शिव शंभू

*🌷॥ॐ॥🌷* *जय श्री राधे...👏* 🚩॥जय हिन्द🇮🇳जय नमो॥👏 ************************** *🔱शुभ सोमवार🌞* *🚩॥ॐ नमः शिवाय॥👏* ************************************** *🔱🚩॥हर हर महादेव॥👏* *_॥हे परम पिता शिव शंभू, हमारे समस्त पापो को नाश कर हम लोगों को नवजीवन प्रदान करें॥🙏_* ************************************** ओम जय शिव ओंकारा। प्रभु हर शिव ओंकारा। ओम जय शिव ओंकारा। प्रभु हर शिव ओंकारा। ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥ ॥ओम जय शिव ओंकारा॥ एकानन चतुरानन, पंचानन राजे। स्वामी (शिव) पंचानन राजे। हंसासन गरूड़ासन, वृषवाहन साजे॥ ॥ओम जय शिव ओंकारा॥ दोभुज चार चतुर्भुज, दशभुज अति सोहे। स्वामी दशभुज अति सोहे। तीनो रूप निरखते, त्रिभुवन जन मोहे॥ ॥ओम जय शिव ओंकारा॥ अक्षमाला वनमाला, मुण्डमाला धारी। स्वामी मुण्डमाला धारी। त्रिपुरारी कंसारी, कर माला धारी॥ (चन्दन मृगमद सोहे, भाले शशि धारी॥) ॥ओम जय शिव ओंकारा॥ श्वेतांबर पीतांबर, बाघंबर अंगे। स्वामी बाघंबर अंगे। सनकादिक गरुडादिक, भूतादिक संगे॥ ॥ओम जय शिव ओंकारा॥ करमध्येन कमंडलु, चक्र त्रिशूलधारी। स्वामी चक्र त्रिशूलधारी। सुखकर्ता दुखहर्ता, जग-पालन करता॥ ॥ओम जय शिव ओंकारा॥ ब्रह्मा विष्णु सदाशिव, जानत अविवेका। स्वामी जानत अविवेका। प्रणवाक्षर ओम मध्ये, ये तीनों एका॥ ॥ओम जय शिव ओंकारा॥ काशी में विश्वनाथ विराजत, नन्दो ब्रह्मचारी। स्वामी नन्दो ब्रह्मचारी। नित उठ दर्शन पावत, महिमा अति भारी॥ ॥ओम जय शिव ओंकारा॥ त्रिगुण स्वामीजी की आरती, जो कोइ नर गावे। स्वामी जो कोइ नर गावे। कहत शिवानन्द स्वामी , मन वांछित फल पावे॥ ॥ओम जय शिव ओंकारा॥ ओम जय शिव ओंकारा। प्रभु हर शिव ओंकारा । ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥ ॥ओम जय शिव ओंकारा॥ ओम जय शिव ओंकारा। प्रभु हर शिव ओंकारा । ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥ ॥ओम जय शिव ओंकारा॥ 🌷🌷🚩🌺🌺🔱🌷🌷 🌸🌺👏🌺🌸

+13 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 5 शेयर
Sajjan Singhal Apr 12, 2021

+10 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 1 शेयर

*🌷॥ॐ॥🌷* *जय श्री राधे...👏* 🚩॥जय हिन्द🇮🇳जय नमो॥👏 ************************** *🔱शुभ सोमवार🌞* _हे भगवन विश्व को "कोरोनावायरस" रुपी राक्षस से मुक्त करें 👏_ ************************** *॥ॐ नमः शिवाय॥👏* *हे भोला नाथ, कखन हरब दुख मोर-मैथिली शिव भजन...🙏* ************************** हे भोला नाथ, कखन हरब दुख मोर.... हे भोला नाथ, कखन हरब दुख मोर.... दुख ही जनम भेल दुख ही गमाएब दुख ही जनम भेल दुख ही गमाएब सुख सपनहू नहीं भेल हे भोला नाथ सुख सपनहू नहीं भेल हे भोला नाथ, कखन हरब दुख मोर.... अछत चन्दन और गंगा जल अछत चन्दन और गंगा जल कोरी बेलपत्र तोही देब हे भोला नाथ कोरी बेलपत्र तोही देब हे भोला नाथ, कखन हरब दुख मोर.... यही भवसागर थाह कतहु नहीं यही भवसागर थाह कतहु नहीं भैरव करू कर आए हे भोला नाथ भैरव करू कर आए हे भोला नाथ, कखन हरब दुख मोर.... भनहि विद्यापति मोर भोलानाथ गति भनहि विद्यापति मोर भोलानाथ गति देहू अभय बड़ मोहि हे भोलानाथ देहू अभय बड़ मोहि हे भोला नाथ, कखन हरब दुख मोर.... हे भोला नाथ, कखन हरब दुख मोर.... कखन हरब दुख मोर 🌷🌷🌷🌺🌺🌷🌷🌷 🔱🙏🌸👏🌸🙏🔱

+9 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 2 शेयर

*🌷॥ॐ॥🌷* *जय श्री राधे...👏* 🚩॥जय हिन्द🇮🇳जय नमो॥👏 ************************** *🔱शुभ सोमवार🌞* *🚩॥ॐ नमः शिवाय॥👏* ************************************** *हे परम पिता शिव शंभू, हम सबका हर पल मंगलमय करें और अंधकार से प्रकाश की ओर ले चलें🙏* *आप सभी को होली की हार्दिक शुभकामनाएं🙏* ************************************** हे जय जय शिव शंकर कांटा लगे ना कंकर जय जय शिव शंकर कांटा लगे ना कंकर के प्याला तेरे नाम का पिया ओ ...गिर जाउंगी मैं मर जाउंगी जो तूने मुझे थाम न लिया ओ सौ रब दी हे जय जय शिव शंकर कांटा लगे ना कंकर के प्याला तेरे नाम का पिया ओ ...गिर जाउंगी मैं मर जाउंगी जो तूने मुझे थाम न लिया ओ सौ रब दी एक के दो दो के चार मुझको तो दिखते हैं ऐसा ही होता है तब दो दिल मिलते हैं एक के दो दो के चार मुझको तो दिखते हैं ऐसा ही होता है तब दो दिल मिलते हैं सर पे जमीन पाँव के नीचे है आसमान सौ रब दी सौ रब दी सौरब दी सौ रब दी जय जय शिव शंकर कांटा लगे ना कंकर के प्याला तेरे नाम का पिया ओ ...गिर जाउंगी मैं मर जाउंगी जो तूने मुझे थाम न लिया ओ सौ रब दी ओ मोरे राजा बड़े जतना से के चुनी तेरी फुलवारी रे कंधे पे सर रख के तुम मुझको सोने दो मस्ती में जो चाहे हो जाए होने दो कंधे पे सर रख के तुम मुझको सोने दो मस्ती में जो चाहे हो जाए होने दो ऐसे में तुम हो गए हो बड़े बेईमान हो सौ रब दी सौ रब दी सौरब दी सौ रब दी जय जय शिव शंकर कांटा लगे ना कंकर के प्याला तेरे नाम का पिया ओ ...गिर जाउंगी मैं मर जाउंगी जो तूने मुझे थाम न लिया ओ सौ रब दी रस्ते में हम दोनों घर कैसे जायेंगे घर वाले अब हमको खुद लेने आयेंगे रस्ते में हम दोनों घर कैसे जायेंगे घर वाले अब हमको खुद लेने आयेंगे कुछ भी हो लेकिन मजा आ गया मेरी जान हो सौ रब दी सौ रब दी सौरब दी सौ रब दी जय जय शिव शंकर कांटा लगे ना कंकर के प्याला तेरे नाम का पिया ओ ...गिर जाउंगी मैं मर जाउंगी जो तूने मुझे थाम न लिया ओ सौ रब दी *🚩🎷 होली की हार्दिक शुभकामनाएं🎺🥁🔱*

+8 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 4 शेयर