यमदूत

Vijay Pithadiya Sep 8, 2018

#महामृत्युंजय-मंत्र की रचना कैसे हुई?

#शिवजी के अनन्य भक्त #मृकण्ड ऋषि संतानहीन होने के कारण दुखी थे. विधाता ने उन्हें संतान योग नहीं दिया था.

#मृकण्ड ने सोचा कि #महादेव संसार के सारे विधान बदल सकते हैं. इसलिए क्यों न #भोलेनाथ को प्रसन्नकर यह वि...

(पूरा पढ़ें)
+183 प्रतिक्रिया 21 कॉमेंट्स • 415 शेयर
Krishna Singh Apr 11, 2018

मृत्यु जीवन का सबसे बड़ा सत्य और इससे कोई बच भी नहीं सकता। लेकिन सवाल फिर भी है उठता है कि आखिर मृत्यु के बाद क्या। शास्त्रों और पुराणों में जो बातें बतायी गई हैं उनके अनुसार मृत्यु के बाद जीव की मुख्य रूप से दो गति होती है चाहे तो वह अपने सद्कर्म...

(पूरा पढ़ें)
+14 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 69 शेयर

#शिवजी के अनन्य भक्त #मृकण्ड ऋषि संतानहीन होने के कारण दुखी थे. विधाता ने उन्हें संतान योग नहीं दिया था.

#मृकण्ड ने सोचा कि #महादेव संसार के सारे विधान बदल सकते हैं. इसलिए क्यों न #भोलेनाथ को प्रसन्नकर यह विधान बदलवाया जाए.

#मृकण्ड ने घोर तप किय...

(पूरा पढ़ें)
+25 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 45 शेयर

#नरक #चतुर्दशी को छोटी #दीवाली, #रूपचौदस,,

दीपावली को एक दिन का पर्व #दीपावली पर्व के ठीक एक दिन पहले मनाई जाने वाली नरक चतुर्दशी को छोटी दीवाली, रूप चौदस और काली चतुर्दशी भी कहा जाता है। मान्यता है कि 'कार्तिक #कृष्ण #चतुर्दशी के विधि-विधान से ...

(पूरा पढ़ें)
+18 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 36 शेयर