होली पूजन

My Mandir Mar 27, 2021

+314 प्रतिक्रिया 52 कॉमेंट्स • 154 शेयर
M.S.Chauhan Mar 28, 2021

*शुभ दिन रविवार* *फाल्गुन मास की पूर्णिमा और होलिका दहन की आप की सपरिवार हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं* *होली / होलिका दहन तिथि, पूजन समय शुभ मुहूर्त तथा होली की कथा* *होलिका दहन तिथि*   *शुभ मुहूर्त 2021* *घर में सुख-शांति, समृद्धि, संतान प्राप्ति आदि के लिये महिलाएं इस दिन होली की पूजा करती हैं। होलिका दहन के लिये लगभग एक महीने पहले से तैयारियां शुरु कर दी जाती हैं। साल 2021 में होली के शुभ मुहूर्त इस प्रकार है*. *हिन्दू पंचांग के अनुसार 22 मार्च 2021 सोमवार से होलाष्टक शुरू होंगे*. *साल 2021 में होलिका दहन 28 और होली 29 मार्च, सोमवार के दिन किया जाएगा*. *होलिका दहन का शुभ मुहूर्त = शाम 6 बजकर 36 मिनट से रात 8 बजकर 56 मिनट तक का होगा*. *पूर्णिमा तिथि 28 मार्च को 03:27 AM पर शुरू होगी*. *पूर्णिमा तिथि 12 मार्च को 12:17 AM पर समाप्त होगी*. *रंगवाली होली 29 मार्च सोमवार के दिन मनाई जायेगी*. *होलिका दहन* *पूजा विधि* *पौराणिक कथाओं के अनुसार होली के त्यौहार में होलिका दहन का विशेष महत्व होता है*. *होलिका दहन से पहले होली का पूजन किया जाता है*. *पूजा के समय पूर्व या उत्तर दिशा की ओर मुख करके बैठे*. *होलिका पूजन के लिए अपनी पूजा पद्धति के अनुसार माला, रोली, पुष्प, कच्चा सूत, गुड़, साबुत हल्दी, मूंग, बताशे, गुलाल, नारियल, पांच प्रकार के अनाज में गेहूं की बालियां और एक लोटा में जल लेकर होलिका के पास रखने के बाद होलिका दहन करे.* *सभी पूजन सामग्री व गुलाल आदि जलती होली में अर्पण करें.* *इसके बाद गेहूं की बालियां अग्नि में भूनें।* *ऊं नमो भगवते वासुदेवाय नम: का जाप करते हुए होलिका की 3 से 7 परिक्रमा करेंं*. *परिक्रमा के समय लोटे से जल लगातार गिराते जाएं।* *होलिका दहन के बाद जली हुई राख को अगले दिन प्रात: काल घर में लाना शुभ माना जाता है।*  *होली की कहानी* *होली की कहानी का संबंद्ध श्री हरि विष्णु जी से है। नारद पुराण में बताया गया है की आदिकाल में हिरण्यकश्यप नामक एक राक्षस हुआ करता था। जो खुद को ईश्वर से भी बड़ा समझता था। वह चाहता था कि लोग केवल उसकी पूजा करें। लेकिन उसका खुद का पुत्र प्रह्लाद विष्णु भगवान का परम भक्त था। ये भक्ति उसे उसकी मां से विरासत के रूप में मिली थी*। *हिरण्यकश्यप के लिए यह बड़ी चिंता की बात थी कि उसका स्वयं का पुत्र विष्णु भक्त कैसे हो गया और वह कैसे उसे इस भक्ति के मार्ग से हटाए। हिरण्यकश्यप ने जब अपने पुत्र को विष्णु भक्ति छोड़ने के लिए कहा तो प्रह्लाद ना माना परन्तु उसके अथक प्रयासों के बाद भी वह सफल नहीं हो सका*। *कई बार समझाने के बाद भी जब प्रह्लाद नहीं माना तो हिरण्यकश्यप ने अपने ही बेटे को जान से मारने की योजना बनायीं बार-बार अपनी कोशिशों से नाकाम होकर हिरण्यकश्यप ने अपनी बहन होलिका से मदद ली जिसे भगवान शंकर से एक ऐसा वरदानी चादर मिला था जिसे ओढ़ने पर अग्नि उसे जला नहीं सकती थी। दोनों भाई बहिन में तय हुआ कि प्रह्लाद को होलिका के साथ बैठाकर अग्निन में स्वाहा कर दिया जाएगा।* *होलिका अपनी चादर को ओढकर प्रह्लाद को गोद में लेकर चिता पर बैठ गयी। लेकिन विष्णु जी के चमत्कार से वह चादर उड़ कर प्रह्लाद पर आ गई जिससे प्रह्लाद की जान बच गयी और होलिका जल गई। इसी दिनके बाद से होली की संध्या को अग्नि जलाकर होलिका दहन का आयोजन किया जाता है।* *रंगों के त्यौहार में सभी रंगों की हो भरमार*, *ढेर सारी खुशियों से भरा हो आपका संसार*, *यही दुआ है भगवान से हमारी हर बार.* *होली है... "होली की हार्दिक की बधाई"* 🌷🏵️👏🙏👏🏵️🌷

+61 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 307 शेयर
M.S.Chauhan Mar 26, 2021

*शुभ रात्रि वंदन* *जय श्री राधेकृष्ण* *हैप्पी होली इन एडवांस* *होली / होलिका दहन तिथि व शुभ मुहूर्त 2021* *होलिका दहन तिथि*   *और मुहूर्त 2021* *घर में सुख-शांति, समृद्धि, संतान प्राप्ति आदि के लिये महिलाएं इस दिन होली की पूजा करती हैं। होलिका दहन के लिये लगभग एक महीने पहले से तैयारियां शुरु कर दी जाती हैं। साल 2021 में होली के शुभ मुहूर्त इस प्रकार है*. *हिन्दू पंचांग के अनुसार 22 मार्च 2021 सोमवार से होलाष्टक शुरू हो गया है*. *साल 2021 में होलिका दहन 28 और होली 29 मार्च, सोमवार के दिन किया जाएगा*. *होलिका दहन का शुभ मुहूर्त = शाम 6 बजकर 36 मिनट से रात 8 बजकर 56 मिनट तक का होगा*. *पूर्णिमा तिथि 28 मार्च को 03:27 AM पर शुरू होगी*. *पूर्णिमा तिथि 12 मार्च को 12:17 AM पर समाप्त होगी*. *रंगवाली होली 29 मार्च सोमवार के दिन मनाई जायेगी*. 🌼🌷💐🙏💐🌷🌼

+49 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 161 शेयर