भक्ति

मुकुलायमान – नयनाम्बुजं विभो र्मुरलीनिनाद- मकरन्द – निर्भरम्। मुकुरायमाण – मृदुगण्डमण्डलं मुखपंकजं मनसि मे विजृम्भताम।। अन्वयः– मुकुलायमाननयनाम्बुजम् (मुकुले इवाचरतः नयनाम्बुजे यस्मित् तत्) मुरलीनिनादमकरन्दनिर्भरम् (मुरलीनिनादः एव मकरन्दः तेन पूर्णम्) मुकुरायमाणमृदुगण्डमण्डलम् (मुकुरे इवाचरतः मृदुनी कोमले च गण्डमण्डले यस्मिन् तत्) विभोः (श्रीकृष्णस्य) मुखपंकजं मे मनसि विजृम्भताम् (प्रकाशताम्)।। अनुवाद- श्रीकृष्ण का मुखकमल मेरी मानस सरसी में सदा ही विकसित रहे। उनके नयनकमल मानो दो मुकुलों के तुल्य हैं। वंशीनिनाद ही इस कमल का मकरन्द है! मृदु गण्डस्थल मानो मुकुर (दर्पण) के समान हैं! विभु का यह मुख पद्म मेरे चित्त-सरोवर में शोभित हो।। कमनीय – किशोर – मुग्धमूर्तेः कलवेणु – क्वणितादृताननेन्दोः। मम वाचि विजृम्भतां मुरारे- र्मधुरिम्णः कणिकापि कापि कापि।। अन्वयः – कमनीय किशोर मुग्धमूर्तेः (कमनीया किशोरी मुग्धा मनोहरा मूर्तिः यस्य) कलवेणुक्वणितादृताननेन्दोः (कलवेणुक्वणितैरादृतः सर्वतः प्रशंसः मुखेन्दुः यस्य) मुरारेः (श्रीकृष्णस्य) मधुरिम्नः कापि कापि कणिकापि मम वाचि विजृम्भताम् (प्रकाशताम्)।। अनुवाद- जो कामनीय और नवकिशोर हैं, जिनकी मनोहर श्रीमूर्ति दर्शन कर त्रिभुवन मुग्ध होता है, जिनका मुखचंद्र मधुर-अस्फुट (मन्द) वेणु की सुधाधारा से परिप्लुत है- उन्हीं मुरारि श्रीकृष्ण के माधुर्य की क्षुद्रतम कणिकामात्रही सही- मेरी जिह्वा पर स्फुरित हो।। मदशिखण्डि – शिखण्ड – विभूषणं मदनमन्थर – मुग्ध – मुखाम्बुजम्। व्रजवधू – नयनाञ्जन – रञ्जितं विजयतां मम वाङ्गमय – जीवितम्।। अन्वयः – मदशिखण्डिशिखण्डविभूषणम् (मदमत्तशिखिनां यः शिखण्डः पिञ्छं तेन विशिष्टं भूषणम् अलंकृतिः यस्य तत्) मदनमन्थर-मुग्धमुखाम्बुजम् (मदनं कामं मन्थरयति मन्दरशैलवत् स्तम्भयति तन्मुग्धं मनोहरं मुखाम्बुजं यस्य तत्) व्रजवधूनयनाञ्जनरिञ्जितम् (व्रजवधू-नयनाञ्जनेन रञ्जितम्) मम वाङ्मयजीवितम् (मम वाङमयं जीवितं वस्तु) विजयताम् (सर्वोत्कर्षेण वर्तताम्)।। अनुवाद- मतमत्त शिखिपिच्छ (मोरपंख) जिनके चूड़े का विभूषण है, जिनका मुखकमल देखकर मदन भी मुग्ध होता है- स्तम्भित होता है, व्रजवधुओं के नेत्राञ्जन से जो रञ्जित हैं- मेरे वाक्यों के जीवनस्वरूप उन्हीं श्रीकृष्ण की जय हो।।

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Chandrashekhar Karwa Jul 21, 2019

+5 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Jay Lalwani Jul 21, 2019

+10 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर
arti Jul 21, 2019

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर