https://gyanbatein.blogspot.com/2020/04/blog-post_51.html?m=1 🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺 राम भक्त हनुमान जी से सीखें जीवन प्रबंधन के सूत्र 🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉 ज्ञान की बातें ब्लाॅग के लिंक को खोल कर अन्य धार्मिक लेख पढ़े 🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩 *हनुमान जन्मोत्सव* 🕉️ मेरा सभी से हाथ जोड कर विशेष अनुरोध है कि 8-अप्रेल को हनुमान *जन्मोत्सव* है *(जयन्ती नही)* दिनांक:- 08/04/2020 बुधवार इसे हम सभी लोग *हनुमान जयंती* ना कहते हुए *हनुमान जन्मोत्सव* कहें व सभी को *हनुमान जन्मोत्सव* कहने के लिए प्रेरित करें। क्योंकि जयंती उनकी मनाई जाती है *जो इस संसार में नहीं है* और कलियुग में केवल श्री राम भक्त हनुमान जी *चिरंजीवी* है, आज भी विद्यमान है । अतः यह परिवर्तन हमें जरुर लाना है तथा यह मैसेज *हनुमान जन्मोत्सव* से पहले पहले सभी तक पहुंचना चाहिए ।। *आशीष उप्पल* 🚩 *।।जय श्री राम।।* 🚩 🚩 *।। जय हनुमान।।* 🚩

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩 *जय श्री राम* 🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸 🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🌈🌈🌈🌈🌈🌈🌈🌈🌈 प्रिय सज्जनों आज रामनवमीं है, आपके हमारे सबके आराध्य प्रभु श्रीराम जी का अवतार दिवस है। प्रभुश्रीराम जी के प्रकट होते समय माँ कौसल्या द्वारा की गयी स्तुति भावार्थ सहित प्रस्तुत है !!!!!!! तुलसीदास जी श्रीरामचरितमानस बालकाण्ड में लिखते है- *भए प्रगट कृपाला दीनदयाला* *कौसल्या हितकारी।* *हरषित महतारी मुनि मन हारी* *अद्भुत रूप बिचारी॥* *लोचन अभिरामा तनु घनस्यामा* *निज आयुध भुजचारी।* *भूषन बनमाला नयन बिसाला* *सोभासिंधु खरारी॥* *भावार्थ :-* दीनों पर दया करने वाले, कौसल्याजी के हितकारी कृपालु प्रभु प्रकट हुए। मुनियों के मन को हरने वाले उनके अद्भुत रूप का विचार करके माता हर्ष से भर गई। नेत्रों को आनंद देने वाला मेघ के समान श्याम शरीर था, चारों भुजाओं में अपने (खास) आयुध (धारण किए हुए) थे, (दिव्य) आभूषण और वनमाला पहने थे, बड़े-बड़े नेत्र थे। इस प्रकार शोभा के समुद्र तथा खर राक्षस को मारने वाले भगवान प्रकट हुए। 🌺 *आप सभी को अति पावन श्रीरामनवमी की कोटि- कोटि शुभकामनायें ।*🌺 🌺 *आशीष उप्पल*🌺 🌈🌈🌈🌈🌈🌈🌈🌈🌈 🏹🏹🏹🏹🏹🏹🏹🏹🏹 *🚩जय श्री सीताराम जी की*

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर