यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,* *चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।* *दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,* *नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।।* *महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्* *नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।* 6 + 1 + 1 = 8 ÷ 4 = 0 शेष मृत्यु लोक पर अग्नि वास हवन के लिए शुभ कारक है l *💮 शिव वास एवं फल -:* 6 + 6 + 5 = 17 ÷ 7 = 3 शेष वृषभारूढ़ = शुभ कारक *🚩भद्रा वास एवं फल -:* *स्वर्गे भद्रा धनं धान्यं ,पाताले च धनागम:।* *मृत्युलोके यदा भद्रा सर्वकार्य विनाशिनी।।* *💮🚩 विशेष जानकारी 🚩💮* * स्कन्ध षष्ठी * सूर्य षष्ठी *यमुना जयन्ती * कात्यायनी पूजन * श्री रामानुजाचार्य जयन्ती * गुरु तेगबहादुर एवं अंगददेव जयन्ती *शुक्रोदय पश्चिमे रात्रि 24:20 *पुरातत्व दिवस *💮🚩💮 शुभ विचार 💮🚩💮* प्रलये भिन्नमर्यादा भवन्ति किल सागराः । सागरा भेदमिच्छान्ति प्रलयेऽपि न साधवः ।। ।।चा o नी o।। जब प्रलय का समय आता है तो समुद्र भी अपनी मयारदा छोड़कर किनारों को छोड़ अथवा तोड़ जाते है, लेकिन सज्जन पुरुष प्रलय के सामान भयंकर आपत्ति अवं विपत्ति में भी आपनी मर्यादा नहीं बदलते. *🚩💮🚩 सुभाषितानि 🚩💮🚩* गीता -: ज्ञानकर्म सन्यासयोग अo-4 यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत ।, अभ्युत्थानमधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम्‌ ॥, हे भारत! जब-जब धर्म की हानि और अधर्म की वृद्धि होती है, तब-तब ही मैं अपने रूप को रचता हूँ अर्थात साकार रूप से लोगों के सम्मुख प्रकट होता हूँ॥,7॥ *💮🚩 दैनिक राशिफल 🚩💮* देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।। विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।। 🐏मेष स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा। विवाद को बढ़ावा न दें। फालतू खर्च होगा। किसी के व्यवहार से क्लेश होगा। जल्दबाजी में कोई निर्णय न लें। व्यापार-व्यवसाय लाभप्रद रहेगा। आय में निश्चितता रहेगी। नौकरी में कार्यभार बढ़ेगा। सहकर्मी साथ नहीं देंगे। चिंता तथा तनाव बने रहेंगे। 🐂वृष डूबी हुई रकम प्राप्त हो सकती है। यात्रा मनोरंजक रहेगी। नौकरी में मातहतों का सहयोग प्राप्त होगा। शेयर मार्केट में जल्दबाजी न करें। व्यापार लाभदायक रहेगा। पारिवारिक सहयोग मिलेगा। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। लेन-देन में सावधानी रखें। चोट व रोग से कष्ट संभव है। प्रमाद न करें। 👫मिथुन कार्यस्थल पर परिवर्तन की योजना बनेगी। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। व्यापार-व्यवसाय मनोनुकूल लाभ देगा। नौकरी में सहकर्मी साथ देंगे। ऐश्वर्य व आरामदायक साधनों पर व्यय होगा। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। जल्दबाजी से बचें। घर-बाहर प्रसन्नता बनी रहेगी। 🦀कर्क तीर्थदर्शन की योजना फलीभूत होगी। सत्संग का लाभ मिलेगा। आत्मशांति रहेगी। यात्रा संभव है। व्यापार ठीक चलेगा। नौकरी में चैन रहेगा। दूसरों की जवाबदारी न लें। थकान रह सकती है। 🐅सिंह चोट व दुर्घटना से बड़ी हानि हो सकती है। दुष्टजन हानि पहुंचा सकते हैं। किसी अपरिचित व्यक्ति पर अतिविश्वास न करें। किसी भी प्रकार के विवाद में न पड़ें। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। व्यापार ठीक चलेगा। आय में निश्चितता रहेगी। मित्रों के साथ समय अच्‍छा व्यतीत होगा। 🙍‍♀️कन्या किसी व्यक्ति विशेष का सहयोग प्राप्त होगा। व्यापार लाभदायक रहेगा। पारिवारिक सदस्यों का सहयोग मिलेगा। प्रसन्नता में वृद्धि होगी। नौकरी में मातहतों से अनबन हो सकती है। शारीरिक कष्ट संभव है। जल्दबाजी से हानि होगी। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। धन प्राप्ति सुगम होगी। ⚖️तुला स्थायी संपत्ति के कार्य मनोनुकूल लाभ देंगे। किसी बड़ी समस्या का हल सहज ही प्राप्त होगा। किसी वरिष्ठ व्यक्ति का सहयोग मिलेगा। भाग्य अनुकूल है। व्यापार-व्यवसाय में वृद्धि होगी। धन प्राप्ति सुगम होगी। शत्रुओं का पराभव होगा। किसी व्यक्ति की बातों में न आएं। प्रसन्नता रहेगी। 🦂वृश्चिक रचनात्मक कार्य सफल रहेंगे। किसी आनंदोत्सव में भाग लेने का अवसर प्राप्त होगा। मनपसंद भोजन का आनंद मिलेगा। पार्टी व पिकनिक का आयोजन हो सकता है। नौकरी में कार्य की प्रशंसा होगी। जीवनसाथी से सहयोग प्राप्त होगा। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। जल्दबाजी न करें। 🏹धनु विवाद को बढ़ावा न दें। कानूनी अड़चन से सामना हो सकता है। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। बुरी खबर मिल सकती है, धैर्य रखें। दौड़धूप से स्वास्थ्य पर असर पड़ सकता है। आय बनी रहेगी। व्यापार-व्यवसाय लाभदायक रहेगा। नौकरी में कार्यभार रहेगा। जोखिम न लें। 🐊मकर मित्रों का सहयोग करने का मौका प्राप्त होगा। मेहनत का फल मिलेगा। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। लेन-देन में सावधानी रखें। अपरिचितों पर अंधविश्वास न करें। कारोबार ठीक चलेगा। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। भाग्य अनुकूल है। समय का लाभ लें। 🍯कुंभ भूले-बिसरे साथियों से मुलाकात होगी। उत्साहवर्धक सूचना मिलेगी। किसी बड़े काम को करने की योजना बनेगी। आत्मसम्मान बना रहेगा। व्यापार लाभदायक रहेगा। घर-परिवार में कोई मांगलिक कार्य का आयोजन हो सकता है। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। मित्रों के साथ अच्‍छा समय बीतेगा। 🐟मीन यात्रा मनोरंजक रहेगी। कोई बड़ा काम होने से प्रसन्नता रहेगी। कारोबार में वृद्धि होगी। विरोधी सक्रिय रहेंगे। धन प्राप्ति सुगम होगी। समय अनुकूल है। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। परिवार के साथ समय प्रसन्नतापूर्वक व्यतीत होगा। जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। जल्दबाजी न करें। 🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏 🌺🌺🌺🌺🙏🌺🌺🌺🌺

+35 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 103 शेयर

🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *********|| जय श्री राधे ||********* 🌺🙏 *महर्षि पाराशर पंचांग* 🙏🌺 🙏🌺🙏 *अथ पंचांगम्* 🙏🌺🙏 *********ll जय श्री राधे ll********* 🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *दिनाँक -: 17/04/2021,शनिवार* पंचमी, शुक्ल पक्ष चैत्र """""""""""""""""""""""""""""(समाप्ति काल) तिथि------------- पंचमी 20:31:47 तक पक्ष-------------------------- शुक्ल नक्षत्र--------- मृगशिरा 26:32:26 योग--------------शोभन 19:16:20 करण-------------- बव 07:20:43 करण-------------बालव 20:31:47 वार-------------------------शनिवार माह---------------------------- चैत्र चन्द्र राशि---------वृषभ 13:08:05 चन्द्र राशि---------------------मिथुन सूर्य राशि----------------------- मेष रितु--------------------------- वसंत आयन-------------------- उत्तरायण संवत्सर----------------------- प्लव संवत्सर (उत्तर)--------- आनंद विक्रम संवत---------------- 2078 विक्रम संवत (कर्तक)-----2077 शाका संवत----------------- 1943 वृन्दावन सूर्योदय--------------- 05:53:57 सूर्यास्त------------------ 18:43:51 दिन काल------------- 12:49:53 रात्री काल--------------- 11:09:06 चंद्रोदय---------------- 09:08:38 चंद्रास्त---------------- 23:28:09 लग्न---- मेष 3°5' , 3°5' सूर्य नक्षत्र----------------- अश्विनी चन्द्र नक्षत्र------------------ मृगशिरा नक्षत्र पाया---------------------लोहा *🚩💮🚩 पद, चरण 🚩💮🚩* वे---- मृगशिरा 06:23:58 वो---- मृगशिरा 13:08:05 का---- मृगशिरा 19:50:58 की---- मृगशिरा 26:32:26 *💮🚩💮 ग्रह गोचर 💮🚩💮* ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद ======================== सूर्य= मेष 03°52 ' अश्विनी , 1 चु चन्द्र = वृषभ 26°23 'मृगशिरा 1 वे बुध = मेष 00°57' अश्विनी' 1 चु शुक्र= मेष 08°55, अश्विनी' 3 चो मंगल=मिथुन 01°30 ' मृगशिरा ' 3 का गुरु=कुम्भ 01°22 ' धनिष्ठा , 3 गु शनि=मकर 17°43 ' श्रवण ' 3 खे राहू=(व)वृषभ 19°10 'मृगशिरा , 3 वि केतु=(व)वृश्चिक 19°10 ज्येष्ठा , 1 नो *🚩💮🚩शुभा$शुभ मुहूर्त🚩💮🚩* राहू काल 09:06 - 10:43 अशुभ यम घंटा 13:55 - 15:31 अशुभ गुली काल 05:54 - 07:30 अशुभ अभिजित 11:53 -12:45 शुभ दूर मुहूर्त 07:37 - 08:28 अशुभ 💮चोघडिया, दिन काल 05:54 - 07:30 अशुभ शुभ 07:30 - 09:06 शुभ रोग 09:06 - 10:43 अशुभ उद्वेग 10:43 - 12:19 अशुभ चर 12:19 - 13:55 शुभ लाभ 13:55 - 15:31 शुभ अमृत 15:31 - 17:08 शुभ काल 17:08 - 18:44 अशुभ 🚩चोघडिया, रात लाभ 18:44 - 20:08 शुभ उद्वेग 20:08 - 21:31 अशुभ शुभ 21:31 - 22:55 शुभ अमृत 22:55 - 24:18* शुभ चर 24:18* - 25:42* शुभ रोग 25:42* - 27:06* अशुभ काल 27:06* - 28:29* अशुभ लाभ 28:29* - 29:53* शुभ 💮होरा, दिन शनि 05:54 - 06:58 बृहस्पति 06:58 - 08:02 मंगल 08:02 - 09:06 सूर्य 09:06 - 10:11 शुक्र 10:11 - 11:15 बुध 11:15 - 12:19 चन्द्र 12:19 - 13:23 शनि 13:23 - 14:27 बृहस्पति 14:27 - 15:31 मंगल 15:31 - 16:36 सूर्य 16:36 - 17:40 शुक्र 17:40 - 18:44 🚩होरा, रात बुध 18:44 - 19:40 चन्द्र 19:40 - 20:35 शनि 20:35 - 21:31 बृहस्पति 21:31 - 22:27 मंगल 22:27 - 23:23 सूर्य 23:23 - 24:18 शुक्र 24:18* - 25:14 बुध 25:14* - 26:10 चन्द्र 26:10* - 27:06 शनि 27:06* - 28:01 बृहस्पति 28:01* - 28:57 मंगल 28:57* - 29:53 *नोट*-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार । शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥ रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार । अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥ अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें । उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें । शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें । लाभ में व्यापार करें । रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें । काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है । अमृत में सभी शुभ कार्य करें । *💮दिशा शूल ज्ञान---------------------पूर्व* परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो लौंग अथवा कालीमिर्च खाके यात्रा कर सकते है l इस मंत्र का उच्चारण करें-: *शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l* *भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll* *🚩 अग्नि वास ज्ञान -:* *यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,* *चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।* *दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,* *नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।।* *महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्* *नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।* 5 + 7 + 1 = 13 ÷ 4 = 1शेष पाताल लोक पर अग्नि वास हवन के लिए अशुभ कारक है l *💮 शिव वास एवं फल -:* 5 + 5 + 5 = 15 ÷ 7 = 1 शेष कैलाश वास = शुभ कारक *🚩भद्रा वास एवं फल -:* *स्वर्गे भद्रा धनं धान्यं ,पाताले च धनागम:।* *मृत्युलोके यदा भद्रा सर्वकार्य विनाशिनी।।* *💮🚩 विशेष जानकारी 🚩💮* * स्कन्ध माता पूजन * लक्ष्मी पञ्चमी * गुरु हरगोविंद पुण्य तिथि *मेवाड़ मेला *💮🚩💮 शुभ विचार 💮🚩💮* एदतर्थं कुलोनानां नृपाः कुर्वन्ति संग्रहम् । आदिमध्यावसानेषु न स्यजन्ति च ते नृपम् ।। ।।चा o नी o।। राजा लोग अपने आस पास अच्छे कुल के लोगो को इसलिए रखते है क्योंकि ऐसे लोग ना आरम्भ मे, ना बीच मे और ना ही अंत मे साथ छोड़कर जाते है. *🚩💮🚩 सुभाषितानि 🚩💮🚩* गीता -: ज्ञानकर्म सन्यासयोग अo-4 अजोऽपि सन्नव्ययात्मा भूतानामीश्वरोऽपि सन्‌ ।, प्रकृतिं स्वामधिष्ठाय सम्भवाम्यात्ममायया ॥, भावार्थ : मैं अजन्मा और अविनाशीस्वरूप होते हुए भी तथा समस्त प्राणियों का ईश्वर होते हुए भी अपनी प्रकृति को अधीन करके अपनी योगमाया से प्रकट होता हूँ॥,6॥, *💮🚩 दैनिक राशिफल 🚩💮* देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।। विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।। 🐏मेष पुराना रोग उभर सकता है। अप्रत्याशित खर्च सामने आएंगे। कर्ज लेना पड़ सकता है। किसी व्यक्ति से कहासुनी हो सकती है। स्वाभिमान को ठेस लग सकती है। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। कोई भी महत्वपूर्ण निर्णय सोच-समझकर करें। व्यवसाय ठीक चलेगा। आय बनी रहेगी। 🐂वृष कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। शारीरिक कष्ट संभव है। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। व्यावसायिक यात्रा लाभदायक रहेगी। भाग्य का साथ मिलेगा। नौकरी में चैन रहेगा। निवेश शुभ रहेगा। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। पार्टनरों का सहयोग मिलेगा। प्रमाद न करें। 👫मिथुन सुख के साधन प्राप्त होंगे। नई योजना बनेगी। तत्काल लाभ नहीं मिलेगा। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। सामाजिक काम करने की इच्छा रहेगी। मान-सम्मान मिलेगा। व्यापार-व्यवसाय लाभदायक रहेगा। नौकरी में मातहतों का सहयोग मिलेगा। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। 🦀कर्क धार्मिक अनुष्ठान पूजा-पाठ इत्यादि का कार्यक्रम आयोजित हो सकता है। कोर्ट-कचहरी के कार्य मनोनुकूल रहेंगे। मानसिक शांति रहेगी। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। समय अनुकूल है। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। कारोबार में वृद्धि के योग हैं। शारीरिक कष्ट संभव है। 🐅सिंह कुसगंति से बचें। वाहन व मशीनरी के प्रयोग में सावधानी रखें। पुराना रोग उभर सकता है। किसी दूसरे व्यक्ति की बातों में न आएं। कोई भी महत्वपूर्ण निर्णय सोच-समझकर करें। व्यापार अच्‍छा चलेगा। नौकरी में मातहतों से कहासुनी हो सकती है। लेन-देन में सावधानी रखें। 🙍‍♀️कन्या शरीर में कमर व घुटने आदि के दर्द से परेशानी हो सकती है। लेन-देन में सावधानी रखें। चिंता तथा तनाव रहेंगे। शत्रुभय रहेगा। कोर्ट व कचहरी के कार्य अनुकूल रहेंगे। धन प्राप्ति सुगम होगी। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। भाइयों का सहयोग मिलेगा। परिवार में मांगलिक कार्य हो सकता है। ⚖️तुला शत्रु पस्त होंगे। सुख के साधनों की प्राप्ति पर व्यय होगा। धनलाभ के अवसर हाथ आएंगे। भूमि व भवन संबंधी बाधा दूर होगी। बड़ा लाभ हो सकता है। रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। परीक्षा व साक्षात्कार आदि में सफलता मिलेगी। भाग्य का साथ रहेगा। शेयर मार्केट से लाभ होगा। 🦂वृश्चिक किसी मांगलिक कार्य में भाग लेने का अवसर प्राप्त होगा। विद्यार्थी वर्ग सफलता प्राप्त करेगा। किसी वरिष्ठ प्रबुद्ध व्यक्ति का मार्गदर्शन व सहयोग प्राप्त होगा। व्यापार से लाभ होगा। नौकरी में प्रभाव बढ़ेगा। प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। कष्ट व भय सताएंगे। भाग्य का साथ मिलेगा। 🏹धनु राजभय रहेगा। वाणी पर नियंत्रण रखें। शारीरिक कष्ट संभव है। यात्रा में जल्दबाजी न करें। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। दु:खद समाचार प्राप्त हो सकता है। भागदौड़ अधिक रहेगी। थकान व कमजोरी महसूस होगी। आय में निश्चितता रहेगी। व्यापार ठीक चलेगा। निवेश सोच-समझकर करें। 🐊मकर प्रयास सफल रहेंगे। सामाजिक कार्यों में रुचि रहेगी। मान-सम्मान मिलेगा। नौकरी में प्रशंसा होगी। कार्यसिद्धि होगी। प्रसन्नता रहेगी। चोट व रोग से बचें। लेन-देन में जल्दबाजी न करें। किसी व्यक्ति के बहकावे में न आएं। व्यापार ठीक चलेगा। निवेश शुभ रहेगा। पारिवारिक सहयोग मिलेगा। 🍯कुंभ चिंता तथा तनाव बने रहेंगे। यश बढ़ेगा। दूर से शुभ समाचारों की प्राप्ति होगी। घर में मेहमानों का आगमन होगा। कोई मांगलिक कार्य हो सकता है। आत्मविश्वास बढ़ेगा। जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। व्यापार-व्यवसाय ठीक चलेगा। निवेश शुभ रहेगा। प्रसन्नता बनी रहेगी। 🐟मीन कुबुद्धि हावी रहेगी। चोट व रोग से बचें। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। निवेश शुभ रहेगा। व्यापार मनोनुकूल लाभ देगा। किसी बड़ी समस्या से मुक्ति मिल सकती है। किसी न्यायपूर्ण बात का भी विरोध हो सकता है। विवाद न करें। 🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏 🌺🌺🌺🌺🙏🌺🌺🌺🌺

+27 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 93 शेयर

🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *********|| जय श्री राधे ||********* 🌺🙏 *महर्षि पाराशर पंचांग* 🙏🌺 🙏🌺🙏 *अथ पंचांगम्* 🙏🌺🙏 *********ll जय श्री राधे ll********* 🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *दिनाँक -:16/04/2021,शुक्रवार* चतुर्थी, शुक्ल पक्ष चैत्र """""""""""""""""""""""""""""(समाप्ति काल) तिथि------------चतुर्थी 18:05:09 तक पक्ष-------------------------- शुक्ल नक्षत्र-----------रोहिणी 23:38:48 योग------------ सौभाग्य 18:21:34 करण--------- विष्टि भद्र 18:05:09 वार------------------------- शुक्रवार माह-----------------------------चैत्र चन्द्र राशि------------------- वृषभ सूर्य राशि--------------------- मेष रितु----------------------------वसंत आयन-------------------- उत्तरायण संवत्सर------------------------प्लव संवत्सर (उत्तर)---------आनंद विक्रम संवत-----------------2078 विक्रम संवत (कर्तक)---- 2077 शाका संवत----------------- 1943 वृन्दावन सूर्योदय--------------- 05:54:57 सूर्यास्त------------------ 18:43:19 दिन काल--------------- 12:48:21 रात्री काल--------------- 11:10:38 चंद्रोदय---------------- 08:26:30 चंद्रास्त------------------22:34:00 लग्न---- मेष 2°6' , 2°6' सूर्य नक्षत्र-------------------अश्विनी चन्द्र नक्षत्र-------------------रोहिणी नक्षत्र पाया--------------------लोहा *🚩💮🚩 पद, चरण 🚩💮🚩* वा----रोहिणी 10:06:05 वी----रोहिणी 16:52:47 वु----रोहिणी 23:38:48 *💮🚩💮 ग्रह गोचर 💮🚩💮* ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद ======================== सूर्य= मेष 02°52 ' अश्विनी , 1 चु चन्द्र = वृषभ 14°23 'रोहिणी 2 वा बुध = मीन 28°57' रेवती' 4 ची शुक्र= मेष 07°55, अश्विनी' 3 चो मंगल=मिथुन 01°30 ' मृगशिरा ' 3 का गुरु=कुम्भ 01°22 ' धनिष्ठा , 3 गु शनि=मकर 17°43 ' श्रवण ' 3 खे राहू=(व)वृषभ 19°10 'मृगशिरा , 3 वि केतु=(व)वृश्चिक 19°10 ज्येष्ठा , 1 नो *🚩💮🚩शुभा$शुभ मुहूर्त🚩💮🚩* राहू काल 10:43 - 12:19 अशुभ यम घंटा 15:31 - 17:07 अशुभ गुली काल 07:31 - 09:07 अशुभ अभिजित 11:54 -12:45 शुभ दूर मुहूर्त 08:29 - 09:20 अशुभ दूर मुहूर्त 12:45 - 13:36 अशुभ 💮चोघडिया, दिन चर 05:55 - 07:31 शुभ लाभ 07:31 - 09:07 शुभ अमृत 09:07 - 10:43 शुभ काल 10:43 - 12:19 अशुभ शुभ 12:19 - 13:55 शुभ रोग 13:55 - 15:31 अशुभ उद्वेग 15:31 - 17:07 अशुभ चर 17:07 - 18:43 शुभ 🚩चोघडिया, रात रोग 18:43 - 20:07 अशुभ काल 20:07 - 21:31 अशुभ लाभ 21:31 - 22:55 शुभ उद्वेग 22:55 - 24:19* अशुभ शुभ 24:19* - 25:42* शुभ अमृत 25:42* - 27:06* शुभ चर 27:06* - 28:30* शुभ रोग 28:30* - 29:54* अशुभ *नोट*-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार । शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥ रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार । अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥ अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें । उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें । शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें । लाभ में व्यापार करें । रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें । काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है । अमृत में सभी शुभ कार्य करें । *💮दिशा शूल ज्ञान---------------------पश्चिम* परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा काजू खाके यात्रा कर सकते है l इस मंत्र का उच्चारण करें-: *शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l* *भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll* *🚩 अग्नि वास ज्ञान -:* *यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,* *चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।* *दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,* *नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।।* *महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्* *नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।* 4 + 6 + 1 = 11 ÷ 4 = 3 शेष मृत्यु लोक पर अग्नि वास हवन के लिए शुभ कारक है l *💮 शिव वास एवं फल -:* 4 + 4 + 5 = 13 ÷ 7 = 6 शेष क्रीड़ायां = शोक,दुःख कारक *🚩भद्रा वास एवं फल -:* *स्वर्गे भद्रा धनं धान्यं ,पाताले च धनागम:।* *मृत्युलोके यदा भद्रा सर्वकार्य विनाशिनी।।* सांय 18:05 तक समाप्त स्वर्ग लोक = शुभ कारक *💮🚩 विशेष जानकारी 🚩💮* *रोहिणी व्रत * विनायक चतुर्थी * गुरु अंगददेव एवं हरकिशन देव पुण्य दिवस *💮🚩💮 शुभ विचार 💮🚩💮* दुर्जनस्य च सर्पस्य वरं सर्पो न दुर्जनः । सर्पो दंशति काले तु दुर्जनस्तु पदे पदे ।। ।।चा o नी o।। एक दुर्जन और एक सर्प मे यह अंतर है की साप तभी डंख मरेगा जब उसकी जान को खतरा हो लेकिन दुर्जन पग पग पर हानि पहुचने की कोशिश करेगा . *🚩💮🚩 सुभाषितानि 🚩💮🚩* गीता -: ज्ञानकर्म सन्यासयोग अo-4 बहूनि मे व्यतीतानि जन्मानि तव चार्जुन ।, तान्यहं वेद सर्वाणि न त्वं वेत्थ परन्तप ॥, श्री भगवान बोले- हे परंतप अर्जुन! मेरे और तेरे बहुत से जन्म हो चुके हैं।, उन सबको तू नहीं जानता, किन्तु मैं जानता हूँ॥,5॥ *💮🚩 दैनिक राशिफल 🚩💮* देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।। विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।। 🐏मेष कार्यस्थल पर सुधार होगा। योजना फलीभूत होगी। पूछ-परख रहेगी। निवेश लाभदायक रहेगा। सामाजिक कार्य करेंगे। पत्नी से आश्वासन मिलेगा। आपकी मिलनसारिता एवं धैर्य आपको परिवार एवं समाज में आदर-सम्मान दिलाएँगे। आय से अधिक व्यय न करें। 🐂वृष यात्रा, नौकरी व निवेश मनोनुकूल लाभ देंगे। डूबी हुई रकम प्राप्त हो सकती है। प्रसन्नता बनी रहेगी। अधिकारी सहयोग करेंगे। व्यापार के विस्तार हेतु प्रयास अधिक करना होंगे। शुभ कार्यों पर व्यय होगा। दूसरों के काम में हस्तक्षेप नहीं करें। 