ईन सभी ने बिना कुछ खाए केवल माँ के चरणामृत पर ही हे माता जी की कृपा सब पर बनिरहे यही प्राथना करता हु

+6 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर

+2 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर

+157 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 32 शेयर

ब्रम्हाणी माता के नवरात्रा की स्थापना अमावस्या को की जाति हे और यहाँ पर सात दिन किसी प्रकार के प्रसाद का भोग नही लगता हे और जो व्यक्ति माँ के मन्दिर में रहकर नवरात्रा करता हे वो केवल माँ के चरणामृत लेकर ही नवरात्रा करता हे जय माता दी...

(पूरा पढ़ें)
+167 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 27 शेयर