Ansouya M 🍁 May 8, 2021

🌹🙏जय सिया राम 🌹🙏🌹 🌹🙏🌹🙏🌹🌹जय श्री राधे कृष्ण 🙏🙏🕉 🌹🌹🙏🙏🙏🙏🙏🙏शुभ रात्रि आप सभी भक्ततों को जी 🌷🙏🌷🙏 🙏🙏🙏🙏🙏🙏 🙏🙏⚛️ साधू का उपदेश ⚛️ ---------🙏🙏 एक बार एक स्वामी जी भिक्षा माँगते हुए एक घर के सामने पहुँचे और गुहार लगायी - " भिक्षां देहि, माते !" घर से एक महिला बाहर आयी। उसने उनकी झोली मे भिक्षा डाली और कहा, “महात्माजी, कोई उपदेश दीजिए!” स्वामीजी बोले, “आज नहीं, कल दूँगा।” दूसरे दिन स्वामीजी ने पुन: उस घर के सामने आवाज दी –" भिक्षां देहि, माते !🙏🙏 उस घर की स्त्री ने उस दिन खीर बनायीं थी, जिसमे बादाम- पिस्ते भी डाले थे, वह खीर का कटोरा लेकर बाहर आयी। स्वामी जी ने अपना कमंडल आगे कर दिया। वह स्त्री जब खीर डालने लगी, तो उसने देखा कि कमंडल में गोबर और कूड़ा भरा पड़ा है। उसके हाथ ठिठक गए। वह बोली, “महाराज ! यह कमंडल तो गन्दा है।”🙏 स्वामीजी बोले, “हाँ, गन्दा तो है, किन्तु खीर इसमें डाल दो।” स्त्री बोली, “नहीं महाराज, तब तो खीर भी ख़राब हो जायेगी । दीजिये ! मैं कमंडल को शुद्ध कर लाती हूँ।”🙏🙏🙏 स्वामीजी बोले, मतलब जब यह कमंडल साफ़ हो जायेगा, तभी खीर डालोगी न?” स्त्री ने कहा - “जी महाराज !” स्वामीजी बोले - " बेटी ! तब तो तुम बड़ी बुद्धिमान हो, लेकिन एक बात बताओ, मेरे उपदेश की खीर लेने के लिए तुमने अपना कमण्डल शुद्ध किया कि नहीं ? अपने मन को धोया कि नहीं ?" स्वामीजी आगे बोले - “मेरा भी यही उपदेश है। मन में जब तक चिन्ताओ का कूड़ा-कचरा और बुरे संस्करो का गोबर भरा है, तब तक उपदेशामृत का कोई लाभ न होगा" 🌹जय श्री राम🌹 🙏🙏जय बजरंग बली हनुमान 🙏 🙏🙏सिया राम मै सब जग जानी करउँ प्रनाम जोरि जुग पाणी 🙏🙏🌹🌹🕉

+233 प्रतिक्रिया 72 कॉमेंट्स • 59 शेयर
Ansouya M 🍁 May 8, 2021

🌹🙏🌹🌹श्री गणेशाय नमः 🌹🙏 🙏🌹🙏🌹🌹जय श्री राधे कृष्ण 🙏🙏🕉 🌹🙏🙏🙏🙏🙏जय श्री राम जय श्री राम जय श्री राम जय श्री राम जय श्री राम जय श्री राम जय श्री राम 🙏 🙏🙏जय बजरंगबली हनुमान 🙏 🌹🙏🌹 🙏🌹जय हनुमान गुण सागर जय कपीस तोहूँ लोक उजागर ।। 🙏🙏राम दूत अतूलित बल धामा अंजनि पूत्र पवन सूत नामा ।। 🌹🙏🌹🌹🌹🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻 सोरठा:- जो सुमिरत सिधि होइ गन नायक करिबर बदन। करउ अनुग्रह सोइ बुद्धि रासि सुभ गुन सदन॥ १ जिन्हें स्मरण करने से सब कार्य सिद्ध होते हैं, जो गणों के स्वामी और सुंदर हाथी के मुख वाले हैं, वे ही बुद्धि के राशि और शुभ गुणों के धाम श्री (गणेश जी) आप सभी पर कृपा करें. 🕉🕉🙏🌹🙏🙏🙏🕉🕉🕉🕉 मूक होइ बाचाल पंगु चढइ गिरिबर गहन। जासु कृपाँ सो दयाल द्रवउ सकल कलि मल दहन॥ २ जिनकी कृपा से गूंगा बहुत सुंदर बोलने वाला हो जाता है और लंगड़ा -लूला दुर्गम पहाड़ पर चढ़ जाता है, वे कलियुग के सब पापों को जला डालने वाले दयालु (भगवान) आप सभी पर द्रवित हों (दया करें). 🕉🕉🕉🙏🙏🙏🌹🌹🌹🕉🕉🌹🙏 नील सरोरुह स्याम तरुन अरुन बारिज नयन। करउ सो मम उर धाम सदा छीरसागर सयन॥ ३ जो नील कमल के समान श्यामवर्ण हैं, पूर्ण खिले हुए लाल कमल के समान जिनके नेत्र हैं और जो सदा क्षीरसागर में शयन करते हैं, वे भगवान् (नारायण) मेरे तथा सभी के हृदय में निवास करें. 🕉🕉🕉🌹🙏🌹🌹🌹🙏🕉🕉🌹🕉 कुंद इंदु सम देह उमा रमन करुना अयन। जाहि दीन पर नेह करउ कृपा मर्दन मयन॥ ४ जिनका कुंद के पुष्प और चंद्रमा के समान (गौर) शरीर है, जो पार्वती के प्रियतम और दया के धाम हैं और जिनका दीनों पर स्नेह है, वे कामदेव का मर्दन करने वाले (शंकर जी) मुझ पर तथा सभी पर कृपा करें. 🕉🕉🕉🕉🙏🌹🌹🌹🌹🌹🌹 बंदउ गुरु पद कंज कृपा सिंधु नररूप हरि। महामोह तम पुंज जासु बचन रबि कर निकर॥ ५ मैं उन गुरु महाराज के चरण कमल की वंदना करता हूं, जो कृपा के समुद्र और नर रूप में श्रीहरि हैं और जिनके वचन महामोह रूपी घने अंधकार के नाश करने के लिए सूर्य- किरणों के समूह हैं. 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 🙏🌹सुख और शान्ति की कामना करते हुए सादर सुभ प्रभात वनदन आप सभी भक्ततों को जी 🌷🙏🌷🙏 आप सभी सुखी रहे आनंदित रहें जी 🌹🙏🌹🙏🙏🙏🌹🙏🌹

+374 प्रतिक्रिया 104 कॉमेंट्स • 49 शेयर
Ansouya M 🍁 May 7, 2021

🙏🌹श्री गणेशाय नमः 🌹🙏🌹 🙏🙏🌹🙏🌹🌹🌹जय श्री राधे कृष्ण 🙏🙏🕉 🙏🌹🙏🌹🙏🙏जय माता दी 🌹🌹🙏🌹🌹🙏🌹🌹🌹🌹🌹सभी भाई बहनों को संद्या की स्नेहमयी जय माता दी 🙏🌹 जय माता दी 🙏🌹 🙏🌹🙏 🌹🙏सर्व मंगल मागल्ये शिवे सर्वाथ साघिके शरणये त्रयमबके गौरी नारायणी नमोस्तुते 🌹 🙏हे जगजननी, रणचण्डी, रण में शत्रुनाशिनी माँ दुर्गे।🌹🌹 जग के कण-कण में व्याप्त महाशक्ति तुम चिंगारी। दृढ़ निश्चय की निर्भय प्रतिमा, जिससे डरते अत्याचारी। हे शक्ति स्वरूपा, विश्ववन्द्य, कालिका, माँ दुर्गे। तुम परब्रम्ह की परम ज्योति दुष्टों से जग की त्राता हो ---' पर भावुक भक्तों की कल्याणी परमवत्सला माता हो। निशिचर विदारिणी, जग विहारिणि, स्नेहदायिनी माँ दुर्गे आप को बारम्बार प्रणाम है।।।🌹🙏🙏🙏🙏🙏🌹🌹⚛️ साधू का उपदेश ⚛️ ------------------------- एक बार एक स्वामी जी भिक्षा माँगते हुए एक घर के सामने पहुँचे और गुहार लगायी - " भिक्षां देहि, माते !" घर से एक महिला बाहर आयी। उसने उनकी झोली मे भिक्षा डाली और कहा, “महात्माजी, कोई उपदेश दीजिए!” स्वामीजी बोले, “आज नहीं, कल दूँगा।” दूसरे दिन स्वामीजी ने पुन: उस घर के सामने आवाज दी –" भिक्षां देहि, माते !! उस घर की स्त्री ने उस दिन खीर बनायीं थी, जिसमे बादाम- पिस्ते भी डाले थे, वह खीर का कटोरा लेकर बाहर आयी। स्वामी जी ने अपना कमंडल आगे कर दिया। वह स्त्री जब खीर डालने लगी, तो उसने देखा कि कमंडल में गोबर और कूड़ा भरा पड़ा है। उसके हाथ ठिठक गए। वह बोली, “महाराज ! यह कमंडल तो गन्दा है।” स्वामीजी बोले, “हाँ, गन्दा तो है, किन्तु खीर इसमें डाल दो।” स्त्री बोली, “नहीं महाराज, तब तो खीर भी ख़राब हो जायेगी । दीजिये ! मैं कमंडल को शुद्ध कर लाती हूँ।” स्वामीजी बोले, मतलब जब यह कमंडल साफ़ हो जायेगा, तभी खीर डालोगी न?” स्त्री ने कहा - “जी महाराज !” स्वामीजी बोले - " बेटी ! तब तो तुम बड़ी बुद्धिमान हो, लेकिन एक बात बताओ, मेरे उपदेश की खीर लेने के लिए तुमने अपना कमण्डल शुद्ध किया कि नहीं ? अपने मन को धोया कि नहीं ?" स्वामीजी आगे बोले - “मेरा भी यही उपदेश है। मन में जब तक चिन्ताओ का कूड़ा-कचरा और बुरे संस्करो का गोबर भरा है, तब तक उपदेशामृत का कोई लाभ न होगा" 🌹🙏जय सच्चिदानंद 🌹🙏🌹🙏 🙏🌹🙏जय माता दी 🙏 🌹🙏🌹जय सिया राम 🌹🙏🌹 🙏🌹🙏🌹सभी सुखी रहे आनंदित रहें ।।🙏🙏

+340 प्रतिक्रिया 86 कॉमेंट्स • 52 शेयर
Ansouya M 🍁 May 7, 2021

🙏🌹🙏श्री गणेशाय नमः 🌹🙏 🌹🙏🌹🌹🙏🙏जय श्री राधे कृष्ण 🙏🙏🕉 🌹🙏🌹🌹🙏🙏जय माता दी 🙏🌹 जय माता दी 🙏🌹 🌹🙏🙏सर्व मंगल मागल्ये शिवे सर्वाथ साघिके शरणये त्रयमबके गौरी नारायणी नमोस्तुते 🌹🙏🌹🙏🙏🙏🙏 🌹🙏सुख और शान्ति की कामना करते हुए शुभ प्रभात आप सभी भक्ततों को जी 🌷🙏🌷🙏 🌹🙏🙏🌹🌹🙏🌹🌹 🙏🌹ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुँडायै विच्चै🙏 🌹जय भवानी भद्रकाली अंबे माँ🌹 🌹🙏 नमो " नमो " दुर्गे " *🌹🌹" सुख " करनी "। 🌹 नमो " नमो " अंबे " *🌹🌹" दुःख " हरनी "॥ 🔱🕉️🔱आप सभी स परिवार 🕉️🔱🕉️स्वस्त रहें ऐसी जगतजननी 🔱🕉️🔱माँ अंबे के चरणो में प्रार्थना🙏 ┅━❀💞꧁꧂💞❀━┅ *🕉️🔱क्या ‎‎‎‎‎‎‎‎‎‎‎‎‎‎‎‎‎‎‎‎‎‎‎‎सुख है क्या दुःख है । *🔱🕉️जब" माँ और भोले बाबा *🕉️🔱__ मेरे सम्मुख हैं __🕉 🌹🌹🌹अपनी_दया बनाएं_रखना_" माँ 🙏🙏🙏 🙏🌹जय माँ अम्बे 🙏🌹 🌿🌹सर्वमंगल मांग्लये शिवे सर्वार्थ साधिके। 🌿🌹शरण्ये त्र्यम्बके गौरी नारायणी नमोस्तुति।। 🌿🌹जयन्ती मंगला काली भद्रकाली कृपालिनि। 🌿🌹दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोस्तुते।। 🌿🌹या देवि सर्वभूतेषु मातृ रूपेण संस्थिता। 🌿🌹नमस्तस्ये नमस्तस्ये, नमस्तस्ये नमो नमः।। 🌿🌹 जय... 🌿🌹🌹 माँ... 🌿🌹🌹🌹 भगवती... 🌹🙏या देवी सॅव भूतेशू शक्ती रूपेण संसथिता नमस्तस्ये नमस्तस्ये नमस्तस्ये नमो नमः 🌹🙏 🙏🌹🙏🌹🌹🌹🌹🌹

+386 प्रतिक्रिया 146 कॉमेंट्स • 93 शेयर
Ansouya M 🍁 May 6, 2021

🙏🙏🌹श्री गणेशाय नमः 🌹🙏 🙏🌹🙏🙏🌹🙏🌹जय श्री राधे कृष्ण 🙏🙏🕉 🙏🌹🙏🌹 🙏🌹सुख और शान्ति की कामना करते हुए शुभ प्रभात आप सभी भक्ततों को जी 🌷🙏🌷🙏 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 🙏🌹सच्चिदानंद रूपाय विश्व उत्पत्ति हेतवे।तापत्रयो नाशाय श्री कृष्णा वयं नमः।🙏 श्री कृष्ण गोविन्द हरेमुरारी हे नाथ नारायण वासुदेव। 🙏 सत चित आनंद रूप वाले, इस संसार की उत्पत्ति के हेतु तीनों प्रकार के ताप या कष्ट का नाश करने वाले श्री कृष्ण को हम आप को प्रणाम करते हैं । नमस्कार उस श्री कृष्ण(अति आकर्षक रूप वाला)को,नमस्कारउस गोविन्द अर्थात इद्रियों के सुख को देने वाले राजा को और जो कि गौवों का भी इंद्र और राजा है। 🙏 नमस्कार उस ताप हरने वाले हरी को जो कि मुर नमक दैत्य का संहार करने वाला है। नमस्कार उस नाथ को जो कि इस संसार का एक मात्र नाथ या स्वामी और पिता है। नमस्कार उस नारायण ( नारा +आयन) अर्थात जल में अयन या विश्राम करने वाले विष्णु को। नमस्कार उस वासुदेव अर्थात वसुदेव के पुत्र भगवान श्री कृष्ण को (जो कि श्रीमद्भगवद्गीता का गीत, संगीतकार है।) 🙏🙏ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः 🌹🙏🌹 🙏🌹🌹🌹

+389 प्रतिक्रिया 130 कॉमेंट्स • 92 शेयर
Ansouya M 🍁 May 5, 2021

🙏🌹🙏जय श्री राधे कृष्ण 🙏🙏🕉 🌹🙏🌹🙏🙏🙏श्री गणेशाय नमः 🌹🙏 🌹🙏🌹🙏🙏🙏🙏वक्रतुण्ड महाकाय सुर्य कोटी सम प्रभ 🙏🙏निर्विघ्नं कुरुमे देव सर्व कार्य सु सर्वदा।। 🌹🙏🌹🙏जय श्री गजानन जी महाराज 🌹🙏🌹🌹🌹🙏🌹🙏🌹🙏🙏🌹🙏🙏🌹🙏🙏🌹🌹🙏शुभ संध्या मंगलमय हो आप सभी भक्ततों को जी 🌷🙏🌷🙏 🌹🙏🌹🌹🙏🌹🌹🙏🌹🌹🙏 मन की चंचलता 🙏 एक दिन एक व्यक्ति एक महात्मा के पास गया और बोला - " महात्मा जी ! मुझे कोई ऐसा रहस्य बताइए जिससे ध्यान में सफलता मिल सके . महात्मा जी बोले - " तू किसका ध्यान करता है ?" व्यक्ति बोला - " गुरूजी ! मैं ध्यान तो भगवान का करता हूँ, लेकिन कभी बन्दर तो कभी गाय दिखती है ."--' महात्माजी बोले - " ठीक है ! आजसे तू बन्दर का ध्यान मत करना . ध्यान रहे ! बन्दर का ध्यान नहीं करना ."--🌱 व्यक्ति गया और ध्यान करने लगा . वो जितना सोचता कि बन्दर का ध्यान नहीं करना उतना ही ज्यादा बन्दर उसके ध्यान में आता .--- आखिर एक दिन परेशान होकर वह फिर से महात्मा के पास आया और बोला - " गुरूजी ! ये कैसा रहस्य बताया आपने ? मैं जितना बन्दर का ध्यान नहीं करने के बारे में सोचता हूँ, उतना ही बन्दर मेरे ध्यान में आता है .🌱🌱 महात्माजी हँसे और पूछा - " क्या इस बीच तुझे कभी गाय का ध्यान आया ." व्यक्ति बोला - " नहीं ! गाय तो नहीं आई लेकिन बन्दर ही बन्दर आता है ."🙏🙏 महात्मा जी बोले - " बस यही रहस्य है ! उसके बारे में मत सोच, जो तू नहीं चाहता , बल्कि उसके बारे में सोच, जो तू चाहता है ." यही ध्यान का रहस्य है । 🙏🙏 🙏🙏गणपति बप्पा मोरिया 🙏🙏 🙏🙏मंगल मूर्ती मोरिया 🙏🙏 🙏🙏🙏🙏सर्वे भवन्तू सुखिनह 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏सर्वे सन्तु निरामय 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏ॐ शान्ति शान्ति शान्ति 🙏🙏🙏🙏🙏🌹🌹🌹🙏🕉🕉🙏🙏🙏🙏🌹🌹🌱

+274 प्रतिक्रिया 92 कॉमेंट्स • 25 शेयर
Ansouya M 🍁 May 5, 2021

🙏🙏🌹🌹श्री गणेशाय नमः 🌹🙏 🙏🌹🙏🙏🙏🙏जय श्री राधे कृष्ण 🙏🙏🕉 🌹🙏🙏🙏🙏🌹जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा माता जाकी पार्वती पिता महादेव 🙏🌹 🙏🌹🙏🌹🌹🙏🌹🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏मार्ग पर यदि कंकड़ ही कंकड़ हो तो एक अच्छा जूता पहनकर चला जा सकता है परंतु यदि एक अच्छे जूते में छोटा सा भी कंकड़ हो तो अच्छी सड़क पर भी कुछ कदम चलना कठिन है अर्थात हम बाहर की चुनौतियों से नहीं अंदर की दुर्बलता के कारण हार जाते हैं। अंदर से मजबूत बनना जरूरी है।🙏🌹🙏🌹🌹🙏🙏🙏 🙏🌹प्रेम करो तो ऐसे प्रेमी से करो जो तुम्हारे प्यार को तुम तक लौटा सके ! हरे कृष्ण 🌹 🙏🙏🙏 भले ही जीवन भर अकेले रह लेना लेकिन जबरदस्ती किसी से रिश्ता निभवाने की ज़िद मत करना । 🙏🙏🙏🙏 जीवन में असली स्वतंत्रता को पहचानिए, आपका हृदय रूपी पक्षी उड़ना चाहता है,उस अनंत आकाश में!पल दो पल के लिए नहीं, जीवन भर के लिए वह उस स्वतंत्रता को महसूस करना चाहता है, जहां चिंताएं नहीं, बल्कि सिर्फ आनंद ही आनंद हो! अगर आपने उसकी पुकार को अनसुना कर दिया तो यह जीवन भी सुना-सुना रहेगा। क्या हम विचार करते है कि यही मौका है,यही अवसर है? *प्रेम रावत* 🌹🙏बहुत बहुत शुभकामनाओं के साथ सभी आदरणिय भाई बहनों को हमारा नमस्कार है ।। 🙏🙏जय सिया राम 🌹🙏🌹

+354 प्रतिक्रिया 90 कॉमेंट्स • 59 शेयर