👫मिथुन यात्रा, नौकरी व निवेश मनोनुकूल रहेंगे। नवीन वस्त्राभूषण की प्राप्ति होगी। भाग्योन्नति होगी। प्रमाद न करें। पराक्रम क्षमता के कारण आपको यश की प्राप्ति होगी। मानसिक संतोष, प्रसन्नता रहने से कार्यक्षमता बढ़ेगी। व्यापार-व्यवसाय लाभप्रद रहेगा। 🦀कर्क वाणी संयम रखते हुए कार्य करें। आजीविका के क्षेत्र में प्रगति के योग हैं। व्यापार, नौकरी में रुकावटों का सामना करना पड़ सकता है। यात्रा न करें। आकस्मिक खर्च अधिक होंगे। कर्ज लेना पड़ सकता है। कुसंगति से बचें। स्वास्थ्य कमजोर रहेगा। 🐅सिंह अच्‍छी खबर मिलेगी। प्रसन्नता रहेगी। मान बढ़ेगा। धनार्जन होगा। थकान रहेगी। आजीविका में परिवर्तन अथवा नवीन अवसर प्राप्त हो सकेंगे। शिक्षा के क्षेत्र में सफलता मिलेगी। दांपत्य जीवन सुखद। आडंबरों से दूर रहें। आगंतुकों पर व्यय होगा। 🙍‍♀️कन्या रुके कार्य पूर्ण होंगे। घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। निवेश शुभ रहेगा। प्रमाद न करें। प्रसन्नता व आशाजनक वातावरण के कारण प्रयास सार्थक होंगे। भेंट-उपहार आदि की प्राप्ति संभव है। अर्थ संबंधी सुख मिलेगा। ⚖️तुला किसी आनंदोत्सव में भाग लेने का मौका मिलेगा। बौद्धिक कार्य सफल व पूर्ण होंगे। प्रसन्नता रहेगी। सही निर्णय ले पाएँगे। मित्रों से मदद प्राप्त होगी। पारिवारिक जीवन सुखद रहेगा। पूर्व में किए गए कार्यों के शुभ परिणाम देखने को मिलेंगे। वाहन सावधानी से चलाएँ। 🦂वृश्चिक पुराना रोग उभर सकता है। नकारात्मकता रहेगी। काम में मन नहीं लगेगा। झंजटों में न पड़ें। धैर्य रखें। वाणी पर नियंत्रण रखें। जोखिम के कार्यों से दूर रहना चाहिए। दिन मिश्र फलदायी रहेगा। आर्थिक तंगी होगी। संतान के व्यवहार से दुःख होगा। व्यय बढ़ेंगे। 🏹धनु यात्रा, निवेश व नौकरी मनोनुकूल रहेंगे। उत्तेजना पर नियंत्रण रखें। वैवाहिक प्रस्ताव मिल सकता है। सकारात्मक विचारों के कारण प्रगति के योग आएँगे। कार्यपद्धति में विश्वसनीयता बनाएँ रखें। मित्रों में वर्चस्व बढ़ेगा। आजीविका में नए प्रस्ताव मिलेंगे। 🐊मकर आर्थिक चिंता रहेगी। व्यापार-व्यवसाय सामान्य चलेगा। जोखिम उठाने व जल्दबाजी से बचें। दुष्टजन हानि पहुंचा सकते हैं। पुराना रोग उभर सकता है, धैर्य रखें। निजीजनों में असंतोष का वातावरण रहेगा। भूमि-आवास की समस्याओं में वृद्धि होगी। 🍯कुंभ परीक्षा व साक्षात्कार आदि में सफलता मिलेगी। संपत्ति के बड़े सौदे बड़ा लाभ दे सकते हैं। प्रमाद न करें। ईश्वर पर आस्था बढ़ेगी। साहस, पराक्रम में वृद्धि होगी। व्यापार में नए प्रस्तावों से लाभ की संभावना है। शीत संबंधी विकार हो सकते हैं। 🐟मीन घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। लाभ होगा। बुद्धि एवं तर्क से कार्य के प्रति सफलता के योग बनेंगे। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। धनार्जन होगा। तंत्र-मंत्र में रुचि रहेगी। राजकीय सहयोग मिलेगा। विवाद को बढ़ावा न दें। व्यापार-व्यवसाय सामान्य चलेगा। 🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏 🌺🌺🌺🌺🙏🌺🌺🌺🌺

+46 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 55 शेयर