धार्मिक स्थल

#लंगड़ा_मंगलवार आज हमारे यहाँ ,पावनधाम विजेथुआ महावीरन मे लंगडा मंगलवार मनाया जा रहा है। आज हनुमानजी की मूर्ति का भव्य श्रृंगार किया जाता है, बहुत दूर-दूर से हजारों हजार भक्त आते हैं, और हनुमानजी की पूजा करते हैं। लंगडा मंगलवार, नागपंचमी के बाद तीसरे मंगलवार को मनाया जाता है। एक रोचक जानकारी:- यहाँ के हनुमानजी को हमलोग प्यार से लंगड़ बाबा भी कहते हैं, और उसकी वजह है, क्योंकि यहाँ हनुमानजी की स्वयंभू प्रकट मूर्ति मे सिर्फ एक ही पैर जमीन पर है, दूसरा पैर कहा जाता है कि पाताल तक गया है। बाबा तुलसीदास द्वारा रचित रामचरितमानस मे कालनेमि के वध के समय हनुमानजी उसे क्रोध से एक पैर मारते हैं, और वह पाताल चला जाता है, यह कालनेमि वधस्थल है, अतः यह माना जाता है कि हनुमानजी का दूसरा पैर पाताल लोक तक गया है। एकबार पुरातत्व विभाग वाले खुदाई भी किये थे, बहुत नीचे तक जाने के बाद भी पैर का छोर नही मिला, जब पानी ज्यादा निकलने लगा तो खुदाई बंद कर दिये, लेकिन पैर का छोर न मिला। इसलिए केवल एक पैर जमीन पर होने के कारण, हमसब लंगड़ बाबा भी कहते हैं। यहाँ मांगी गई मनौती जरूर पूरी होती है, इसलिए यहाँ हर मंगलवार और शनिवार को हजारों हजार भक्त बहुत दूर-दूर से आकर हनुमानजी की पूजा करते हैं। प्रशासन से उपेक्षित यह धार्मिक स्थल है। लेकिन भक्तों के बीच बहुत ही लोकप्रिय है। असुविधाओं का बोलबाला रहता है, फिर भी आपको दर्शन करने मे घंटों लग जायेंगे, इतनी भीड होती है। करीब दस हजार परिवारों की रोजीरोटी इस एक पौराणिक धर्म स्थल से चल रही है। जयबजरंगबली।

+17 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 5 शेयर
arun kumar singh Aug 20, 2019

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
arun kumar singh Aug 20, 2019

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर