नैतिकता

पाताल लक्ष्मी विज्ञान विचार, पद्म-पुराण शिव-पुराण वराह-अवतार गरुड़-पुराण तुलसी गंगा सभ्यता मत्स्य-पुराण भूमिखण्ड जैमिनि अरुणाचल सूर्य रामायण द्वारिका राजनीति, सृष्टिखण्ड, छत्रपति-शिवा स्कन्द-पुराण हिमालय सत्यनारायण वेदों उत्तरखण्ड, श्र्लोक लिंग-पुराण प्रेत-लोक भगवान गणेश भरत वेदव्यास त्रिमूर्ति अग्नि-पुराण वराह-पुराण👉 कुर्म-पुराण देव आयुर्वेद सामाजिक नक्षत्रों राजाओ, मौर्य भविष्य-पुराण कन्याकुमारी ब्रह्मा सरस्वती विश्व भूगोल, महृर्षि विष्णु-पुराण ज्ञानकोष ययाति विष्णु रुद्राक्ष दक्षिण खगोल, दुष्यन्त ध्रुव, नन्द पृथ्वी ज्ञान नरक ग्रँथ पातालखण्ड जम्बूदीप खगौलिक ब्रह्माण्ड-पुराण संस्कृति ज्ञानवर्षा संस्कृत नैतिकता, महेश्वर भागवत-पुराण वामन-पुराण प्राचीन कथा। परम्परायें, आकाश, ब्रह्मवैवर्त-पुराण पूर्णमासी शिवलिंग संगीत श्राद्ध संस्कृति, शकुन्तला मत्स्यावतार, सोमदेव, सागर नैतिकता पुराणों साहित्य सिन्धु-घाटी यादव स्याहाद्री-पर्वत भारत जानकारी कृष्णावतार ऐतिहासिक ब्रह्म-पुराण नारद-पुराण सावित्री भारतीय भागवत ऋषि-मुनियों देवी-देवताओं, स्वर्गखण्ड, मार्कण्डेय-पुराण ज्योतिर्लिंगों,

#भारतीय #संस्कृति में #पुराणों का महत्त्व
🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸🔹🔸🔸
पुराण शब्द का अर्थ है #प्राचीन #कथा। पुराण #विश्व #साहित्य के प्रचीनत्म #ग्रँथ हैं। उन में लिखित #ज्ञान और #नैतिकता की बातें आज भी प्रासंगिक, अमूल्य तथा मानव #सभ्यता की आधारशिला हैं।...

(पूरा पढ़ें)
+42 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 160 शेयर