शुभ---मंगलवार

+175 प्रतिक्रिया 20 कॉमेंट्स • 185 शेयर

*🛕🕉️ॐ श्री हनुमते नमः🕉️🛕* *🎪🔥हिन्दू पंचांग🔥🎪* ⛅ *दिनांक 09 फरवरी 2021* ⛅ *दिन - मंगलवार* ⛅ *विक्रम संवत - 2077* ⛅ *शक संवत - 1942* ⛅ *अयन - उत्तरायण* ⛅ *ऋतु - शिशिर* ⛅ *मास - माघ (गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार - पौष)* ⛅ *पक्ष - कृष्ण* ⛅ *तिथि - त्रयोदशी 10 फरवरी प्रातः 02:05 तक तत्पश्चात चतुर्दशी* ⛅ *नक्षत्र - पूर्वाषाढा दोपहर 02:39 तक तत्पश्चात उत्तराषाढा* ⛅ *योग - वज्र सुबह 09:11 तक तत्पश्चात सिद्धि* ⛅ *राहुकाल - शाम 03:43 से शाम 05:08 तक* ⛅ *सूर्योदय - 07:14* ⛅ *सूर्यास्त - 18:32* ⛅ *दिशाशूल - उत्तर दिशा में* ⛅ *व्रत पर्व विवरण - भौमप्रदोष व्रत* 💥 *विशेष - त्रयोदशी को बैंगन खाने से पुत्र का नाश होता है। (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)* *🎪🔥हिन्दू पंचांग🔥🎪* 🌷 *व्यतिपात योग* 🌷 🙏🏻 *व्यतिपात योग की ऐसी महिमा है कि उस समय जप पाठ प्राणायम, माला से जप या मानसिक जप करने से भगवान की और विशेष कर भगवान सूर्यनारायण की प्रसन्नता प्राप्त होती है जप करने वालों को, व्यतिपात योग में जो कुछ भी किया जाता है उसका १ लाख गुना फल मिलता है।* 🙏🏻 *वाराह पुराण में ये बात आती है व्यतिपात योग की।* 🙏🏻 *व्यतिपात योग माने क्या कि देवताओं के गुरु बृहस्पति की धर्मपत्नी तारा पर चन्द्र देव की गलत नजर थी जिसके कारण सूर्य देव अप्रसन्न हुऐ नाराज हुऐ, उन्होनें चन्द्रदेव को समझाया पर चन्द्रदेव ने उनकी बात को अनसुना कर दिया तो सूर्य देव को दुःख हुआ कि मैने इनको सही बात बताई फिर भी ध्यान नही दिया और सूर्यदेव को अपने गुरुदेव की याद आई कि कैसा गुरुदेव के लिये आदर प्रेम श्रद्धा होना चाहिये पर इसको इतना नही थोडा भूल रहा है ये, सूर्यदेव को गुरुदेव की याद आई और आँखों से आँसु बहे वो समय व्यतिपात योग कहलाता है। और उस समय किया हुआ जप, सुमिरन, पाठ, प्रायाणाम, गुरुदर्शन की खूब महिमा बताई है वाराह पुराण में।* 💥 *विशेष ~ 10 फरवरी 2021 बुधवार को सुबह 07:03 से 11 फरवरी प्रातः 05:09 तक (यानी 10 फरवरी पुरा दिन) व्यतीपात योग है।* 🙏🏻 *कथा स्रोत - बडोदा २००८ में १२ नवम्बर को सुबह के दीक्षा सत्र में (स्वामी सुरेशानन्द जी के सत्संग से)* *🎪🔥हिन्दू पंचांग🔥🎪* 🌷 *कर्ज-मुक्ति के लिए मासिक शिवरात्रि* 🌷 👉🏻 *10 फरवरी 2021 बुधवार को मासिक शिवरात्रि है।* 🙏🏻 *हर मासिक शिवरात्रि को सूर्यास्‍त के समय घर में बैठकर अपने गुरुदेव का स्मरण करके शिवजी का स्मरण करते- करते ये 17 मंत्र बोलें, जिनके सिर पर कर्जा ज्यादा हो, वो शिवजी के मंदिर में जाकर दिया जलाकर ये 17 मंत्र बोले।इससे कर्जा से मुक्ति मिलेगी* 🌷 *1).ॐ शिवाय नम:* 🌷 *2).ॐ सर्वात्मने नम:* 🌷 *3).ॐ त्रिनेत्राय नम:* 🌷 *4).ॐ हराय नम:* 🌷 *5).ॐ इन्द्र्मुखाय नम:* 🌷 *6).ॐ श्रीकंठाय नम:* 🌷 *7).ॐ सद्योजाताय नम:* 🌷 *8).ॐ वामदेवाय नम:* 🌷 *9).ॐ अघोरह्र्द्याय नम:* 🌷 *10).ॐ तत्पुरुषाय नम:* 🌷 *11).ॐ ईशानाय नम:* 🌷 *12).ॐ अनंतधर्माय नम:* 🌷 *13).ॐ ज्ञानभूताय नम:* 🌷 *14). ॐ अनंतवैराग्यसिंघाय नम:* 🌷 *15).ॐ प्रधानाय नम:* 🌷 *16).ॐ व्योमात्मने नम:* 🌷 *17).ॐ युक्तकेशात्मरूपाय नम:* 🙏🏻 *आर्थिक परेशानी से बचने हेतु* 🙏🏻 👉🏻 *हर महीने में शिवरात्रि (मासिक शिवरात्रि - कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी) को आती है | तो उस दिन जिसके घर में आर्थिक कष्ट रहते हैं वो शाम के समय या संध्या के समय जप-प्रार्थना करें एवं शिवमंदिर में दीप-दान करें ।* 👉🏻 *और रात को जब 12 बज जायें तो थोड़ी देर जाग कर जप और एक श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें।तो आर्थिक परेशानी दूर हो जायेगी।* 🙏🏻 *प्रति वर्ष में एक महाशिवरात्रि आती है और हर महीने में एक मासिक शिवरात्रि आती है। उस दिन शाम को बराबर सूर्यास्त हो रहा हो उस समय एक दिया पर पाँच लंबी बत्तियाँ अलग-अलग उस एक में हो शिवलिंग के आगे जला के रखना |बैठ कर भगवान शिवजी के नाम का जप करना प्रार्थना करना, | इससे व्यक्ति के सिर पे कर्जा हो तो जल्दी उतरता है, आर्थिक परेशानियाँ दूर होती है ।* 🙏🏻 *-श्री सुरेशानंन्दजी* *🎪🔥हिन्दू पंचांग🔥🎪* *मंगल-मूरति मारूत-नंदन*। *सकल-अमंगल-मूल-निकंदन*॥ *पवनतनय संतन-हितकारी*। *ह्रदय बिराजत अवध-बिहारी*॥ *मातु-पिता,गुरू,गनपति,सारद*। *सिवा-समेत संभु,सुक,नारद*॥ *चरन बंदि बिनवौं सब काहू*। *देहु रामपद-नेह-निबाहू*॥ *बंदौं राम-लखन-बैदेही*। *जे तुलसी के परम सनेही*॥ *🚩🚩जय जय सियाराम🚩🚩* 🛕🛕🕉️🕉️🚩🙏🚩🕉️🕉️🛕🛕

+13 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 4 शेयर

+627 प्रतिक्रिया 174 कॉमेंट्स • 57 शेयर