महादेव🍃🌸

Vinod Agrawal Sep 2, 2019

+903 प्रतिक्रिया 113 कॉमेंट्स • 30 शेयर
Babita Sharma Aug 6, 2019

ॐ नमः शिवाय 🔱 भोलेशंकर के अति प्रिय सावन मास में आगरा में स्थित मनकामेश्वर महादेव के दर्शन करें एवं जानें रोचक इतिहास : आगरा में ताजमहल और लाल किला जैसी मुगलकालीन इमारतों से हट कर तलाशें तो और भी बहुत कुछ देखने को मिलता है। पुराने आगरा के रावतपाड़ा में स्थित ‘मनकामेश्वर मंदिर’। मान्यता है कि यहां शिवलिंग की स्थापना खुद भगवान शिव ने द्वापर युग में की थी।प्रचलित कथा के अनुसार, मथुरा में श्रीकृष्ण के जन्म के बाद उनके बाल-रूप के दर्शन की कामना लेकर कैलाश से चले शिव शंकर ने एक रात यहां बिताई थी और साधना की थी। उन्होंने यह प्रण किया था कि यदि वह कान्हा को अपनी गोद में खिला पाए तो यहां एक शिवलिंग की स्थापना करेंगे। अगले दिन जब वह गोकुल पहुंचे तो यशोदा मैया ने उनके भस्म-भभूत और जटा-जूटधारी रूप को देख कर मना कर दिया कि कान्हा उन्हें देख कर डर जाएगा। तब शिव वहीं एक बरगद के पेड़ के नीचे ध्यान लगा कर बैठ गए। शिव को आया जान कन्हैया ने लीला शुरू कर दी और रोते-रोते शिव की तरफ इशारा करने लगे। तब यशोदा माई ने शिव को बुला कर कान्हा को उनकी गोद में दिया और तब जाकर कृष्ण चुप हुए। वापसी में शिव ने यहां आकर शिवलिंग की स्थापना की और कहा कि जिस तरह से यहां मेरे मन की कामना पूरी हुई, उसी तरह से सच्चे मन से यहां आने वाले मेरे हर भक्त की मनोकामना पूरी होगी।इस मंदिर की खासियत यह है कि यदि कोई अंदर न जाना चाहे तो यहां बाहर से ही शिवलिंग के दर्शन हो जाते हैं। वैसे भी चांदी मढ़े इस शिवलिंग के पास वही व्यक्ति जा सकता है, जिसने भारतीय वेशभूषा- धोती, साड़ी आदि पहनी हो। मंदिर परिसर के भीतर मुख्य गर्भ गृह के पीछे कई सारे छोटे-छोटे मंदिर हैं। यहां देसी घी से प्रज्ज्वलित होने वाली 11 अखंड जोत निरंतर जलती रहती हैं। अपनी मनोकामना पूरी होने पर भक्त यहां आकर एक दीप जलाते हैं, जिसकी कीमत सवा रुपए से लेकर सवा लाख रुपए तक हो सकती है। मनकामेश्वर महादेव आप सभी की मनोकामना पूरी करें 🌿🔱🌹🌹ॐ नमः शिवाय 🙏

+2432 प्रतिक्रिया 661 कॉमेंट्स • 196 शेयर