व्यक्तिगत प्रश्न

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Rajeet Sharma Jul 18, 2019

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 9 शेयर

कहा जाता है कि जब आप किसी कठिन परिस्थिति में हों और आपकी मदद करने वाला कोई न हो तब आप अपने मन की बातों को सुनिए।  आप यदि कोई कार्य करते हैं तथा उसमें सफलता मिलती है तो, यश आपको मिलेगा। आप यदि किसी कार्य में असफल होते हैं तो, उसका नतीजा भी आपको ही भुगतना है। जब अपनी सफलता और असफलता का नतीजा व्यक्ति को खुद स्वीकार करना है, फिर कार्य करने से पहले यह जरूरी है कि आप सबकी बातों को सुने, लेकिन आप वही करें जो आपका मन कहता है।  अगर किसी कार्य को आप अपने मन की सहमति से करते हैं तो, आपको किसी से उत्साहवर्धन की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। आपकी सकारात्मक ऊर्जा अच्छे परिणाम को प्राप्त करने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेगी।  मुझे लगता है कि मन से किये गए कार्य में अच्छे परिणाम की संभावना सर्वाधिक होती है। एक बात तो तय है कि आपको आत्मसंतुष्टि अवश्य मिलेगी। वह आत्मसंतुष्टि एक तरफ आपको सकारात्मक ऊर्जा देगी तो दूसरी तरफ अपनी गलतियों को समझने और सुधारने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।  बेशक मन से किया गया कार्य अच्छे परिणाम देता है।  सुभ रात्री

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर