ॐ नमः शिवाय 🥀🌿 श्रेष्ठता क्या है ___?? 🍁🌸🌿 अपने चारों ओर अवलोकन करने पर हमें पता चलता है कि, मनुष्य स्वयं को सबसे श्रेष्ठ घोषित करता है । परंतु जीवन की तुलना प्रकृति से करने पर हम पाते है कि प्रकृति के तत्वों में हमारी तरह विचारोत्तोलन नहीं, बल्कि सेवा-साहचर्य होता है। 🍃🌾 प्रकृति में हमारी तरह अहं, दंभ, अभिमान, मान-सम्मान की चेष्टा नहीं होती। प्रकृति-तत्व प्राकृतिक संतुलन बनाए रखते हैं। इनके तत्वों से हमें प्राणवायु मिलती है।  इससे यह स्पष्ट होता है कि :- 🥀…श्रेष्ठता का पैमाना परस्पर वाद विवाद नही बल्कि परमार्थ का महान व्यवहार है।…🥀 अतः दूसरो से श्रेष्ठ होने का दंम्भ त्याग कर विचार पवित्रता, परमार्थ, और कर्तव्यनिष्ठा पर ध्यान केंद्रित करे। ◎◎๑•❣️•๑◎◎ शुभमस्तु ⛳️❣️

+43 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 52 शेयर

ॐ आदित्याय नमः 🥀❣️🌿 ऋग्वेद में कहा गया है कि सूर्य न केवल सम्पूर्ण विश्व के प्रकाशक, प्रवर्त्तक एवं प्रेरक हैं वरन् उनकी किरणों में आरोग्य वर्धन, दोष-निवारण की अभूतपूर्व क्षमता विद्यमान है। सूर्य की उपासना करने एवं सूर्य की किरणों का सेवन करने से अनेक शारीरिक, बौद्धिक एवं आध्यात्मिक लाभ होते हैं।  जितने भी सामाजिक एवं नैतिक अपराध हैं, वे विशेषरूप से सूर्यास्त के पश्चात अर्थात् रात्रि में ही होते हैं। सूर्य की उपस्थिति मात्र ही इन दुष्प्रवृत्तियों को नियँत्रित कर देती है। सूर्य के उदय होने से समस्त विश्व में मानव, पशु-पक्षी आदि क्रियाशील होते हैं। सूर्य तेज और प्रकाश का प्रतिक है, एवम बुद्धि के अधिष्ठाता देव हैं। 🌿❣️🍁 हे प्रभु सूर्यनारायण , अपना तेज और प्रकाश सभी के जीवन में बनाये रखना । 🍁❣️🌿 🥀🌿🥀 🍁 पितृ देवो भवः 🍁 🥀… पितरि प्रितिमापन्ने सर्वाः …🥀 प्रियन्ति देवतः ❣️ 💐 जब पिता खुश होते है, तब सब देवता खुश होते है…💐 ◎◎๑•❇️•๑◎◎ ♻️ पितृ दिवस की खूब शुभाशया ♻️ 🌸 शुभमस्तु 🌸

+109 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 100 शेयर

+101 प्रतिक्रिया 19 कॉमेंट्स • 100 शेयर

🌸🍁 सर्वज्ञे सर्व वरदे सर्व दुष्ट भयंकरी ! सर्वदुख हरे देवी महालक्ष्मी नमोस्तुते !!🍁🌸 🌿⚛️🌿   ⚛️ वेदों के अनुसार माता लक्ष्मी कर्म और कर्तव्य से जुडे इंसान पर हमेशा मेहरबान रहती है। ⚛️🌹 माता लक्ष्मी के भगवान विष्णु का संग चुनने के पीछे भी यही बात साफ होती है क्योंकि …... श्री हरि विष्णु जगत पालक माने गए हैं। पालन के पीछे भी निरंतर कर्म, पुरुषार्थ और कर्तव्य का ही मूल भाव है। अतः माता लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए पवित्रता और परिश्रम जैसी कर्म, व्यवहार और स्वभाव में उतारने की आवश्यकता है । यही कारण है कि सच्चाई व मेहनत के बिना पाया भरपूर धन भी मानसिक शांति छीन लेता है, तो कभी धन का अभाव जीवन को अशांत करता है।  🌿🌸🍁

+65 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 74 शेयर

+47 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 68 शेयर

+36 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 2 शेयर