+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

बहुत सुंदर पंक्तियां हैं :- राम युग में दूध मिले, और कृष्ण युग में घी; कोरोना युग में काढा मिले, डिस्टेंस बना कर पी! जब दुनियाँ लेके बैठी है, बड़े-बड़े परमाणु; पर ठोक गया उसे एक, छोटा सा विषाणु! कल रात सपने में आया कोरोना; उसे देख जो मैं डरा 😢 और शुरू किया रोना; तो,मुस्कुरा 😊 के वह बोला; "मुझसे डरो मत, कितनी अच्छी है तुम्हारी संस्कृति; न चूमते,न गले लगाते; दोनों हाथ जोड़कर, तुम राम राम करते; वही करो ना, मुझसे क्यों डरते ? कहाँ से सीखा तुमने, रूम स्प्रे,बॉडी स्प्रे; पहले तो तुम धूप,दीप, कपूर,अगरबत्ती जलाते; वही करो ना, मुझसे बिल्कुल डरो ना! शुरू से तुम्हें सिखाया गया, अच्छे से हाथ पैर धोकर घर में घुसो; मत भूलो, अपनी संस्कृति; वही करो ना, मुझसे बिल्कुल डरो ना! सादा भोजन, उंच्च विचार, यही तो हैं तेरे संस्कार; उन्हें छोड़, जंक फूड, फ़ास्ट फूड के चक्कर में पड़ो ना; मुझसे बिल्कुल डरो ना! शुरू से ही पशु-पक्षियों को, पाला-पोसा,प्यार दिया; रक्षण की है, तुम्हारी संस्कृति; उनका भक्षण करो ना, मुझसे ज़रा भी डरो ना! कल रात सपने में, आया कोरोना; बोला; अपनी संस्कृति का ही पालन करो ना, मुझसे जरा भी डरो ना!" 🕉️🚩🙏

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 10 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर

+8 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 5 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर