सुप्रभात

🌷RAMA🌷 Jun 17, 2019

+229 प्रतिक्रिया 32 कॉमेंट्स • 49 शेयर
sarita Jun 17, 2019

+160 प्रतिक्रिया 38 कॉमेंट्स • 99 शेयर
Mamta Chauhan Jun 17, 2019

+346 प्रतिक्रिया 64 कॉमेंट्स • 535 शेयर
anita sharma Jun 17, 2019

जय जय श्री राधे 🙏 राधाजी भगवान श्री कृष्ण की परम प्रिया हैं तथा उनकी अभिन्न मूर्ति भी। श्रीमद्‌ भागवत में कहा गया है कि श्री राधा जी की पूजा नहीं की जाए तो मनुष्य श्रीकृष्ण की पूजा का अघिकार भी नहीं रखता। राधा जी भगवान श्रीकृष्ण के प्राणों की अधिष्ठात्री देवी हैं, अत: भगवान इनके अधीन रहते हैं। राधाजी का एक नाम कृष्णवल्लभा भी है क्योंकि वे श्रीकृष्ण को आनन्द प्रदान करने वाली हैं। माता यशोदा ने एक बार राधाजी से उनके नाम की व्युत्पत्ति के विषय में पूछा। राधाजी ने उन्हें बताया कि 'रा' तो महाविष्णु हैं और 'धा' विश्व के प्राणियों और लोकों में मातृवाचक धाय हैं। अत: पूर्वकाल में श्री हरि ने उनका नाम राधा रखा। भगवान श्रीकृष्ण दो रूपों में प्रकट हैं—द्विभुज और चतुर्भुज। चतुर्भुज रूप में वे बैकुंठ में देवी लक्ष्मी, सरस्वती, गंगा और तुलसी के साथ वास करते हैं परन्तु द्विभुज रूप में वे गौलोक घाम में राधाजी के साथ वास करते हैं। राधा-कृष्ण का प्रेम इतना गहरा था कि एक को कष्ट होता तो उसकी पीड़ा दूसरे को अनुभव होती। श्री राधे श्री राधे श्री राधे 🙏 Jai shree radhey Krishna ji shubh prabhat all friends happy Monday RADHEY RADHEY

+36 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 4 शेयर