Chayya Sharma May 19, 2018

श्री कामाख्या माँ के श्रीमुख के दर्शन 15 वर्षों में एक बार ही होता है।
माँ का चेहरा सदा फूलों से ढका हुआ रहता है।
Zoom करके देखिए, माँ के नयन कितने जीवंत हैं, आम इंसान जैसे ही है।
सम्भव हो तो आगे भी भेजें।

+50 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 4 शेयर
Chayya Sharma May 19, 2018

+10 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 4 शेयर
Chayya Sharma May 19, 2018

+49 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 12 शेयर
Chayya Sharma May 18, 2018

(((((((( इच्छाओं पर विजय ))))))))
.
एक युवक था. उस को जीवन से बड़ी ख्वाहिशें थीं. उसे लगता था कि उसे बचपन में वह सब नहीं मिल सका जिसका वह हकदार था.
.
बचपन निकल गया. किशोरावस्था में आया. वहां भी उसे बहुत कुछ अधूरा ही लगा. उसे महसूस होता कि उसकी बहु...

(पूरा पढ़ें)
+7 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 4 शेयर
Chayya Sharma May 18, 2018

+7 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Chayya Sharma May 18, 2018

+15 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 9 शेयर
Chayya Sharma May 18, 2018

+187 प्रतिक्रिया 32 कॉमेंट्स • 579 शेयर
Chayya Sharma May 17, 2018

. * कर्म फल *

* इन्सान जैसा कर्म करता है, कुदरत या परमात्मा उसे वैसा ही उसे लौटा देता है *

एक बार द्रोपदी सुबह तड़के स्नान करने यमुना घाट पर गयी भोर का समय था। तभी उसका ध्यान सहज ही एक साधु की ओर गया जिसके शरीर पर मात्र एक लँगोटी थी। साधु स्नान ...

(पूरा पढ़ें)
+50 प्रतिक्रिया 14 कॉमेंट्स • 131 शेयर