भक्ति_और_ज्ञान

krishna Rawal Nov 13, 2019

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Neeru Miglani Nov 13, 2019

*🌸सोलह अक्षरों का महामंत्र🌸 *हरे कृष्ण, हरे कृष्ण,* *कृष्ण कृष्ण, हरे हरे।* *हरे राम, हरे राम,* *राम राम, हरे हरे॥* *सोलह अक्षरों का ये मंत्र,* *महामंत्र कहलाता है।* *कलयुग के सब दोषों से,* *बस, यही हमें बचाता है॥* *शास्त्रों में कहा गया है,* *इसके अतिरिक्त कोई उपाय नही।* *कलयुग में और कुछ भी,* *हो सकता सहाय नही॥* *सतयुग में तपस्या से,* *पास हरि के जाते थे।* *त्रेता युग में यज्ञों से,* *हरि को हम, पास बुलाते थे॥* *द्वापर युग में करते थे लोग,* *अर्च-विग्रह की सेवा, पूजा।* *कलयुग में महामंत्र के सिवाय,* *उपाय नही कोई दूजा॥* *इस घोर कल्मष के युग में,* *कीर्तन से ही, हरि मिल जाते हैं।* *महामंत्र उच्चारण से,* *कृष्ण को, जिह्वा पे हम नचाते हैं॥* *चित्त को हमारे,* *शुद्ध करता है ये हरिनाम कीर्तन।* *जप-जप के हरि नाम,* *चमक जाता, मन का दर्पण॥* *बड़ा ही सरल और सटीक,* *तरिका है जीने का।* *न गवाऐं हम यह मौका,* *इस अमृत्व को पीने का॥* *बिना देर किये, जहाँ हैं,* *वहीं से कर दो शुरुआत।* *कर ले सच्ची कमाई कुछ,* *जब तक मौत करे आघात॥* *फिर चिंता न हो कि,* *कब मौत से पाला पड़े।* *जब भी प्राण छूटे,* *दिखे बस, हरि सामने खड़े॥* *हरे कृष्ण, हरे कृष्ण,* *कृष्ण कृष्ण, हरे हरे।* *हरे राम, हरे राम,* *राम राम, हरे हरे॥* 🙏🏼🌸🙏🏼🌸🌹🌸🙏🏼🌸🙏🏼

+168 प्रतिक्रिया 22 कॉमेंट्स • 83 शेयर
jitendra Nov 13, 2019

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर