शनिदेव_स्तुति_मन्त्र🙏🌹

🔮🔮🔮🔮🔮🔮🔮 *शुभ प्रभात ।।। 😊🙏* 🔹 *प्रेरक प्रसंग* *मन की आवाज़ !!* 🍀🌹🍀🌹🍀🌹🍀🌹🍀🌹🍀 एक बुढ़िया बड़ी सी गठरी लिए चली जा रही थी। चलते-चलते वह थक गई थी। तभी उसने देखा कि एक घुड़सवार चला आ रहा है। उसे देख बुढ़िया ने आवाज दी, ‘अरे बेटा, एक बात तो सुन।’ घुड़सवार रुक गया। उसने पूछा, ‘क्या बात है माई?’ बुढ़िया ने कहा, ‘बेटा, मुझे उस सामने वाले गांव में जाना है। बहुत थक गई हूं। यह गठरी उठाई नहीं जाती। तू भी शायद उधर ही जा रहा है। यह गठरी घोड़े पर रख ले। मुझे चलने में आसानी हो जाएगी।’ उस व्यक्ति ने कहा, ‘माई तू पैदल है। मैं घोड़े पर हूं। गांव अभी बहुत दूर है। पता नहीं तू कब तक वहां पहुंचेगी। मैं तो थोड़ी ही देर में पहुंच जाऊंगा। वहां पहुंचकर क्या तेरी प्रतीक्षा करता रहूंगा?’ यह कहकर वह चल पड़ा। कुछ ही दूर जाने के बाद उसने अपने आप से कहा, ‘तू भी कितना मूर्ख है। वह वृद्धा है, ठीक से चल भी नहीं सकती। क्या पता उसे ठीक से दिखाई भी देता हो या नहीं। तुझे गठरी दे रही थी। संभव है उस गठरी में कोई कीमती सामान हो। तू उसे लेकर भाग जाता तो कौन पूछता। चल वापस, गठरी ले ले। ‘ वह घूमकर वापस आ गया और बुढ़िया से बोला, ‘माई, ला अपनी गठरी। मैं ले चलता हूं। गांव में रुककर तेरी राह देखूंगा।’ बुढ़िया ने कहा, ‘न बेटा, अब तू जा, मुझे गठरी नहीं देनी।’ घुड़सवार ने कहा, ‘अभी तो तू कह रही थी कि ले चल। अब ले चलने को तैयार हुआ तो गठरी दे नहीं रही। ऐसा क्यों? यह उलटी बात तुझे किसने समझाई है?’ बुढ़िया मुस्कराकर बोली, ‘उसी ने समझाई है जिसने तुझे यह समझाया कि माई की गठरी ले ले। जो तेरे भीतर बैठा है वही मेरे भीतर भी बैठा है। तुझे उसने कहा कि गठरी ले और भाग जा। मुझे उसने समझाया कि गठरी न दे, नहीं तो वह भाग जाएगा। तूने भी अपने मन की आवाज सुनी और मैंने भी सुनी।’ 🍀🌹🍀🌹🍀🌹🍀🌹🍀🌹🍀

+130 प्रतिक्रिया 18 कॉमेंट्स • 122 शेयर

"राम कहने से तर जाओगे मीठे बोल बोलो संवर जाओगे - शुभ दिन हो आपका राम कहने से तर जाओगे मीठे बोल बोलो संवर जाओगे, सब की अपनी जिंदगी है यहाँ कोई किसी का नही खाता है, जो दोगे औरों को वही वापस लौट कर आता है। तेरा मेरा करते एक दिन चले जाना है जो भी कमाया यही रह जाना है कर ले कुछ अच्छे कर्म साथ यही तेरे जाना है, रोने से तो आंसू भी पराये हो जाते हैं, लेकिन दो मीठे बोल बोलने और मुस्कुराने से पराये भी अपने हो जाते हैं। इंसानियत दिल में होती है, हैसियत में नही उपर वाला कर्म देखता है वसीयत नही, मीठा बोलो कटु बोलना मत सीखो, बता सको तो राह बताओ पथ भटकाना मत सीखो, हंसा सको तो सबको हँसाना किसी पर हँसाना मत सीखो। जिस दिन आप अपनी हँसी के मालिक ख़ुद बन जाओंगे तब आपको कोई भी नहीं रुला सकता। सहारे इंसान को खोखला कर देते है और उम्मीदें कमज़ोर कर देती है अपनी ताकत के बल पर जीना शुरू कीजिए आपका आपसे अच्छा साथी और हमदर्द कोई नही हो सकता।" - राम नाम कहने से तर जाओगे मीठे बोल बोलो संवर जाओगे - शुभ दिन की शुभकामना ए शुभ शनिवार शुभ प्रभात वंदन 🌅👣🎪🚩🌹 🌷 जय श्री राम 👏 जय श्री शनि देव महाराज जय श्री हनुमान जी जय श्री राम जय जय राम जय श्री हनुमान जी

+103 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 42 शेयर