संतवचन

*श्री स्वामी रामसुखदास जी महाराज* 🌷संतवाणी🌷 यह खयाल करनेकी बात है कि मनुष्य-शरीर मिल गया । अब भाई अपनेको नरकोंमें नहीं जाना है । चौरासी लाख योनियोंमें नहीं जाना है । नीची योनियोंमें क्यों जायें ? चोरी करनेसे, हत्या करनेसे, व्यभिचार करनेसे, हिंसा करनेसे, अभक्ष्य-भक्षण करनेसे, निषिद्ध कार्य करनेसे मनुष्य नरकोंमें जा सकता है । कितना सुन्दर अवसर भगवान्‌ने दिया है कि जिसे देवता भी प्राप्त नहीं कर सकते, ऐसा ऊँचा स्थान प्राप्त किया जा सकता है‒इसी जीवनमें । प्राणोंके रहते-रहते बड़ा भारी लाभ लिया जा सकता है । बहुत शान्ति, बड़ी प्रसन्नता, बहुत आनन्द‒इसमें प्राप्त हो जाता है । ऐसी प्राप्तिका अवसर है मानव-शरीरमें । इसलिये इसकी महिमा है । इसको प्राप्त करके भी जो नीचा काम करते हैं, वे बहुत बड़ी भूल करते हैं ।

+33 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 0 शेयर

॥ सन्तवाणी ॥– श्रद्धेय स्वामीजी श्रीरामसुखदासजी महाराज भगवान्‌से अपनापन आजकी शुभ तिथि– आश्विन शुक्ल द्वितीया, वि.सं. २०७६ सोमवार भगवान्‌से अपनापन हम अपनी तरफसे भगवान्‌को अपना मानते नहीं, पर भगवान्‌ अपनी तरफसे हमें अपना मानते हैं । मानते ही नहीं, जानते भी हैं । बच्‍चा माँको अपनी माँ मानता है, पर कभी-कभी अड़ जाता है कि तू मेरा कहना नहीं मानती तो मैं तेरा बेटा नहीं बनूँगा । माँ हँसती है; क्योंकि वह जानती है कि बेटा तो मेरा ही है । बच्‍चा समझता है कि माँको मेरी गरज है, बेटा बनना माँको निहाल करना है, इसलिये कहता है कि तेरा बेटा नहीं बनूँगा, तेरी गोदमें नहीं आऊँगा । परन्तु बेटा नहीं बननेसे हानि किसकी होगी ? माँका क्या बिगड़ जायगा ? माँ तो बच्‍चेके बिना वर्षोसे जीती रही है, पर बच्‍चेका निर्वाह माँके बिना कठीन हो जायगा । बच्‍चा उलटे माँपर अहसान करता है । ऐसे ही हम भी भगवान्‌पर अहसान कर सकते है ! भगवान्‌के एक बड़े प्यारे भक्त थे, नाम याद नहीं है । वे रात-दिन भगवद्भजनमें तल्लीन रहते थे । किसीने उनके लिये एक लंबी टोपी बनायी । उस टोपीको पहनकर वे मस्त होकर कीर्तन कर रहे थे । कीर्तन करते-करते वे प्रेममें इतने मग्न हो गये कि भगवान्‌ स्वयं आकर उनके पास बैठ गये और बोले कि भगतजी ! आज तो आपने बड़ी ऊँची टोपी लगायी ! वे बोले कि किसीके बापकी थोड़े ही है, मेरी है । भगवान्‌ने कहा कि मिजाज करते हो ? तो बोले कि माँगकर थोड़े ही लाये हैं मिजाज ? भगवान्‌ पूछा कि मेरेको जानते हो ? वे बोले कि अच्छी तरहसे जानता हूँ । भगवान्‌ बोले कि यह टोपी बिक्री करते हो क्या ? वे बोले कि तुम्हारे पास देनेको है ही क्या जो आये हो खरीदनेके लिये ? त्रिलोकी ही तो है तुम्हारे पास, और देनेको क्या है ? भगवान्‌ बोले कि इतना मिजाज ! तो वे बोले कि किसीका उधार लाये हैं क्या ? भगवान्‌ने कहा कि देखो, मैं दुनियासे कह दूँगा कि ये भगत-वगत कुछ नहीं हैं तो दुनिया तुम्हारेको मानेगी नहीं । वे बोले कि अच्छा, आप भी कहा दो, हम भी कह देंगे कि भगवान्‌ कुछ नहीं हैं । आपकी प्रसिद्धि तो हमलोगोंने की है, नहीं तो आपको कौन जानता है ? भगवान्‌ने हार मान ली ! माँके हृदयमें जितना प्रेम होता है उतना प्रेम बच्‍चोंके हृदयमें नहीं होता । ऐसे ही भगवान्‌के हृदयमें अपार स्नेह है । अपने स्नेहको, प्रेमको वे रोक नहीं सकते और हार जाते हैं ! ‘और सबसों गये जीत, भगतसे हार्यो’ कितनी विलक्षण बात है ! ऐसे भगवान्‌के हो जाओ । दूसरोंके साथ हमारा सम्बन्ध केवल उनकी सेवा करनेके लिये है । उनको अपना नहीं मानना है । अपना केवल भगवान्‌को मानना है । भगवान्‌की भी सेवा करनी है, पर उनसे लेना कुछ नहीं है । Iiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii भगवान्‌से अपनापन आजकी शुभ तिथि– आश्विन शुक्ल प्रतिपदा, वि.सं. २०७६ रविवार मातामह-श्राद्ध, शारदीयनवरात्रारम्भ भगवान्‌से अपनापन सज्जनो ! यह शरीर माता-पिताका है । इसलिये माता-पिताकी खूब सेवा करो, सब तरहसे उनको सुख पहुँचाओ, उनका आदर-सत्कार करो । वास्तवमें सेवा करके भी आप उऋण नहीं हो सकते । माँके ऋणसे कोई भी उऋण नहीं हो सकता । संसारसे जितने भी सम्बन्ध हैं, उनमें सबसे बढकर माँका सम्बन्ध है । इस शरीरका ठीक तरहसे पालन-पोषण जैसा माँ करती है, वैसा कोई नहीं कर सकता—‘मात्रा समं नास्ति शरीरपोषणम् ।’ इसलिए कहा गया है— कुलं पवित्रं जननी कृतार्था वसुन्धरा पुण्यवती च तेन । अपारसंवित्सुखसागारेऽस्मिन लीनं परे ब्रह्मणि यस्य चेतः ॥ (सकंन्दपुराण, माहे. कौमार. ५५/१४०) अर्थात् जिसका अन्तःकरण परब्रह्म परमात्मामें लीन हो गया है, उसका कुल पवित्र हो जाता है, उसकी माता कृतार्थ हो जाती है, और यह सम्पूर्ण पृथ्वी महान् पवित्र हो जाती है । जननी जणे तो भक्त जण, के दाता कै सूर । नहिं तो रहजे बाँझडी, मती गमाजे नूर ॥ मैंने सन्तोंका बधावा बोलते समय सुना है—‘धिन जननी ज्यांरे ए सुत जाया ए, सोहन थाल बजाया ए ।’जिस माताने ऐसे भक्तको जन्म दिया है, वह धन्य है ! कारण कि बालकपर माँका विशेष असर पडता है । प्रायः देखा जाता है कि माँ श्रेष्ठ होती है तो उसका पुत्र भी श्रेष्ठ होता है । इसलिये जिसका मन भगवान्‌में लग जाता है, उसकी माँ कृतार्थ हो जाती है । आप दान-पुण्य करके, बड़ा उपकार करके इतना लाभ नहीं ले सकते, जितना लाभ भगवान्‌के शरण होनेसे ले सकते हैं । कारण कि परमात्माके साथ हमारा अकाट्य-अटूट सम्बन्ध है । यह सम्बन्ध कभी भी टूट नहीं सकता । इस सम्बन्धको जीव ही भूला है, भगवान्‌ नहीं भूले । इसलिये जीवके ऊपर ही भगवान्‌की तरफ चलनेकी जिम्मेवारी है । भगवान्‌ तो अपनी ओरसे कृपा कर ही रहे हैं, चाहे वह कैसा ही क्यों न हो । भगवान्‌ सबका पालन, भरण-पोषण करते हैं । पापीको दण्ड देकर सुधारते हैं, नरकोंमें डालकर पवित्र करते हैं । इस तरह भगवान्‌ तो सम्पूर्ण जीवोंका पालन-पोषण करनेमें, उनको पवित्र करनेमें लगे हुए हैं । भगवान्‌ कहते हैं— सनमुख होई जीव मोहि जबहीं । जन्म कोटि अघ नासहिं तबहीं ॥ (मानस, सुन्दर.४४/२) जीव ही भगवान्‌से विमुख हुआ है, इसलिये इस पर ही भगवान्‌के सम्मुख होनेकी जिम्मेवारी है । जहाँ सम्मुख हुआ कि बेडा पार ! इसलिये हम प्रभुके चरणोंकी शरण हो जायँ और अपनी अहंता बदल दें कि हम परमात्माके हैं । जैसे बहनें-माताएँ अपनी अहंता बदल देती है कि मैं अब इस घरकी नहीं हूँ; जहाँ विवाह हुआ है, उस घरकी हूँ । उनका गोत्र बदल जाता है, पिताका गोत्र नहीं रहता । कई जगह ऐसी बात आती है कि घरमें कोई बालक पैदा हुआ और सूतक लगनेके कारण हम ठाकुरजीकी सेवा नहीं कर सकते, तो कहते है कि तुम्हारी जो विवाहित लड़की घरपर है, वह सेवा कर देगी; क्योंकि उसको तुम्हारा सूतक नहीं लगता, उसका गोत्र दूसरा है । वही लडकी आपके घरमें है और उसके ससुरालमें बालक पैदा हुआ तो आप उसको कहते हैं कि देख बेटी, जलको हाथ मत लगाना । वह खास अपनी बेटी है, पर ससुरालमें बालक पैदा होनेसे सूतक लगता है । ऐसे ही आप अपनी अहंता बदल दें कि हम तो भगवान्‌के हैं तो आप वास्तविकतातक पहुँच जायँगे । ॥ सन्तवाणी ॥–श्रद्धेय स्वामीजी श्रीरामसुखदासजी महाराज.

+15 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 1 शेयर

सरस श्रद्धांजलि --- सरस श्री धाम वृन्दावन में श्रीयुगल नाम की सरसता का रसास्वादन केवल रसिक संत ही करा सकते है | मुझ जैसे अधमाति अधम जीव को मधुरातिमधुर नाम का चस्का लगाने को संत किस युक्ति से कार्य करते है ये चिंतन बुद्धिजीवियों की क्षमता से परे है | कुछ इसी विलक्षण परोपकारी प्रतिभा से सम्पन्न श्रीकीर्तनिया बाबा जी थे | आप का जन्म असम में हुआ और आप श्रीनिम्बार्क सम्प्रदाय में दीक्षित होकर विरक्ति के सभी लक्षणों से सुशोभित होकर श्रीधाम वृन्दावन में विराजते थे | आप सरलता और त्याग की मूर्ती थे | सरलता तो सभी प्रकार से सरलता लेकिन सरलता का अर्थ किसी प्रकार से हीनता नहीं जैसा की आजकल माना जाता है | आप सरल थे सरलता से कीर्तन कराते थे लेकिन उस सरल कीर्तन में भी सरसता थी सरसता की हिलोर ह्रदय द्रवित कर देती थी | बलिहार श्रीकीर्तनिया बाबा जी की श्रीचरण रज पर | जब कभी अचानक मिलना होता था तो मुझे तो बहुत सावधान रहना पड़ता था ऐसे मिलते थे जैसे मुझसे काफी छोटे हों | मुझ जैसे अधम जीवो से भी सहज नाम उच्चारण कराने का एक अद्भुत विधान खोज निकाला | आपने देखा होगा कि श्रीधाम वृन्दावन की दीवारों एवं वृक्षों पर श्रीराधा श्रीराधा लिखा रहता था ये दिव्य युक्ति जीव कल्याणार्थ और एतदर्थ परिश्रम सर्व विध श्लाघनीय और वन्दनीय है | आप श्रीनिम्बार्क सम्प्रदाय के सदाचार के साक्षात स्वरूप थे हम सभी को उनके दर्शन मात्र से सदाचार की प्रेरणा मिलती रहती थी | श्रीधाम में रसिक जन के प्रिय श्रीकीर्तनिया बाबा जी निकुंज प्रवेश | हमें कल्याण कारी सरस स्मृतियों के साथ सगौरव बिलखते छोड़ कर | कोटि कोटि नमन

+26 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 0 शेयर