Ansouya Mundram 🍁 May 19, 2022

+204 प्रतिक्रिया 102 कॉमेंट्स • 25 शेयर
Ansouya Mundram 🍁 May 18, 2022

🌹🙏ॐ श्री गणेशाय नमः 🌹🙏 🌹🙏🙏🙏🌹जय श्री राधे कृष्ण 🙏🕉 🙏🌹🙏🌹🙏जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा माता जाकी पार्वती पिता महादेव 🙏🌹 प्रथम पुज्य श्री गणेश जी महाराज के पावन चरणों में कोटि कोटि प्रणाम करते हुए शुभ प्रभात आप सभी भक्ततों को जी 🌷🙏🌷🙏🙏 🌹🌹🙏🙏 🙏🙏जय सिया राम ; प्रभो! आप सुख स्वरुप हैं, सर्वोतम सुखों को देने वाले हैं, आप को बारम्बार प्रणाम हो 🙏 आप कल्याण कर्ता मोक्ष स्वरुप हैं, आप ही अपने भक्तों को सुख और शान्ति देने वाले हैं और उनको धर्म कार्यों में लगाने वाले हैं । आपको हमारा अत्यन्त नम्रता, परम श्रद्धा और भक्ति से बारंबार प्रणाम हैं🙏🙏🙏🙏 🌹🙏🌹♥️🌹♥️ ।।ॐ शान्ति शान्ति शान्ति ।। सभी सुखी रहे आनंदित रहें जी 🌷🙏🌷🙏 🌹🙏🙏🙏🙏

+151 प्रतिक्रिया 72 कॉमेंट्स • 43 शेयर
Ansouya Mundram 🍁 May 17, 2022

🌹🙏ॐ श्री गणेशाय नमः 🌹🙏 🌹🙏🌹🙏🙏जय श्री राधे कृष्ण 🙏🕉 🌹🙏🙏🙏🙏जय श्री राम जय श्री राम जय श्री राम जय श्री राम जय श्री 🙏🙏 🌹🙏जय बजरंग बली हनुमान 🙏 सिया राम मैं सब जग जानी करउँ प्रनाम जोरि जुग पाणी 🌹🙏🌹🙏🙏 सभी भक्तों को सुबह की जय सिया राम जी🙏 🙏🕉 ।।श्री हरि ।। ।।हे राम------ हे दयालु परमात्मन ---- आप अपनी असीम कृपा से सदा हमारी रक्षा करते हैं । आप ही हमारे जीवनाधार है।अपने भक्तों के दुखों को दूर करके उनको सुख देने वाले हैं । आप सर्वत्र, सर्वोत्तम, शुद्ध, पवित्र और ज्ञान रुप है ।आप से ही यह सारा जगत उत्पन्न हुआ है ।आप ही सकल शुभ गणों की खान हैं ।। आप का हम प्रतिदिन ध्यान करें और आप हमें विवेकशीलता, धारणावती मेधा और सदबुद्धि प्रदान करें ।।।। 🙏 सत चित आनंद स्वरुप भगवन आपकी सदा जय हो 🌹🙏🌹🙏 सर्वे भवनतू सूखिनह 🙏🌹

+211 प्रतिक्रिया 112 कॉमेंट्स • 58 शेयर
Ansouya Mundram 🍁 May 15, 2022

🙏🙏ॐ श्री गणेशाय नमः 🌹🙏 🌹🙏 🌹🙏जय श्री राधे कृष्ण 🌹🙏🌹🙏🙏🙏🙏ॐ घृणी सुर्याय नमः 🌹🙏🌹 🙏🙏ॐ नमो नारायणाय नमः 🌹🙏 ।।।।।हरि ।।।।। परम कृपालु श्री हरि विष्णु जी के चरणों में प्रेम और नमन समर्पित करते हुए शुभ प्रभात आप सभी भक्ततों को जी 🌷🙏🌷🙏🙏 🌹🙏🌹🙏🌹🌹 "ईश्वर का सच्चा प्रेमी अपने प्रेमी पात्र परमेश्वर से कहता है, "हे प्रभु इस दुनिया में जो दुख मौजूद है, मैं उनसे डरता नहीं। इस दुनिया में पाप मौजूद हैं, मैं उनके दंड भुगतान में तेरी रियायत नहीं चाहता। धन, स्वास्थ्य, सौंदर्य, बुद्धि आदि संपदाएँ प्राप्त करने के लिए भिखारी बनकर तेरे दरवाजे पर नहीं आया और न मुक्ति की, स्वर्ग की कामना के लालच में फिर रहा हूंँ। मुझे जन्मने और मरने दे। अपने बोये हुए कष्टों को काटते हुए मुझे तुझसे कुछ शिकायत नहीं। मैं एक ही आकांक्षा करता हूं- तू मुझे अपने से प्यार करने दे। सिर्फ प्यार के लिए प्यार ।।🙏🙏 🙏" ईश्वरीय प्रेम निःस्वार्थ होता है और उसके लिए होता है, जो न कहीं दिखाई देता है और न सुनाई। मालूम नहीं पड़ता कि अपनी आवाज और भावनाएँ उस तक पहुँचती भी है अथवा नहीं, पर हमारी हर कातर पुकार के साथ अंतःकरण में एक संतोष और सांत्वना की अंतरवृष्टि होती है, वह बताती है कि तुम्हारा विश्वास और तुम्हारी प्रार्थना निरर्थक नहीं जा रही। मूल में बैठी हुई आत्मा प्रतिभा स्वयं विकसित होकर मार्गदर्शन कर रही है। विकास की यह प्रक्रिया ईश्वर प्रेमी की अनेक प्रसुप्त प्रतिभाओं और बौद्धिक क्षमताओं का जागरण करती है ।।।। 🙏जय श्री सच्चिदानंद 🙏 🌹🙏सर्वे भवन्तू सूखिनह 🙏🌹 🙏🙏जय सिया राम 🙏 🙏

+178 प्रतिक्रिया 90 कॉमेंट्स • 66 शेयर
Ansouya Mundram 🍁 May 14, 2022

🙏🌹ॐ श्री गणेशाय नमः 🌹🙏 🙏🌹🙏🙏🌹जय श्री राधे कृष्ण 🙏🕉 🙏🌹🙏🙏🌹जय सिया राम 🙏🌹🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏वह जो बिना शरीर के ही स्पर्श करते हैं बिन आंखों के देखते हैं, बिना नाक के ही गन्धों को ग्रहन करते हैं; जिनकी अलौकिक महिमा कही नहीं जा सकती उन परम सच्चिदानंदन परब्रह्म परमेश्वर को बारम्बार प्रणाम करते हुए शुभ प्रभात आप सभी भक्ततों को जी 🌷🙏🌷🙏🙏 🙏🙏🙏 🙏🌹जय बजरंग बली हनुमान 🙏 🙏साधु संत के तुम रखवारे ।🙏 🙏असुर निकंदन राम दुलारे ।। 🙏🙏सियावर रामचन्द्र की जय 🙏🙏 🌹🙏उमावर शम्भु नाथ की जय 🌹🙏 🙏🙏पवन सुत हनुमान की जय 🌹🙏 बोलो रे भक्तो सब संतन की जय🌹🙏 🌹🙏🌹🙏🙏 सर्वे भवनतू सूखिनह 🙏🌹 जय श्री राम 🌹🙏 जय सच्चिदानंद 🌹🙏♥️

+138 प्रतिक्रिया 82 कॉमेंट्स • 14 शेयर
Ansouya Mundram 🍁 May 13, 2022

+111 प्रतिक्रिया 61 कॉमेंट्स • 22 शेयर