जय श्री कृष्ण 🙏 जय श्री राम 🙏 मेरे कान्हा ❤️ मेरा सफ़र 23 साल का पुरा होकर चौबीसा साल लग गया, जब हम पहली बार पंजाब की गलियों में कदम रखा था,तब उस छोटे से कमरें में ये मुझे मुस्कुराते हुए मिलें थें पहली बार एक अंजान सी दुनिया में कदम रखा था, पहली बार वो चेहरे देखें जो कभी नहीं देखें थें अन्दर एक डर था, कैसे रहेंगे यहां तब ना मोबाइल था ना टिवी था, रात के उस अंधेरे में अकेले नींद नहीं आ रहीं थीं, अजीब सा डर था, एक दो बुक्स थी उन्हें ही पड़ कर अपना समय काट रहीं थीं इस तस्वीर पर ना कोई कांच ना लेमिनेशन सिर्फ एक कार्ड बोर्ड पर थी, अचानक से मेरी नज़र इन पर गयी और मैंने इन से कहा बैठ कर आराम से मुस्कुरा रहे हो कैसे रहें, यहां अकेले तो कोई जवाब नहीं आया, रात काफी हो गयी थी मैंने कहा हां बैठे रहों तस्वीर में तुम क्या दोगों जबाव और फिर में सो गई और फिर उस तस्वीर से बाहर आ कर इन्होंने मुझे कहा फिक्र क्यो करतीं हैं, में हू ना बस आज तक वो है, ना कान्हा सबसे बड़ी बात इनकी चमक कम नहीं हुई ये मुस्कुराते हैं , और ये उदास भी होते हैं जब मुझे दर्द तकलीफ़ होती है , तो ये उदास हो जातें हैं, 🕉️ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे 🙏🙏

+65 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 13 शेयर

+74 प्रतिक्रिया 29 कॉमेंट्स • 16 शेयर

+48 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 101 शेयर