pt bk upadhyay Sep 19, 2018

गणपति बप्पा मोरया बचपन से आपने नारा लगाया है ।जानें कि यह मोरया क्या है। मोरया गोसावी गणपति बप्पा के महाभक्त थे। १३७५ ई. मे मोरगांव मे मातापिता को गणेश जी का वरदान मिलने पर उनके अंश से मोरया गोसावी हुए। बचपन से कैलाश वासी होने तक उन्होंने सिर्फ गण...

(पूरा पढ़ें)
+15 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 0 शेयर
pt bk upadhyay Sep 5, 2018

माबाप व भगवान के बीच हमारा सबसे ज्यादा अपना आत्मीय स्वजन अगर कोई है तो वह है हमारा शिक्षक। वह इंसान नहीं है जैसे गंगा नदी नहीं य शिवलिंग पत्थर नहीं य रामायण कविता नहीं है। वह इस धरती पर रहने वाला प्रत्यक्ष देवता है जो हमें मानव बनाता है। वरना हम ...

(पूरा पढ़ें)
+14 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 0 शेयर
pt bk upadhyay Sep 2, 2018

कृष्णाय वासुदेवाय हरये परमात्मने, प्रणत क्लेश नाशाय गोविंदाय नमो नमः। श्री कृष्ण जन्माष्टमी महापर्व पर आप सब मित्र गण,टीम सदस्य एवं आप सबके परिवार को भी मेरी ओर से हार्दिक बधाई, शुभकामनाएं। भगवान करें यह शुभ दिन बार बार आये।...

(पूरा पढ़ें)
+15 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 0 शेयर
pt bk upadhyay Aug 29, 2018

जिनके कोई परिजन निरपराध कारागार में है वे राजस्थान के प्रतापगढ़ में इस मंदिर में आकर हथकड़ी चढ़ाते हैं।दिवाक माता का यह मंदिर प्रसिद्ध है।हालांकि यह प्रथा डाकुओं ने प्रारंभ की थी पर वे डाकू अब के सफेद पोश डाकुओं से अधिक ईमान धर्म वाले थे।...

(पूरा पढ़ें)
+16 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 1 शेयर