शुभ_हिन्दू_नववर्ष

Babita Sharma Mar 25, 2020

*हे मां आदिशक्ति मां दुर्गा *हे ममतामयी मां भवानी...*नवरात्रि के इस पावन पर्व पर आपसे प्रार्थना है *पूरी दुनिया में जितने भी लोग बीमार हैं, या परेशान हैं, उन पर अपनी कृपा बरसायें, और उन की सभी बीमारियों और परेशानियों को खत्म कर दें।* *हे! मातारानी, इस नेकी की प्रार्थना को सब की इच्छा मानकर स्वीकार करें l* ❤🙏 *दिल से प्रार्थना*जय माता दी 🚩 नए वर्ष में नई पहल हो। कठिन ज़िंदगी और सरल हो।। अनसुलझी जो रही पहेली। अब शायद उसका भी हल हो।। जो चलता है वक्त देखकर। आगे जाकर वही सफल हो।। नए वर्ष का उगता सूरज। सबके लिए सुनहरा पल हो।। समय हमारा साथ सदा दे। कुछ ऐसी आगे हलचल हो।। सुख के चौक पुरें हर द्वारे। सुखमय आँगन का हर पल हो।। भारतीय *नववर्ष विक्रमी संवत् 2077* पर आपको व आपके अपनों को हार्दिक शुभकामनाएं🙏🙏 प्रार्थना है कि इन नवरात्रों से मां जगदम्बे हम सभी पर उत्तम स्वास्थ्य सहित असीम अनुकंपा बनाये रखें। श्री मात्रे नमः🙏🙏जय माता दी 🚩

+2217 प्रतिक्रिया 359 कॉमेंट्स • 1016 शेयर
Neha Sharma, Haryana Mar 25, 2020

🌹👣जय माता दी 👣🌹 *रिद्धि दे, सिद्धि दे, वंश में वृद्धि दे, *ह्रदय में ज्ञान दे, चित्त में ध्यान दे, *अभय वरदान दे, दुःख को दूर कर, *सुख भरपूर कर, आशा को संपूर्ण कर, *सज्जन जो हित दे, कुटुंब में प्रीत दे, *जग में जीत दे, माया दे, साया दे, *और निरोगी काया दे, मान-सम्मान दे, *सुख समृद्धि और ज्ञान दे, शान्ति दे, *शक्ति दे, भक्ति भरपूर दें... *माँ भगवती के आशीर्वादों से पूरे परिवार में सुख हो, *समृद्धि होवे, उत्तम स्वास्थ्य हो, आचार-विचार में शुद्धि हो, *संस्कारों का सृजन हो,धन-धान्य में उत्तरोत्तर वृद्धि हो, *उन्नति के रास्ते प्रसस्त हों, पारिवारिक सद्भाव में बढ़ोत्तरी हो, *पारिवारिक जीवन खुशियों से ओतप्रोत हो, *जीवन माधुर्यरस से लबालब हो। *माता भगवती की कृपा बनी रहे। *माँ भगवती राह प्रसस्त्र करें। *ॐ नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं *हे मां आदिशक्ति मां दुर्गा *हे ममतामयी मां भवानी...*नवरात्रि के इस पावन पर्व पर आपसे प्रार्थना है *पूरी दुनिया में जितने भी लोग बीमार हैं, या परेशान हैं, उन पर अपनी कृपा बरसायें, और उन की सभी बीमारियों और परेशानियों को खत्म कर दें।* *हे! मातारानी, इस नेकी की प्रार्थना को सब की इच्छा मानकर स्वीकार करें l* ❤🙏 *दिल से प्रार्थना*जय माता दी 🚩 नए वर्ष में नई पहल हो। कठिन ज़िंदगी और सरल हो।। अनसुलझी जो रही पहेली। अब शायद उसका भी हल हो।। जो चलता है वक्त देखकर। आगे जाकर वही सफल हो।। नए वर्ष का उगता सूरज। सबके लिए सुनहरा पल हो।। समय हमारा साथ सदा दे। कुछ ऐसी आगे हलचल हो।। सुख के चौक पुरें हर द्वारे। सुखमय आँगन का हर पल हो।। भारतीय *नववर्ष विक्रमी संवत् 2077* पर आपको व आपके अपनों को हार्दिक शुभकामनाएं🙏🙏 प्रार्थना है कि इन नवरात्रों से मां जगदम्बे हम सभी पर उत्तम स्वास्थ्य सहित असीम अनुकंपा बनाये रखें। श्री मात्रे नमः🙏🙏जय माता दी 🚩 🚩🚩जय माता दी 🚩🚩 🚩👏🚩👏🚩👏🚩👏 नवरात्रि का त्‍योहार पूरे भारत में मनाया जाता है. उत्तर भारत में नौ दिनों तक देवी मां के अलग-अलग स्‍वरूपों की पूजा की जाती है. भक्‍त पूरे नौ दिनों तक व्रत रखने का संकल्‍प लेते हैं. चैत्र नवरात्र के दौरान आदि शक्ति के सभी नौ रूपों की उपासना की जाती हैं।  नवरात्रि (Navratri) यानी कि नौ रातें. चैत्र नवरात्र  (Chaitra Navratri) हिन्‍दुओं के प्रमुख त्‍योहारों में से एक हैं. चैत्र नवरात्र के के साथ ही हिन्‍दू नव वर्ष की शुरुआत होती है . नवरात्रि के दौरान मां दुर्गा के सभी नौ रूपों की पूजा की जाती है. नवरात्रि के नौ दिनों को बेहद पवित्र माना जाता है. इस दौरान लोग देवी के नौ रूपों की आराधना कर उनसे आशीर्वाद मांगते हैं. मान्‍यता है कि इन नौ दिनों में जो भी सच्‍चे मन से मां दुर्गा की पूजा करता है उसकी सभी इच्‍छाएं पूर्ण होती हैं. है. हिन्‍दू कैलेंडर के अनुसार हर साल चैत्र (Chaitra) महीने के पहले दिन से ही नव वर्ष की शुरुआत हो जाती है. साथ ही इसी दिन से चैत्र नवरात्रि (Chaitra Navratri 2020) भी शुरू हो जाती हैं. इसे महाराष्ट्र में गुड़ी पड़वा (Marathi New Year) के तौर पर भी जाना जाता है. कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में इस पर्व को उगादि (Ugadi) के रूप में मनाया जाता है. आपको बता दें कि साल में मुख्य रूप से दो नवरात्र आती हैं जिसमें से चैत्र नवरात्र और शारदीय नवरात्र होती हैं. चैत्र नवरात्र से हिन्‍दू नव वर्ष शुरू होता है, जबकि शारदीय नवरात्र बुराई पर अच्‍छाई की जीत का प्रतीक है. इसे महाराष्ट्र में गुड़ी पड़वा (Marathi New Year) के तौर पर भी जाना जाता है. कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में इस पर्व को उगादि (Ugadi) के रूप में मनाया जाता है. हिन्‍दू पंचांग के अनुसार चैत्र नवरात्र हर साल चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरू होते हैं. ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार यह हर साल मार्च या अप्रैल के महीने में आते हैं. इस बार चैत्र नवरात्र 25 मार्च 2020 से शुरू होकर 2 अप्रैल 2020 को खत्‍म हो रहे हैं. वहीं, राम नवमी 2 अप्रैल 2020 को मनाई जाएगी. शारदीय नवरात्रि की तिथियां  25 मार्च 2020: नवरात्रि का पहला दिन, प्रतिपदा, कलश स्‍थापना, चंद्र दर्शन और शैलपुत्री पूजन.  26 मार्च 2020: नवरात्रि का दूसरा दिन, द्व‍ितीया, बह्मचारिणी पूजन. 27 मार्च 2020:  नवरात्रि का तीसरा दिन, तृतीया, चंद्रघंटा पूजन. 28 मार्च 2020: नवरात्रि का चौथा दिन, चतुर्थी, कुष्‍मांडा पूजन. 29 मार्च 2020: नवरात्रि का पांचवां दिन, पंचमी, स्‍कंदमाता पूजन. 30 मार्च 2020: नवरात्रि का छठा दिन, षष्‍ठी, सरस्‍वती पूजन. 31 मार्च 2020: नवरात्रि का सातवां दिन, सप्‍तमी, कात्‍यायनी पूजन. 1 अप्रैल 2020: नवरात्रि का आठवां दिन, अष्‍टमी, कालरात्रि पूजन, कन्‍या पूजन. 2 अप्रैल 2020: नवरात्रि का नौवां दिन, राम नवमी, महागौरी पूजन, कन्‍या पूजन, नवमी हवन, नवरात्रि पारण साल में चार बार नवरात्रि आती है. आषाढ़ और माघ में आने वाले नवरात्र गुप्त नवरात्र होते हैं जबकि चैत्र और अश्विन प्रगट नवरात्रि होती हैं. चैत्र के ये नवरात्र पहले प्रगट नवरात्र होते हैं. चैत्र नवरात्र (Chaitra Navratri) से हिन्‍दू वर्ष की शुरुआत होती है. वहीं शारदीय नवरात्र (Shardiya Navratri) के दौरान दशहरा मनाया जाता है. बता दें, हिन्‍दू धर्म में नवरात्रि का विशेष महत्‍व है. नवरात्रि के नौ दिनों को बेहद पवित्र माना जाता है. इस दौरान लोग देवी के नौ रूपों की आराधना कर उनसे आशीर्वाद मांगते हैं. मान्‍यता है कि इन नौ दिनों में जो भी सच्‍चे मन से मां दुर्गा की पूजा करता है उसकी सभी इच्‍छाएं पूर्ण होती हैं.   नवरात्रि का त्‍योहार पूरे भारत में मनाया जाता है. उत्तर भारत में नौ दिनों तक देवी मां के अलग-अलग स्‍वरूपों की पूजा की जाती है. भक्‍त पूरे नौ दिनों तक व्रत रखने का संकल्‍प लेते हैं. पहले दिन कलश स्‍थापना की जाती है और अखंड ज्‍योति जलाई जाती है. फिर अष्‍टमी या नवमी के दिन कुंवारी कन्‍याओं को भोजन कराया जाता है. चैत्र नवरात्र के आखिरी दिन यानी कि नवमी को राम नवमी कहते हैं. हिन्‍दू धर्मशास्त्रों के अनुसार इस दिन मर्यादा-पुरुषोत्तम भगवान श्री राम का जन्म हुआ था. रामनवमी के साथ ही मां दुर्गा के नवरात्रों का समापन भी होता है. रामनवमी के दिन पूजा की जाती है. इस दिन मंदिरों में विशेष रूप से रामायण का पाठ किया जाता है और भगवान श्री राम की पूजा अर्चना की जाती है. साथ ही भजन-कीर्तन कर आरती की जाती है और भक्‍तों में प्रसाद बांटा जाता है. नवरात्रि व्रत के नियम अगर आप भी नवरात्रि के व्रत रखने के इच्‍छुक हैं तो इन नियमों का पालन करना चाहिए। *जय माता दी* 🚩🥀🙏

+1161 प्रतिक्रिया 195 कॉमेंट्स • 894 शेयर