मार्केण्डेय

Vijay Pithadiya Sep 8, 2018

#महामृत्युंजय-मंत्र की रचना कैसे हुई?

#शिवजी के अनन्य भक्त #मृकण्ड ऋषि संतानहीन होने के कारण दुखी थे. विधाता ने उन्हें संतान योग नहीं दिया था.

#मृकण्ड ने सोचा कि #महादेव संसार के सारे विधान बदल सकते हैं. इसलिए क्यों न #भोलेनाथ को प्रसन्नकर यह वि...

(पूरा पढ़ें)
+184 प्रतिक्रिया 23 कॉमेंट्स • 420 शेयर

#शिवजी के अनन्य भक्त #मृकण्ड ऋषि संतानहीन होने के कारण दुखी थे. विधाता ने उन्हें संतान योग नहीं दिया था.

#मृकण्ड ने सोचा कि #महादेव संसार के सारे विधान बदल सकते हैं. इसलिए क्यों न #भोलेनाथ को प्रसन्नकर यह विधान बदलवाया जाए.

#मृकण्ड ने घोर तप किय...

(पूरा पढ़ें)
+25 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 45 शेयर

#महामृत्युंजय-मंत्र की रचना कैसे हुई?

#शिवजी के अनन्य भक्त #मृकण्ड ऋषि संतानहीन होने के कारण दुखी थे. विधाता ने उन्हें संतान योग नहीं दिया था.

#मृकण्ड ने सोचा कि #महादेव संसार के सारे विधान बदल सकते हैं. इसलिए क्यों न #भोलेनाथ को प्रसन्नकर यह वि...

(पूरा पढ़ें)
+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 11 शेयर
Krishna Singh Jan 5, 2018

हम में से बहुत लोगों को मार्कण्डेय ऋषि सुना होगा। हिंदू धर्म के पुराणों में मार्कण्डेय ऋषि का पुराण सबसे उत्तम और प्राचनीतम माना जाता है। इस पुराण में ऋग्वेद की भांति अग्नि, इंद्र, सूर्य आदि देवताओं पर विवेचन है और गृहस्थाश्रम, दिनचर्या, नित्यकर्म...

(पूरा पढ़ें)
+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर