संतमहापुरुष

संत स्मरण परम पूज्य देवाचार्य श्री मलूक पीठाधीश्वर महाराज के गीता भवन ऋषिकेश में हुए प्रवचन से साभार कराची में दवे परिवार था बड़े पुत्र वासुदेव और छोटे कन्हैया । वासुदेव बचपन से ही भजन में लगे रहे । विवाह का प्रसंग आया तो कहा कि शरीर तो भजन के लिए मिला है । भोजन के लिए बुलाया जाए तो डकार लेने लगते थे कहते थे पेट भरा है । इस तरह भजन में आनंद लेते थे । उन्हें बिल्कुल भी शरीर की सुध बुध नहीं रहती थी। भोजन का ग्रास मुख् की जगह कान में ले जाते थे । इस प्रेम आनंद में डूबे होने के कारण उनकी माताजी को अपने हाथ से भोजन कराना पड़ता था । भजन करने के लिए श्मशान में चले जाया करते थे कहते की मृत्यु के निकट भजन अच्छा बनता है । घर में तो सब लोगों को भव रोग लगा है हमें वहां हमें भी भव रोग लग जाएगा । दवे जी के परिवार में एक छोटे पुत्र भी थे उनका नाम कन्हैया था । कराची से घर से चलकर वृंदावन के लिए निकल पड़े प्राचीन समय की बात है । घर पर बोला कि तीर्थ यात्रा पर जाएंगे चलते चलते अक्षय तृतीया के दिन श्रीधाम वृंदावन पहुंचे । वहाँ दर्शन आदि करके सोरोजी धाम में गए । भजन किया और बोले कि हम इस शरीर में हम इस शरीर से परिवार की सेवा नहीं कर सके अब हमारा समय पूरा हो चुका श्री ठाकुर जी विमान पर बैठे हैं और हमें बुला रहे हैं । ऐसा कहकर शरीर छोड़ दिया । इसी तरह एक और संत का स्मरण करते हुए महाराज जी ने बताया कि विदिशा में एक महात्मा रामचरितमानस का सत्संग कराते थे । केवल मानस की चौपाई और अर्थ पढ़कर सुनाने को कहते थे और कोई बात नहीं करते थे । एक बार किसी सत्संगी के साथ उनका छोटा पुत्र 1 दिन सत्संग में आ पहुंचा । उसकी चंचलता से सबका ध्यान भंग होता देखकर महात्मा जी ने पूछा ,-- किसका बच्चा है? उसके पिता ने सहज भाव से कह दिया - आपका ही है । महात्मा जी ने बच्चे से कहा ठीक से बैठ और सत्संग करने लगे । समाप्ति पर जब उस बच्चे का पिता उसे लेकर जाने लगा , तब महात्मा जी ने बच्चे का हाथ पकड़ लिया और बोले यह नहीं जाएगा , तुमने कहा यह हमारा है तो यही रहेगा। पिता बोले यह तो कहने की बात थी कोई सचमुच आपका बच्चा थोड़े ही हो गया । महात्मा बोले बस यही फर्क है भीतर से सारे संबंधों को नकली समझो और असली का अभिनय करते रहो तो बेड़ा पार हो जाएगा । गीता प्रेस के द्वारा प्रकाशित मासिक पत्रिका कल्याण 11; 93 से

+25 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 1 शेयर

चला आळंदीला जाऊ। ज्ञानेश्‍वर डोळा पाहू ।। तीर्थयात्रे सुखे जाऊ । वाचे विठ्ठलाचे नाव घेऊ ।। संता संगे सेऊ । वासुदेव धनिवरी ।। आळंदीत कार्तिकी यात्रेस प्रारंभ ः गुरु हैबतराव बाबांच्या पायरीचे पूजन एम. डी. पाखरे आळंदी – संतश्रेष्ठ श्री ज्ञानेश्‍वर महाराजांच्या संजीवन समाधी सोहळ्यास बुधवार (दि. 22) पासून प्रारंभ झाला. प्रथापरंपरेनुसार पालखी सोहळ्याचे जनक गुरू हैबतराव बाबा यांचे वंशज बाळासाहेब निवृत्ती आरफळकर-पवार व राजेंद्र आरफळकर-पवार यांच्या हस्ते बुधवारी सकाळी साडेनऊ वाजता “पुंडलिक वरदे हरी विठ्ठल’च्या गजरात मुख्य महाद्वारातून मंदिरात प्रवेश करतानाची पहिली मानाची गुरु हैबतराव बाबांच्या पायरीचे पूजन करण्यात आले. मानकऱ्यांच्या दिंडीतील अभंग विविध देवतांच्या आरत्या व देवा ब्राह्मणांच्या साक्षीने माउलींच्या 724व्या संजीवन समाधी सोहळ्यास प्रारंभ करण्यात करण्यात आला. पायरी पूजनप्रसंगी समस्त आरपळकर कुटुंबीय, देवसंस्थानचे प्रमुख विश्‍वस्त ऍड. विकास ढगे पाटील, विश्‍वस्त अभय टिळक, डॉ. अजित कुलकर्णी, माउलींचे चोपदार हभप कृष्णराव चोपदार, भाऊसाहेब फुरसुंगीकर, आळंदी पोलीस ठाण्याचे वरिष्ठ पोलीस निरीक्षक रवींद्र चौधर, पोलीस निरीक्षक प्रकाश जाधव, डी. डी. भोसले पाटील, ज्ञानेश्‍वर शिक्षण संस्थेचे सचिव अजित वडगावकर, संस्थानचे व्यवस्थापक ज्ञानेश्‍वर वीर, श्रीधर सरनाईक, नगरसेवक संतोष गावडे, पोलीस नाईक, मच्छिंद्र शेंडे, मारुती महाराज कोकाटे, मानकरी दिनेश कुऱ्हाडे, बाळासाहेब कुऱ्हाडे, राहुल चिताळकर, माउली गुळुंजकर यांच्यासह भाविक उपस्थित होते. पायरी पूजनाप्रसंगी मंत्रोपचार व धार्मिक विधी मोरेश्‍वर जोशी व इतर ब्रह्मवृंदानी केले. पहाटे पवमान अभिषेक व दुधआरती, सकाळी भाविकांच्या महापूजा हे नित्य कार्यक्रम उरकल्यानंतर सकाळी साडेनऊ वाजता मुख्य महाद्वारासमोर असलेल्या हैबतबाबांच्या पायरीचे पूजन विधीवत मंत्रोपचार करत हैबत बाबांचे वंशज पालखी सोहळा मालक बाळासाहेब आरफळकर-पवार, राजेंद्र आरपळकर व राजेंद्र आरफळकर यांच्या वतीने नारळ-प्रसादाचे वाटप काण्यात आले. दरम्यान, रात्री धूप आरती व हभप योगीराज ठाकूर, बाबासाहेब आजरेकर यांच्या तर्फे कीर्तनसेवा, रात्री 10 ते पहाटे 4 पर्यंत हैबतबाबा पायरी समोर हभप वासकर महाराज, मारुतीबुवा कराडकर, हैबतबाबा आरफळकर यांच्यातर्फे हरिजागर आदी धार्मिक कार्यक्रमांनी सोहळ्याच्या पहिल्या दिवसाची सांगता झाली. भाविकांच्या दिंड्यांचा ओघ सुरू संतश्रेष्ठ श्री ज्ञानेश्‍वर महाराज यांचा संजीवन समाधी सोहळा प्रत्यक्ष नेत्रसुखाने अनुभवण्यासाठी राज्याच्या कानाकोपऱ्यातून भाविकांच्या दिंड्यांचा ओघ सुरू झाला असून, अवघी अलंकापुरीच भक्‍तीरसात चिंब होऊ लागली आहे. त्यादृष्टीने सर्व यंत्रणा भाविकांच्या सुख-सुविधेसाठी सज्ज झाल्या आहेत. आजपासून आळंदीतील विविध मठ, मंदिरे, धर्मशाळांमध्ये व मोकळ्या जागेत राहुट्या उभारून सर्वत्र अखंड हरिनाम सप्ताहास सुरूवात झाली असल्याने पुढील सहा दिवस अलंकापुरीच हरिनामाच्या गजरात चिंब न्हाऊन निघणार आहे. आजचे धार्मिक कार्यक्रम गुरूवार (दि.21) रोजी पहाटे पवमान अभिषेक व दुधआरती,भाविकांच्या महापूजा, दुपारी महानैवेद्य, सायंकाळी हभप बाबासाहेब देहूकर यांच्यातर्फे कीर्तनसेवा, रात्री धूपआरती व त्यानंतर रात्री 9 ते 11 वासकर महाराज यांच्यातर्फे कीर्तनसेवा असे कार्यक्रम होणार आहेत. जय श्री कृष्ण जय श्री राम जय श्री संत ज्ञानेश्वर महाराज 👑

+129 प्रतिक्रिया 42 कॉमेंट्स • 15 शेयर

. "सन्त गणेशनाथ" छत्रपति शिवाजी महाराज के समय की बात है। मध्य प्रदेश के बालाघाट जिले में उज्जैनी के पास एक छोटे ग्राम में गणेशनाथ का जन्म हुआ। यह कुल भगवान् का भक्त था। माता-पिता भगवान की पूजा करते और भगवन्नाम का कीर्तन करते थे। बचपन से ही गणेशनाथ में भक्ति के संस्कार पड़े। माता उन्हें प्रोत्साहित करती और वे तुतलाते हुए भगवान का नाम ले लेकर नाचते। पिता ने भी उन्हें संसार के विषयो में लगने की शिक्षा देने के बदले भगवान का माहात्म्य ही सुनाया था। धन्य हैं वे माता-पिता, जो अपने बालक को विषतुल्य विषय भोगो में नहीं लगाते, बल्कि उसे भगवान के पावन चरणों में लगने की प्रेरणा देते हैं। पिता-माता से गणेशनाथ ने भगवन्नाम कीर्तन का प्रेम और वैराग्य का संस्कार पैतृक धन के रूप में पाया। माता-पिता गणेशनाथ की युवावस्था प्रारम्भ होने के पूर्व ही परलोकवासी हो गये थे। घर मे अकेले गणेशनाथ रह गये। किन्तु उन्हें अब चिन्ता क्या ? हरिनाम का रस उन्हें मिल चुका था। कामिनी काञ्चन का माया जाल उनके चित्त को कभी आकर्षित नहीं कर सका। वे तो अब सत्संग और अखण्ड भजन के लिये उत्सुक हो उठे। उन्होंने एक लंगोटी लगा ली। जाडा हो, गरमी हो या है वर्षा हो, अब उनको दूसरे किसी वस्त्र से काम नहीं था। वे भगवान् का नाम कीर्तन करते, पद गाते आनन्दमय हो नृत्य करने लगते थे। धीरे धीरे वैराग्य बढता ही गया। दिनभर जंगल में जाकर एकान्त में उच्चस्वर से नाम कीर्तन करते और रात्रि को घर लौट आते। रातको गाँव के लोगों को भगवान् की कथा सुनाते। कुछ समय बीतने पर ये गांव छोड़कर पण्ढरपुर चले आये और वहीं श्री कृष्ण का भजन करने लगे। एक बार छत्रपति शिवाजी महाराज पण्ढरपुर पधारे। पण्ढरपुर में उन दिनों अपने वैराग्य तथा संकीर्तन प्रेम के कारण साधु गणेशनाथ प्रसिद्ध को चुके थे। शिवाजी महाराज इनके दर्शन करने गये। उस समय ये कीर्तन करते हुए नृत्य कर रहे थे। बहुत रात बीत गयी, पर इन्हें तो शरीर का पता ही नहीं था। छत्रपति चुपचाप देखते रहे। जब कीर्तन समाप्त हुआ, तब शिवाजी ने इनके चरणोंमें मुकुट रखकर अपने खेमे में रात्रि विश्राम करने की इनसे प्रार्थना की। भक्त बड़े संकोच में पड़ गये। अनेक प्रकार से उन्होंने अस्वीकार करना चाहा, पर शिवाजी महाराज आग्रह करते ही गये। अन्त में उनकी प्रार्थना स्वीकार करके गणेशनाथ बहुत से कंकड़ चुनकर अपने वस्त्र में बाँधने लगे। छत्रपति ने आश्चर्य से पूछा -इनका क्या होगा ? आपने कहा- ये भगवान् का स्मरण दिलायेंगे। राजशिविर में गणेशनाथ जी के सत्कार के लिये सब प्रकार की उत्तम व्यवस्था की गयी। सुन्दर पकवान सोने के थाल में सजाये गये, सुगन्धित जल से उनके चरण धोये स्वयं छत्रपति ने, इत्र आदि उपस्थित किया गया और स्वर्ण के पलंग पर कोमल गद्देके ऊपर फूल बिछाये गये उनको सुलाने के लिये। गणेशनाथ ने यह सब देखा तो सन्न रह गये। जैसे कोई शेर गाय के छोटे बछड़े को उठाकर अपनी मांद में ले जाये और वह बेचारा बछड़ा भय के मारे भागने का रास्ता न पा सके, यही दशा गणेशनाथ की हो गयी। उन्हें भोग के ये सारे पदार्थ जलती हुई अग्नि के समान जान पड़ते थे। किसी प्रकार थोडा सा कुछ खाकर वे विश्राम करने गये। उस फूल बिछी शय्यापर अपने साथ लायी बडी गठरी के कंकडों को बिछाकर उन पर बैठ गये। वे रोते-रोते कहते जाते थे- पाण्डुरंग ! मेरे स्वामी ! तुमने मुझे कहां लाकर डाल दिया ? अवश्य मेरे कपटी ह्रदय में इन भोगो के प्रति कहीं कुछ आसक्ति थी, तभी तो तुमने मुझे यहाँ भेजा है। विट्ठल ! मुझे ये पदार्थ नरक की यन्त्रणा जैसे जान पड़ते हैं। मुझे तो तुम्हारा ही स्मरण चाहिये। किसी प्रकार रात बीती। सवेरे शिवाजी महाराज ने आकर प्रणाम करके पूछा – महाराज ! रात्रि सुख से तो व्यतीत हुई ? गणेशनाथ जी ने उत्तर दिया- जो क्षण विट्ठल का नाम लेने में बीते, वही सफल हुये। आज की रात हरिनाम लेने-में व्यतीत हुई अत: वह सफल हुई। शिवाजी ने जब सन्त के भाव सुने, तब उनके नेत्रों से आँसू बहने लगे। साधु को आग्रह करके अपने यहाँ ले आने का उन्हें पश्चात्ताप हुआ। उन्होंने चरणों में गिरकर क्षमा मांगी। साधक के लिये एक सबसे बडा विघ्न है लोक प्रख्याति। प्रतिष्ठा के कारण जितना शीघ्र साधक मोह मे पड़ता है, उतनी शीघ्रता से पतन दूसरे किसी विघ्न से नहीं होता। अतएव साधक को सदा सावधान होकर शूकरो विष्ठा के समान प्रतिष्ठा से दूर रहना चाहिये। गणेशनाथ जी ने देखा कि पंढरपुर में अब लोग मुझें जान गये हैं, अब मनुष्यों की भीड़ मेरे पास एकत्र होने लगी है, तब वे घने जंगल में चले गये। परंतु फूल खिलेगा तो सुगन्धि फैलेगी ही और उससे आकर्षित होकर भौरे भी वहां एकत्र होंगे ही। गणेशनाथ जी में भगवान का जो दिव्य अनुराग प्रकट हुआ था, उससे आकर्षित होकर भगवान् के प्रेमी भक्त वन में भी उनके पास एकत्र होने लगे । गणेशनाथ जी का भगवत् प्रेम ऐसा था कि वे जिसे भी छू देते थे, वही उन्मत्त की भाँति नाचने लगता था। वही भगवन्नाम का कीर्तन करने लगता था। श्री चैतन्य महाप्रभु ने अपने भक्तों से एक बार कहा था- सच्चा भगवद भक्त वह है, जिसके पास जाते ही दूसरे इच्छा न होने पर भी विवश् की भाँति अपने आप भगवान् का नाम लेने लगें। गणेशनाथ जी इसी प्रकार के भगवान् के भक्त थे। श्री गणेशनाथ जी के प्रेम की महिमा अपार है। वे जब भगवान के प्रेम में उन्मत्त होकर पांडुरंग विट्ठल ! पांडुरंग विट्ठल ! विट्ठल रुक्मिणी ! कहकर नृत्य करने लगते थे, तब वहां के सब मनुष्य उनके साथ कीर्तन करने को जैसे विवश हो जाते थे। ऐसे भगवद्भक्त तो नित्य भगवान् को प्राप्त हैं। वे भगवन्मय हैं। उनके स्मरण से, उनके चरित का हदय में चिन्तन करने से मनुष्य के पाप ताप नष्ट हो जाते हैं और मानुष हृदय में भगवान् का अनुराग जागृत हो जाता है। ----------:::×:::---------- "जय जय श्री राधे" ********************************************

+21 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 5 शेयर

।।श्री राधा।। परम पूज्य राधा भाव निमग्न श्री राधा बाबा वचनामृत *भगवान के यहाँ अवश्य सुनाई देती है* सत्सँग करने से मनुष्य को थोड़ी या बहुत अवश्य शान्ति मिलती है।श्रद्धा जिस दिन पूरी हो जायगी, उसी दिन भगवान की दया एवम भगवान--दोनों ही प्रत्यक्ष हो जायेंगे। दयामय से प्रार्थना करनी चाहिये- प्रभो! मेरे अन्तःकरण में शुद्ध दया एवं प्रेम का संचार कीजिये। वे अतिशय दयालु हैं। भक्त को कभी निराश नहीं करते। उनके यहाँ विलम्ब से या जल्दी अवश्य सुनाई होती है। श्रीराधाबाबा जु !! : *आस्तिकता की आधारशिलाएं* *अपने लिये भजन आपको ही करना पड़ेगा* प्रतिदिन आयु कम हो रही , मृत्यु निकट आ रही है इसे मत भूलें। मृत्यु के बाद आपके न रहने पर भी यहाँ किसी काम में कोई अड़चन होगी, यह बिल्कुल ठीक मानिये। आप देखते हैं-—परिवार में किसी न व्यक्ति की मृत्यु के समय कितना हाहाकार मचता है पर पीछे सब अतीत के गर्भ में दब जाता है। उनका अभाव कितने आदमियों को खटकता है। यह दशा हम सबकी होगी। लोग भूल जायेंगे और जगत का काम ठीक है ,जैसा चलना चाहिये वैसा चलता रहेगा। पर आपके बिना एक काम नहीं होगा। आपके लिये भजन आपको ही करना पड़ेगा। इस काम की पूर्ति आपको ही करनी पड़ेगी। इसलिये खूब गम्भीरता से मन को जो यहां फंस रहा है यहाँ से निकालकर सुधार में लगाइये। भगवत्प्राप्ति के सिवा कई ऐसी स्थिति नहीं है कि जो निर्भय हो, जहाँ से पतन का भय न हो ।सर्वत्र अशान्ति है, सर्वत्र भय लगा है। इसलिये उस स्थिति को पाने में ही हमारी सार्थकता , जिसे पाकर अशान्ति मिट जाय--अनन्त शान्ति मिल जाय, सदा के लिये हम सुखी हो जायें। श्रीराधाबाबा जु !!

+31 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 2 शेयर