astro puja Jul 13, 2019

🌻🌺🌻जय श्री कृष्ण !!🌻🌺🌻 ♒️♒️♒️♒️♒️ 🌹🌻🌹श्री शनि चालीसा 🌹🌻🌹 ♒️♒️♒️♒️♒️♒️♒️♒️♒️♒️♒️♒️ 🙏॥दोहा॥🙏 🌺🌿🌺🌿🌺🌿🌺🌿🌺🌿🌺🌿🌺 जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल। दीनन के दुख दूर करि, कीजै नाथ निहाल॥ जय जय श्री शनिदेव प्रभु, सुनहु विनय महाराज। करहु कृपा हे रवि तनय, राखहु जन की लाज॥ 🌺🌿🌺🌿🌺🌿🌺🌿🌺🌿🌺🌿🌺🌿🌺 जयति जयति शनिदेव दयाला। करत सदा भक्तन प्रतिपाला॥ चारि भुजा, तनु श्याम विराजै। माथे रतन मुकुट छबि छाजै॥ परम विशाल मनोहर भाला। टेढ़ी दृष्टि भृकुटि विकराला॥ कुण्डल श्रवण चमाचम चमके। हिय माल मुक्तन मणि दमके॥1॥ 🌻🌹🌻 कर में गदा त्रिशूल कुठारा। पल बिच करैं अरिहिं संहारा॥ पिंगल, कृष्णो, छाया नन्दन। यम, कोणस्थ, रौद्र, दुखभंजन॥ सौरी, मन्द, शनी, दश नामा। भानु पुत्र पूजहिं सब कामा॥ जा पर प्रभु प्रसन्न ह्वैं जाहीं। रंकहुँ राव करैं क्षण माहीं॥2॥🌻🌹🌻 पर्वतहू तृण होई निहारत। तृणहू को पर्वत करि डारत॥ राज मिलत बन रामहिं दीन्हयो। कैकेइहुँ की मति हरि लीन्हयो॥ बनहूँ में मृग कपट दिखाई। मातु जानकी गई चुराई॥ लखनहिं शक्ति विकल करिडारा। मचिगा दल में हाहाकारा॥3॥🌻🌹🌻 रावण की गतिमति बौराई। रामचन्द्र सों बैर बढ़ाई॥ दियो कीट करि कंचन लंका। बजि बजरंग बीर की डंका॥ नृप विक्रम पर तुहि पगु धारा। चित्र मयूर निगलि गै हारा॥ हार नौलखा लाग्यो चोरी। हाथ पैर डरवाय तोरी॥4॥🌻🌹🌻 भारी दशा निकृष्ट दिखायो। तेलिहिं घर कोल्हू चलवायो॥ विनय राग दीपक महं कीन्हयों। तब प्रसन्न प्रभु ह्वै सुख दीन्हयों॥ हरिश्चन्द्र नृप नारि बिकानी। आपहुं भरे डोम घर पानी॥ तैसे नल पर दशा सिरानी। भूंजीमीन कूद गई पानी॥5॥🌻🌹🌻 श्री शंकरहिं गह्यो जब जाई। पारवती को सती कराई॥ तनिक विलोकत ही करि रीसा। नभ उड़ि गयो गौरिसुत सीसा॥ पाण्डव पर भै दशा तुम्हारी। बची द्रौपदी होति उघारी॥ कौरव के भी गति मति मारयो। युद्ध महाभारत करि डारयो॥6॥🌻🌹🌻 रवि कहँ मुख महँ धरि तत्काला। लेकर कूदि परयो पाताला॥ शेष देवलखि विनती लाई। रवि को मुख ते दियो छुड़ाई॥ वाहन प्रभु के सात सजाना। जग दिग्गज गर्दभ मृग स्वाना॥ जम्बुक सिंह आदि नख धारी।सो फल ज्योतिष कहत पुकारी॥7॥🌻🌹🌻 गज वाहन लक्ष्मी गृह आवैं। हय ते सुख सम्पति उपजावैं॥ गर्दभ हानि करै बहु काजा। सिंह सिद्धकर राज समाजा॥ जम्बुक बुद्धि नष्ट कर डारै। मृग दे कष्ट प्राण संहारै॥ जब आवहिं प्रभु स्वान सवारी। चोरी आदि होय डर भारी॥8॥🌻🌹🌻 तैसहि चारि चरण यह नामा। स्वर्ण लौह चाँदी अरु तामा॥ लौह चरण पर जब प्रभु आवैं। धन जन सम्पत्ति नष्ट करावैं॥ समता ताम्र रजत शुभकारी। स्वर्ण सर्व सर्व सुख मंगल भारी॥ जो यह शनि चरित्र नित गावै। कबहुं न दशा निकृष्ट सतावै॥9॥🌻🌹🌻 अद्भुत नाथ दिखावैं लीला। करैं शत्रु के नशि बलि ढीला॥ जो पण्डित सुयोग्य बुलवाई। विधिवत शनि ग्रह शांति कराई॥ पीपल जल शनि दिवस चढ़ावत। दीप दान दै बहु सुख पावत॥ कहत राम सुन्दर प्रभु दासा। शनि सुमिरत सुख होत प्रकाशा॥10॥🌻🌹🌻 🌺🌿🌺🌿🌺🌿🌺🌿🌺🌿🌺🌿🌺🌿🌺 🙏॥दोहा॥🙏 पाठ शनिश्चर देव को, की हों भक्त तैयार। करत पाठ चालीस दिन, हो भवसागर ।। ♒️♒️♒️♒️♒️♒️♒️♒️♒️♒️♒️♒️♒️♒️♒️♒️ 🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹 🔔🔔🚩🔔🔔🚩🔔🔔🚩🔔🔔🚩🔔🔔

+248 प्रतिक्रिया 90 कॉमेंट्स • 13 शेयर
astro puja Jul 6, 2019

+201 प्रतिक्रिया 55 कॉमेंट्स • 85 शेयर
astro puja Jul 6, 2019

🚩🚩🚩 धर्मो रक्षति रक्षितः 🚩🚩🚩 गौर से देखिये इस वीडियो को .. .. .. .. और पहचानने की कोशिश करें वो कौन हैं जो नकली मुखौटों की फैक्ट्री चलाते हैं और किस तरह से कमेंट के जरिए लड़ने के लिए तैयार बैठे हैं !!! सावधान यूजर्स... आए दिन मंदिर ऐप पर हमारे-आपके चारों तरफ मुखौटों की ये भीड़ नज़र आती रहती है। स्थिति इतनी बिगड़ गई है कि किसके चेहरे पर कौन-सा मुखौटा चढ़ा हुआ है, ये हम नहीं पहचान पाते । यहां कुछ यूजर्स झूठे चेहरे को लेकर घूम रहे हैं। मानों हम नकली व्यक्तित्व को ढोए जा रहे हैं। मुखौटे के ऊपर मुखौटा! इन मुखौटों ने हम सब के बीच शक, फ़रेब और धोखे की दीवार खड़ी कर दी है। अब सारे मुखौटों को उतारना पड़ेगा। मुखौटा नहीं, सिर्फ असली चेहरा !! माय मंदिर से अपील...!!! 🙏🙏🙏🙏🙏 बहुत से यूजर्स ने पहले भी आपसे बार-बार निवेदन किया था कि यूजर्स को सशक्त ब्लाक ऑफसन दिया जाये । लेकिन आपने संज्ञान नहीं लिया । वर्तमान में आपके द्वारा दिया गया ब्लाक ऑफसन बिल्कुल बेकार है जो कारगर साबित नहीं हो पा रहा है । अधार्मिक पोस्ट,अभद्र टिप्पणी और अराजकता को रोकने का एक ही उपाय है । सशक्त ब्लाक ऑफसन । ब्लाक का मतलब ब्लाक होना चाहिए । ब्लाक करने वाला और ब्लाक होने वाला एक दूसरे को दिखाई ना दे । जैसे फेसबुक या अन्य ऐप में होता है । 🙏🙏🙏 सबसे बडी़ बात आप हमें अपना हितैषी समझें और अन्यथा न लें , क्योंकि हम सबका उद्देश्य इस ऐप की भलाई है , इसका अहित नहीं । उम्मीद है आप हम सबकी भावनायें समझेंगे । आभार । 🙏🙏🙏 माय मन्दिर ऐप की एक हितैषी यूजर ! 🚩 🚩 🚩 🚩 🚩 🚩 🚩 🚩 🚩 🚩 🚩

+88 प्रतिक्रिया 32 कॉमेंट्स • 76 शेयर
astro puja Jul 6, 2019

+153 प्रतिक्रिया 20 कॉमेंट्स • 9 शेयर
astro puja Jul 3, 2019

🌻🍃🌻माय मन्दिर टीम व सभी सदस्यों को आज गुप्त नवरात्रि के अति पावन दिवस प्रारम्भ होने पर शुभकामनायें !🌻🍃🌻 🌹गुप्त नवरात्री पूजा तांत्रिक पूजा के लिए भारत के कई हिस्सों में प्रसिद्ध है। यह शक्ति की प्राप्ति के लिए तथा धन, समृद्धि , ज्ञान आदि प्राप्त करने के लिए अति उत्तम जाती है।🌹 🌹 देवी दुर्गा हर प्रकार के संकट उन्मूलन के लिए जानी जाती हैं । देवी दुर्गा व्यथित लोगों के प्रति दया भावना रखती हैं और मनोवांछित फल प्राप्ति में सहायक होती हैं । अपने भक्तों के प्रति सदैव कृपालु रहती हैं ।🌹 🌹गुप्त नवरात्री के दौरान कई साधक महाविद्या (तंत्र साधना) के लिए मां काली, तारा देवी, त्रिपुर सुंदरी, माँ भुवनेश्वरी, माता छिन्नमस्ता, त्रिपुर भैरवी, देवी धूम्रावती, माता बगलामुखी, देवी मातंगी और कमला देवी की पूजा करते हैं।🌹 🌻माँ दुर्गा को उसके समस्त रूपों में नमन !🌻 🌹🌻🌹 जय माता दी !🌹🌻🌹

+310 प्रतिक्रिया 64 कॉमेंट्स • 106 शेयर
astro puja May 23, 2019

🌻श्री कृष्णाष्टकम्🌻 वसुदॆव सुतं दॆवं कंस चाणूर मर्दनम् । दॆवकी परमानन्दं कृष्णं वन्दॆ जगद्गुरुम् ॥१॥ अतसी पुष्प सङ्काशं हार नूपुर शॊभितम् । रत्न कङ्कण कॆयूरं कृष्णं वन्दॆ जगद्गुरुम् ॥२॥ कुटिलालक संयुक्तं पूर्णचन्द्र निभाननम् । विलसत् कुण्डलधरं कृष्णं वन्दॆ जगद्गुरम् ॥३॥ मन्दार गन्ध संयुक्तं चारुहासं चतुर्भुजम् । बर्हि पिञ्छाव चूडाङ्गं कृष्णं वन्दे जगद्गुरुम् ॥ ४ ॥ उत्फुल्ल पद्मपत्राक्षं नील जीमूत सन्निभम् । यादवानां शिरॊरत्नं कृष्णं वन्दॆ जगद्गुरुम् ॥५॥ रुक्मिणी कॆलि संयुक्तं पीताम्बर सुशॊभितम् । अवाप्त तुलसी गन्धं कृष्णं वन्दॆ जगद्गुरुम् ॥६॥ गॊपिकानां कुचद्वन्द कुङ्कुमाङ्कित वक्षसम् । श्रीनिकॆतं महॆष्वासं कृष्णं वन्दॆ जगद्गुरुम् ॥७॥ श्रीवत्साङ्कं महॊरस्कं वनमाला विराजितम् । शङ्खचक्र धरं दॆवं कृष्णं वन्दॆ जगद्गुरुम् ॥८॥ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 🚩|| इति श्री कृष्णाष्टकम् ||🚩

+267 प्रतिक्रिया 202 कॉमेंट्स • 19 शेयर
astro puja Apr 25, 2019

🙏🙏सर्वदेवाः स्थिता देहे सर्वदेवमयी हि गौ । 🙏🙏 🔔🔔गाय की सेवा और उसके स्पर्श के कैसे दूर होती है बड़ी से बड़ी समस्या ?🔔🔔 • हिन्दू धर्म में गाय को माँ का रूप माना गया है। गौ माता में तैंतीस कोटि देवी देवताओं का वास है। गौ माता अन्नपूर्णा देवी है , कामधेनु है। मनोकामना पूर्ण करने वाली है। गौ माता के गोबर में लक्ष्मी जी का वास होता है। • गौ माता के मूत्र में गंगाजी का वास होता है। गौ माता की एक आंख में सुर्य व दूसरी आंख में चन्द्र देव का वास होता है। गौ माता की पूंछ में हनुमानजी का वास होता है। • गाय के गले में बंधी घंटी बजने से गौ आरती होती है। गौ माता के खुर में नागदेवता का वास होता है। जहां गौ माता विचरण करती है उस जगह सांप बिच्छू नहीं आते। • गौ माता का दूध अमृत है। गौ माता के दूध में सुवर्ण तत्व पाया जाता है जो रोगों की क्षमता को कम करता है। गौ माता के दूध ,घी ,मक्खन ,दही ,गोबर ,गोमुत्र से बने पंचगव्य हजारों रोगों की दवा है। इनके सेवन से असाध्य रोग मिट जाते है। • गौ माता की पीठ पर एक उभरा हुआ कूबड़ होता है। उस कूबड़ में सूर्य केतु नाड़ी होती है। रोजाना सुबह आधा घंटा गौ माता के कूबड़ में हाथ फेरने से रोगों का नाश होता है। 🙏गोमाता को एक ग्रास खिला दीजिए तो वह सभी देवी-देवताओं को पहुँच जाएगा इसीलिए धर्मग्रंथ बताते हैं समस्त देवी-देवताओं एवं पितरों को एक साथ प्रसन्न करना हो तो गोभक्ति-गोसेवा से बढ़कर कोई अनुष्ठान नहीं है। 🙏 🌻🌻जय गौमाता !! जय गोपाल !!!🌻🌻

+223 प्रतिक्रिया 134 कॉमेंट्स • 10 शेयर