+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

पीपल का पेड़ करेगा आपके दुःख दूर पीपल का पेड़ करेगा आपके दुःख दूर गीता के अनुसार भगवान श्री कृष्णा ने कहा है कि “ मै ( श्री कृष्ण ) वृक्षों में पीपल हूँ और जो भी पुरे श्रद्धा के साथ इस वृक्ष की सेवा करता है उसे लाभ की अनुभूति अवश्य होगी ”. इसिलिया ग्रंथो में वृक्षों में पीपल के पेड़ को देवो का देव भी कहा गया है. पीपल की सेवा के लिए आप प्रत्येक शनिवार को पीपल के वृक्ष पर दूध, जल, शक्कर, शहद, काले तिल, गंगा जल और गुड को जल में मिला का चढ़ाये, इसके साथ आप एक आटे के दीपक में सरसों का तेल डाल कर उसे जलाये, दीपक में आप एक लोहे की कील व 11 साबुत उड़द की दाल के दाने भी डाल दे और धुप जला कर दिये के साथ पीपल के पेड़ को अर्पित करे. इसके बाद आप पीपल के वृक्ष की 11 बार परिकर्मा करते हुए, अपने बाये हाथ से पीपल के वृक्ष की जड़ो को स्पर्श करे और अपने माथे पर लगाये. इन उपायों को करने से भगवान शनि देव की कृपा आप पर बनी रहेगी और आप दुखो से दूर रह पाओगे. ये उपाय आपको निमंलिखित समस्याओ से दूर रखेंगे. शत्रुओ से परेशानी : अगर आपकी किसी के साथ शत्रुता है और आपका शत्रु आपको परेशान कर रहा है तो आप ऊपर दिए हुए उपायों को करे और साथ ही आप पीपल के वृक्ष के नीचे बैठ कर हनुमान चालीसा का भी पाठ जरुर करे. इस तरह से आपको आपके शत्रुओ से जुडी सभी परेशानियों से मुक्ति मिलेगी साथ ही आपके शत्रुओ का नाश होगा. कन्या का दुःख में होना : अगर किसी कन्या की जन्म पत्रिका में प्रबल वैधव्य योग है जिसकी वजह से उसको अपने जीवन में दुखो का सामना करना पड़ रहा है तो उस कन्या को ऊपर दिए गये उपायों को पुरे मन से कम से कम 1 साल तक के लिए जरुर करना चाहिए, तभी उसके दुखो का निवारण होगा और उसके जीवन में भी सुख होंगे. ब्रहस्पति देव का अशुभ स्थिति में होना : अगर आपकी राशी में ब्रहस्पति देव जी मजबूत स्थिति में नही है तो आप ब्रहस्पति देव की अशुभता को दूर करने के लिए केले के और पीपल के वृक्षों की नियमित रूप से सेवा करे. ऐसा करने से ब्रहस्पति देव की स्थिति मजबूत होगी और आपको भी अपने जीवन में इसका लाभ मिलेगा. विशेष कार्य को सिद्ध करने के लिए : अगर आपका कोई विशेष कार्य संपन्न नही हो पा रहा है तो आप उसे पूरा करने के लिए शनिवार के दिन पीपल के वृक्ष के पास जाये और पीपल के वृक्ष से अपने कार्य को पूरा करने के लिए निवदेन करे, उसके बाद आप ऊपर दिए गये उपाय को करे, साथ ही आप पीपल के पेड़ के सामने एक बड़ी सी लोहे की कील को गाड दे, आपका कार्य जरुर पूरा होगा और जब आपका कार्य पूरा हो जाये तो आप उस कील को वापस निकल दे. शरीर के दर्द को दूर करने के लिए : अगर आप अपने हाथो – पैरो के दर्द और कमर के दर्द से परेशान है साथ ही आपके शरीर में भी दर्द होता है और आप थकान महसूस करते है तो आप एक काले कपडे में पीपल के वृक्ष की जड़ या फिर उसकी लकड़ी को बंध ले और उसे आप अपने बिस्तर के सिरहाने रख ले. लेकिन इसके साथ साथ आप ऊपर दिए के उपायों के अनुसार पीपल की सेवा करना न भूले. कुछ समय के पश्चात आपको महसूस होगा कि आपके शरीर का दर्द खत्म हो रहा है और आप दर्द मुख हो रहे है. लगातार हो रहे नुकसान को रोकने के लिए : यदि आपको आपके हर काम में नुकसान का सामना करना पड़ रहा है और आपका धन भी धीरे धीरे कम होता जा रहा है तो आप निराश न हो बल्कि आप पीपल के वृक्ष का एक पत्ता ले और उस पर ॐ लिख कर अपनी तिजोरी या उस स्थान पर रख ले जहाँ आप अपना धन रखते है. ऐसा आप कम से कम 8 शनिवार जरुर करे, कुछ समय बात आपको आभास होगा कि आपका नुकसान होना बंद हो गया है और आपका धन भी बढ़ने लगा है. जीवन की समस्याओ को दूर करने के लिए : यदि आपके सभी कार्यो में बाधाये उत्तपन होती है जिसकी वजह से आपका कोई भी कार्य सफल नही हो रहा है और आपको हर जगह असफलता ही हाथ लग रही है तो आप शनिवार के दिन पीपल के पेड़ के पास जाये और पीपल के वृक्ष के 8 पत्तो को एक साथ एक काले धागे से, एक गाँठ में बाँध ले. फिर जब आप अगले शनिवार को वृक्ष के पास जाये तो आप एक गांठ और लगा दे पर आप पहली वाली गांठ को उतार कर बहते हुए पानी में डाल दे, ऐसा करने से आपके जीवन की सारी समस्याए भी एक एक करके बहते पानी में गांठो की तरह ही बह जाएगी. शिवलिंग की पूजा : शिवलिंग शिव जी की प्रतिमा मानी जाती है तो उनकी पूजा के लिए हर सोमवार के दिन पीपल के वृक्ष के नीचे शिवलिंग को रख दे. उसके बाद आप ॐ नमः शिवाय का नियमित रूप से जाप करे और शिवलिंग का जलाभिषेक करे. ऐसा करने से आपके और आपके परिवार के जीवन से सभी दुखो का नाश होगा और आपके परिवार में सुख समृद्धि का भी वास होगा.

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 7 शेयर

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर

चट मंगनी पट ब्याह करवाने वाले यह हैं सात उपाय शादी की शहनाईयां और गाजे का धुन इन दिनों हर युवा दिलों को गुदगुदा रहा है। कुंवारे लड़के लड़कियां इन धुनों को सुनकर अपनी शादी के सपने संजो रहे हैं। अगर आपके भी अरमान जग उठे हैं और आप भी अपने जीवनसाथी को पाने की चाहत रखते हैं तो झट मंगनी पट शादी करवाने वाले सात उपायों को आजामाएं। यह उपाय ऐसे हैं जिनसे शादी में आने वाली विघ्न बाधाएं दूर होती हैं और व्यक्ति को उनका जीवनसाथी मिल जाता है। झट मंगनी और पट शादी करवाने वाले यह सात उपाय ऐसे हैं जिन्हें लड़का और लड़की दोनों ही आजमा सकते हैं। प्रेमी-प्रेमिका भी अपनी शादी में आ रही बाधा दूर करने के लिए इस उपाय को आजमा सकते हैं। हर महीने के दो पक्ष होते हैं कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष। आपको करना यह है कि शुक्ल पक्ष जब आए तब पहले सोमवार को भगवान शिव का व्रत रखें। श्वेतार्क के वृक्ष की धूप, दीप से पूजा करें। इसके बाद इसके आठ पत्तों को तोड़कर सात पत्तों से थाली तैयार करें। आठवें पत्तल पर अपना नाम लिखकर भगवान शिव के सामने अर्पित कर दें। हर महीने के दो पक्ष होते हैं कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष। आपको करना यह है कि शुक्ल पक्ष जब आए तब पहले सोमवार को भगवान शिव का व्रत रखें। श्वेतार्क के वृक्ष की धूप, दीप से पूजा करें। इसके बाद इसके आठ पत्तों को तोड़कर सात पत्तों से थाली तैयार करें। आठवें पत्तल पर अपना नाम लिखकर भगवान शिव के सामने अर्पित कर दें। जब तक आपके विवाह की बात पक्की नहीं हो जाती है इस उपाय को करते रहें। कहते हैं इससे मनचाहा जीवनसाथी प्राप्त होता और जल्दी विवाह के योग बनते हैं। अगर किसी लड़की की शादी की बात बनते-बनते रह जाती है तो बाधा दूर करने के लिए लड़की एक आसान सा उपाय कर सकती है। जब लड़की के पिता, भाई या दूसरे रिश्तेदार शादी की बात करने जा रहे हों उस समय अपने बाल खुले रखें। लाल रंग के वस्त्र पहनकर अपने हाथों से उन लोगों को मिठाई खिलाएं जो विवाह की बात तय करने जा रहे हों। इस बात का ध्यान रखें कि जब तक विवाह की बात करने गए लोग घर लौटकर नहीं आ जाएं अपने बालों को खुला ही रखें। ऐसा नहीं है कि लड़की की शादी में ही विघ्न बाधाएं आती हैं। कई बार लड़कों के विवाह में भी काफी आड़चनें आती हैं और काफी उम्र हो जाने पर भी विवाह की बात पक्की नहीं हो पाती है। इस तरह की समस्या से निजात पाने के लिए लड़के हनुमान ही की शरण ले सकते हैं। मंगलवार के दिन हनुमान मंदिर में जाकर हनुमान जी की पूजा करें और उनके माथे से थोड़ा सा सिंदूर ले जाकर भगवान राम और देवी सीता के चरणों में अर्पित करते हुए शीघ्र विवाह की प्रार्थना करें। 21 मंगलवार तक इस उपाय को करने से विवाह में आने वाली अड़चनें दूर होती हैं और जल्दी ही जीवनसाथी से मिलन होता है।शास्त्रों में दान को बहुत ही महान बताया गया है। इससे न सिर्फ देवी-देवता प्रसन्न होते हैं बल्कि ग्रहों की भी शांति हो जाती है। विवाह में बाधा दूर करने के लिए एक उपाय ऐसा है जिसे लड़का-लड़की दोनों कर सकते हैं। सोमवार के दिन एक किलो 200 ग्राम चने की दाल और सवा लीटर दूध किसी जरुरतमंद को दान करें। यह उपाय तब तक करना चाहिए जब तक कि आपका विवाह तय नहीं हो जाता है।गुरुवार के दिन जब पुष्य नक्षत्र आता है तब उसे गुरुपुष्य योग कहते हैं। इसी प्रकार से रविवार के दिन पड़ने वाले पुष्य नक्षत्र को रविपुष्य योग कहते हैं। यह बड़े ही शुभ योग माने गए हैं। इन दोनों योगों के अलावा अक्षय तृतीया, श्रावण मास और नवरात्र में भी विवाह बाधा दूर करने के उपाय कर सकते हैं। आपको करना यह है कि इन दिनों में 'ओम ह्रीं गौर्य नमः' मंत्र का ध्यान करके। हे गौरी शंकरार्घांगि यथा त्वं शंकर प्रिया। तथा मां कुरू कल्याणि कान्तकांन्तां सुदुर्लभम।। इस मंत्र का 51 हजार या सवा लाख जप करें। इससे विवाह के योग प्रबल होते हैं।जिस कन्या के विवाह में बाधा आ रही हो वह एक आसान सा उपाय कर सकती हैं। किसी भी पूर्णिमा तिथि के दिन वट पक्ष की पूजा करें। पूजा के बाद शीघ्र विवाह की कामना मन में लिए हुए 108 बार वृक्ष की परिक्रमा करें। वट वृक्ष का विवाह और वैवाहिक जीवन के सुख के मामले में बड़ा ही महत्व है। देश के कई भागों में सुहागन स्त्रियां सुहाग की लंबी उम्र के लिए वट वृक्ष की पूजा करती हैं। लड़कों के विवाह में बाधा दूर करने के लिए एक बड़ा ही सिद्घ मंत्र दुर्गा सप्तशती में बताया गया है। 'पत्नीं मनोरमां देहि मनोवृत्तानुसारिणीम‍्। तारिणीं दुर्गसंसार सागरस्य कुलोद‍्भवाम‍्।।' प्रतिदिन प्रातः काल स्नान करके मां दुर्गा की तस्वीर या मूर्ति की लाल फूल से पूजा करें। इसके बाद इस मंत्र का कम से कम 5 माला जप करें। इस उपाय से शीघ्र विवाह भी होता है और जीवनसाथी के साथ मधुर संबंध बना रहता है।

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

14 तारीख को जन्म लेने वाले लोग- इस का स्वामी ग्रह है बुध। बुध ग्रह को ज्योतिष शास्त्र के अनुसार नौ ग्रहों में राजकुमार का पद प्राप्त है। अत: इस अंक वाले लोगों को बुध वैसा ही वैभव और जीवन स्तर प्रदान करता है। अंक 5 वाले काफी स्टाईलिश होते हैं और वैसे ही डिजाइनर कपड़े पहनना पसंद करते हैं। सामान्यत: इनकी सभी से बहुत जल्द दोस्ती हो जाती है और ये सभी से अच्छी दोस्ती निभा सकते हैं। दोस्तों के लिए यह जितने उदार और शुभचिंतक होते हैं ठीक इसके विपरीत दुश्मनों के लिए उतने ही बुरे। इन लोगों के लिए बुधवार और शुक्रवार शुभ होते हैं।रंगों में इनके लिए हल्का ब्राउन, सफेद और चमकदार बेहद लाभदायक है।इन्हें गहरे रंग के कपड़े कम से कम पहनना चाहिए।इनके लिए 5, 14, 23 तारीखें भाग्यशाली होती हैं।

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर